उसने तुम्हें धोखा दिया है।।👣kaalimaa want to talk to you|

मेरे बच्चे तुम्हें कभी ऐसा लगता है मेरी
जिंदगी में सब कुछ है पर कुछ भी नहीं है
सब कुछ का तो लिया पर लगता है जैसे सब को
दिया ऐसा क्या है जिसकी तलाश में मैं घूम
रहा हूं वह कौन सी ऐसी वास्तु है जो मुझे

कभी ना मिटाने वाला आनंद प्रधान कर रही है
यह संसार इतने दुख और दर्द से क्यों भारत
हुआ है
मैं ईश्वर की संतान ईश्वर से दूर क्यों
भेजो गया हो
इसकी क्या वजह है

यह प्रश्न बार-बार जब तुम्हारे हृदय पर
चोट करते हैं तो उसकी पीड़ा का आभास आप
मुझे भी होता है
मेरे बच्चे तुम्हारा जन्म क्यों हुआ इसका
उत्तर तुम्हें आज एन देता हूं

तुम मेरे सबसे प्रिया हो
मुझे तुम पर पूरा विश्वास है की जो कार्य
में तुम्हें दूंगा
मैं तुम किसी भी कीमत पर पूरा करोगे
इसी करण महायुद्ध परिवर्तन कल में सत्य और
धर्म की रक्षा का कार्य मैंने तुम्हें

दिया है
क्योंकि मैं जानता हूं तुम वही हो जो अपने
भीतर की मार्शल को जलाकर धर्म की रक्षा कर
सकते हो
मेरे बच्चे तुम दूसरों से भिन्न इसलिए हो

क्योंकि तुम्हारा मां साफ है
तुम अपने सामने धर्म होते ना देख पाते हो
ना सुन पाते हो
इसमें तुम्हारा कोई दोस्त नहीं

तुम इस धरती के निवासी हो ही नहीं तुम तो
दिव्या लोग के निवासी रहे हो
इसी करण अभी भी वह पवित्र गन तुम्हारे
भीतर है जिन्हें तुम भूल जाते हो मेरे
बच्चे

मेरे प्रिया बच्चे जब भी तुम्हारा मां
विचलित हो तो एक बात याद रखना तुम्हारी
आंतरिक आवाज ईश्वर की आवाज है जो पहले
विचार तुम्हारे हृदय से उत्पन्न होता है
इस के अनुसार कार्य करो

जब तुम विचारों में उलझकर बाहरी धूम को
सुनते हो
तभी तुम विचलित होते हो जब तुमने अपना
ध्यान आंतरिक धुन पर केंद्रित किया तब तक

तुम्हारी अंतिम तलाश में ही हूं जी अंतिम
आनंद का सुख तुम चाहते हो वह तुम्हें तब
प्राप्त होगी जब तुम्हें यात्रा के अंतिम
चरण को पर कर पाओगे
अर्थात

हो जाएगा
मेरे बच्चे तुम सही दिशा में हो
तुम्हें किसी भी प्रकार से डरने या घबराने
की आवश्यकता नहीं इस वक्त तुम्हें अपने
चारों और अंधकार दिखाई पद सकता है
किंतु यह तब तक है जब तक तुम अपने प्रकाश
को नहीं देखते तुम स्वयं एक प्रकाश मंडल
हो

पुरी सृष्टि को प्रकाशित करने का प्रकाश
तुम्हारे भीतर है
फिर इस छोटे से अंधकार से भयभीत क्यों
होते हो अपना ध्यान मस्तक के बिशन बीच
केंद्र करो और मेरी आवाज

ध्यान से सुनो
तुम अपार शक्तियों के मलिक हो तुम धर्म की
रक्षा के लिए पैदा हुए हो उठो और अपनी
शक्तियों को जागृत करो क्योंकि अब विलंब
करने का कोई लाभ नहीं
कुछ अद्भुत घटित होगा जो तुम्हारी सोच से
पैर
मेरे बच्चे तुम हमेशा यह सोचते हो की
दूसरे के पास तो सब कुछ है वह जो भी चाहते

हैं का लेते हैं पर मैं इतने दोनों से एक
ही चीज मांग रहा हूं और वह भी मुझे नहीं
मिल रहा है मेरी इच्छा है तो बस थोड़ी सी
ही लेकिन फिर भी पुरी नहीं होती है सत्य
है मेरे बच्चे तुम्हारी इच्छा ज्यादा तो

