अगर आप नजरअंदाज करेंगे तो आप कुछ खो देंगे!

मैं दुर्गा मां तुम्हें एक बात बताने के
लिए आज इस धरती लोक पर आने के लिए विवश हो
चुकी हूं मैं तुमसे कुछ बात जानना चाहती
हूं जिसके लिए तुम्हें आज मेरे संदेश को
अंत तक सुनना होगा क्योंकि यह तुम्हारे

जीवन से जुड़ा है और यदि तुमने मेरे संदेश
को नहीं सुना तो तुम्हारे जीवन का कल्याण
नहीं हो पाएगा इसलिए आज मुझे अवश्य सुनना
तुमने मुझे जीवन में कई बार अनदेखा किया
है परंतु आज मैं नहीं चाहती कि तुम मुझे

अनदेखा करो इसलिए तुम्हारी सारी
परेशानियों का समाधान आज मेरे पास है बस
तुम्हें मुझे कुछ समय देना है यदि तुम
मुझसे प्रेम करते हो तो तुम मुझे अपना आज
समय दोगे तुम्हारे समय से मैं तुम्हारे
जीवन की सारी परेशानियों को समाप्त कर
दूंगी तुम मेरे उन सबसे प्रिय भक्तों में
से एक हो जो मुझे सबसे प्रिय हो मैं

तुम्हारी माता मेरी अनुमति से ही हर काम
होता है मैं संसार के प्रति एक कण में हूं
मैं तुम्हारे भीतर भी हूं और बाहर भी हूं
मैं इस जगत में हर स्थान पर हूं जहां पर
इंसान नहीं पहुंच सकता परंतु तुम्हारी
भक्ति ने मुझे इतना प्रभावित किया है कि
मैं स्वयं तुम्हारे पास आ गई हूं मेरे
बच्चों तुम्हारी भक्ति से मैं बहुत

प्रसन्न हुई हूं और अब मैं तुम्हें सारी
खुशियां देना चाहती हूं परंतु तुम्हें
छोटी सी परीक्षा में सफल होना है तुम चाहे
किसी भी स्थान पर क्यों ना हो परंतु
तुम्हें हमेशा मुझे याद करना है और आज
तुम्हारी जो परीक्षा में तुमसे लूंगी उस

परीक्षा में तुम सफल अवश्य होगे क्योंकि
मेरे बच्चों परीक्षा से संसार का चक्र है
जो इंसान परीक्षा में सफल होते हैं वह
हमेशा आगे बढ़ते हैं कुछ परीक्षा संसार
तुमसे लेती है और कुछ परीक्षा मैं स्वयं
लेने आती हूं मेरे ब बचों परीक्षा का सीधा

सा अर्थ है तुम्हारे जीवन में एक नया मोड़
आना यदि परीक्षा तुमसे ना ली जाए तो तुम
कभी आगे नहीं बढ़ सकते मेरे बच्चों याद
रखना दूसरों का बुरा करने से कभी किसी का
अच्छा नहीं हुआ है और यह बात तुम भी जानते

हो कि बुराई कभी किसी को विजय नहीं दिला
सकती है किसी का बुरा करके तुम यदि आज खुश
हो भी जाते हो तो कल एक ऐसा पल आएगा जब
तुम्हें तुम्हारी इस गलती का एहसास होगा
लेकिन तब तुम्हारे पास कुछ भी नहीं रहेगा
और तुमने जो गलती की है उस गलती का समाधान
भी तुम्हें नहीं मिल पाएगा मेरे बच्चों

इसलिए तुम अपने जीवन में गलतियां करने से
बचो यदि तुमने गलती कर भी ली है तो उस
सबके लिए माफी मांग लो जिस प्रकार मेरे
अनेकों रूप हैं लेकिन उन रूपों में से एक
रूप मेरा न्याय करने का भी है तथा दूसरा
रूप मेरा रौद्र रूप है उसी प्रकार

तुम्हारे भीतर भी दो प्रकार के मनुष्य है
एक तुम्हारे अंदर वह मनुष्य जो सदा अच्छाई
की राह पर चलता है और दूसरों का भला सोचता
है उसी प्रकार दूसरा मनुष्य तुम्हारे अंदर
वह रद्र रूप है जो यदि गलत होते हुए देख
लो तो तुम उन चीजों को ठीक करने के लिए

कुछ भी कर सकते हो इसलिए मेरे बच्चों अपने
भीतर के हर रूप को अच्छाई के मार्ग पर
लेकर जाना तुम्हारा कर्तव्य है कभी अपने
अंदर शैतान का रूप मत लेकर आना अन्यथा

