कोई है जो तुमसे छल कर रहा है

आने वाले समय में तुम्हें बहुत सावधानी
बरतने की जरूर है क्योंकि तुम्हारा शत्रु
तुम्हारे खिलाफ बहुत बड़ी चल चलने वाला है
वह कुछ ऐसा करने वाला है जिससे तुम्हारे
जीवन में

उथल-पुथल मैच जाएगी तुम बहुत बड़े संकट
में पद सकते हो मेरे बच्चे मैं तुम्हें
सावधान करने आई हूं आने वाले दोनों में
कोई व्यक्ति तुम्हें कुछ खाने को देता है

तो मत लेना किसी और के हाथ का दिया हुआ
कुछ मत खाना मेरे बच्चे वह तुम्हारा करीब
हो सकता है कोई रिश्तेदार जो तुमसे जलता
है इस व्यक्ति के बड़े में तुम भाले भांति

जानते हो तुम यह भी जानते हो की व्यक्ति
तुम्हारी खुशियों से तुम्हारे कामयाबी से
कभी खुश नहीं हो सकता तुमने बड़ा हृदय
दिखाई हुए उसे माफ कर दिया था और वह भी
तुम्हारे सामने ऐसा दिखावा करता है की वह
भी अपनी गलतियां से सबक ले चुका है और वह
सच में तुम्हें अपना माने लगा है पर मेरे

बच्चे ऐसा कुछ नहीं है वो आज भी तुम्हारा
शत्रु ही है वो आज से नहीं पिछले जन्म से
ही तुमसे शत्रुता निभा रहा है उसने तो बस
एक मुखौटा पहन लिया है मुखौटा अच्छा बने
का मुखौटा तुम्हारा शुभचिंतक होने का वह

तुम्हारा शुभचिंतक नहीं है और आने वाले
कुछ दोनों में वो तुम्हारे खिलाफ बहुत
बड़ी चल चलेगा वह अपना असली रंग तुम्हें
जरूर दिखाएगा मेरे बच्चे तुम्हें बहुत
ज्यादा सावधान रहने की जरूर है सिर्फ

तुम्हें नहीं तुम्हारे परिवार के हर सदस्य
को सावधान रहने की जरूर है क्योंकि उससे
तुम्हारे सफलता नहीं अच्छी जा रही है
तुम्हारे घर की सुधरता आर्थिक थी उससे
नहीं अच्छी जा रही है वो कुछ ऐसा करने

वाला है जिससे अचानक से ही तुम्हारी तबीयत
खराब होने लगेगी या तुम्हारे परिवार में
किसी की तबीयत खराब होने लगेगी वो अचानक
से कुछ ऐसा करेगा की तुम्हारी आर्थिक

स्थिति डामाडोल हो जाएगी सावधान रहना और
ऐसे व्यक्ति का कुछ भी लेना मत हो सकता है
वो तुमसे मिलने के बहाने तुम्हारे घर में
कोई चीज ले आए और उसको तुम अपने घर में रख
लो ऐसे व्यक्ति से कुछ मत लेना मेरे बच्चे
ऐसे व्यक्ति की दी कोई चीज अपने घर में मत
रखना मेरे बच्चे तीन संकेत यह होगा आने
वाले कुछ दोनों में कोई इंसान तुमसे पैसे
की मांग करेगा या किसी प्रकार की मदद

मांगेगा एक बार विचार जरूर कर लेना की तुम
किस इंसान को और किस व्यक्ति को वह पैसे
दे रहे हो क्योंकि हो सकता है वह पैसे
तुम्हें वापस कभी भी ना मिले तुम्हारे वो
पैसे डब जाए इन दोनों में मैं तुम्हें

बहुत संकेत दूंगी तुम्हारी अंतर आत्मा
तुमसे बहुत कुछ कहेंगे कोई भी निर्णय लेने
से पहले अपनी अंतरात्मा की आवाज जरूर सुना
कोई भी निर्णय लेने से पहले एक बार विचार
करना अतीत में हुए चीजों का लोगों ने