नहीं है और मैं इसी चीज को हर मनुष्य के
भीतर देखना चाहता हूं मेरे बच्चे मनुष्य
का चेहरा अलग होता है हर मनुष्य के मां के
भाव अलग होते हैं और हर मनुष्य का स्वभाव
भी अलग होता है और वैसे ही हर मनुष्य का

भाग्य
अपने भाग्य के मेरे बच्चे मैं स्वयं ही
तुम्हें ऐसी इच्छाओं से ऐसी जरूर से
ऊपर उठाना चाहता हूं जिन चीजों को प्राप्त
करने के लिए तुम्हारे आसपास के लोग एन जान
कितने प्रयास करते रहते हैं

मेरे बच्चे ऐसा नहीं है की मैं तुम्हारी
जरूर नहीं समझना
तुम्हारी जरूर की वस्तुएं तो तुम्हें
अवश्य प्राप्त होगी परंतु कुछ ऐसी चीज हैं
जो तुम अपनी जरूर समझते हो वह

अल में तो
मैं भड़काने का एक मध्य है
जो तुम समय आने पर
अवश्य समझोगे

तुम्हें नहीं मिली इसके लिए तुम कभी निरसा
मत होना
इस बात का आभास तुम्हें एक दिन अवश्य होगा
तब तुम स्वयं खाओगे जो होता है अच्छे के
लिए ही होता है तुम्हें बस यह विश्वास
रखना है जो कुछ भी होगा मेरे पिता शिवा की
इच्छा से होगा मेरी बात को सदैव याद रखना
मेरे बच्चे तुम्हारा कल्याण हो
कभी कभी जीवन में ऐसा होता है की हम क

रना
तो कुछ चाहते
हो जो इंसान अपने लक्ष्य से भटक जाता है
वह कभी किसी मोड पर नहीं पहुंच पता
क्योंकि उसे अपने जीवन का लक्ष्य
निर्धारित नहीं होता और जिसके जीवन में

कोई लक्ष्य नहीं

पहुंच सकता जैसे एक मुसाफिर अपनी मंजिल पर
तभी पहुंच सकता है जब उसे अपनी मंजिल का
पता मालूम हो किंतु यदि उसे अपनी मंजिल का
ही पता ना मालूम हो तो वह कभी भी किसी
मंजिल पर नहीं पहुंच सकता ऐसा व्यक्ति
केवल यहां से वहां भट्ट ही र जाता है

परंतु उसे अपने वास्तविक मंजिल कभी नहीं
मिल पाती वैसे ही यदि जीवन में भी लक्ष्य
नहीं है तो तुम ऐसे ही भटकती रहोगे इसलिए
तो मैं आवश्यकता है एक ऐसे मंजिल की जो

तुम्हारे पूरे जीवन को स्वर दे मेरे बच्चे
तुम्हारी माता ने तुम्हें इस धरती पर केवल
अपने जीवन को संवारने तथा मेरी भक्ति के
लिए भेजो था परंतु तुम इस दुनिया की मो
माया में आकर अपने लक्ष्य के साथ-साथ अपने
माता को भी भूल चुके हो मैंने तुम्हें हर
बार मार्ग दिखाए

