ऐलान हो गया है आपकी धमाकेदार जीत का जो आज मेरा संदेश को छोड़ देगा जीवन में

मेरे बच्चे

नॉइस इतना कुछ सहकर जो इंसान नहीं थका

उसका कोई हक नहीं

है थकने का कोई हक नहीं है है तुम्हें थक

कर बैठ जाने का और अपने सपनों पर हार मान

लेने का तुम्हें बस जरूरत है अपने मन को

शांत करने की और एक बार में एक कदम चलने

की

आखिरी कदम चलकर देखना तो बहुत जल्दी अपनी

कामयाबी तक पहुंच जाओगे और तुम्हें थकान

भी महसूस नहीं

होगी मेरे बच्चे तुम्हें मुझ पर विश्वास

है तो हां टाइप करके मुझे बताओ मेरे बच्चे

आने वाले कुछ महीनों में मैं तुम्हारे

सामने हर एक चीज साफ-साफ लेकर आने वाली

हूं मैं उन लोगों का चेहरा तुम्हारे सामने

लेकर आने वाली हूं जो अब तक तुम्हारे पीछे

तुम्हारे खिलाफ षड्यंत्र रच रहे

थे तुम मुझसे हर बार यह पूछते थे माता आप

उन लोगों को मेरे सामने क्यों नहीं ला

देते हो जो मेरे शत्रु है जो मेरे पीछे

मेरी बुराई करते हैं जो मेरा बुरा चाहते

हैं मेरे बच्चे तब मैं तुम्हें तैयार कर

रही थी तब मैं तुम्हें तैयार कर रही थी

उन्हें तुम्हारे सामने लेकर आओ तो तुम हर

बार की तरह चुप होकर उन्हें माफ ना कर

दो मुझे पता है आने वाले समय में तुम वही

व्यक्ति नहीं रह जाओगे जो सबकी सुन लेता

था जो हर बात सह लेता

था अब तुम अपने लिए ढेर होना सीख गए

हो अब तुम सही के लिए खड़ी ढे होना सीख गए

हो अब तुम किसी की भी फालतू की बातें नहीं

सुन सकते हो तो जब वह व्यक्ति तुम्हारे

सामने आए तो शायद कोई तुम्हारे साथ ना

खड्डा हो पर तुम अकेले ही दात दाओ ग और

तुम्हारी दहा वदा इतनी दूर तक

जाएगी

कि फिर कोई व्यक्ति तुम्हारी तरफ आंख

उठाकर देखने की कोशिश नहीं

करेगा मुझे पता है मैंने तुम्हें बहुत

दर्द दिया

मुझे पता है तुमने बहुत कुछ साहा और बहुत

कुछ देखा है पर मेरे बच्चे आने वाले दिनों

में तुम्हें वह दर छोटे

लगेंगे आने वाले दिनों में तुम्हें पता

चलेगा कि तुम्हारी माता तो तुम्हें कुछ

सीखा रही

थी तुम्हारी माता तो तुम्हें आने वाले

दिनों के लिए तैयार कर रही

थी तुम्हारी माता तो तुम्हारी सफलता के

लिए तुम्हें तैयार कर रही थी क्योंकि अगर

तुम पहले की तरह वही व्यक्ति रह जाते तो

तुम कभी सफल नहीं हो

पाते वह लोग तुम्हें कभी सफल ही नहीं होने

देते इनकी बातों पर तुम रोने लगते थे इनकी

जरा जरा सी बातों को लेकर तुम अपना

स्वास्थ्य खराब करने

थे तुम अपने परिवार के लोगों से लाइक डीडी

हेट जाते थे वह लोग तुम्हें कभी आगे नहीं

बढ़ने देते पर आज किसी में इतनी हिम्मत

नहीं है कि वह तुम्हें रोक ले क्योंकि अब

तुम्हें किसी की बातों से कोई असर नहीं

पड़ सकता

तुमने इतना कुछ रह लिया अकेले इतना कुछ

झेल

लिया अकेले ही इतना कुछ देखा

