अपने प्रेमी की आज सच्चाई जान लो कोई नहीं बताया

मेरे बच्चे तुम्हारी पुकार मुझमें तक
पहुंच चुकी है अब तुम यही सोच रहे हो ना
की यदि तुम्हारी पुकार मुझमें तक पहुंच गई
है तो मैं चुप क्यों हूं तुम्हारी पुकार
को सुनने के बाद मैं तुम्हारी समस्या को

समाप्त क्यों नहीं कर रही सुनने के बाद
मैं तुम्हारी समस्या को सवाल बार-बार उठ
रहा है और तुम्हारा मां विचलित हो रहा है
शीघ्र ही उत्तर जन के लिए शीघ्र यह जन के
लिए की मैं तुम्हारी समस्याओं की पुकार
सुनने के पश्चात शीघ्र समाप्त क्यों नहीं
कर रही परंतु मेरे बच्चे तुम इन बटन से
अभी तक अनजान हो की यदि मैं चुप हूं तो
इसका अर्थ यह नहीं की मैं कुछ कर नहीं रही

या कुछ बड़ा सोच नहीं रही बल्कि मैंने
तुम्हारे लिए बहुत कुछ सोच रखा है और बहुत
ही अलग सोच रखा है इसके लिए ही मैं
तुम्हें तैयार कर रही हूं तुम्हारी
परीक्षाओं के उपरांत ही मैं तुम्हें उसे
मंजिल पर अवश्य ही पहुंच दूंगी जी मंजिल
पर तुम पहुंचाना चाहते हो परंतु उसके लिए

तुम्हें पूर्ण रूप से तैयार होना होगा
तुम्हें अपने अंदर इतनी शक्ति विद्यमान
करनी होगी की मैं जब तुम्हारे जीवन में
चमत्कार करूं तो तुम उसे देखने के लिए
फौरन तैयार रहो तुम्हारी परीक्षाओं के
पीछे तुम्हारा सुनहरा भविष्य जो मैं अब
तुम्हें दे रही हूं तुम्हारे आसपास के

किसी भी व्यक्ति को तुम्हारे करण कष्ट एन
हो तो तुम स्वयं को भाग्यशाली समझना
तुम्हारे अच्छे दोनों की शुरुआत हो चुकी
है परंतु इसके साथ साथ मेरे बच्चे यह भी
याद रखना है मैं तुम्हारे साथ हूं
तुम्हारे सामने ना सही परंतु तुम्हारे
आसपास हूं बस तुम उसे रूप को अपने सच्चे
मां की शक्ति से मुझे देख नहीं का रहे हो

क्योंकि मुझे देखने के लिए या मेरा दर्शन
प्राप्त करने के लिए एक सच्चे मां और
सच्चे हृदय की आवश्यकता होती है जो की
तुम्हारे पास है बस तुम उसे सही समय पर
सही तरह से इस्तेमाल नहीं कर का रहे हो
अपने मां को जागृत करो मेरे बच्चे मैं
जानती हूं की अभी तुम परेशानी में हो जी
करण तुम्हें शक्ति को नहीं पहचान का रहे
हो पर एक ऐसा समय आएगा की तुम शक्ति को
पहचान लोग क्योंकि मैं तुम्हारा

मार्गदर्शन करूंगी मेरा मार्गदर्शन ही
तुम्हारी परीक्षा होगा अगर तुम इसमें सफल
हो जाते हो तुम्हारी इच्छा पूर्ण हो जाएगी
उसके पश्चात तुम्हें अपनी मां से कोई
शिकायत नहीं रहेगी तो अब तुम तैयार होना
मेरे बच्चों मैं जानती हूं की तुम बहुत

परेशानी में हो और तुम्हारे साथ कभी जीवन
में ऐसा होता है की तुम करना तो कुछ चाहते
हो पर कुछ और कर लेते हो और आज मेरा यह
संदेश केवल तुम्हें सच्चाई को बताने के
लिए आई हूं की तुम्हें तुम्हारे असली
लक्ष्य के बड़े में पता चल सके क्योंकि
तुम्हारे लिए है जानना आवश्यक है की वह
कौन सी गलती है जिसके करण तुम अपने लक्ष्य
से भटक जाते हो जो इंसान अपने लक्ष्य से

