किसानों की वो मशीन जिससे साहेब के रातों की नींद उड़ गई

जो हमारा 13 महीने आंदोलन चलकर फैसला होया
था उस फैसले पर अटल नहीं आंदी तो हम तोड़
के दिल्ली जाएंगे दिल्ली हमारी राजधानी है
दिल्ली जाने का हमारे को हक है ये जो

पोकलैंड है यह आगे जाकर के बैरिकेड तोड़ने
के लिए तत्पर तैयार सारे तोड़ देंगे सारा
साफ कर दे चले जाएंगे कोई प्रॉब्लम नहीं
साडे कोल सारे इंतजाम है किसान यह भी कह
रहे हैं कि रबर की गोलियों के अलावा पक्की
गोलिया भी चली क्या स इसमें क्या सच्चा
बकुल सही बात है चलिए है सबने दिखाई है
प्रूफ है हमारे पास पंजाब हरियाणा यूपी
राजस्थान ही बचेगा बीजेपी तो छुटकारा
मिलगा

लोदा 4 पीएम न्यूज नेटवर्क में आप सभी का
स्वागत है मैं हूं सतेज कांत लगातार 4
पीएम न्यूज नेटवर्क की टीम संभू बॉर्डर से
अपडेट दे रही है कि क्या कुछ हालात हैं
बीते दिन के आपने हालात देखे 21 फरवरी

2024 के लगातार दूसरी तरफ से शंभू बॉर्डर
के किसानों के ऊपर आंसू गैस के बम बरसाए
गए की गोलियां चली और आपने देखा ड्रोन से
किस तरीके से बम गिराए गए उसके बीते दिन
की अगर मैं बात करूं तो आपने देखा एक लेटर
लगातार सोशल मीडिया पर वायरल था जिस परे
शंभू बॉर्डर पर आपको बता दें हरियाणा

सीनियर पुलिस ऑफिशियल के तरफ से यहां
पंजाब सीनियर पुलिस ऑफिशियल को लेटर लिखा
गया था जिसमें कहा गया था कि इस तरीके के
पोकलैंड या फिर जेसीबी अगर लाए जाते हैं
तो जो भी चालक होगा उसके ऊपर क्रिमिनल
एक्टिविटी का मुकदमा पंजीकृत किया जाएगा

इस तरीके की बात थी और आगे आपने देखा किस
तरीके से वहां पर बैरिकेट्स लगा कर के
रोका जाने लगा लेकिन किसान लगातार अपने हक

के लिए 13 फरवरी 2024 से यहीं संभू बॉर्डर
पर डटे हुए हैं पीछे आप पोकलैंड देख रहे
हैं आगे हमारे साथ तमाम किसान है हम बात
करेंगे सर अब तो कहने लगे हैं कि क्रिमिनल
एक्टिविटी में सम्मिलित करेंगे और लगातार
यहां पर डटे हुए थे कल की डेट में यहां पर
देखा गया अपनी आंखों से मैंने देखा आप ही

लोग के ऊपर आंसू गैस के बम बरसाए गए आप
क्या कहेंगे बंब तो य फेंके रहे हैं रोज
ही फेंक रहे हैं कल हमारे डल्ले वाल साहब

जो किसान जथ बंदी के प्रधान जी हैं वो गए
थे बात करने के लिए उनके ऊपर भी बंब गर वो
हस्पताल में है रंदरा हॉस्पिटल में यह तो
चले रहे हैं बम बताओ रोज क्या हमारे को

आगे जाने के लिए क्यों नहीं अनुमति मिल
रही है हम भी तो इसी देश के पासी है ना
टैक्स देते हैं सब कुछ देते हैं क्यों
नहीं आगे जाने दे रहे हमारे को तो अभी ये
जो पीछे पोकलैंड खड़ा हु क्या इसको लेकर

जा रहे हो आपस नहीं नहीं वापस क्यों
जाएंगे वापस तो जबी जाएंगे जबत जाएंगे
यहां से जो हमारी जथ बंदियां बोलेंगे जब
जाएंगे वापस ऐसे थोड़ी जाएंगे वापस ये
पोकलैंड यहां पर भी खड़ा रहेगा जब तक के
फैसला नहीं हो जाता हां हां यही खड़ा रहे

