उसे तुम्हारे आगे झुकना ही पड़ेगा अन्यथा उसे मेरे दंड का ….”

v मेरे बच्चे आज मैं महाकाली उसके मन की बात बताने आई हूं जिसके लिए तुम दिन रात सोते हो जिसके लिए

तुम सब से लड़ तक सकते हो आखिर वह इंसान तुम्हारे बारे में क्या सोचता है क्या सोच है उसकी तुम्हारे लिए

क्या चलता है आखिर उसके मन में तुम्हारे लिए तो सुनो मेरे बच्चे तुम जिससे प्रेम करते हो वह भी तुम्हें अत्यधिक प्रेम करता है वह तुम्हें कभी भी खोना नहीं चाहता मेरे बच्चे उसका प्रेम तुम्हारे लिए सच्चा है वह तुम्हें हमेशा

हंसता मुस्कुराता हुआ देखना चाहता है मेरे बच्चे लेकिन उसे कहीं ना कहीं ऐसा लगता है ऐसी बात अवश्य ही है

जिस कारण से तुम बहुत ही ज्यादा परेशान हो उसे लग रहा है कि तुम उससे वह सारी बातें छुपाते हो की कहानी उसे भी तुम्हारे कारण कष्ट न पहुंचे तुम्हारा प्रेमी बहुत ही ज्यादा सच्चा और समझदार है वह सदैव ही लोगों के चेहरे पर खुशी देखना चाहता है

Leave a Comment