तुम्हारे साथ कितना चल किया लोगों ने क्या
क्या किया उसे बात पे विचार करके फिर कोई
निर्णय लेना आने वाले 15 दोनों में बहुत
जरूरी है की तुम अपनी बुद्धि का प्रयोग
करो ना की अपने हृदय का आने वाले दोनों
में यह बहुत जरूरी है की तुम जहां कम करते

हो वहां भी बहुत सावधान बार तो क्योंकि
वहां पर भी तुम्हारे ऊपर कुछ इल्जाम लगाएं
जा सकते हैं वहां पर भी कुछ लोग हैं जो
तुम्हारी तरक्की से जल रहे हैं जिनको यह ग

रहा है की उनके बाद से वहां कम कर रहे हो
लेकिन तुम्हारी तरह की उनसे ज्यादा है तो
वो लोग भी तुम्हें निशा दिखाने की कोशिश

करेंगे पर तुम्हें बटन से घबराना नहीं है
मैं तुम्हारी रक्षा कर रही हूं कोई
तुम्हारा कुछ बिगाड़ नहीं सकता पर हां ये
लोग जो चलेंगे उससे तुम्हारा मनोबल कम
होगा इससे तुम्हारे भीतर नकारात्मक ऊर्जा

ए शक्ति है जिससे तुम्हें बचाना है
तुम्हें मुस्कुराकर और दत कर सबका सामना
करना है और बहुत सोच समझकर निर्णय लेना है
बहुत कुछ समझकर कहानी पैसा लगाना है किसी

को पैसा देना है या लेना है तुम्हारे आने
वाले 15 दोनों में तुम्हें भावनाओं में
नहीं बहन है मेरे बच्चे और किसी पर भी आंख
बैंड करके भरोसा नहीं करना है मेरा यह
सुझाव है तुम्हें तुम हनुमान चालीसा का

पाठ करना शुरू कर दो
स्वयं हनुमान जी तुम्हारी रक्षा करेंगे और
दुश्मनों का नस अवश्य करेंगे ओम नमः शिवाय
मेरे बच्चे एक खूबसूरत तोहफा तुम्हारा

इंतजार कर रहा है आज वक्त है अपने पंख
फैलाने का इस खुला आकाश में उड़ जान का
मेरे बच्चे तुम अब तक जिसे अपना पूरा
संसार समझ रहे थे वह तो बस एक छोटा सा अंश

था अपने पंख खोलो तुम्हारा संसार तो यह
खुला आकाश है जहां तुम बंधन मुक्त विचार
करते हो मेरे बच्चे एक खूबसूरत तोहफा
तुम्हारी और ए रहा है यह तोहफा मेरी तरफ
से मेरे बच्चे के लिए है यह तुम्हारे जीवन
में उत्साह और उमंग को वापस लेगा इस

खूबसूरत तोहफे की पहचान तुम्हें स्वयं
करनी है किसी को यहां एक व्यक्ति के रूप
में प्राप्त होगा तो किसी को खूबसूरत जीवन
साथी के रूप में प्राप्त होगा किसी को

नन्हे शिशु के रूप में तो किसी को जीवन की
नई दिशा रूप में लेकिन यह सभी के लिए
अत्यंत भाग्यशाली होगा मेरे बच्चे
तुम्हारी ऊर्जा का स्टार बाढ़ चुका है यदि
तुम अपने आप को एक दृष्टि बनकर देखो तब

तुम पाओगे तुम्हारे व्यक्तित्व ने अब तक
कितना परिवर्तन ए चुका है यदि तुम अपनी
तुलना पहले से करो तब तुम देखोगे तुम्हारा
किस प्रकार रूपांतरण हुआ है मेरे बच्चे

क्या यह सब एक दिन में संभव था क्या तुमने
कभी कल्पना की थी जी प्रकार से तुम्हारा
विश्वास होगा क्योंकि यह सब प्राकृतिक
द्वारा पूर्व निर्धारित होता है जी प्रकार
विद्युत धारा प्रभाव के लिए इस तरह चयन