तुम
केवल दूसरों का बुरा ही करते रहोगे मनुष्य
अपने कर्मों करनी भरता है वह जैसे कर्म
करता है उसका परिणाम वैसा ही होता है
किंतु ईश्वर सदा अपने बच्चों को हर गलत
मार्ग पर जाने के लिए रोकता है जो बच्चा
उनके द्वारा बताए गए मार्ग पर चलता है वह
बुरे कर्मों से बचता है किंतु जो बच्चा

अपने ईश्वर की बातों को ना मानकर स्वयं के
मन की करता है बशक कुछ समय के लिए खुश हो
जाता

किंतु आने वाले समय में जीवन भर रोता है
हर इंसान का मन होता है कि वह अपने जीवन
में सब कुछ हासिल करें अपने जीवन में अपने
प्रेम को पाए अपने माता-पिता के सारे
दुखों को दूर करें किंतु उनको करने के लिए
मैं कभी भी कठिन परिश्रम नहीं करता केवल
एक बार प्रयास करने के बाद यदि उसे लगता

है कि सफल हो जा आगा और फिर वह ऐसा सफल
नहीं हो पाता तो प्रयास करना छोड़ देता है
तुम्हारे जीवन में जल्दी खुशियां आने वाली
हैं और यह केवल इसलिए संभव हो पाया है
क्योंकि तुमने अपने जीवन में अच्छे कर्म
किए हैं जिन कारणों से तुम्हें उनका फल
प्राप्त हो रहा है किंतु मैं तुम्हें अब

आगे के लिए जो बातें बताऊंगी उसे अपने
जीवन में हमेशा याद रखना जाने अनजाने में
कभी तुम किसी का दिल मत

दुखाना यदि तुम्हें किसी का सहारा बनकर
किसी को पकड़कर चलने की आदत है तो आज मैं
तुम्हें बताना चाहती हूं कि तुम इस बात को
बहुत अच्छे से समझ लो कि संसार में जब तुम
बेसहारा होगे तो कोई भी तुम्हारा साथ देने
वाला नहीं होगा इसलिए मेरे बच्चों जीवन

में हमेशा अकेले चलने की आदत डालो किसी से
सहारा मांगने की कोशिश मत करो अगर तुम ऐसा
करते हो तो निश्चित लोग तुम्हें अपनी
नजरों से तुम्हें देखेंगे क्योंकि जब
इंसान ही समझ लेता है कि कोई आगे बढ़ना
चाहता है और उसे सहारे की जरूरत है तो
संसार में बहुत कम लोग ही तुम्हें कभी
सहारा देंगे वह सहारा देने की बजाय

बेसहारा छोड़कर चले जाएंगे वह तुम्हें
दुखी देखकर कर बहुत ही मुस्कुराएंगे
क्योंकि वह तुमसे यही उम्मीद करते हैं ऐसे
लोग तुम पर बहुत हसेंगे और मन ही मन बहुत
खुश होंगे वह यह सोचकर कि तुम बहुत दुखी
हो रहे हो मेरे बच्चों संसार का नियम है

सामने वाले को दुखी देखकर यह संसार का हर
व्यक्ति बहुत प्रसन्न होता है जिसकी
जिंदगी में जितनी परेशानियां क्यों ना चल
रही हो अगर मेरे बच्चों तुम स्वयं को
बलवान बना लोगे खुद के अंदर की ताकत पैदा
कर लोगे तो हर चीज से लड़ने की तथा आगे
बढ़ने की हिम्मत तुम्हारे अंदर स्वयं ही आ
जाएगी तुम्हें किसी भी इंसान से सहारा

लेने की आवश्यकता ही नहीं मेरे बच्चों अब
तुम खुद ही यह निर्णय कर लो कि कल सुबह जब
तुम उठोगे तो सबसे पहले तुम कौन सा कार्य
करना चाहोगे उसी समय तुम्हें अपने दिल में
एक दृढ़ संकल्प लेना है कि मैं जो भी काम
करूंगा वह मैं अपने बल पर ही करूंगा मैं
किसी से कोई सहायता नहीं लूंगा और ना ही
मैं किसी का सहारा बनूंगा और ना ही मुझे

किसी के सहारे की आवश्यकता है तो मेरे
बच्चों निश्चय ही तुम आगे बढ़ते चले जाओगे
तुम्हारे दिल से लिया गया हर एक निर्णय
तुम्हें एक मजबूत इंसान बनाएगा ऐसा कोई भी
काम नहीं है जो तुम नहीं कर सकते तुम्हारा
विश्वास ही तुम्हारी शक्ति है तुम्हें

