काली मां🕉 मैं तुमसे इसी क्षण बात करना चाहती हूं

मेरे बच्चे तुम यह क्यों भूल जाते हो कि
परिवर्तन होने से कोई नहीं रोक
सकता आज नहीं तो कल तुम्हारे जीवन की
सच्चाई भी अतीत में बदल
जाएगी कई बार तो तुम खुद को भी नहीं समझ
पाओगे कि जीवन में क्या चल रहा है बस तुहे
खुद को शांत और आत्मनिर्भर बनाए रखना
[संगीत]
है इस जमाने के तुम खुद को पीछे क्यों
छोड़ चुके हो तुम जीवन में सकारात्मक
विचारों को महसूस क्यों नहीं करते
तुम्हारे आसपास इतने नकारात्मक लोग हैं कि
वह तुम्हें अच्छा सोचने ही नहीं देते हैं
मेरे बच्चे और यही सब तुम्हारे दुखों का
असली कारण
है मेरे बच्चे तुम्हारी सबसे बड़ी
जिम्मेदारी यही है कि तुम खुद को भी खुश
रखो और अपने परिवार को भी क्योंकि जो
व्यक्ति अपने परिवार के साथ खुश रहता है
फिर उसके जीवन में चाहे कैसी भी
परेशानियां आए वह उससे बाहर निकल जाता है
यदि तुम मेरी बात से सहमत हो तो अभी एक एक
एक टाइप करो और अपनी स्वीकृति मुझे प्र दन
करो एक बात याद रखना संकट की घड़ी में जो
तुम्हारा साथ निभा रहा है तुम्हारा असली
मित्र वही है क्योंकि आजकल की दुनिया ऐसी
है कि किसी के दर्द को सुनकर भी अनदेखा कर
देती है कोई किसी का अपना नहीं है हर कोई
दूसरे के दुख को देखकर खुश होता
[संगीत]
है
लेकिन तुम्हारे जीवन में चाहे कितने भी
दुख आए हो मैंने तुम्हारा साथ कभी नहीं
छोड़ा मैं तुम्हें इतनी शक्ति दूंगी कि
तुम उनसे खुद बाहर निकलने के काबिल बनोगे
तुम्हें किसी के सहारे की जरूरत नहीं
पड़ेगी बस जो तुम्हारे करीबी हैं मैं
चाहती हूं कि तुम उनके साथ खुश रहो
तुम्हारा पूरा समय सकारात्मक विचारों में
बीते
मेरे बच्चे मेरी एक बात याद रखना चाहे तुम
थोड़े पैसे कम कमाओ परंतु यह याद रखो कि
उन पैसों में तुम्हारी माता का प्यार और
आशीर्वाद होना चाहिए लेकिन अगर तुम दूसरों
को दुख देकर ही उन्हीं बेवकूफ बनाकर पैसे
कमाओगे तो उन पैसों से तुम्हारे घर में
कभी भी सुख शांति नहीं आएगी
मेरे बच्चों आज मैं तुम्हें कुछ ऐसा
बताऊंगी जिसे सुनकर तुम्हें जीवन की
सच्चाई पता चलेगी इस धरती पर ईश्वर ने
हमें सब कुछ देकर भेजा है लेकिन फिर भी
इंसान हर समय कुछ ना कुछ भगवान से शिकायत
करने में लगा रहता है कि आपने मुझे यह
नहीं दिया वह नहीं
[संगीत]
दिया मैं आपको यही कहना चाहती हू कि ईश्वर
ने धरती पर हमें भेजा है तो हमारा पेट
भरने के लिए हमें धरती पर भेजा है वह इतना
हमें देता है कि हम अपना पेट आराम से भर
सके लेकिन पेटियां भरने के लिए धरती पर
नहीं
भेजा एक बार की बात है पंडित जी पहुंचे
पूजा पाठ करने के लिए राजा के दरबार में
पूजा पाठ समाप्त हुआ तो राजा ने पंडित जी
से तीन प्रश्न
पूछे पहला प्रश्न था कि ईश्वर कैसे दिखते
हैं दूसरा था ईश्वर कहां तक देख सकते हैं
और तीसरा कि ईश्वर क्या करते
हैं पंडित जी ने कहा मैं आपके प्रश्नों के
उत्तर पर विचार करूंगा और आपको जवाब दूंगा
तब राजा ने उन्हें एक महीने का समय दिया
कि ठीक एक महीने बाद आपको मेरे प्रश्नों
