आपके शत्रुओं का मिट जाएगा नामोनिशान कर्म भोगने पर हुए मजबूर

मेरी प्यारी बच्चे इसमें कोई संदेह नहीं

है कि तुम अत्यंत बुद्धिमान और चतुर हो

परंतु अपनी चतुराई अपनी बुद्धिमत्ता

तुम्हें कहां प्रकट करना है इसका तुम्हें

तनिक भी ज्ञान नहीं है मेरे बच्चे तुमसे

बहुत बढ़ती भूल हो रही

है बाहरी लोग जो तुम्हे बर्बाद करने पर

तुले हैं तुम उनसे बहुत ही विनम्र भाव से

मिल रहे हो और अपने परिवार पर अनावश्यक

क्रोध कर रहे हो विशेषकर अपने माता-पिता

से मेरे बच्चे तुम्हारे माता-पिता

तुम्हारे लिए ईश्वर तुर्य है वह तुम्हारे

लिए जो भी करते हैं उसमें तुम्हारा ही हिट

छुपा होता है

हो सकता है जो चीज तुम्हें प्रिय हो वह

उन्हें अप्रिय

लगे ऐसा भी हो सकता है कि जो तुम सोचते हो

जो तुम पाना चाहते हो वही सही हो परंतु

इसके लिए अपने माता-पिता या अन्य परिवार

पर क्रोध करना मर्यादा का उल्लंघन

है मेरे बच्चे इस इस पर विश्वास है तो हां

लिखकर इस संदेश

को मेरे बच्चे ना जानती कभी-कभी तुम्हारे

माता-पिता तुम्हारे प्रति अत्यंत कठोर

व्यवहार करते हैं तुम्हारे हर कार्य का

परीक्षण करते हैं और उसमें कोई ना कोई

त्रुटि अवश्य निकालते हैं परंतु वह अपने

अनुभव के आधार पर तुम्हे गलती करने से

रोकते

हैं मेरी बच्ची माता-पिता की कठोरता भी

सम्माननीय है क्योंकि माता-पिता गुरु की

भांति तुम्हारे जीवन को सार्थक बनाने के

लिए तुम्हें धर्म कर्म ज्ञान और ध्यान का

पाठ पढ़ाते

हैं तुम सौभाग्यशाली हो कि तुम्हारे पास

मा ता पिता है मेरे बच्चे तुम्हारे लिए यह

स्वीकार करना मुश्किल है कि तुम में अपने

ज्ञान का अहंकार पनप रहा

है किंतु यदि स्वीकार कर लो तो जीवन सरल

हो

जाएगा क्योंकि मेरे बच्चे अहंकार का आवरण

व्यक्ति में सत्य को समझ में बुझने की

क्षमता को क्षीण कर देता है और नाश की ओर

धकेल देता

है मेरे बच्चे भविष्य में तुम्हें किसी

विपत्ति का सामना ना

करना इसलिए मैं तुम्हें सचेत कर रही

हूं मेरे बच्चे अपनी माता रानी को मानते

हो उसको आई लव

यू मता रानी लिखकर इस चैनल को सब्सक्राइब

कर

दीजिए मेरे बच्चे कहां सहना है कहां कहना

है इस बात का विशेष ध्यान दो मेरे बच्चे

तुम्हारे जीवन में कई लोग ऐसे हैं जो

तुम्हें आगे बढ़ने से रोक रहे

हैं जब भी तुम कुछ नया करने की सोच रहे हो

तो वह तुम्हारे मार्ग में अवरोध उत्पन्न

कर रहे हैं

तुम उनसे भली भांति परिचित हो परंतु फिर

भी तुम अनदेखा कर रहे हो जबकि उनकी हर

क्रिया का उत्तर देने में तुम समर्थ हो

मेरे बच्चे बाहरी लोगों से तुम्हारा यह

व्यवहार सर्वथा

उचित शत्रुता पालना कहीं से भी तुम्हारे

लिए हितकारी नहीं है परंतु यह यही व्यवहार

तुम्हें अपने माता-पिता या परिवार के

सदस्यों के साथ भी करना

है मेरे बच्चे जब तुम्हारे किसी कार्य में

तुम्हें असफलता मिलती है तो तुम मानसिक

तनाव लेते हो तनाव से क्रोध उत्पन्न होता

है और क्रोध से बुद्धि का विनाश होता

है तुम अपनी असफल का दोषी अपनों को ही

समझते हो परंतु दोष तुम्हारे भीतर

है तुम्हारे मन में स्थिरता नहीं है

तुम्हारे कार्य में निरंतरता नहीं है तुम

अपने कार्य को समय पर नहीं करते बस

योजनाएं बनाते

हो तुम्हारा मन अनेक चीजों पर भागता

है मेरे बच्चे

लिखकर इस संदेश को शेयर कर

दीजिए मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि

तुम्हारे जीवन में किस चीज की कमी है तुम

किस चीज के लिए मेहनत कर रहे हो और किस

चीज पर ध्यान नहीं दे रहे

हो मेरे बच्चे तुम अपनी जरूरतों के लिए

कार्य कर रहे रहे हो अपनी इच्छाओं को

पूर्ण करने का प्रयास कर रहे हो किंतु तुम

कुछ कार्य ऐसे भी कर रहे हो जिस पर

तुम्हें ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है

है मेरे बच्चे

मुझे तुम्हारा भरोसा संसार से उठ गया

क्योंकि तुम्हें अपनों से परायो से और हर

उस इंसान से दुख मिला है जिसे तुमने बहुत

प्यार दिया

है मेरे बच्चे तुम्हें अपनी माता रानी पर

विश्वास है तो हां लिखकर इस संदेश को अभी

लाइक कर

दीजिए मेरे बच्चे में जानती हूं जब कोई

अपना छल करता

है तो पूरा संसार ही अधीन लगने लगता

है कि जब तुम्हारे साथ कोई छल करता है तो

वहां तुम्हें एक महत्त्वपूर्ण सीख देकर

जाता

है जब तुम अपना उद्देश्य भूल जाते हो अपने

मार्ग से भटक जाते हो तो कोई ना कोई

तुम्हें सही दिशा देने के लिए तुम्हारे

जीवन में आता

है कोई प्रेम के माध्यम से कोई छल के

माध्यम से तुम्हें उचित मार्ग दिखाता

है मेरे बच्चे अपने मन की सुनो तुम्हारे

मन की आवाज परमात्मा की आवाज है तुम्हारा

मन की तुम्हें सही राह दिखाएगा और इसी से

तुम्हें अपार सफलता

मिलेंगे तुम्हारी सभी जरूरतें पूरी

होंगी

प्रेम धन सम्मान

प्रसिद्ध सब कुछ सहज ही प्राप्त

होगा मेरे बच्चे सच्चे मन से लिखो जय हो

माता रानी मेरे बच्चे जो आपके विरोधी थे

कैसे परमात्मा ने उनको चिंता में डाल दिया

है कैसी पर परमात्मा ने उनको फिक्र में

डाल दिया

है क्या कर रहे हैं अभी क्या हो रहा है

उनके साथ मेरे बच्चे जो लोग आपको दुख दे

रहे थे ना आपके विरोधी आपके साथ गेम खेलते

थे

Leave a Comment