उसके साथ भाग्यशाली मिलन और जीत की निश्चित तारीख आ गई है

मेरे प्रिय बच्चे कैसे हो तुम क्या

तुम्हें पता है कि तुम बहुत भाग्यशाली हो

और आज तुम्हें यह संदेश प्राप्त हुआ है तो

यह मात्र कोई संयोग नहीं है यह प्रमाणिकता

है कि तुम्हारा सौभाग्य अब नजर आने वाला

है मैं तुम्हें तुम्हारे भविष्य की सच्चाई

को बताने और तुम्हें आगाह करने आया हूं

क्योंकि जो अब मैं बताने वाला हूं वो

बातें तुम्हारे जीवन के लिए बहुत खास है

और तुम्हें हर परिस्थिति में इस संदेश को

पूरा सुनना है किसी भी हाल में इसे बीच

में छोड़कर नहीं जाना है प्रिय बच्चे आज

तुम्हें अपने साथी से संबंधित बहुत

महत्त्वपूर्ण बात पता

चलेगी तुम्हें ज्ञात है कि तुम्हारा साथी

जुम से निस्वा भाव से प्रेम करता है उसके

मन में किसी प्रकार का कपट नहीं है ना ही

किसी तरह का लालच है लेकिन कुछ बातें हैं

जिसे जानना तुम्हारे लिए जरूरी है किंतु

उससे पहले मैं तुम्हें यह बताना चाहता

हूं कि तुम्हारी एक बहुत बड़ी मनोकामना

पूर्ण होने वाली है और अब वह समय आ गया है

जब तुम्हारी एक बहुत बड़ी इच्छा को पूरा

कर दिया

जाए मेरे प्रिय बहुत समय से तुम दोनों का

मिलन संभव नहीं हो पा रहा था इस मिलन को

भी संभव करने का समय आ गया है मैं

तुम्हारे आत्म संगी की बात कर रहा

हूं वो नहीं होता जो तुम्हें दिखाई दे रहा

है यह एक अहम बात है जिसे तुम्हें जानना

होगा और इस मिलन से एक बहुत बड़ा सौभाग्य

तुम्हें प्राप्त होगा और एक कभी ना टूटने

वाले बंधन की शुरुआत

होगी तुम्हारा साथी ही इस समय विभिन्न

प्रकार के विचारों से घिरा हुआ है और अब

उसके मन में अस्पष्टता आ जाने का भी समय आ

चुका है वह बहुत बेचैन है उसके मन में

उदासी छाई थी लेकिन अब वो उदासी भी दूर

होने वाली है जब प्रेम सच्चा होता तो

आलौकिक जगत से ही यह मिलन संभव हो जाता है

और फिर जब तुम दोनों का यह चमत्कारिक मिलन

संभव होगा तो इससे एक नवीन ऊर्जा का जन्म

होगा यह ऊर्जा पवित्र है यह ऊर्जा

[प्रशंसा]

[संगीत]

