अंतरराष्ट्रीय मंच पर बीजेपी ने देश की भद्द पिटवा दी!राहुल का फूटा गुस्सा!

यह दावा तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही
कर रहे थे ना कि भारत मदर ऑफ डेमोक्रेसी
है यानी कि दुनिया में लोकतांत्रिक देशों
की

मां और मदर ऑफ डेमोक्रेसी में अभिव्यक्ति
की आजादी को कुचला जा रहा है जो लोग सिर्फ
किसानों की बातें रख रहे हैं उनके
अकाउंट्स को बंद किया जा रहा है सस्पेंड
किया जा रहा है मगर अंतरराष्ट्रीय तौर पर
इस खबर ने भद नहीं पटवाई है इस मुद्दे पर

र यानी सोशल मीडिया हैंडल एक्स का बयान
आया है और सरल शब्दों में दोस्तों
उन्होंने क्या कहा है मैं आपको पढ़ के
सुनाना चाहता

हूं एक्स प्लेटफॉर्म के अकाउंट ग्लोबल
गवर्नमेंट अफेयर्स ने पोस्ट करके बताया है
कि भारत सरकार के आदेश के बाद हमने कुछ
अकाउंट्स और पोस्ट को ब्लॉक कर दिया है या

हम कुछ अकाउंट और पोस्ट ब्लॉक कर रहे हैं
लेकिन उसे ब्लॉक करने को लेकर हम सहमत
नहीं है दोस्तों कई ऐसे अकाउंट हैं इस
वक्त सोशल मीडिया पर जो किसानों की बातों
को आप तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं
भारत सरकार ने जबकि वह अकाउंट्स भड़काऊ भी
नहीं है वह सिर्फ किसान आंदोलन की

तस्वीरों को आप तक पहुंचा रहे हैं भारत
सरकार ने आदेश दिया है
भारत सरकार ने कहा है हम इत्तेफाक नहीं
रखते मगर मुद्दा गिरफ्तारी का है मुद्दा
फाइंस का है लिहाजा हम उन्हें बंद कर रहे
हैं और हमारा यह मानना है कि भारत सरकार

का यह कदम अभिव्यक्ति की आजादी के खिलाफ
है राहुल गांधी ने नाराजगी जतला है उनका
गुस्सा फूटा है उन्होंने क्या कहा है कुछ
देर बाद मगर मैं आपको पढ़कर सुनाना चाहता
हूं कि एक्स के यानी

ने दरअसल कहा क्या है अंग्रेजी में बयान
है मैं उसका आपको सार बता चुका हूं
अंग्रेजी में पूरा लंबा चौड़ा बयान है
दोस्तों पढ़ के सुना रहा हूं द इंडियन

गवर्नमेंट हैज इश्यूड एग्जीक्यूटिव
ऑर्डर्स रिक्वायरिंग एक्स टू एक्ट ऑन
स्पेसिफिक अकाउंट्स एंड पोस्ट सब्जेक्ट टू
पोटेंशियल पेनल्टी इंक्लूडिंग
सिग्निफिकेंट फाइंस एंड इंप्रिजनमेंट इन

कंप्लायंस विद द ऑर्डर्स वी विल विथ होल्ड
दीज अकाउंट्स एंड पोस्ट्स इन इंडिया अलोन
हाउ एवर वी डिसएग्री विद द एक्शन एंड
मेंटेन ट फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन शुड
एक्सटेंड टू दज पोस्टस टर यानी एक् साफ
तौर पर कह रहा है कि अभिव्यक्ति की आजादी
इन पोस्ट को दी जानी चाहिए मगर भारत सरकार

लगातार हमें कह रही है उन्होंने कहा तो
नहीं मगर लगभग यह कहने का उनका अंदाज बया
कि भारत सरकार उन्हें धमका रही है कि बंद
करो मुद्दा यहां पर गिरफ्तारी का है फाइंस
का है हर्जाने का है
आगे असिस्टेंट विद आवर पोजीशन अ रिट अपील

चैलेंजिंग द इंडियन गवर्नमेंट्स ब्लॉकिंग
ऑर्डर्स रिमन पेंडिंग यानी कि हमने भारत
सरकार से अपील की है कि आपने जो हमसे कहा
है कि इन अकाउंट्स को ब्लॉक किया जाए हमने

उसके खिलाफ अपील की है मगर उसका कोई जवाब
नहीं आया है वी हैव आल्सो प्रोवाइडेड द
इंपैक्टेड यूजर्स विद नोटिस ऑफ दीज एक्शंस
इन अकॉर्डेंस विद आवर पॉलिसीज जिन
अकाउंट्स को बैन किया गया है जिन पर
पाबंदी लगाई गई है हमने उन्हें भी ईमेल के
जरिए जानकारी दी है कि भैया हम ऐसा कर रहे
हैं क्योंकि हमें भारत सरकार ने कहा है