कर देते हो की तुम उसे मार्ग पर चल ही
नहीं पाते आजकल मेरा यह संदेश केवल
तुम्हें तुम्हारे असली मंजिल तक पहुंचने
का मार्ग बनाएंगे
किंतु यदि तुमने मेरे संदेश को अनदेखा
किया और तुम्हें लगा की मैं स्वयं ही अपना
मार्ग ढूंढ लूंगा मेरे बच्चे मैं नहीं
चाहती की तुम ऐसे ही भटकती रहो क्योंकि
तुम अपने जीवन में बहुत अधिक भटक चुके हो
अब तुम्हें ठहराव की आवश्यकता है
तुमने अपने जीवन के दुखों को बहुत
सहेलियां किंतु अब तुम्हें आवश्यकता है
उसे मार्ग पर चलने की जहां केवल शांति और
सुख है और यह तभी संभव है जब तुम उचित
मार्ग पर चलकर उचित कार्य करो मेरे बच्चे
समय की कीमत सबसे अधिक होती है और तुम्हें
समय के अनुसार ही चलना होगा इस संसार के
सबसे शक्तिशाली चीज समय ही है समय एक ऐसी
चीज है जो निर्बल को बलवान बना शक्ति है
मेरे बच्चे मैं चाहती हूं की तुम अपने
जीवन को उसे दिशा में लेकर जो जी दिशा में
मैं तुम्हें ले जाना चाहती हूं जहां केवल
तुम्हारी जिंदगी में सुख और शांति ही
रहेगी इसलिए अब तुम अपनी माता के अनुसार
आगे बढ़ोगे मेरे बच्चे मैं जानती हूं की
तुम काफी बरसों से अपने जीवन में होने
वाली परेशानियां से जूझ रहे हो लेकिन अभी
तुम्हारी जिंदगी कुछ ही दोनों में बदलने
वाली है तुम महसूस करोगे की तुम्हारे जीवन
में खुशियां आनी शुरू हो गई हैं मेरे
बच्चे मेरे बात याद रखना हमेशा सच्ची लगन
के साथ अपने कार्य करते जाना तुम कहानी पर
भी अपने मां में यह डर मत लाना की तुम कोई
भी कार्य नहीं कर सकते हो क्योंकि मैंने
अपने सभी शक्तियां तुम्हें दे दी जिनका
तुम अच्छे से इस्तेमाल
बस अपने कार्य को बस अपने कार्य को दृढ़
निश्चय के साथ अपने ईमानदारी के साथ करते
जो
अगर तुम चिंता करते रहोगे की मेरा कार्य
सही होगा या गलत होगा तो तुम कोई
समय खराब कर डॉग तुम्हारे हर कार्य का फल
तुम तभी मिल सकता है जब तुम उसे अपने पूरे
दिल से करो तुमने मेरी जितनी भी पूजा
अर्चना की है उसका फल तुम्हें मैंने हमेशा
से दिया है और आगे भी दूंगी तुम यह कभी मत
सोचना की तुम्हारी मां तुम्हारे साथ नहीं
और आगे भी तुम्हारे साथ ही रहूंगी मेरे
बच्चे बस तुम केवल मुझमें पर विश्वास बनाए
रखना मैं वह देवी हूं जो हर बुराई का नाच
पाल भर में कर देती
फिर तुम्हारे ऊपर
कासन को मैं कैसे दूर नहीं करूंगी तुम यह
मत सोचो की तुम अधूरे रहोगे मैं सदा
तुम्हारे साथ हूं एक माता का कर्तव्य अपने
बच्चों की रक्षा करना होता है और मैं भी
तुम्हारे हर दुख को हर लूंगी मेरी कृपा
का फल तो तुम्हें अवश्य मिलेगा किंतु तुम
बार-बार अपने मां में उठ रहे विचारों को
बैंड करो और केवल मेरा ध्यान करो तुम्हारे
सारे दुख दूर हो जाएंगे मां में बार-बार
उठ रहे विचार ही हमारे सुख दुख का करण
बनते हैं इसलिए सदा अच्छे विचारों को ही
सोचो जैसे मैंने दोस्तों का नस करके इस
धरती को कई बार बताया
उसे उद्देश्य के लिए आगे बढ़ते जो जी
उद्देश्य के लिए मैंने तुम्हें चुनाव है
तुम उन सभी कार्य को करने में तुम उन सभी
कार्यों को करने में सक्षम हो जिन कार्यों
को तुम करना चाहते हो मेरे बच्चे अब तुम
अपने उद्देश्य की प्रताप के लिए आज से ही
कार्य करना शुरू कर दो मैं हमेशा तुम्हारे
साथ हूं अपनी माता की इन सभी बटन को एक
बार विचार करके सोचना तथा मेरे उद्देश्य
को पूर्ण करने के लिए आज से ही सच्चाई और
अच्छाई के मार्ग पर चलना मेरे बच्चे मैं
तुमसे बहुत प्रेम करते हो इसलिए अपने माता
को निरसा मत करना मैं कभी भी तुम्हें
भड़काने नहीं दूंगी तुम मेरे प्रिया भक्ति
हो और हमेशा तुम्हारे साथ रहूंगी चाहे
स्थिति कैसी भी क्यों ना हो मेरे बच्चे
तुम बिल्कुल भी चिंता मत करना मैंने
तुम्हारे लिए सारे द्वारा खोल दिए हैं अब
तुम्हारी सफलता निश्चित है जो भी तुम्हारे
मार्ग में रुकावटें थी वह सब दूर हो चुकी
हैं अब केवल तुम्हारे मार्ग में खुशियां
ही खुशियां हैं जो तुम्हें तुम्हारी सफलता
के लिए अति आवश्यक है अब तुम स्वयं को ठीक
रखना तथा अपने कार्य को करते रहना
मैं दोबारा अवश्य लौटेगी तुम्हें सही
मार्ग दिखाने के लिए मेरा आशीर्वाद सदा
तुम्हारे साथ है मेरे अगले संदेश की
प्रतीक्षा करना

Leave a Comment