तुम्हारी अच्छाइयां बताता फिरता है वह

सदैव तुम्हारा ही विचार किया करता है

तुम्हें अभी ज्ञात नहीं कि तुम्हारा

भविष्य किस दिशा में जाने वाला है लेकिन

मैं तुम्हें इतना बता देना चाहता हूं कि

तुमने जो कुछ भी सोचा है यह बिल्कुल उससे

अलग होगा बिल्कुल विपरीत होगा यह

सकारात्मकता से ही भरा हुआ होगा जैसा कि

तुमने कई बार विचार किया है लेकिन इसके

होने का ढंग और इसके घटित होने की

प्रक्रिया दोनों अलग

होगी मैं यह नहीं कह रहा कि तुम्हारा

भविष्य केवल आनंद से भरा हुआ है बल्कि

आनंद के बजाय वहां शोक की कोई व्यवस्था

नहीं

होगी एक अशोक होगा इसका अर्थात यह है कि

तुम्हारे जीवन में आने वाले भविष्य में

दुख का कोई स्थान नहीं है आनंद की मात्रा

कमियां ज्यादा हो सकती है आनंद तुम्हारे

कर्म तुम्हारे कृत्यों पर निर्भर करते हैं

लेकिन दुख नहीं होगा यह बात स्पष्ट रूप से

सत्य है और इस मिलन के साथ ही तुम्हारे

विवेक में भी अभूतपूर्व वृद्धि होगी और

ऐसा होना आवश्यक भी है जब मनुष्य के भीतर

जागृति की अवस्था आती है तब मनुष्य का

विवेक पहले से भी ज्यादा बढ़ जाता है उसका

आभा मंडल इतना विस्तारित हो जाता है तो वह

सही गलत का चुनाव बहुत ही आसानी से कर

पाता है तुम जो कि अपने जीवन में बहुत से

गलत फैसले ले चुके हो अब तुम्हे इससे ऊपर

उठकर उचित फैसले लेने का समय आ गया है

द्वार खुल रहा है रोशनी फैल रही है और यह

प्रकाश तुम्हारे मन को ज्ञान के सागर से

सराबोर कर देगा यह प्रकाश तुम्हारे भीतर

के अहंकार को समाप्त कर तुम्हें ब्रह्मा

को भर देगा और यह वस्था ब्रह्मा में लीन

हो जाने की अवस्था के ही समान होगी कुछ

बातें हैं जिनसे अभी तुम्हारा परिचय नहीं

हुआ है कुछ ऐसे हालात है जो तुम्हारे जीवन

में नए स्तर पर नए तरीके से आएंगे इन

हालातों में ऐसा नहीं है कि चुनौतियां

नहीं होंगी ऐसा भी नहीं है कि यह हालात

बहुत आसान होने वाले हैं ऐसा नहीं है कि

इन हालातों में तुम्हें घबराहट नहीं होगी

लेकिन इन सबसे ऊपर मैं तुम्हें बता दूं कि

इन हालातों में रोमांच होगा इन हालातों

में आत्मविश्वास के बढ़ जाने की प्रक्रिया

शामिल होगी इन हालातों में प्रेम के बढ़

जाने की घटना घटित होगी इन हालातों में

तुम वो नहीं रहोगे जो अभी हो इन हालातों

में तुम निकरो ग इन हालातों में तुम्हारा

वर्चस बढ़ेगा तुम्हारा आभा मंडल प्रकाश से

इस तरह से भर जाएगा मानो एक नए ब्रह्मांड

का ही निर्माण हो रहा हो तुम स्वयं को

सृजन कर्ता के रूप में महसूस कर

पाओगे तुम स्वयं को एक ऐसे व्यक्ति के रूप

में महसूस करोगे जिसके भीतर से भय समाप्त

होगा जिसके भीतर करुणा भरी हुई होगी जो

करुणा का सागर होते हुए भी किसी से भयभीत

नहीं होगा जिसे ना मृत्यु का भय होगा ना

असफलता का भय होगा ना प्रेम के छिन जाने

का भय होगा ना ही किसी प्रकार से किसी के

समक्ष कुछ कह देने का भय होगा तुम ब्रह्मा

में लीन हो जाने वाली अवस्था को प्राप्त

होने वाले हो मैं नहीं कहता कि तुम सन्य

हो जाओगे मैं यह भी नहीं कह रहा कि तुम इस

भौतिक संसार को त्याग दो ऐसा बिल्कुल भी