तो क्या अभी इसके अलावा अभी हम और मान के
चले कि और भी पोकलैंड वगैरह आएंगे हां हां
तैयारी है हमारी जेसीपी भी है पोकलैंड भी
है सारा संता है जे सरकार नहीं मानती
खट्टर सरकार सेंटल सरकार नहीं मानती ही

फैसला पर एमएसपी नहीं देती जो हमारा 13
महीने आंदोलन चलकर फैसला होया था उस फैसले
पर अटल नहीं आंदी तो हमें तोड़ के दिल्ली
जाएंगे दिल्ली हमारी राजधानी है दिल्ली
जाने का हमारे को हक है ना के रोक सकती है
सरकार अच्छा इस पोकलैंड को देख रहे एक अलग
तरीके से मॉडिफाइड है ऊपर टीन की चादरे

लगी क्या ये बुलेट प्रूफ है बुलेट प्रूफ
ही तैयार कराई हुई है यह इसको मजबूरी ी
हमारी तैयार कराने के लिए अगर इसमें कोई
गोली वगैरह कोई थु गैस के गोले वो ना इसके

पास बर कर सके इसलिए मजबूरी है बनानी तो
बनानी पड़ेगी ऐसे तो खुले में तो चल नहीं
सकती फिर फिर तो अथू गैस के गोले खराब
करेंगे इसको आंखों में चढ़ जाएंगे इसलिए
तो बनाई हुई है चादर लगाई हुई है मोटी
कितना समय लगभग लगा इसको लग गए 1015 दिन

लग गए तैयार करने 15 दिन लगभग लग गए लेकिन
यहां पर देख रहे पुलिस ऑफिशियल जो है उसको
इस तरीके पोकलैंड या जेसीबी लाने को रोक
दिया गया है दूसरी तरफ देखा गया कल की डेट
में वहां पर भी जेसीबी और पोकलैंड खड़े थे
इस पर क्या कहोगे आप हा उनकी तो तैयारी है

ही है ना वो तो सरकार है सेंटर के पास तो
सरकार के पास तो बहुत मशीनरी होती है उनके
पास तो ज्यादा से ज्यादा तैयारी है हमारे
को भी तैयारी करनी पड़ेगी ना पिछली बारी

तो तैयारी उनकी कम थी अब ज्यादा है हमारे
को उसके सा डबल करनी पड़ेगी एक मजबूरी है
जा जाने देते हमारे को क्या लोड़ है हमारे
को मशीना ले जाने की आगे अगर पैदल जाने
हमारे ट्रैक्टर को जाने देते आगे दिल्ली

जा सकते हैं ना सारे जाते हैं वहां प
प्रदर्शन करते हैं तो हम क्यों नहीं कर
सकते हम अपना हक मांगने आए हैं जो पुरानी
सरते हैं वही मांग रहे हैं ये जो पोकलैंड
है ये आगे जाकर के बैकेट तोड़ने के लिए

तत्पर तैयार सारे तोड़ देंगे सारा साफ कर
दे चले जाएंगे कोई प्रॉब्लम नहीं साडे कोल
सारे इंतजाम अी किला लाई हुई उन्होने भी
नहीं पट अ ट्रैक्टर जाे सारे कक दे कोई

प्रॉब्लम नहीं सा सारे टीपर पर खड़े
मिट्टी तो चले जाएंगे कोई दिक्कत नहीं कोई
प्रॉब्लम वि चार चरण की अभी तक की बैठक
हुई असफल रही है कोई भी फेवर में नहीं 23
फसलों की मांग को लेकर के आप लगातार ड

टे
हुए हो चार फस से पांच फसलों की बातें हो
रही थी कि उस परे एमएसपी देंगे अभी कोई
बीच का रास्ता निकालेंगे आप लोग 23 से कम
हम तो 2 से एक फसल पर काम नहीं लेंगे ज
इने पंच फसला बोली थी ये तो गमरा कर रहे