है और आज अकेले ही मुस्कुरा रहे हो कि अब

तुम्हें किसी के साथ की जरूरत नहीं

है अगर कोई तुम्हारे साथ है तो भी ठीक है

और नहीं है तो तो भी तुम बहुत खुश

हो मैं तुम्हें इन्हीं दिनों के लिए तैयार

कर रही थी और तुम्हारे शत्रु भी कांप रहे

हैं तुम्हारे सामने आने से उन्हें बस यही

लग रहा है कि कहीं तुम्हें ना पता चल जाए

कि वह वही लोग

थे जो तुम्हारे खिलाफ षड्यंत्र रच रहे थे

पर मेरे बच्चे अब तुम्हारी तरक्की होने

वाली

है मैंने बहुत सारी खुशियां लिखी है

तुम्हारे जीवन में वह खुशी है तुम्हारे हर

एक दर्द को बहुत छोटा कर

देंगे तुमने आज तक जो कुछ भी कहा है वह सब

तुम भूल

जाओ तुम्हारे जीवन में मैंने वह खुशिया

लिखी है एक चमत्कार की तरह होंगी जो

तुम्हारी आंखों को चमका देंगी दुनिया की

आंखों को जला देंगी जिन्होंने तुम्हारे

बारे में बुरा सोचा था अब वह तुमसे माफी

मांगेंगे पर तुम उन्हें माफ मत करना अब वह

तुमसे माफी

मांगोगे अब वह खुद तुम्हारे सामने आकर

कहेंगे कि हमसे यह गलती हो

गई अब हम दोबारा यह नहीं करेंगे पर मेरे

बच्चे अब तुम वही नहीं रह गए हो जो रोने

लगोगे तुम्हें भी पता है कि किससे कैसे

बात करनी

है अब तुम्हें भी पता है कि किसको क्या

जवाब देना है और कब जवाब देना

है अब तुम तैयार हो गए हो तुमने सब कुछ सह

लिया

है जीवन में बहुत कुछ देख लिया तुमने

अकेले अब तुम उस सफलता के लिए तैयार हो गए

हो जो तुम्हारी माता ने तुम्हारे जीवन में

लिखी थी और वह सफलता तुम्हें आने वाले

दिनों में अवश्य

मिलेंगे हां हो सकता है शुरुआत में वह तो

मैं थोड़ी छोटी लगे पर धैर्य मत होना

छोटी-छोटी खुशियों से ही मैं एक बडी सीधी

पर पहुंचो

ग हो सकता है कि तुम्हें अचानक से कुछ बधा

मिल

जाए बस इतना जान लो कि सफलता का इंतजार

खत्म हो गया

है सफलता तो मिलकर ही रहेंगी

मेरे बच्चे इसे लाइक करके

धन्यवाद इसको मेरा आशीर्वाद सरदार

तुम्हारे साथ

है ओम नमः मेरे बच्चे अपनी माता रानी के

लिए एक लाइक करके कमेंट में जय हो माता

रानी लिख दीजिए मेरे बच्चे तुम्हें जीवन

में खुशियों से बहुत वंचित रखा

गया खुशियां तो जैसे तुम्हारे हिस्से में

कभी आए ही

नहीं सिर्फ जिम्मेदारियां आई दुख दर्द आए

परिश्रम आए उस परिश्रम का आधा फल भी

तुम्हें कभी नहीं

मिला तुम हमेशा मेरे दर पर रोते रहे हमेशा

परिश्रम करते रहे और उस परिश्रम के बाद भी

कभी कोई ऐसा व्यक्ति नहीं मिला जिसने

तुम्हारी दिल से प्रशंसा की हो या कभी दिल

से ऐसा सोचा हो कि यह व्यक्ति आगे बढ़ता

कभी तुम्हें कोई ऐसा नहीं

मिला मेरे बच्चे जो तुम दिल की बातों को

दिल से सुने और उसे

समझे तुम्हारा साथ दे पर तुम्हें बहुत

वंचित रख लिया गया और तुम्हारे जीवन के

सबसे बड़े राज्य को तुमसे छुपाया गया

Leave a Comment