आगे ड्यू टू लीगल रिस्ट्रिक्शंस वी आर
अनेबल टू पब्लिश द एग्जीक्यूटिव ऑर्डर्स
बट वी बिलीव दैट मेकिंग देम पब्लिक इज
एसेंशियल फॉर ट्रांसपेरेंसी पारदर्शिता के
लिए हमें इन चीजों को जनता के सामने रखना
बहुत जरूरी हो जाता
है यह प्रधानमंत्री का बयान था जब
उन्होंने भारत को मदर ऑफ डेमोक्रेसी बताया

था प्रधानमंत्री मैं समझना चाहता हूं
पिछली बार जब किसानों ने आंदोलन किया था
तो सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर हर जगह पर
इंटरनेट बंद कर दिया गया था इस बार आप
क्या कर रहे हैं कि जो टर हैंडल्स आप तक
किसान आंदोलन की तस्वीरें पहुंचा रहे हैं

उन पर ही पाबंदी लगाई जा रही है पहले आपने
इंटरनेट बंद किया था और यह मत भूलिए उस
वक्त रिहाना ग्रेटा थनबर्ग सब सामने आए थे
उसकी आलोचना की थी और फिर प्रधानमंत्री
कार्यालय ने एक टूल किट शुरू किया था

जिसमें सचिन तेंदुलकर
अक्षय कुमार सुनील शेट्टी तमाम लोग अनुपम
खेर सब सामने आ गए थे और यह कह रहे थे कि
देखिए भारत के आंतरिक मामलों में दखल दी
जा रही
है इनमें से किसी में भी यह बात कहने की
हिम्मत नहीं है कि हम एक लोकतंत्र हैं और

एक जगह पर जहां किसान आंदोलन कर रहा है आप
इंटरनेट को बंद नहीं कर
सकते आप पहले ही किसान के खिलाफ जरूरत से
ज्यादा बल प्रयोग कर रहे हैं उस पर आंसू

गैस के गोले छोड़ रहे एक युवा
किसान शुभकरण सिंह मारा जा चुका है और उस
खबर को गोदी मीडिया ने पूरी तरह से साफ कर
दिया दिखाया तक
नहीं और अब यह खबर जिसमें ट्विटर खुद कह

रहा है कि हमें भारत सरकार ने कहा था कि
इन अकाउंट्स को बंद किया जाए राहुल गांधी
का बयान आपके स्क्रीन पर और इसमें राहुल
गांधी की नाराजगी दिखती है राहुल गांधी
क्या कह रहे हैं किसान एमएसपी मांगे तो

उन्हे गोली मारो यह है मदर ऑफ डेमोक्रेसी
जवान नियुक्ति मांगे तो उनकी बातें तक
सुनने से इंकार कर दो यह है मदर ऑफ
डेमोक्रेसी पूर्व गवर्नर सच बोले तो उनके

घर सीबीआई भेज दो ये है मदर ऑफ डेमोक्रेसी
और यहां पर राहुल गांधी जिक्र कर रहे हैं
सत्यपाल मलिक का दोस्तों जैसे कि आप जानते
हैं सीबीआई ने उनके घर पर आज छापा मारा
आगे सबसे प्रमुख विपक्षी दल का बैंक

अकाउंट फ्रीज कर दो ये है मदर ऑफ
डेमोक्रेसी याद कीजिए अब से कुछ कुछ ही
दिनों पहले कांग्रेस के बैंक अकाउंट्स को
फ्रीज कर दिया था व भी लोकसभा चुनावों से
कुछ दिनों
पहले वाकई राहुल गांधी सवाल पूछ रहे हैं
यह मदर ऑफ डेमोक्रेसी है आगे धारा 144

इंटरनेट बैन नुकीली तारें आंसू गैस के
गोले यह है मदर ऑफ डेमोक्रेसी मीडिया हो
या सोशल मीडिया सच की हर आवाज को दबा देना
यह है मदर ऑफ डेमोक्रेसी मोदी जी जनता
जानती है कि आपने लोकतंत्र की हत्या की है
और जनता जवाब देगी मैं फिर सवाल पूछना

चाहता हूं इस सरकार
से क्या इससे लोकतंत्र का नाम रोशन हो रहा
है सब कुछ एक प्रोपेगेंडा है सब कुछ एक
सोची समझी रणनीति के तहत वोट हासिल करने

का जरिया है उससे देश को नुकसान पहुंच रहा
है कोई दिक्कत नहीं है उसमें मैं आपको एक
और मिसाल देता हूं
दोस्तों एक फिल्म रिलीज होने वाली है
जिसका नाम आर्टिकल 370
है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज से तीन