थे जड़ अडानी वानी है ना वो ना भी अ
जिमीदार बुद्धू बना के भी अ चार पांच फसल
एमएसपी दे पा साल पा साल वास्ते क्यों
बीजेपी सरकार बनी जा तो दुगना कर देंगे 22
में कहां कर दुगना 66 पर मे ल रेट ब बध और

फसला एमएसपी है नहीं पंजाब ना कि सेंटर ने
कोई सा कोई य 13 महीने दिल्ली बैठ के सारी
सरता मु कर ग सारिया दे य मोदी सरकार आज
लोकान ही गुजार करगे ज इंडियाला होया कठा
होया उसकी मदद करो बस

बचना पंजाब हरियाणा यूपी राजस्थान ता ही
बचेगा बीजेपी तो छुटकारा मिलगा लोका का ता
ही गा न नहीं अ पंजाब हरियाने बीजेपी वाले
तो बढ नहीं सक सा पंजाब क्लियर कट किसे
पिंड नहीं जा सक सा सारे अपने किसान वीर न
बेनती है सारे सा ज बच्चे न मारन लगे सा

रोजी रोटी ली सा पले रह की गया अ बोलेना
मजबूरी लेके आए सान चौ ठंड पन सा बच्चे
शहीद हो गए दसो इ मोदी दो सा है ही कोई
नहीं छड़ खट्ट भी छड़ा और योगी भी छड़ा
मोदी भी छड़ा इन पीछे तो है ही नहीं कुछ
इन क्या फर्क लोका के नने मार रहे दो पहना

का कौन ब्याह करेगा कौन उ पागा कौन बगा
कौन करेगा उसका बचारे का है कोई सरकार ने
करना किसी सरकार ने नहीं करना कुछ नहीं
करते भाई जी य सा नाल धक्का कर रही है

हरियाणा सरकार राजधानी साडी है दिल्ली सान
जान तो रोक दिया असी पंजाब नायो रुक जाे य
सा जगह असी अपनी जगह बैठे य सा बं ग रहे
सा सीएम साहब पंजाब ने क मुंडे मेडिकल हो
जाए मेडिकल होके मैं सरकार न अपनी पंजाब
सरकार न खटर दे भी डीजीपी हरियाणा एसएसपी
जड़ लग लेडीज इ बा पर्चा होना चाहि पंजाब

य होके रगा
इे नहीं सरकार क अपनी सरकार करे य भगवंत
मान भी बेनती कर रि इ बाय नेम पर्चा होना

चाहि ज बैठे हैं य सा हाथ आके गोले ग रहे
असी किसीन मार के आए किसी कोई कातिल हो
कोई लड़ाई होई होवे ता सा को आके गोले गर

बात कर ज गोले गर दसो कि जाइए अच्छा एक
बात और करें कल की डेट में एक किसान का
बेटा भी शहीद हुआ है उसके बाद क्या आक्रोश
है क्या गुस्सा है मन में पूरा गुस्सा है

जी पूरा पूरे पंजाब में गुस्सा है इसका
पूरे देश में ही है पूरा सारे गठ बंद हो
रहे हैं मतलब सारी पंचायतें हो रही है

हरियाने में कापे सारे डरा रहे हैं धमका
रहे सबको पूरा रोस है अच्छा यहां पर किसान
यह भी कह रहे हैं कि रबर की गोलियों के
अलावा पक्की गोलिया भी चली क्या स इसमें
क्या सच्चा बिल्कुल सही बात है चलिए है
सबने दिखाई है प्रूफ है हमारे पास हमारे

जते बंधिया के पास प्रधानों के पास सारे
प्रूफ है एक्सपायर डेट के गोले चला रहे
हैं ये कोई बहुत मतलब वो कर रहे हैं यह
अत्याचार इतना अत्याचार नहीं ठीक रहता है
मोदी सरकार भी एक मतलब बंदा ही है वो भी
तो इंसान है उसको भी सोचना चाहिए ना ये
क्या कर रहे हैं अच्छा एक बात और करें
उम्र लगभग कितनी हो गई आपकी मेरी होगी 50
के नि 50 साल लगभग हो गई है इस तरीके की

