तुमने उसे धूल चटाया मेरे बच्चे।

मेरे बच्चे जीवन का लक्ष्य स्वयं को
ढूंढना नहीं है बल्कि स्वयं को बनाना है
मनुष्य वह महान नहीं होता जो अपनी शुरुआत
बदलना चाहता है बल्कि महान व्यक्ति वह है

जो जहां अभी है वहीं से एक नई शुरुआत कर
अपना कल बदलने का प्रयास करता है शुरुआत
चाहे जैसी भी रही हो तुम्हें सदैव वर्तमान
को सुधारने के लिए परिश्रम करना चाहिए यदि

तुम्हारे जीवन की शुरुआत अच्छी नहीं हुई
है तो भी तुम्हें निराश होने की कोई भी
आवश्यकता नहीं है अगर तुम्हारा बचपन
निर्धनता प्रेम के आभाव या फिर परेशानियों
में व्यतीत हुआ है तो इसका मतलब यह नहीं
है कि तुम्हें अपने पूरे जीवन को भी ऐसे

ही व्यतीत करना पड़ेगा तुम परिश्रम और
दृढ़ निश्चय से अपने जीवन में परिवर्तन ला
सकते हो वैसे भी तुम्हें सदैव सकारात्मक
सोचना चाहिए यदि नकारात्मक परिस्थितियों
में तुम भी नकारात्मक मनो दृष्टि रखोगे तब

तो तुम्हारा उस नकारात्मक परिस्थिति से
निकल पाना नामुमकिन है किसी नकारात्मक
परिस्थिति में भी सकारात्मक मनोद रखने से
तुम्हें एक उम्मीद मिलेगी जिसका सहारा

लेकर तुम उस परिस्थिति से सफलता पूर्वक
बाहर निकल सकते हो इसी कारण जीवन में
परिस्थितियां चाहे जैसी भी क्यों ना हो
तुम्हें हमेशा अपना रवैया सकारात्मक ही

रखना चाहिए हर परिस्थिति में सकारात्मक
सोच रखने वाला व्यक्ति सफल तो होता है
किंतु सकारात्मक सोच रखने इतना आसान भी
नहीं है सकारात्मक सोच के लिए तुम्हें कुछ
ऐसा करना होगा जिससे तुम्हें सचमुच की

खुशी मिलती हो
किसी भी मनुष्य को सच्ची खुशियां सरलता से
प्राप्त नहीं होती हैं सच्ची खुशियां पाने
का सबसे सरल तरीका है कि तुम्हें सदैव उन
मौकों की तलाश में रहना चाहिए जिनसे तुम

दूसरों के चेहरे पर मुस्कान ला सको सच्ची
खुशियां तभी आती हैं जब तुम दूसरों के
प्रति दया भाव रखते हो कभी-कभी किसी के

लिए किया हुआ ऐसा कार्य जो उसके चेहरे पर
मुस्कुराहट लाता है उस व्यक्ति से ज्यादा
तुम्हें खुशियां दे सकता है कभी-कभी तुम
सफलता को खुशियों से जोड़कर देखने लगते हो

तुम्हें लगता है कि तुम खुश तभी रह सकते
हो जब तुम सफल हो जाओगे किंतु ऐसा बिल्कुल
भी नहीं है जिस चीज की तुम इच्छा रखते हो
और जब वह तुम्हें प्राप्त हो जाती है तो
वह सफलता कहलाती है और जो चीज तुम्हारे
पास है

उसी की इच्छा रखना प्रसन्नता कहलाती है
मेरे बच्चे तुम्हें यह समझना होगा कि तुम
एक अलग अद्वितीय पथ पर चलने के लिए इस
जीवन में आए हो संसार में सभी के जीवन का
लक्ष्य और मूल्य अलग-अलग है सभी को अपना

अपना रास्ता स्वयं ही तय करना है तुम्हारे
जीवन जीने का आधार भी तुम स्वयं ही तय
करते हो जब सभी के रास्ते अलग-अलग

हैं तो सभी के उन रास्तों पर चलने के
तरीके भी अलग अलग ही होंगे यही तरीके हैं
जो संसार को और रोचक एवं मनोहर बनाते हैं
तुम्हें अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए
दूसरों के तरीकों की नकल करने की आवश्यक

ता
नहीं है तुम जो कुछ भी प्राप्त करना चाहते
हो उसके लिए तुम्हें जीवन में अनेक मौके

प्रदान किए जाएंगे परिश्रम एवं ईमानदारी
से उन मौकों पर कार्य करके तुम अपने
लक्ष्य की प्राप्ति कर सकते हो इसके अलावा
तुम्हें यह बात भी समझनी चाहिए कि संपूर्ण
संसार के सारे जीवों के साथ तुम इस धरती
पर जीवन यापन कर रहे हो यदि तुम इन सारे