दिन पहले उस फिल्म का प्रचार कर रहे
थे क्या यह काम प्रधानमंत्री का है क्या
प्रधानमंत्री ने वह फिल्म देख ली है कम से
कम हम तो नहीं जानते कि व फिल्म देख चुके
हैं और यह पहली बार नहीं है याद कीजिएगा
कश्मीर फाइल्स इसका प्रचार किया था केरला
स्टोरी उसका प्रचार किया था और अब आर्टिकल
370 आ रही है उसका प्रचार कर रहे हैं
मुद्दा क्या है मैं आपको बताता हूं केरला

स्टोरी सरेआम यह फिल्म झूठ बोल रही थी
अदालत में उन्हें माफी मांगनी
पड़ी हजारों की संख्या बता रहे थे कि
आईएसआईएस ने केरला की लड़कियों को अगवा कर
लिया है वह हजारों की संख्या नहीं थी

मुश्किल से तीन भी नहीं
थी कश्मीर फाइल्स विवेक अग्नि होत्री की
फिल्म जो आप तक सिर्फ आंशिक सच पहुंचा रही
थी सिर्फ आंशिक
सच उस फिल्म का भी मकसद सिर्फ
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा का
महिमा मंडन
था वैक्सीन

वॉर्स एक ऐसी फिल्म जो आप तक अर्ध सत्य
पहुंचा रही है उसको प्रधानमंत्री प्रमोट
कर रहे
थे वह वैक्सीन वर्स यह कहने की हिम्मत
नहीं दिखा रही थी कि रामदेव किस तरह से
वैक्सीन के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे थे

मगर ना विवेक अग्निहोत्री ना भाजपा में
हिम्मत है यह बोलने की कि आखिर रामदेव ऐसा
क्यों कर रहे
थे और अब आर्टिकल 37 का प्रचार
प्रधानमंत्री कर रहे हैं एक तरफ
प्रधानमंत्री इसका प्रचार कर रहे हैं और
समानांतर तौर पर जैसा कि आप देख रहे हैं

सचिन तेंदुलकर कश्मीर पहुंच चुके हैं
फिल्म कल रिलीज होने वाली है और सचिन
कश्मीर पहुंच चुके हैं और वहां क्रिकेट
खेल रहे हैं और मैं आपको बता दूं दोस्तों

चाहे गोदी मीडिया
हो या फिर भारतीय जनता पार्टी दोनों एक ही
जुबान में ट्वीट कर रहे हैं कि देखिए
कश्मीर पहुंच गए हैं सचिन तेंदुलकर
कश्मीर में तो हालात सामान्य
है मुझे दया आती है सचिन
तदुकू इस मुद्दे पर बीजेपी क्या कह रही है
आपके स्क्रीन पर बस इतना सा बदला है
कश्मीर कश्मीर में जिन सड़कों पर
पत्थरबाजी आम थी आज वही सचिन तेंदुलकर के
साथ बच्चे और युवा सड़कों पर क्रिकेट खेल
रहे

हैं अच्छी बात है दोस्तों सामान्य हो रही
है हर को इसका स्वागत करना चाहिए मगर
मुद्दा वो नहीं है आप देखिए प्रचार के
पीछे भाजपा कितना दिमाग लगाती है और ऐसा
नहीं कि इससे देश का नाम रोशन हो रहा है

देश का नाम र पर रोशन हो रहा है जहां
विविर को या एक्स को बयान देना पड़ा है कि
भारत सरकार के दबाव में हमें कई हैंडल्स
को खत्म करना पड़ा सस्पेंड करना पड़ा
उन्हें निलंबित करना पड़ा उन्हें रद्द
करना पड़ा भारत सरकार हम पर दबाव बना रही

है हम जो कि मदर ऑफ डेमोक्रेसी हैं और
दूसरी तरफ प्रधानमंत्री फिल्मों का प्रचार
करते
हैं यह हो रहा है इस देश में लोकतंत्र के
नाम

पर मकसद सिर्फ एक है दोस्तों वोट हासिल
करना हर कीमत पर सत्ता पर बने रहना चाहे
उसके लिए आप लोकतांत्रिक मूल्यों को रौते
रहे किसानों को रौते रहे हमारे अन्य दता
को रते रहे
यह आपने मेरे लोकतंत्र की हालत बना दी
है अभिसार शर्मा को दीजिए इजाजत
नमस्कार स्वतंत्र और आजाद पत्रकारिता का
समर्थन कीजिए सच में मेरा साथी बनिए बहुत
आसान है दोस्तों इस जॉइन बटन को दबाइए और
आपके सामने आएंगे ये तीन विकल्प इनमें से
एक चुनिए और सच के इस सफर में मेरा साथी
बनिए

Leave a Comment