भटक जाता है वह कभी किसी मोड पर नहीं
पहुंच पता क्योंकि उसे अपने जीवन का
लक्ष्य निर्धारित नहीं होता और जिसके जीवन
में कोई लक्ष्य नहीं होता वह कभी भी अपने
जीवन में आगे नहीं बाढ़ सकता जैसे एक
मुसाफिर अपनी मंजिल पर तभी पहुंच सकता है

जब उसे अपने मंजिल का पता मालूम हो किंतु
यदि उसे अपनी मंजिल का ही पता ना मालूम हो
तो वह कभी किसी मंजिल पर नहीं पहुंच सकता
ऐसा व्यक्ति केवल यहां से वहां भट्ट ही र
जाता है परंतु अपनी वास्तविक मंजिल कभी
नहीं मिल पाती वैसे यदि तुम्हारे जीवन में

भी लक्ष्य नहीं है तो तुम ऐसे ही भटकती
रहोगे इसलिए तुम्हें आवश्यकता है एक ऐसी
मंजिल की जो तुम्हारे पूरे जीवन को स्वर
दे मेरे बच्चे तुम्हारी माता ने तुम्हें
इस धरती पर केवल अपने जीवन को सवारने का
तो मेरी शक्ति के लिए भेजो है परंतु तुम

इस दुनिया की मो माया में आकर अपने लक्ष्य
के साथ साथ अपनी लता को ही भूल चुके हो
मैंने तुम्हें हर मार्ग दिखाए है किंतु
तुम ऐसी कुछ गलतियां कर देते हो की तुम उन
मार्ग पर नहीं चल पाते
आज का मेरा यह संदेश केवल तुम्हें असली
मंजिल तक पहचाने का मार्ग बताएंगे किंतु
यदि तुमने मेरे संदेश को देखा किया और
तुम्हें लगा की मैं स्वयं ही अपना मार्ग
ढूंढ लूंगा तो तुम ऐसे ही भटकती रहोगे

मेरे बच्चों मैं नहीं चाहती की तुम ऐसे ही
भटकती रहो तुम अपने जीवन में बहुत अधिक
भटक चुके हो अब तुम्हें ठहर की आवश्यकता
है तुमने अपने जीवन के दुखों को बहुत सा
लिया किंतु अब तुम्हें आवश्यकता है इस
मार्ग पर चलने की जहां केवल शांति और सुख
है और यह तभी संभव है जब तुम उचित मार्ग
पर चलकर उचित कार्य करो मेरे बच्चों समय

की कीमत सबसे अधिक होती है और तुम्हें समय
के अनुसार ही चलना होगा संसार की सबसे
शक्तिशाली चीज समय ऐसी चीज है जो निर्बल
को बलबन बना शक्ति है और मेरे बच्चे मैं
चाहती हूं की तुम अपने जीवन को दिशा में
लेकर जो जी दिशा में मैं तुम्हें ले जाना
चाहती हूं जहां केवल तुम्हारी जिंदगी में

सुख और शांति रहेगी इसलिए अब तुम अपने
माता के अनुसार आगे बढ़ते जो मैं जानती
हूं मेरे बच्चों तुम काफी बरसों से अपने
जीवन में होने वाली परेशानी से जूझ रहे हो
लेकिन अभी तुम्हारी जिंदगी कुछ ही दोनों

में बदलने वाली है तो महसूस करोगे
तुम्हारे जीवन में खुशियां आने शुरू हो गई
है मेरे बच्चों मेरी बात याद रखना हमेशा
सच्ची लगन के साथ अपने कार्य करते जाना
तुम वहीं पर भी अपने मां में डर मत लाना
की कोई भी कार्य तो नहीं कर सकते तुम अपने
मां में यह डर मत रखो की क्या सही होगा
क्या गलत होगा बस अपने कार्य को दृढ़
निश्चय के साथ अपने ईमानदारी के साथ करते
जो अगर तुम चिंता करते रहोगे की मेरा