अपने मन में अपने विश्वास की शक्ति को
जगाना होगा तुम्हें कभी भी कमजोर नहीं
पड़ना है तुम्हें किसी के सामने अपने अंदर
की ताकत को बाहर आने नहीं देना होगा और ना
ही अपने डर को अपने हृदय पर हावी होने
देना है बस तुम अपनी हिम्मत को अपने हृदय
पर हावी मत होने देना तुम्हें लगातार हर

रोज प्रातःकाल उठकर प्रार्थना करनी है और
तुम्हें प्रातः काल उठते ही बोलना है कि
मैं संसार का हर काम कर सकता हूं जो कोई
भी कर सकता है मैं कमजोर व्यक्ति नहीं हूं
तथा मेरे साथ भगवान की देव्य शक्तियां

मेरी माता ने मुझे अनंत शक्तियां दी हैं
मेरी माता की शक्ति मेरे साथ है वह मेरी
रक्षा करेंगी मैं एक बलवान इंसान हूं मैं
कमजोर नहीं हूं मेरे साथ मेरे ईश्वर दे
रहे हैं अब मुझे किसी से सहारा मांगने की
आवश्यकता नहीं है जो भी मुझे कमी होगी वह
मुझे मेरी माता देंगी जब भी मुझे मदद की
आवश्यकता होगी मेरी माता खुद मेरे पास आ

कर
मेरी मदद करेंगी अब मुझे संकल्प लेना है
कि मैं जो भी संकल्प लूं मैं जो भी ईश्वर
से मांगूं वैसा मुझे समय पर प्राप्त हो
मैं अगर हाथ फैला ऊ तो केवल अपनी माता के
सामने किसी और के सामने नहीं मेरे बच्चों
जैसे ही तुम्हें संकल्प लेना शुरू कर दोगे

तो तुम्हारे जीवन में एक नया परिवर्तन
आएगा प्रकृति में विराजमान शक्ति तुम्हारी
सहायता करने लगेंगी और इस तरह सहायता
करेंगी कि खुद
बखुदा राह पर चलने का मार्ग दिखाए और तुम
फिर भी उस राह पर ना चलो तो तुम स्वयं समझ

जाना कि तुम्हारी मंजिल तुम्हारे सामने है
पर तुम उसको पाना नहीं चाहते और अपनी
मर्जी से स्वयं के जीवन को चलाना चाहते हो
किंतु याद रखना यदि तुम्हें गलत और सही का
ज्ञान नहीं है तो तुम हमेशा ही परेशान और
दुखी रहोगे तुमने हमेशा मेरी भक्ति करके

मुझे खुश किया है और अब मैं तुम्हें जीवन
के सारे सुख दूंगी जिन्हें पाने के बाद
तुम्हारे जीवन में केवल खुशियां ही
खुशियां होंगी मैं जानती हूं कि जीवन में
सुख पाने के लिए बहुत सारे दुखों का सामना
करना पड़ता है परंतु मेरा विश्वास मानो आज
तुम्हारे सभी दुख समाप्त होकर सुख में

परिवर्तित हो जाएंगे मेरे बच्चों प्रकृति
का नियम यह है कि संसार का प्रत्येक
व्यक्ति यदि अपने भीतर की ताकत को पहचानकर
अपने कार्य को करने लगे तो कोई भी कार्य
संभव नहीं है और किसी भी कार्य को करने के
लिए सबसे पहले मनुष्य को खुद को तनाव
मुक्त करना होगा क्योंकि तनाव में किसी
प्रकार का कार्य करना असफलता का चयन है
मेरे द्वारा बताई गई बातों को यदि तुमने
भली प्रकार से मान लिया तो तुम्हें मेरी
कृपा प्राप्त होगी मैं चाहती हूं कि तुम
गरीब और जरूरतमंद लोगों की सहायता करो ऐसे
लोगों की सहायता करो जिन्होंने बहुत दिन
से भोजन को ग्रहण नहीं किया है जिनके पास
अपना तन ढकने के लिए वस्त्र भी नहीं है
तुम्हें सबसे पहले उन लोगों की सहायता
करनी चाहिए अब मैं अपने धाम वापस जाना

चाहती हूं और अपना आशीर्वाद देकर जाना चाह
कि तुम जीवन में सदा खुश रहो और उन्नति की
ओर बढ़ो तुम्हारा कल्याण हो मेरे बच्चे और
तुम्हारी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो
तुम्हारा दिन मंगलमय हो

Leave a Comment