का उत्तर देना होगा तब पंडित जी अपने घर
आए और सोचने लगे लेकिन उन्हें अपने
प्रश्नों का उत्तर नहीं मिल पा रहा
था और जैसे-जैसे एक महीना समाप्त होने
वाला था वैसे-वैसे उनकी पर नी बढ रही थी
पंडित जी का एक पुत्र था वह बहुत ज्यादा
बुद्धिमान था वह समझ गया कि उसके पिताजी
किसी मुश्किल में है उन्होंने पूछा क्या
हुआ पिताजी
[संगीत]
तब पंडित जी ने बताया कि ऐसी बात है बेटा
एक महीना समाप्त होने वाला है और मुझे इन
प्रश्नों के उत्तर नहीं मिल पा रहे तब
बेटे ने वह प्रश्न सुनकर
बोला बस इतनी सी बात है आप मुझे लेकर चलिए
मैं सारे उत्तर दे
दूंगा तब एक महीना समाप्त होने के बाद
दोनों दरबार में पहुंचे और राजा ने पूछा
पंडित जी मेरे प्रश्नों के उत्तर बताइए
उन्होंने कहा कि नहीं मेरा बेटा आपको सारे
प्रश्नों के उत्तर देगा वह बहुत ज्यादा
बुद्धिमान
है
तब राजा ने कहा पहले प्रश्न के उत्तर बताओ
बेटा तब बेटा बोला कि आप भी कमाल करते हैं
राजा जी आपके यहां पर अतिथि आए हैं आपने
उनका आदर सत्कार तक नहीं किया ना ही उनको
खाना पूछा ना ही पानी
पूछा अपने अतिथियों का सत्कार किए बिना
सीधा उनसे प्रश्न पूछने लगे तब राजा को
बहुत शर्म आई उन्होंने उनके लिए दूध
मंगवाया तब उस लड़के ने दूध के गिलास के
अंदर अपनी उंगली डाली और देखना शुरू कर
दिया बार-बार यह सब देखकर राजा परेशान
होकर पूछने लगा क्या हुआ
बेटा तुम यह क्या कर रहे हो तब वह बोला
मैं इसमें से मक्खन ढूंढ रहा हूं राजा ने
बोला दूध में से मक्खन नहीं निकलता है दूध
को पहले दही बनाया जाता है दही को मथा
जाता है फिर जाकर कहीं मक्खन मिलता
है तब लड़का बोला आपने ठीक कहा राजा जी
ईश्वर भी ऐसे ही थोड़ी दिखाई देता है
ईश्वर को देखने के लिए आपको अपनी आत्मा
बिल्कुल स्वच्छ और पवित्र रखनी
चाहिए
भगवान उनके पास ही आते हैं और उनको ही
दिखाई देते हैं
जो व्यक्ति अपनी आत्मा को पवित्र रखते हैं
हर जीवित चीज में आत्मा होती है उसके लिए
पहले आपको खुद की अपनी आत्मा को पवित्र
करना होगा तभी आपको भगवान दिख सकते
हैं आपको भगवान का ध्यान करना होगा उनको
प्रसन्न करना होगा तब जाकर कहीं आपको
भगवान दिखाई देंगे तब राजा उसके पहले जवाब
से बहुत खुश हुआ तब राजा ने पूछा चलो मेरे
दूसरे प्रश्न का जवाब दो कि ईश्वर कहां तक
देख सकते
हैं उसने राजा को बोला कि आप मोमबत्ती
मंगवाए मोमबत्ती को जलाया गया तब उसने
राजा को बोला कि इसकी रोशनी कहां तक जाती
है राजा ने कहा कि चारों तरफ जा रही है तो
उस लड़के ने कहा कि भगवान भी चारों तरफ ही
हैं चारों तरफ भगवान का प्रकाश है यह मत
सोचिए कि उनके कर्मों का हिसाब उनके पास
नहीं है हम जो भी करते हैं उन सबका हिसाब
किताब भगवान रखते
[संगीत]
हैं राजा बहुत खुश हुआ तब राजा ने कहा चलो
का उत्तर दो कि भगवान करते क्या हैं तब उस
लड़की ने कहा कि पहले आप बताइए कि यह सब
सवाल आप गुरु बनकर पूछ रहे हैं या शिष्य
बनकर तब राजा ने कहा कि मैं शिष्य बनकर ही
आपसे सवाल पूछ रहा हूं तब उस लड़के ने कहा