कार्य सही होगा या गलत तो तुम कोई भी
कार्य नहीं कर पाओगे इसी उलझन में अपना
पूरा समय खराब कर डॉग तुम्हारे हर कार्य
का फल तुम्हें तभी मिल सकता है जब तुम उसे
अपने पूरे दिल से करो तुमने मेरी जितनी भी
पूजा अर्चना की है उसका फल मैंने हमेशा से
दिया है और आगे भी दूंगी तुम्हें कभी मत

सोचना की तुम्हारी मां तुम्हारे साथ नहीं
है मैं हमेशा से तुम्हारे साथ ही और आगे
भी तुम्हारे साथ ही रहूंगी मेरे बच्चों बस
तुम केवल मुझमें पर विश्वास बनाए रखो मैं
वह करती हूं जो हर बुराई का नस पाल भर में
कर देती हूं फिर तुम्हारे ऊपर आए कासन को

मैं कैसे दूर नहीं करूंगी तुम्हें है मत
सोचो की तुम अधूरे रहोगे मैं सदा तुम्हारे
साथ हूं एक माता का कर्तव्य अपने बच्चों
की रक्षा करना होता है और मैं भी तुम्हारे
हर दुख को हर लूंगी मेरी कृपा का फल तो
तुम्हें अवश्य मिलेगा किंतु तुम बार-बार

अपने मां में उठ रहे विचारों को बैंड करो
और केवल मेरा ध्यान करो तुम्हारे सारे दुख
दूर हो जाएंगे मां में बार-बार उठ रहे
विचार ही हमारे सुख दुख का करण बनते हैं
इसलिए सदा अच्छे विचारों को सोचो आप जीवन
में कभी भी किसी का बड़ा मत सोचना क्योंकि
समय कभी बादल सकता है इसलिए अपने समय पर
कभी घमंड मत करना यह मत सोचना की आज समय
तुम्हारे हाथ में है तो तुम जो मर्जी कर

सकते हो हमेशा याद रखना समय किसी का नहीं
है वह केवल इस का होता है जो उसके अनुसार
कार्य करता है और मैंने जो तुम्हें हुनर
दिए हैं उन पर कभी भी घमंड मत करना
क्योंकि घमंड व्यक्ति को एक ना एक दिन
परस्त कर देता है इसलिए मेरे बच्चों सदा
ही अपने आप को इस घमंड रूपी बुराई से दूर
रखना क्योंकि जब तुम घमंड से दूर रहोगे
तभी तुम अच्छाई की और बाढ़ सकोगे जैसे

धनुष से निकाला गया बाढ़ किसी ना किसी को
भेज देता है ऐसे ही मुख से निकले गए कटु
शब्द हमारे हृदय को अंदर तक भेज देते हैं
हमेशा दूसरों के प्रति प्रेम की वाणी से
बात करो प्रेम से बोला हुआ हर वाक्य अमृत
के समाज प्रतीत होता है इसलिए अपनी वाणी
का सदुपयोग करें स्वयं मीठा बोले और सामने
वाले को भी मीठा बोलने का अवसर दे ऐसा

करने से तुम अपने साथ-साथ सामने वाले के
हृदय में भी प्रेम की भावना को जागृत कर
डॉग जिससे यदि वह तुम्हारे प्रति गलत धरना
भी रखना होगा तो तुम्हारे प्रेम को देखकर
वह अपने धरना को बादल देगा अब मैं अपने

