अकेले में चुपचाप सुनो ठुकरा दिया है उसने तुम्हें लेकिन असली खेल अभी

मेरे बच्चे आज मैंने तुम्हें संदेश के लिए चुना है और आज तुम्हारी मां काली चाहती है मुझे आज ध्यान पूर्वक पूरा सुना मेरे बच्चे तुम

बहुत ही भाग्यशाली हो मैंने तुम्हें चुना है परंतु मैं देख रही हूं तुम मेरी बातों को अनदेखा कर रहे हो जिस कारण तुम्हें बहुत सी

परेशानियां उठानी पड़ रही है और तुम्हारे जीवन में उन परेशानियों के चलते बहुत से दुख भी तुम्हें भोगने पड़ रहे हैं मेरे बच्चे ऐसा

क्या हो गया तू कौन देख कर रहे हो अपनी माता से हम प्यार नहीं रहा तुम्हें अब मेरी बातें सुनने में कोई रुचि नहीं रही मैं तुम्हें हर

बार नया संदेश देती हूं परंतु तुम ना जाने क्यों मेरी कुछ बातों को जान कर मेरे बच्चे मैं जानती हूं तुम मुझे सुनते हो पर मुझे सुनने के बाद तुम अपने जीवन में क्या परिवर्तन करते हो वह बात महत्वपूर्ण है यदि तुम मुझे सुनकर मेरी बातों को अपने जीवन में के लिए

करते हो तो उसका परिणाम मेरे बच्चे तुम्हें मैं जो बातें रहती हूं वह तुम्हें हर रोज करनी चाहिए तुम्हारे जीवन में बदलाव होंगे संभल जाओ मैं जानती हूं तुमने नादानी में कई सारी गलतियां भी करी है परंतु उन गलतियों को करने से तुम्हें कुछ चीजों में सबक लेना

चाहिए जो तुम उसे गलती को बार बार मत दोहरा हो तुम्हारी ऐसी गलतियां करने से तुम जहां तक पहुंचाना चाहते हो तुम वहां तक नहीं पहुंच पा रहे यदि तुम्हें वहां तक पहुंचना है तुम पहुंचाना चाहते हो तो तुम्हें अब अपनी गलतियों से कुछ सीखना होगा तथा वह

गलतियां बार बार मत दो राव मैं तुम्हें कई बार यह बात बता चुकी हूं चेतावनी देकर भी तुम इन गलतियों के कर्म से जिंदगी में कई बार असफल हो रहे हो तुम्हारा इन गलतियों को दोहराने का

Leave a Comment