नहीं

होगा बल्कि अब आने वाले भविष्य में तुम और

भी ज्यादा बेहतर तरीके से इस भौतिक संसार

का लाभ उठा पाओगे इस भौतिक संसार के महत्व

को समझ पाओगे तुम अब ब्रह्मांड के ऊर्जा

चक्र के घेरे में हो तुम अब नियति के उस

खेल में शामिल हो चुके हो जहां तुम्हारी

जीत बहुत पहले लिखी जा चुकी थी यह बात आज

से नहीं लिखी गई है पिछले कई जन्मों से यह

कहानी लिखी जा रही है दोहराई जा रही है हर

बार तुम धूल से नि ले हुए उस पुष्प के

समान होते हो जो ऊंचाई पर पहुंचकर लोगों

को अपने सुगंध से मंत्र मुगत कर डालता है

तुम उस पेड़ के समान हो जाते हो जो लोगों

को शीतलता प्रदान करता है छाया प्रदान

करता है फल प्रदान करता है और फिर भी उसका

वर्चस कभी समाप्त नहीं होता तुम वह हो

जाते हो जिसका महत्व बढ़ता ही जाता है

जिसका कद्र ना केवल कोई एक दो मनुष्य

बल्कि समस्त संसार करने लगता है और आज भी

तुम उस राह पर बढ़ चले हो ब्रह्मांड में

यह घटना पहले ही घटित हो चुकी थी तारों के

जन्म के साथ ही वह कर्म में बस चुका था यह

कोई आज की घटना नहीं है आज से लगभग

करोड़ अरब वर्ष पूर्व यह घटना घटित हो

चुकी है सदैव रूप से परिवर्तित करके इसके

साक्षी रहे हो ऐसा कोई भी जीव इस संसार

में मौजूद नहीं जिसका रूप तुमने धारण ना

किया हो और अंतः जाकर तुम मनुष्य रूप को

धारण कर पाए हो और जबकि अब तुम मनुष्य रूप

को धारण कर चुके हो यही तुम्हारी अंतिम

गतिविधि है और यहां से तुम नए कर्मों का

निर्माण कर रहे हो एक पूरे क्रमिक काल

चक्र से मुक्त होकर तुमने जीत की महागाथा

लिख दी है और अब तुम्हें हराने वाला इस

संसार में कोई भी नहीं है यह तुम्हारा

अपना भय है यह संदेह है जो तुम स्वयं पर

कर रहे हो जिसकी वजह से तुम वह नहीं देख

पा रहे जो तुम्हें बहुत पहले देख लेना

चाहिए था तुम्हारी दृष्टि उस दिव्यता को

देखने में अभी सक्षम नहीं है लेकिन

तुम्हारे विचार तुम्हारा अवचेतन मन इससे

भली भाति परिचित है कि तुम वास्तविक रूप

में ब्रह्मा ही हो तुम वास्तविक रूप में

वही हो जो तुम देख रहे हो वह तारे जो टूट

चुके व तारे जो विक्षेपित होकर पृथ्वी के

इर्दगिर्द घूम रहे हैं व कण जो आज भी धरती

पर विद्यमान है वह तुम्हारे ही अंश है वह

तुमसे भिन्न नहीं है है यह कहानी वर्षों

पुरानी है और इस कहानी के सूत्रधार भी तुम

ही हो इस कहानी के संग सारक भी तुम ही हो

लेकिन आज तुम्हें ना तो सूत्रधार होना है

और ना ही संघार बनना है आज तुम उस

पालनकर्ता के रूप में हो जो इस जीवन को

चलायमान रख रहा है तुम्हारे भीतर कुछ ऐसी

आदते हैं जिनका समाप्त होना इस समय अत्यंत

आवश्यक है और आज मैं तुमसे यह कहना चाहता

हूं कि तुम्हें अपने ऊपर नियंत्रण रखना

होगा तुम्हें अपनी आदतों को जांच परक कर

उनका संधार करना होगा और कुछ ऐसी आदत

विकसित करनी होगी जिसका तुम पालन कर सको

मैं यह नहीं कहता कि तुम जीवन को आनंद

पूर्वक ना जियो किंतु वास्तविक आनंद की

तलाश अवश्य करो अब कितना आगे जाओगे मेरी

शक्तियां तुम्हारे समर्थन में आगे आ चुकी

है तुम जो स्वयं से प्रेम नहीं कर पा रहे