धाम वापस जाना चाहती हूं किंतु यह कहना
चाहती हूं की मेरे संदेश को अपने जीवन में
अपनाना और अपने मां को शांत करके अपने
कार्यों पर ध्यान देना तुम्हारे जीवन में
अब से सब कुछ अच्छा होगा मेरा आशीर्वाद
सदा तुम्हारे साथ है तुम्हारा कल्याण हो
तुम्हारा दिन मंगलमय हो तभी तुम्हें मेरी
बोली हुई बातें समझ में आएंगे किन बटन को
समझना क्यों जरूरी है इसलिए तुमको यह
समझना बहुत जरूरी है पहले तुम मुझे एक बात
का जवाब दो की यदि तुम्हारे साथ
कोई ईमानदारी रखना है
और दूसरा वही तुम्हारे साथ कोई धोखा करता
है तो तुमको यह बात पता होने के बाद तुम
किस इंसान का साथ देना चाहोगे
तुम्हारा हृदय किसकी तरफ खींचेगा जी
प्रकार सही सही
[संगीत]
यदि गलत की संगति में ए जैन तो वह तो या
तो सही व्यक्ति जैसा गलत व्यक्ति बन जाएगा
या गलत जैसा सही व्यक्ति उसकी संगति में
गलत बन जाएगा लेकिन तो अलग प्रवृत्ति के
इंसान एक साथ नहीं र सकते क्योंकि उनको फल
भी अलग-अलग प्राप्त होते हैं
इसलिए सबसे पहले कार्य तो तुम यह करो की
यदि तुम्हें समय गलत संगति में हो तो
तुरंत ही वह संगति छोड़ दो और यदि तुम खुद
पर विचार करके देखो तुम कोई गलत कार्य कर
रहे हो तो उसे बैंड कर दो
उसके साथ ही आज से यह कार्य करना प्रारंभ
करो जिसमें पहले सुबह सूर्य निकालने से
पहले उठाना प्रारंभ करो यदि तुम सूर्य को
निकालने के पश्चात उठाते हो तो यह आदत आज
से छोड़ दो और सुबह जल्दी उठकर तुम स्नान
करो और एकाग्र में बैठकर तुम किसी भी अपने
इस्ट देवता का स्मरण करते हुए अपने मां को
शांत वातावरण में एकाग्र करना शुरू करो
क्योंकि यह एकाग्र की शक्ति मेरे बच्चे
तुम्हारे लिए बहुत जरूरी है किसी भी कम को
करने के लिए एकाग्र मां होना जरूरी है
किसी भी मंजिल को प्राप्त करने के लिए
एकाग्र होना जरूरी है एकाग्र मां से शांति
और सुख का अनुभव होगा और अगर तुम्हारे
हृदय में शांति उत्पन्न होगी तो इसके साथ
ही तुम्हारे हृदय में सकारात्मक ऊर्जा भी
विराजमान रहती है
सकारात्मक ऊर्जा ही तुम्हारे जीवन की जो
प्रारंभ से लेकर संध्या कल तक दिनचर्या है
उसमें एक ऐसी शक्ति उत्पन्न है तुम्हारे
हाथों से जब अच्छे कार्य होंगे तुम्हारे
हाथों से सब सही कार्य होंगे तुम्हारा
जीवन भी अच्छे से अघ्र्षित होगा उन्नति की
और इसके साथ ही तुमको यह बात कभी नहीं
भूलनी चाहिए जीवन में जब भी तुम्हारे
समस्याएं उत्पन्न होती है तो तुम किसी ना
किसी गलती के करण ही उन समस्याओं को
उत्पन्न कर लेते हो या तो तुम्हारा कोई
गलत कार्य की वजह हो सकता है तुम्हारा कोई
ऐसा कार्य जो किसी देवता को रुष्ट कर रहा
हो यदि तुम अनजाने में ही किसी का अपमान
कर रहे हो तो तुम्हें उसका पाप ना तो
तुम्हें कभी लगता है और ना ही उसका दंड
तुम्हें कभी भगत ना पड़ता है क्योंकि उसका
पाप होता ही नहीं लेकिन यदि तुम जान बुझ
कर
किसी देवता का अपमान कर रहे हो या
जानबूझकर किसी देवता को वृद्ध कार्य कर
रहे हो तो उसकी गलती की सजा तुम्हें
समस्याओं के रूप में प्राप्त होती है
और यदि तुम्हारे जीवन में ऐसा हो रहा है
तो निश्चित ही तुम उसे पर ध्यान रखो और