कि आप तो कमाल की बात करते हैं शिष्य है
तो जमीन पर बैठना है लेकिन आप तो सिंहासन
पर बैठे
[संगीत]
हैं और आपके गुरु जो हैं वह धरती पर खड़े
हैं और आप सिंहासन पर बैठे हैं तब राजा को
शर्म आई वह नीचे उतर कर आई
और पंडित जी की बेटे को बोला कि आप और
पंडित जी ऊपर बैठिए सिंहासन पर फिर राजा
ने प्रश्न किया कि बताइए ईश्वर क्या करते
[संगीत]
हैं तब उस लड़के को हंसी आ गई और बोला कि
अभी आप पूछ रहे हैं कि भगवान करते क्या
हैं आपके सामने ही है कि हम दोनों आपके
सिंहासन पर बैठे हैं और आप नीचे जमीन पर
बैठे
हैं अभी आपने देखा नहीं भगवान की माया
भगवान की माया यह है कि राजा को रंग और
रंग को राजा पल भर में बना देती है आपने
देखा कि कैसे आप खुद ही नीचे बैठ गए जमीन
पर और हम दोनों जो जमीन पर थे आपके
सिंहासन पर आकर बैठ गए यही भगवान की माया
है इस संदेश को यदि आपने ध्यान से सुना
होगा तो आप समझ गए होंगे कि परमात्मा हर
जगह विद्यमान है और उसके पास हर व्यक्ति
के कर्मों का फल है वह उसी को फल देता है
जैसे उसने कर्म किए होते
हैं और आप बस भगवान पर भरोसा रखिए वह किसी
की भी किस्मत को कभी भी चमका सकते हैं
आपके जीवन में यदि आज दुख हैं तो फिर किसी
भी समय वह दुख दूर हो सकते हैं यदि आप
भगवान पर विश्वास रखते हैं तो आपके जीवन
में सुखों का आना निश्चित
है मैं तुम्हारे लिए सबसे अधिक चिंतित
रहती हूं इसलिए तुम्हें हमेशा कुछ ना कुछ
उपाय बताती हूं और आज मैं तुम्हें वह कुछ
विशेष बातें बताना चाहती हूं जिससे
तुम्हारे घर में फैला सभी दुख समाप्त हो
जाएगा और जितनी भी नकारात्मक ऊर्जा
तुम्हारे जीवन में है वह सब मेरे क्रोध से
दूर हो
जाएंगी जो भी भक्त मुझे सच्चे मन से याद
करते हैं उनकी सभी इच्छाएं मैं पूर्ण करती
हूं फिर चाहे तुम मेरे मंदिर में आकर मेरी
पूजा ना भी करो किंतु यदि तुमने मुझे
सच्चे मन से याद किया है और अपने मन में
मेरी पूजा की है तो मैं तुम्हें उसका फल
अवश्य प्रदान करूंगी मेरे बच्चे तुम मेरे
वह भक्त हो जो सदा ही मुझे प्रसन्न करते
हो लेकिन तुम्हें ज्ञात होना चाहिए कि
जीवन बहुत अनोखा है इसलिए हमें हमेशा अपने
जीवन में बदलाव करते रहने चाहिए ताकि जीवन
सदा सुख समृद्धि से
चले
एक बात हमेशा याद रखना कि परिवर्तन ही
जीवन का सबसे महत्त्वपूर्ण नियम है
तुम्हें समय समय पर अपने जीवन में बदलाव
करने पड़ते हैं यदि तुम बदलाव नहीं करोगे
तो तुम इस परिस्थिति में रह जाओगे जिस
परिस्थिति में आज
हो आज तुम्हारे पास सुनहरा समय है और तुम
अपनी माता को सुन रहे हो तो तुम बड़े
भाग्य शाली इंसान हो अपने समय को व्यर्थ
की चीजों में बर्बाद करने की जगह उन चीजों
में लगाओ फिर देखो तुम्हारा जीवन कितना
सुखी हो जाता है और तुम अपने जीवन में वह
सारी मौज मस्ती कर पाओगे जो तुम आज करने
की सोचते हो परंतु उसका समय भी अपने समय
पर ही
[संगीत]
आएगा मेरे बच्चे सुख दुख आने पर कभी उदास
मत होना यह दोनों ही एक दूसरे के साथी ही