तुम्हें अपनी इस आदत को त्यागना होगा

तुम्हें इसका उपयोग भी इसी प्रकार से करना

है इसे प्रेम तुम्हें देते रहना है यह

तुम्हारा ही है इसकी देखभाल भी तुम्हे ही

करनी है और इस पर जो अत्याचार हो रहे हैं

तुम्हें उसका बचाव करना है और फिर आकलन

करो कि तुम कहां तक जा सकते हो मेरे प्रिय

मैं इसमें तुम्हारी सहायता करूंगा मैं

तुम्हें निरंतर देख रहा

हूं वोह पुष्प क्या तुम्हें याद है वह

पुष्प जो मेरा एक अंश था वो वो नहीं जिसे

तुम समझ रहे हो वह केवल एक पुष्प मात्र

नहीं था वह आंखें

थी ब्रह्मांड में प्रकृति द्वारा निर्मित

एक ऐसी आंखें जो तुम पर सदैव निगरानी रखे

हैं तुम्हारे घर में तुमने महसूस किया

क्या उस जीव को जिससे तुम बच रहे थे वह

जीव मेरा ही भेजा हुआ है वह बस तुम्हारी

निगरानी के लिए था प्रकृति इसी माध्यम से

अपने नियमों का संचालन करती है तुम्हें इस

बात को समझना होगा तुम्हें स्वीकारना होगा

जबरदस्ती कर अपनी आदत को त्यागने का विचार

ही त्याग दो कुछ भी तुम जबरदस्ती नहीं बदल

सकते

जबकि तुम उसे स्वीकार कर लेते हो तो

धीरे-धीरे वह चीज सतह ही छोड़ जाती है मैं

तुम्हें एक उदाहरण बताता

हूं जैसे यदि तुम किसी वाहन का विचार करते

हो या किसी अन्य वस्तु का विचार करते हो

तो वह वस्तु आकर्षण के माध्यम से तुम्हें

हर जगह दिखाई देने लगती है लेकिन जब वही

वस्तु तुम्हें प्राप्त हो जाती है तो कुछ

समय के बाद तुम उसका विचार त्याग देते हो

और तुम यह पाते हो कि अब उससे संबंध कोई

विचार ना रहे उसकी कदर धीरे-धीरे छूट में

लगती है क्योंकि तुमने उसे स्वीकार कर

लिया क्योंकि वह तुम्हें प्राप्त हो गया

इसी तरह जब तुम जबरदस्ती करने के बजाय कोई

चीज स्वीकार कर लेते हो तो वह तुम्हें

हासिल हो जाती है और जब तुम उसे स्वीकार

कर लेते हो तो उसका विचार भी छूट जाता है

इसी तरह से वह आते जिनका तुम्हें सहार

करना है तुम उसे स्वीकार कर लो उसे नफरत

ना करो उसे हीन भावना के दृष्टि से नाना

देखो तुमने कोई पाप नहीं किया है यहां तक

कि अब तक तुमसे जो भी भूल हुई वो तुम्हारा

पाप नहीं है ना ही मैं उसे तुम्हारे पाप

कर्म की श्रेणी में रख रहा हूं धोखे की छल

कपट की बात ही नहीं आनी चाहिए फिर चाहे वह

परिवार के किसी सदस्य के प्रति हो

तुम्हारे कार्यक्षेत्र में स्थित किसी

मनुष्य के सापेक्ष हो तुम्हारे साथी

तुम्हारे मित्रों के प्रति ही क्यों ना हो

तुम किसी भी हाल में अपने ऊपर नक

नकारात्मकता को हावी ना होने दो जब तुम

नकारात्मकता को अपने ऊपर हावी होने देते

हो तब तुम्हारे भीतर विभिन्न प्रकार की

रासायनिक क्रियाएं घटित होने लगती हैं और

यह जो रसायन तुम्हारे भीतर उत्पन्न होते

हैं यह तुम्हारे मन को भ्रमित कर डालते

हैं यह तुम्हारे भीतर की सकारात्मकता को

समाप्त कर तुम्हारे अंदर उपस्थित करुणा और

दया को भी खत्म करने लगते हैं जबकि तुम

करुणा से भरे हुए हो जबकि तुम क्षमा की

भावना से भरे हुए हो तुम आधा प्रेम की

भावना से भरे हुए हो और अब जबक तुम प्रेम

के दीपक हो तो तुम्हें स्वयं ही प्रेम

प्राप्त नहीं होता तुम लोगों को तो अपने

