तुम्हारा दुश्मन तुम्हारा प्रेमी ही है

मुझे पता है जितना तुम मुझसे करते हो शायरी किसी से कर पाओगे जितना यकीन तुम्हें मुझ पर है शायद ही

किसी पर हो और तुम्हें यह भी पता है मेरे बच्चे की मेरे अलावा कोई तुम्हारा अपना नहीं है कोई ऐसा नहीं है जो

तुम्हारे दुख दुख दिल से सुने सुने सुने लोग सुनने का दिखावा तो करते हैं पर कोई तुम्हारा दर्द भरा नहीं सकता

जैसे तुम्हारी माता समझती है कोई तुम्हारे आंसू पर वैसे रो नहीं सकता मेरे बच्चे जैसे मैं रोती हूं तुम अकेले में

आज आज बहुत रोते रोते होते होते हो बहुत सारी चिंताएं ऐसी बहुत सारी बातें ऐसी है जो तुम किसी को बात ही

नहीं सकते तुम अपने अंदर ही बातों को रख कर कर घुटने चले जा रहे हो मेरे बच्चे जब तुम अकेले होते हो तो उन बातों के अंधेरे में खो जाते होते फिर तुम्हें इस संसार में कुछ भी सही नहीं दिखता है लोगों ने तुम्हारे साथ

वक्त वक्त वक्त वक्त वक्त पर चल किया है एक बार भूल भी जाते जाते पर वह तुम्हारे अपने थे पर आज भी ऐसे लोग हैं मेरे बच्चे तुम्हें बहुत अच्छे से पता है जो तुम्हारे अपने नहीं है दिखावा कर रहे हैं और तुम आज क्यों लोगों

की बातों पर रोटी होते होते हो तुम्हें पता है पीठ पीछे वार कर रहे हैं सेवा करते चले जा रहे हो फिर भी तुम उनकी सारी बातें मानते चले जा रहे हो

Leave a Comment