काली मां 🕉 मेरी बात ना मानने का साहस तुममें कहां से आया

मेरे बच्चों हर दिन एक शुभ दिन होता है
और आज का शुभ दिन तुम्हारे लिए है
आज मैं तुम्हें जीवन के बड़े में जो बातें
बताने आई हूं वह इतनी अनमोल है की

तुम्हारा जीवन समर जाएगा इसलिए आज अपनी
माता की बटन को ध्यान से सुना
तुम्हारा जीवन जो कठिन रहा है उसे जीवन की
बागडोर अब मेरे हाथों में है इसलिए मैं
तुम्हें जो बात बताऊंगी उसे ध्यान से सुना

क्योंकि यह डोर ही तुम्हारी मेरे हाथों
में है वह तुमसे जुड़ी है मैं केवल
तुम्हारी डोर को अच्छे रास्ते पर ले जाना
चाहती हूं इसलिए आज का यह संदेश तुम्हारी
आंखें खोल देगा

मेरे बच्चों सुबह का भूल और यदि शाम को
लोट आए तो उसे भूल नहीं कहते इस प्रकार
यदि तुम भड़क चुके हो तो तुम्हें सही
मार्ग पर लाना मेरा कर्तव्य है और यदि तुम
सही मार्ग पर आए हो तो तुम लटके हुए नहीं
कहलाओगे मेरे बच्चों जीवन की परिस्थितियों
बदलती रहती हैं मैं नहीं चाहती की तुम

अपने जीवन में हमेशा परेशान रहो परेशानी
केवल तुम्हारे कुछ कर्मों से होती है जो
आज मैं तुम्हें बताऊंगी
मैं तुमसे बहुत प्रेम करती हूं यदि
तुम्हारे पर में कांटा है तो मुझे दर्द
होता है मैं तुम्हें कुछ नहीं होने देना

चाहती हूं और उससे भी कहानी अधिक मैं
तुम्हें प्यार देना चाहती हूं बस मैं
तुम्हें परख रही हूं क्या तुम सच में उसे
अपने के योग्य हो या नहीं

मेरे बच्चे तुम्हारे जीवन में एक ऐसा
चमत्कार करने वाली हूं जिससे तुम्हें बहुत
दूर देखने की शक्ति और उससे होने वाला फल
तुम्हें प्राप्त होने का आभास लगेगा जी
मार्ग पर चलकर तुम्हें जीत हासिल होगी और
यह भी तुम्हें पता लगे लगेगा

किसी कार्य को करने से पहले तुम किसी
कार्य में सफल होंगे या नहीं यह पूर्ण
ज्ञात हो जाएगा यह चमत्कारी शक्ति मेरे
द्वारा तुम्हें प्राप्त होगी जिसमें तुम
सफल और असफल के ज्ञान को प्राप्त कर लोग
और यही ज्ञान तुम्हारे जीवन को बहुत आगे
लेकर जाएगा

और उसे कार्य को किया तो तुम खली आंखों से
उन सपनों को पूरा होते हुए देख पाओगे जो
आज तक तुम्हारे सपना अधूरे थे यह कार्य
बहुत ज्यादा कठिन नहीं

आसन है जिसे तुम आसानी से पर कर पाओगे
मेरे बच्चों
आज तुम अपने घर के मंदिर में प्रसाद
चढ़ाना और अपनी मुराद मांगना तुम्हारी जो
भी प्रार्थना होगी उसे तुम बोल देना या
तुम्हारी जो भी इच्छा होगी वह भी बोल देना
उसके बाद तुम उसे प्रसाद को पूरे परिवार
में बांट देना

और प्रसाद में से कुछ प्रसाद गे को खिलाना
और तुम उसमें मेरा रूप देखो जी मेरे
बच्चों गे में बहुत सारे देवी देवता
विराजमान होते हैं जैसे ही तुम गे को

संध्याकाल के समय प्रसाद को खिलाओगे तब
सभी देवी देवता मेरे साथ तृप्ति हो जाएंगे
और तुम्हें सभी मिलकर आशीर्वाद देंगे
और जब सभी देवी देवताओं का मेरे साथ में

आशीर्वाद प्राप्त होगा तो निश्चित ही
तुम्हारे हर कार्य बने लगेंगे और तुम्हारे
जीवन में निश्चित ही बहुत बड़ा चमत्कार
आएगा इस बात पर पूर्ण विश्वास रखना मेरे
बच्चों विश्वास से ही हर कार्य को करना
तभी तुम्हारे कार्य बन पाएंगे

क्योंकि यदि तुम मुझमें पर विश्वास नहीं
करोगे और विश्वास करके कार्य को नहीं
करोगे तुम्हें कार्य कभी सफल नहीं हो
पाएगा और ना ही किया गए कार्य में शक्ति
होगी की तुम्हारे जीवन में कुछ चमत्कार

लेकर आए इसलिए आज जो मैं तुम्हें बता रही
हूं उसको अवश्य ही करना
और लगातार करते जाना कुछ समय के बाद
चमत्कार को तुम्हारे जीवन में प्रवेश होने