प्रेम के दीपक से रोशन कर डालते हो लेकिन

जैसे दीपक तले अंधेरा होता है वैसे ही

तुम्हारे भीतर भी एक अनोखा अकेलापन एक

अंधेरा विराजमान है वह अंधेरा जिससे तुम

चाकर भी छुटकारा नहीं पा रहे तुम्हें ऐसा

कोई मार्ग ही नजर नहीं रहा जिससे तुम

सुकून के उन क्षणों को जी सको जिसकी कामना

तुमने सदा से की है कभी भौतिकता तो कभी

सामाजिकता ने तुम्हारे हाथों को रोक रखा

है और यही वजह है कि तुम सुकून को हासिल

नहीं कर पा रहे लेकिन मेरे प्रिय बच्चे

मैं तुम्हें उदास नहीं देख सकता मैं

तुम्हें हारा हुआ नहीं देख सकता ना ही मैं

तुम्हें थका हुआ देख सकता हूं ना ही

तुम्हें अपमानित होता देख सकता

हूं और ना ही मैं यह देख सकता हूं कि तुम

में निराशा भरी हो नकारात्मकता भरी हो जो

कि तुम्हारा आभा मंडल इतना प्रभावशाली है

कि जो भी तुम्हारे ऊर्जा कक्ष में आता है

वह तुमसे प्रभावित हुए बिना रह नहीं सकता

और अब जबक तुम्हारे मन में नकारात्मकता

भरी हुई होगी तो जो भी तुम्हारे आभा मंडल

के क्षेत्र में आएगा वह भी स्वतः ही

नकारात्मक हो

जाएगा और फिर यदि मुरझाए पुष्प जन्म लेने

लगे नकारात्मकता जन्म लेने लगे तो यह

मानवता धीरे-धीरे कर स्वतः ही समापन की ओर

चली

जाएगी तो तुम अपने परिवार के पहले ऐसे

सदस्य बनने वाले हो जो अपने परिवार में

इतनी समृद्धि इतना सुकून लेकर आएगा कि हर

कोई तुम जैसा बनने को विवश हो

जाएगा कुछ घड़ी तुम्हारे साथ बिताने को

सबका मन विचलित हो उठेगा मैं तुम्हारे

जीवन को ऐसे रंगों से सजा दूंगा कि हर कोई

उन रंगों में भीग कर रंगीन हो जाना

चाहेगा मेरे तुम्हारे वे सभी शत्रु जो आज

तुम्हारी बुराई करते हैं एक दिन तुम्हारा

अनुसरण कर तुम्हारे अनुयाई बन जाना

चाहेंगे मेरे प्रिय बच्चे तुम जीत के

द्योतक हो तुम जीत के अग्रदूत हो जीत

तुम्हारी रगों में बह रहा है और फिर

तुम्हें कौन हरा सकता है जब तुम पर मेरा

आशीर्वाद स्वयं ही विराजमान है तुम्हारा

साथी जो जन्मों जन्मों से तुम्हारी तलाश

में है अब उससे तुम्हारे मिलन को संभव

करने का समय आ गया है यह दूरी अब और नहीं

चल

सकती क्योंकि इस मिलन का होना आवश्यक है

और जब यह मिलन संभव होगा तब संसार में एक

प्रकार की सकारात्मकता व्याप्त होगी

तुम्हें अभी आभास नहीं कि तुम्हारा क्या

महत्व है तुम्हें इसका ज्ञान नहीं कि तुम

किस तरह से इस पूरे ब्रह्मांड के वह

हिस्से हो जिसके निकल जाने मात्र से हट

जाने से यह पूरा ब्रह्मांड धराशाई हो सकता

है यह ब्रह्मांड वह इमारत है जिसकी सबसे

मजबूत नीर सबसे मजबूत इट तुम से होकर

गुजरती है मेरे प्रिय तुम ढांचे हो इस

ब्रह्मांड के आकार लेने के लिए तुम्हें

इसका ज्ञान नहीं लेकिन जल्द ही तुम्हें

इसका आभास होगा जब तुम यह देख पाओगे कि

तुम्हारे आसपास कुछ ऐसी घटनाएं घटित हो

रही हैं जिसमें तुम्हारे होने से वह

सकारात्मकता की ओर मुड़

जाएंगे तुम्हारे प्रभावों से लोग इतने

प्रभावित हो जाएंगे कि सदैव तुम्हारी ही

बातें करेंगे तुम उपस्थित रहो या ना रहो

तुम्हारी चर्चा सदैव होती

रहेगी तुम चाहे जहां भी रहो हर कोई