हैं और एक दूसरे के बिना तुम्हें जीवन में
इस जिंदगी का असली महत्व कभी समझ नहीं
आएगा दुख सदा तुम्हें अपने जीवन का महत्व
समझाना चाहती
[संगीत]
हैं उदाहरण के तौर पर यदि तुम्हें कभी चोट
लग जाए तथा तुम कुछ समय के लिए कोई भी
कार्य
ठीक प्रकार से ना कर सको तो तुम्हें एहसास
होता है यदि मैंने गलती नहीं करी होती तो
आज मुझे वह चोट नहीं लगती मेरे बच्चे यही
एहसास तुम्हें जीवन का असली मतलब समझाता
है आज तुम्हें इस संदेश के माध्यम से एक
बात समझ आएगी कि मानव जीवन कितना अनमोल है
तुम्हारी मां तुम्हें जो बातें समझाना
चाहती हैं वह सिर्फ इसलिए है ताकि
तुम्हारे जीवन में बुरा समय जल्दी समाप्त
हो
जाए मैं अपना आशीर्वाद तुम्हें देती हूं
कि तुम्हारे जीवन में कल्याण हो तुम्हारे
आसपास इतनी परेशानी जो भी है वह सब दूर हो
जाएं तथा तुम्हारे घर में तुम्हारा परिवार
सदा खुश रहे यही मेरी कामना है
तुम बस जीवन की परेशानियों को देखकर कभी
उदास मत होना तुम्हारी माता ब्रह्मांड की
देवी तुम्हें अपना ज्ञान इसलिए देती हैं
ताकि तुम इस अनमोल जीवन को बर्बाद ना कर
[संगीत]
सको मेरे प्यारे बच्चों तुम इतने नाराज
क्यों हो क्या बात है तुम्हारे मन में किस
तरह की हलचल चल रही है तुम मुझे बताओ मैं
तुम्हारी माता हूं मैं तुम्हारी
परेशानियों का हल करके
जाऊंगी आज तुमसे तुम्हारी माता तुम्हारे
मन की बात जानने आई हैं तुम मन ही मन बहुत
कुछ सोचते हो कि लोगों ने तुम्हारा किसी
भी समय साथ नहीं दिया तुम्हारे बुरे वक्त
में तुम बिल्कुल अकेले थे तुम अकेले रोए
थे अकेले ही सब कुछ झेल रहे थे मेरे
बच्चों मुझे पता है कि यह सब अकेले करना
तुम्हारे लिए बहुत मुश्किल था लेकिन अब
तुम्हारे बुरे दिन मैं समाप्त कर रही
हूं इस कलयुग की दुनिया में पैसा भी अजीब
बन चुका है जिसके पास नहीं है उसकी कोई
इज्जत नहीं है और जिसके पास है उसे किसी
की इज्जत नहीं
[संगीत]
है क्योंकि मैं नहीं चाहती कि तुम्हें
जीवन में किसी भी मोड़ पर धोखा मिले तुम
जिस पर भरोसा करते हो यदि वह तुम्हारा
भरोसा तोड़ देगा तो तुम अंदर से बिल्कुल
टूट जाओगे और मैं चाहती हूं कि तुम जीवन
में कभी हार ना मानो और तुम्हारे पास किसी
भी अंधेरे को दूर करने की शक्ति
हो तुम ऐसा कोई भी कार्य कभी मत करना कि
बाद में तुम्हें पछताना पड़े यदि तुम ऐसी
गलती करोगे तो तुम्हारा जीवन एक ना एक दिन
अंधकार में चला जाएगा और तुम फिर बाद में
जीवन भर पछताते रहोगे कि यदि मैंने यह
गलती नहीं की होती तो आज कुछ और ही मेरे
जीवन में
[संगीत]
होता मेरे बच्चों तुम्हें अपने जीवन में
अपने परिवार को अपने साथ लेकर चलना है कोई
भी कार्य करो तो अपने परिवार को साथ लेकर
करो हंसी खुशी से करो तुम्हारे सभी शुभ
कार्य जल्दी ही पूरे होंगे क्योंकि संसार
में परिवार से बढ़ कर कुछ भी नहीं
है अब मैं अपने लोग वापस जाती हूं और अपना
आशीर्वाद देकर जाती हूं कि आप जीवन में
सदा ऊंचाइयों को छुए और हमेशा खुश रहे
स्वस्थ रह आपका दिन मंगलमय
हो

Leave a Comment