कभी कभी जीवन में ऐसा होता है कि हम करना तो कुछ चाहते हैं

कभी कभी जीवन में ऐसा होता है कि हम करना तो कुछ चाहते हैं पर कल कुछ और लेते हैं आज मेरा यह खास संदेश केवल तुम्हें

इस सच्चाई को बताने के लिए देने आई हूं कि तुम्हें तुम्हारा असली लक्ष्य के बारे में पता चले तुम्हारा यह जानना आवश्यक है कि वह

कौन सी गलती है जिसके कारण तुम अपने लक्ष्य से भटक जाते हो जो इंसान अपने लक्ष्य से भटक जाता है वह कभी किसी मोड़ पर

नहीं पहुंच पाता क्योंकि उसे अपने जीवन का लक्ष्य ही निर्धारित नहीं होता जिसके जीवन में कोई लक्ष्य नहीं होता वह कहीं भी नहीं पहुंच सकता जैसे एक मुसाफिर अपनी मंजिल पर तभी पहुंच सकता है उसे अपनी मंजिल का पता मालूम हो किंतु यदि उसे अपनी

मंजिल का ही पता ना मालूम हो तो वह कभी भी किसी मंजिल पर नहीं पहुंच सकता व्यक्ति केवल यहां से वहां भक्त ही रह जाता है परंतु उसे अपने वास्तविक मंजिल कभी नहीं मिल पाती वैसे ही यदि जीवन में भी लक्ष्य नहीं है ऐसे ही भटकते रहोगे इसलिए तुम्हें

आवश्यकता है ऐसे मंजिल की जो तुम्हारे पूरे जीवन को सवार दे मेरे बच्चे तुम्हारी माता ने तुम्हें इस धरती पर केवल अपने जीवन को संवारने तथा मेरी भक्ति के लिए भेजा था तुम इस दुनिया की मोह माया में आकर अपने लक्ष्य के साथ साथ अपनी माता को भी भूल

चुके हो मैंने तुम्हें हर बार मार्ग दिखाया है किंतु तुम कुछ गलतियां कर देते हो कि तुम उसे मार्ग पर नहीं पाए आज का मेरा यह संदेश केवल तुम्हें तुम्हारा असली मंजिल तक पहुंचाने का मार्ग बनाएंगे चिंटू यदि तुमने मेरे संदेश को अनदेखा किया और तुम्हें लगा कि मैं

स्वयं ही अपना मार्ग ढूंढ लूंगा मेरे बच्चे मैं नहीं चाहती कि तुम ऐसे ही भटकते रहो क्योंकि तुम अपने जीवन में बहुत अधिक भटक चुके हो अब तुम्हें ठहराव की आवश्यकता

Leave a Comment