तुम्हारी चर्चा नहीं करता रहेगा कुछ लोग

तुम्हारी चर्चा सकारात्मक रूप में करेंगे

कुछ तुम्हारी चर्चा नकारात्मक रूप में

करेंगे किंतु यह तो तय होगा कि तुम्हारी

जीत से हर कोई प्रभावित होगा और तुम जैसा

बनने को उत्सुक हो

जाएगा वह सभी शत्रु जो पीठ पीछे तुम्हारी

बुराई करेंगे वो भी मन ही मन तुम जैसा ब

ने को बेताब रहेंगे वह भले ही लोगों से

तुम्हारी बुराइयां करते

फिरे लेकिन उनके मन में सदा ही यह

आकांक्षा रहेगी कि काश तुम्हारी जगह उनका

जीवन होता मेरे प्रिय तुम्हारी एक बहुत

बड़ी मनोकामना पूर्ण होने का समय आ गया है

और इस माह के अंत में तुम बहुत जल्द उसे

महसूस करने वाले हो वह दिन अब दूर नहीं है

बहुत नजदीक है इसलिए तुम स्वयम को तैयार

कर लो और किसी भी तरह के भय को समाप्त कर

आगे बढ़ो वो लोग जो तुम्हारे भीतर भय पैदा

कर रहे हैं उनमें इतनी क्षमता नहीं कि

तुम्हें हरा दे तुम बस बेवजह डर को अपनाए

हुए हो डर का चोला पहने हो जब एक बार तुम

इस डर को त्याग दो तो तुम यह देख पाओगे कि

तुमसे कुछ भी छूट नहीं रहा तुम जो छूट

जाने का भय अपने मन में रखे हो वह तुमसे

छूट ही नहीं सकता मेरे प्रिय मेरा विश्वास

करो मैं केवल तुम्हारी जीत की गाथा लिखने

आया हूं

और यह मैं स्पष्ट रूप से खुले दिल पर कह

रहा हूं कि मैं सदैव तुम्हारे साथ हूं और

यदि कोई तुम्हें हराने का प्रयत्न भी

करेगा तो वह स्वयं ही उस गड्ढे में गिर

जाएगा जिस गड्ढे को उसने तुम्हें गिराने

को बनाया था समापन तो अवश्य होगा कुछ

तुम्हारे शत्रु का और कुछ तुम्हारी बुरी

आदतों का और इसमें तुम्हें मेरा सहयोग

करना है तुम्हें अपनी जीत को निरंतर अपने

पास बुलाना है आकर्षित करते रहना है मेरे

प्रिय इस जीत को अभी तत्काल आकर्षित करो

अपनी ऊर्जा का विस्तार करो प्रिय बच्चे

अपने दोनों हाथों को जोड़कर कहो कि हे

ईश्वर मेरे जीवन को सकारात्मकता से भर दो

और जीव की शक्ति से सराबोर कर दो इसके बाद

संख्या

लिखकर इस बात की पुष्टि करो कि तुम

जीत को अपनाने की इच्छुक हो और यह लिखो कि

मैं बहुत भाग्यशाली हूं मैं धन को आकर्षित

कर रहा

हूं जीत मेरी मुट्ठी में है श्वर सदैव

मेरे साथ है मेरे प्रिय ऐसा लिखना

तुम्हारे लिए आवश्यक है और यह निरंतर करते

रहना चाहिए तुम्हें जल्द ही इसका ज्ञान हो

जाएगा एक बात सदैव याद रखना चाहे कोई

तुम्हारा साथ दे या ना दे चाहे

परिस्थितियां बिल्कुल ही तुम्हारे विपरीत

हो जाए चाहे यह समस्त ब्रह्मांड ही

तुम्हारे विपरीत क्यों ना हो

जाए चाहे कोई शक्ति कोई देवी देवता कोई दव

कोई दानव कोई दैत्य कोई भी तुम्हारे खिलाफ

क्यों ना हो मैं परमपिता परमेश्वर सदैव

तुम्हारे साथ

हूं मैंने सबको बनाया है और मैं जानता हूं

कि कोई तुम्हारा साथ दे या ना दे मैं सदैव

तुम्हारे साथ रहूंगा सदा सुखी रहो मेरे

आने वाले संदेशों की ताक में

रहना क्योंकि मैं फिर आऊंगा तुम्हें

स्पष्ट रूप से वह बताने जिसकी स्पष्टता

तुम्हें अब तक हो जानी चाहिए थी किंतु

किसी कारण वस तुम उससे चूक रहे हो

तुम्हारा कल्याण

होगा

Leave a Comment