किया जाता है जी तार की क्षमता उसे धार को
प्रभावित कर सके
सूक्ष्म क्षमता की धार में अधिक धारा
प्रवाहित कर दी गई तो वह ध्वस्त हो जाएगी

ठीक इसी प्रकार व्यक्ति के शरीर ऊर्जा का
प्रभाव है
जैसे-जैसे तुम्हारी क्षमता में विकास होता
है वैसे-वैसे तुम्हारे शरीर की ऊर्जा
बढ़नी है जो लगातार अपने हृदय में

आध्यात्मिक अग्नि को प्रज्वलित करती है
उनकी क्षमता बढ़नी चली जाति है और अनंत
धारा उनके शरीर में प्रभावित होती है
जिससे वह सरलता से सहन कर लेते हैं मेरे

बच्चे तुम्हारे साथ जो कुछ भी हो रहा है
तो मुझे घबराओ मत यह सब तुम्हारी यात्रा
का विशेष अंग है एक पहाड़ पर करते ही
तुम्हारे लिए दूसरा द्वारा खुला जाएगा

टूटा तो तुम मुझे पुकार लेना तब तुम्हें
ज्ञात होगा मैं सदा तुम्हारे साथ खड़ी थी
जो तोहफा मैंने तुम्हें भेजो है उसके लिए
खुद को तैयार करो क्योंकि बहुत जल्द है

तुम्हें मिलने वाला है चलो थोड़ा
मुस्कुराओ तुम्हारी मुस्कान पूरे वातावरण
को आनंदित करती है
मेरे बच्चे यूं उदास होकर ना बैठा करो एक
बड़ी अच्छी कहावत है जब एक द्वारा बैंड

होता है तब ईश्वर स्वयं तुम्हारे लिए एक
नए द्वारा खोल देते हैं कुछ मनुष्य ऐसे
होते हैं जो अनुभव करते हैं हमारे साथ तो

ऐसा नहीं हुआ हमारे लिए तो कोई नया द्वारा
नहीं खुला कोई भी नया द्वारा हमें नहीं
मिला है उसे विषय में चिंता करते हैं और
दुखी हो जाते हैं और सोचते हैं ऐसा क्यों
हुआ किंतु
जो पुराना बैंड द्वारा है इस के समक्ष

भूखे होकर बैठ जाते हैं कुछ इस प्रकार बैठ
जाते हैं की नए द्वारा पर उनकी दृष्टि
पड़ती ही नहीं मेरे बच्चे बस यही कहना

पर ले जान के लिए मेरी शक्तियां तुम्हारी
और बाढ़ रही है वह अदृश्य शक्ति है जो तुम
तक पहुंचने वाली है जो एक पाल में तुम्हें
ऐसी सूचना देगी की तुम झूठ उठो जी मेरे
बच्चे यह तुम्हारी परीक्षा का फल है जो

खुशी बनकर तुम्हारे घर में शीघ्र प्रवेश
करेगी जिसके करण कार्य क्षेत्र में
तुम्हारी पदोन्नति होगी तुम्हारे आसपास के
लोग तुमसे अत्यधिक प्रभावित होंगे मेरे

बच्चे तुम्हारे माता पिता तुम पर गर्व
करेंगे क्योंकि तुम उन्हें वह देने वाले
हो जो किसी ने किसी को अब तक नहीं दिया
किसी भी व्यक्ति के जीवन में चमत्कार तब
प्रारंभ होते हैं जब वह उनके की सबसे कम
आप रखना है तुम्हारे जीवन का वही निर्माण

प्रारंभ होगा जब चारों तरफ से चमत्कार की
वर्षा होगी ज्ञान का प्रकाश तुम्हारे लिए
नए द्वारा खोलेगा जहां तुम संसार को
आध्यात्मिक ज्ञान के बीच खड़े होंगे और
संसार में रहते हुए भी ईश्वर प्रेमी बनकर