ध्यान से अपने गलतियां को सुधारने की
कोशिश करो जैसे ही तुम अपने कार्य में
परिवर्तन लेकर आओगे वैसे ही आने वाले समय
में अपने आप सुधार होता चला जाएगा और
तुम्हें स्वयं दिखाई देगा की तुम्हारा समय
परिवर्तन हो रहा है
[संगीत]
जो समस्या है धीरे-धीरे करके समाप्त होने
लगेंगे और तुम्हें अनुभव होगा की हां
तुम्हारे कर्मों में परिवर्तन के करण हुआ
यदि इस बात को विश्वास रखकर करना प्रारंभ
करोगे तो जीत होगी मेरे बच्चे तुम हंसते
तो सबके सामने हो परंतु रोटी केवल मेरे
सामने हो तुम किसी को अपने आंसू दिखा कर
कष्ट नहीं देना चाहते मैं जानती हूं परंतु
मुझे तो कुछ भी छिपा नहीं है मेरे बच्चे
तुम तो यह जानते हो भले ही इंसान को कष्ट
का सामना करना पड़ता है क्योंकि एक अच्छा
इंसान ही अपने साथ साथ दूसरों की तकलीफ को
समझ पता है और उनकी सहायता करता है साथ
देता है
कष्ट वह चीज है जो इंसान को निखार देता है
[संगीत]
मेरे बच्चे जब तक किसी को कष्ट नहीं मिलता
तब तक कोई व्यक्ति सत्य को समझ ही नहीं
पता यह तुम भी भाले भांति जानते हो और इसे
समझते हो इसलिए आज स्वयं आई हूं तुम्हें
यह बताने की अपने आप को इतना अभागा मत
समझो
[संगीत]
मैंने तुम्हें यह कष्ट तुम्हारी चेतन को
जागृत करने के लिए दिया है मेरे शरण में
आने के लिए दिया है हर व्यक्ति और हर
स्थिति को नजदीक से अनुभव करने के लिए
दिया है जिससे तुम्हें सब स्पष्ट हो जाए
और समझ में
और समझ में ए जाए मेरे बच्चे तुम्हें किसी
के साथ अपनी तुलना करने की कोई आवश्यकता
नहीं है क्योंकि तुम्हारी परिस्थितियों को
तुम्हारी परेशानियां को तुमने एहसास किया
है इसलिए जो भी जानते हो तुमने जो कुछ
पाया है वह भी कितने परिश्रम और धैर्य के
बाद पाया है
मेरे बच्चे हर एक व्यक्ति को मेरी
आवश्यकता है परंतु मुझे पुकारता वही है जो
दुख में होता है और मुझे पता भी वही है जो
भाग्यशाली होता है इसलिए मेरे बच्चे
तुम्हें कष्ट मिलने का करण केवल दुख देना
नहीं है तुम्हें मेरे समीप लाना ही सबसे
बड़ा उद्देश्य है
मेरे बच्चे मेरी बटन को समझो लाखों की
भीड़ में कोई एक होता है जो भीड़ में चल
रहे लोगों के पीछे ना चलते हुए केवल अपने
हृदय की आवाज सुनता है और एक ऐसा मार्ग का
निर्माण करता है जो उसे सफलता के शिखर पर
पहुंच देता है
मैं यही चाहती हूं की तुम उन भीड़ में ना
रहो तुम सबसे अलग हो इसलिए तुम अपनी तुलना
दूसरों से ना करो कभी कभी जीवन में जो
घटित हो रहा होता है जो दिखे रहा है वही
सच हो यह आवश्यक नहीं इसके पीछे कहानी ना
कहानी तुम्हारी भलाई छुपी होती है
मेरी बात हमेशा याद रखना तुम दिव्या हो
भले ही तुम अपने आपके भूल के करण अपने
दिव्यता भूल जाते हो और भीड़ में कहानी को
जाते हो किंतु मेरे बच्चे मैं जानती हूं
तुम स्वयं के मार्ग का निर्माण स्वयं ही
करोगे तुम्हारे साथ जो हुआ है
वह तुम्हारी चेतन को जागृत करने के लिए
हुआ तो मैं इस दुनिया को स्पष्ट रूप से
समझ सको जैसे-जैसे समय व्यतीत होगा सब समझ
ए जाएगा तुम्हारे साथ मेरा आशीर्वाद सदा
ही राहत है तुम्हारा कल्याण हो ओम नमः
शिवाय

Leave a Comment