जीवों के साथ मिलकर एक दूसरे का साथ
निभाओगे तो तुम्हारे लिए जीवन जीना और
आसान बन सकता है तुम्हें अपने दूसरे
मनुष्यों एवं जीवों के साथ मिलकर एक दूसरे

की मदद करनी चाहिए उनकी भावनाओं को हानि
नहीं पहुंचाने का प्रयास करना चाहिए संसार

के सभी जीव अपने जीवन में किसी ना किसी
विशाल परेशानी में जी रहे हैं इसलिए
तुम्हें सदैव सभी से प्रेम पूर्वक बात
करनी चाहिए तुम्हें हमेशा यह प्रयास करना
चाहिए कि तुम सभी के प्रति दया भाव दिखाओ

क्योंकि क्या पता कब तुम्हारी कोई एक बात
किसी दूसरे के जीवन को बदल कर रख दे किसी
भी व्यक्ति में आत्मविश्वास होना बहुत
अच्छी बात है किंतु तुम्हें यह याद रखना
चाहिए कि कोई भी व्यक्ति तुमसे कमतर नहीं

है और ना ही तुम किसी से कमतर हो तुम्हें
ना तो दिखावा करना चाहिए और ना ही किसी के
प्रति भेदभाव करना चाहिए तुम्हें सभी को

बराबर मानना चाहिए बाहर से देखने पर
प्रतीत होता है कि तुम सब में काफी अंतर
है और ना ही किसी के प्रति भेदभाव करना
चाहिए तुम्हें सभी को बराबर मानना चाहिए

बाहर से देखने पर प्रतीत होता है कि तुम
सब में काफी अंतर है परंतु जब तुम ध्यान
से देखोगे तो तुम्हें पता चलेगा कि तुम सब
आपस में काफी समान हो तुम सभी की
आकांक्षाओं में भी काफी समानता है जब तुम

अन्य व्यक्तियों को ध्यान से देखोगे तो
तुम्हें आभास होगा कि संसार के हर एक
व्यक्ति में तुम्हें एक ना एक बात स्वयं
से समान मिलेगी जब तुम सभी की आकांक्षाएं

गुण एवं कमियां समान है तो दूसरों से
भेदभाव का तो तुख ही नहीं बनता है तुम सभी
को एक दूसरे की सहायता करनी चाहिए जिससे
तुम सभी की आकांक्षाओं की पूर्ति हो सके

मेरे बच्चे तुम्हें यह याद रखना चाहिए कि
तुम अत्यधिक सौभाग्यशाली हो दिव्य समय
सदैव तुम्हारे साथ है और प्राकृति लगातार

तुम्हारे पक्ष में कार्य कर रही है मुझे
ज्ञात है कि कभी ना कभी जीवन से निराशा
सभी को होती है सभी जीवन में एक ना एक बार
हताश और परेशान होते हैं सभी के जीवन में

एक ऐसा क्षण अवश्य आता है जब उसे प्रतीत
होता है कि वह क्षण उसके संपूर्ण जीवन का
सबसे कमजोर एवं बुरा क्षण है ऐसे समय में

तुम्हें स्वयं को हिम्मत दिलानी चाहिए और
यह स्मरण रखना चाहिए कि मैं सदैव तुम्हारे
साथ
तुम्हें अपनी ऊर्जा को चिंता करने में

नहीं लगाना चाहिए बल्कि तुम्हें अपनी
ऊर्जा का इस्तेमाल समाधान खोजने में लगाना
चाहिए चिंता करने में भी उतनी ही ऊर्जा
लगती है जितनी ऊर्जा उस चिंता से बाहर

निकलने में लगती है बुरे समय में अपनी
ऊर्जा का इस्तेमाल चिंता करने में लगाना
मूर्खता का कार्य है जब तुम पहले से ही
बुरे समय में हो तो तुम्हें उस समय प्रयास
करना चाहिए

कि तुम जितना हो सके अपनी ऊर्जा का
इस्तेमाल स्वयं को उस बुरे समय से निकालने
में करना चाहिए मैंने देखा है कि तुम अपने
जीवन में कई परेशान एवं क्षतिग्रस्त

व्यक्तियों को आकर्षित करते हो वे सब
तुम्हारे जीवन में आते हैं और तुमसे अपनी
परेशानी बांटते हैं जिससे तुम स्वयं भी
परेशान हो जाते हो मेरे बच्चे तुम्हें ऐसा

नहीं करना चाहिए तुम्हारी ऊर्जा लक्ष्य से
भटकने लगती है मेरे अगले संदेश का
प्रतीक्षा करना तुम्हारा कल्याण हो मेरे
बच्चे

Leave a Comment