सब कुछ प्राप्त करोगे मेरे बच्चे बहुत
जल्द तुम्हें ऐसी सूचना मिलेगी जो
तुम्हारे घर को खुशियों से भर देगी मेरे
बच्चे देखो यह दुनिया कितनी अच्छी है एक

ही समय में कोई अत्यधिक पीड़ा में होता है
तो कोई अत्यधिक प्रश्न एक ही समय में किसी
के घर में शिशु का जन्म होता है और उल्लास
का माहौल होता है वहीं इस समय एक घर में
किसी के घर देहांत हुआ होता है जहां मातम

है दोनों घरों में घाटी घटनाएं मैं देख
रही हूं पर मुझे ना कोई प्रसन्नता है ना
ही समय दो क्योंकि जिसने जन्म लिया
अपने एक नई यात्रा पर जहां उसे कोई अध्याय
जीवन रूप में सीखने हैं और किसी की मृत्यु
हुई है वह कई अध्याय सिख कर मेरे पास ए

रहा है यह चक्र तो तब तक चला रहेगा जब तक
वह आत्मा जीवन के साथ अध्याय पूर्ण से
ग्रहण ना कर ले इसी प्रकार जब तुम्हारे

जीवन में कोई लाभ होता है अथवा हनी होता
है तो तुम्हें एक समाज व्यवहार करना चाहिए
किसी भी स्थिति में अत्यधिक प्रश्न या
अत्यधिक दुखी नहीं होना चाहिए क्योंकि
दोनों ही तुम्हारे जीवन का महत्व पूर्ण
अंग है मेरे बच्चे आज तुम दुखी हो सकते हो
तो निश्चित ही कल तुम्हें इतनी ही मंत्र
में खुशी भी मिलेगी यदि आज तुम अत्यधिक
प्रश्न हो तो हो सकता है कल तुम्हें दुखी
भी होना पड़े इसलिए आज मैं तुम्हें गुप्त
मंत्र दे रही हूं
जीवन में स्थिति चाय जो भी हो सदैव ईश्वर
का स्मरण हृदय से करते रहना ऐसा करने से
जीवन में सुख और दुख एक समाज लगे लगता हैं
जब तुम्हें कोई बड़ी उपलब्धि हासिल हो तो
उसे ईश्वर की सेवा समझकर ईश्वर के चरणों
में समर्पित कर दो ऐसा करने से तुम्हारे
भीतर अहंकार का वास नहीं होगा प्रत्येक
दिन जो भी अच्छे कर्म करो उसे ईश्वर की
सेवा समझूं इसी प्रकार जब तुमसे कोई गलती
हो तो उसे भी ईश्वर के चरणों में समर्पित
कर स्वीकार करो आज तो मैंने तुम्हें बताया
है इसे जन में व्यक्ति को बरसों बीट जाते
हैं यदि आज इस गुप्त ज्ञान को तुम अपनी
पोटली में बंद लोग तो अनंत कल तक तुम्हारी
यात्रा सुखद होगी मेरे बच्चे एक बात मैं
तुम्हें आज बताती हूं सदा लक्ष्य सामने
नहीं होता कभी-कभी उसे ढूंढना पड़ता है
याद रखो तो यह यात्रा बड़े कठिन होती है
और इसी करण से सदैव तेज चलना शीघ्र गति से
चलना ही पर्याप्त और आवश्यक नहीं है इससे
भी अधिक महत्वपूर्ण है सोच समझकर चलना
सोच-समझकर जब चलोगे तब वह कम सबसे अधिक
श्रेष्ठ होंगे कब किस मोड पर मुड़ना है कब
किस मोड पर नहीं मुड़ना है कब गति अधिक
हनी चाहिए कब नहीं कब रुकना है इस सब का
ज्ञान प्राप्त करना आवश्यक है मेरे अगले
संदेश की प्रतीक्षा करना मेरा आशीर्वाद
सदैव तुम्हारे साथ है

Leave a Comment