से कोई नहीं रॉक पाएगा और तुम्हारा हृदय
भी इस बात का आभास करने लगेगा की हां
तुमने जो किया था उसका फल तुम्हें प्राप्त
होने लगा है यह मेरा तुमसे वादा है मेरे
बच्चों

और कोई भी माता अपने बच्चों से किया हुआ
वादा कभी भी टूटने नहीं देती है वह हमेशा
अपने बच्चों से वादा निभाती है और मैं भी
अपने वादे को तुमसे निभा लूंगी लेकिन बस
तुम अपने हृदय से
उसे कार्य को अवश्य करना

मेरे बच्चों मैं तुमसे सिर्फ एक बात से ही
नाराज हो क्योंकि तुम मेरी बात पर ध्यान
नहीं दे रहे हो उन पर गौर नहीं कर रहे हो
तुमको मैं यह बताना चाहती हूं की समय रहते
ही समय में परिवर्तन लो समय बहुत ही
शक्तिशाली होता है मेरे बच्चों इस समय की
अहमियत को समझो

परंतु तुम अभी उलझनों में फैंस हुए हो और
आगे नहीं बाढ़ रहे हो मेरे बच्चे संसार
में तुम मेरी सर्वश्रेष्ठ रचना हो मेरे
बच्चों स्वयं का समय बर्बाद मत करो
तुम्हें निरंतर प्रयास करते रहना होगा तभी
तुम्हारे जीवन में कुछ नया परिवर्तन
और सकारात्मक ऊर्जा से तुम्हारा आने वाला

समय भारत होगा मेरे बच्चों तुम्हें विचार
करना चाहिए की तुम किसी कार्य में निपुण
हो तो इस कार्य को प्रारंभ करो मुझे
तुम्हारे चिंता है मेरे बच्चों तुम कहानी
जीवन के मार्ग पर बहुत पीछे ना र जो

मैं तुम्हें उन्नति के मार्ग पर ले जाना
चाहती हूं जहां तुम्हारे किस्मत तुम्हारा
इंतजार कर रही है और मेरा क्रोध भी
तुम्हारे बड़े में चिंता करने वाला प्रेम
ही है और इसी करण से ही मुझे तुमसे

नाराजगी होती है की मेरे बच्चों तुम कोशिश
ही नहीं कर रहे हो
तुम व्यर्थ की चिंता में अपना कीमती समय
गुर्जर रहे हो मेरे बच्चों मैं तुमसे
प्रेम से बंदी हुई हूं इसलिए तुम्हारा

मार्गदर्शन करना मेरा कर्तव्य है और
तुम्हारी सभी समस्याओं से मुक्ति दिलाना
मेरा धर्म है

मेरे बच्चों मुझे किस प्रकार से खुश कर
पाओगे मैं तुम्हारी श्रद्धा और भावनाओं की
भूखी हो तुम जी प्रकार से खुश करना चाहोगे
मैं इस प्रकार से खुश हो जाऊंगी बस
तुम्हारी भक्ति और श्रद्धा सच्चे दिल से
हनी चाहिए और ऐसा करते ही तुम्हारे अंदर
सकारात्मक शक्ति होग

जो की तुम्हारी सभी समस्याओं से तुम्हें
मुक्ति दिलाएगा और नकारात्मक शक्ति को
नष्ट कर देगा मैं तुमसे अपने असली रूप में
नहीं मिल शक्ति क्योंकि यह सृष्टि के
नियमों के विरुद्ध होगा मेरे बच्चों और यह
निश्चित है की जब भी तुम मुझे पुकारते हो
मैं तुम्हारे पास ए जाति हूं
मैं तुम्हारे समक्ष

खड़िया से मैं तुम्हारे साथ हूं और साथ
रहूंगी मुझे तुम्हारी हालात अच्छी नहीं
जाति

इसलिए मेरे बच्चों अब मैं तुम्हारे जीवन
में भारी परिवर्तन अगले ही कुछ घंटा में
करने वाली हूं और यह परिवर्तन तुम्हें
आश्चर्य में दाल देगा क्योंकि तुम्हारे
साथ जो भी व्यक्ति कार्य को कर लेट है उसे
पर साक्षात मेरी कृपा दृष्टि होती है
तुमको यह चमत्कार खुद अपनी आंखों से देखने

को मिलेगा बस तुम इस बीच में ऐसी गलती मत
करना यदि तुम कोई गलती करते भी हो तो
मेरे बच्चों तुम कुछ कम पीछे चले जाओगे और
यदि तुम इस समय को थोड़ा भी भूल गए तो आगे
आने में तुमको दोबारा बहुत समय लगेगा

इसलिए गलती मत करना तुम अपने सच्चे मां से
किया हुए कार्य पर पूर्ण भरोसा करना मेरा
आशीर्वाद सभी अपने प्यार भक्तों के साथ है
जीवन में खुश रहो स्वस्थ रहो तुम्हारा दिन
मंगलमय हो

 

Leave a Comment