घटना क्या पहले भी आपने देखी है अपनी
जिंदगी में नहीं हमने नहीं देखी ऐसी पहली
बार होते हैं पर हां पह पहली बार देख रहे

हैं ये जब घटना जब इस तरीके की आप अपनी
आंखों से पूरा मंजर देखते हैं तो मन में
क्या आता है मन में तो यही आता है भी अपनी
अपने लोगों को देश के इतना परेशान कर रहे
हैं कि जो हम अधिकार है ये प्रदर्शन करना

हक मांगना हर एक इंसान का अधिकार है ये
क्यों नहीं वो करने देते जब आप ये मांगते

थे जब विरोधी धर में रहते थे जब भी ये
करते थे ना फ ये क्यों नहीं करने देते हम
हमारे हक मांग रहे हैं हम किसान अपना रोजी
रोटी कहां से कमाए बताओ कितने घटे में जा

रही है खेती तो अभी दिल्ली जाने की पूरी
तैयारी है पूरी तैयारी है पूरी तैयारी है
दिल्ली जाने के रहेंगे तैयारी की तो बात
करते हो यहां पर देखते हैं लगातार यहां

पंजाब जो बॉर्डर है पंजाब हरियाणा बॉर्डर
यहीं पर डटे हुए हो तो यहां पर कितने दिन
तक के आप लोग डटे रहोगे हम जब तक ये मांगे
नहीं पूरी होंगी डटे रहेंगे यही लगा लेंगे
पक्का मोर्चा यही पक्का मोर्चा रहेगा
दिल्ली बढ़ो हां हां दिल्ली बढ़ेंगे

दिल्ली या दिल्ली बढ़ो अब यहां पर और इसके
अलावा अभी तक की गिनती में अगर कुछ माने
तो अनुमान क्या है कितने लोग अभी घायल हुए
हैं कल की घटना के बाद और ़ 200 1 के करीब

हुए हैं 13 तारीख को भी बहुत हुए हैं 13
तारीख को भी बहुत हुए तो तस्वीरें लगातार
देख रहे पीछे मैं फिर से दिखाऊंगा यह
पोकलैंड है जिसको यहां पर रोका जा रहा है
तमाम पीछे जो गाड़ियां आपने देखी थी उससे
इसको रोका जा रहा है लगा कर के बैरिकेट्स
लगा दिए किसान लगातार तैयार हैं आगे बढ़ने
को दिल्ली दिल्ली में कूछ करने को और

तस्वीरें आपको मैं लगातार शंभू बॉर्डर से
दिखा रहा हूं बीते दिन आपने देखा कि
किसानों के ऊपर लगातार यहां पर आंसू गैस
के बम गिराए गए जिससे काफी जख्मी भी हुए
किसान और किस एक किसान की मृत्यु भी हो गई

यहां बताया यह भी गया कि पक्की गोलियां भी
उस तरफ से चल रही हैं तो तस्वीरें मैं
लगातार आपको दिखा रहा हूं एक बार फिर से
मैं सामने से आपको इसके विजुअल दिखाऊंगा
ये पोकलैंड आप देख पा रहे हैं यहां पर
ट्रैक्टर्स आपने देखे अलग-अलग तरीके के
यहां पर किसानों ने लाए हुए हैं और तैयारी

पूरी है दिल्ली कूछ करने की बस इंतजार यही
हो रहा है कि किसानों की जो मांगे हैं 23
फसलों पर एमएसपी को लेकर के जल्द से जल्द
सरकार मान ले अगर नहीं मानती दिल्ली कूछ
करेंगे सभी के मन में यह लगातार यह हौसला
दिल में है कि आगे दिल्ली कूछ करना है
लेकिन देखने वाली बात होगी कि सरकार चार
चरण की बैठक के बाद जो नहीं हो सका वह
क्या आगे होगा और नहीं होता है तो क्या
कुछ होगा तस्वीरें आपके सा सामने होंगे
जुड़े रहिएगा 4 पीएम न्यूज नेटवर्क के साथ
मैं हूं सतेज कांत कैमरा पर्सन शुभम के
साथ

धन्यवाद

Leave a Comment