तुम्हारी किस्मत चमकाने के लिए वह उपहार में कुछ ला रहा

मेरे प्रिय बच्चे आज तुम्हें यह संदेश
प्राप्त हुआ है क्योंकि तुम्हारा भाग्य अब
बदलने वाला है यह संदेश एक प्रमाण है कि
अब तुम्हारे जीवन में भाग्योदय होने का
समय आ गया है मेरे प्रिय यदि तुम अपने
भाग्य के उदय करना चाहते हो और दिव्य

शक्तियों से जुड़ना चाहते हो तो अभी साथ
साथ साथ इस अंग को लिखो और यह पुष्टि
जाहिर करो कि तुम अपना भाग्य बदलना चाहते
हो

मेरे प्रिय कोई ऐसा व्यक्ति है जिसे लेकर
तुमने बहुत विचार किया है और मैं तुम्हें
बता देना चाहता हूं कि वह भी तुम्हारे
बारे में बहुत ही ज्यादा सोच विचार कर रहा
है तुम दोनों एक दूसरे के लिए निरंतर
विचार किए जा रहे हो मेरे प्रिय तुम्हें
उस व्यक्ति की ऊर्जा से मिलाने का अब समय

आ गया है तुमने जो भी कल्पनाएं की है उसे
लेकर जो भी विचार अपने मन में उत्पन्न किए
हैं उस पर अमल करने का समय आ गया है वह
निरंतर तुम्हारे बारे में सोचे जा रहा है
यह कोई साधारण बात नहीं है वास्तव में यह

एक बहुत बड़ी बात है क्योंकि तुम दोनों का
ही रिश्ता पिछले जन्म से जुड़ा हुआ है
पिछले जन्म से ही तुम दोनों का एक गहरा
नाता रहा है इसलिए तुम दोनों के बीच ऐसी
ऊर्जा देखने को मिल रही है ऐसी ऊर्जा का
आदान प्रदान हो रहा है कि तुम दोनों की ही

एक दूसरे से जुड़ाव को महसूस कर रही है
वास्तव में यह जुड़ाव होना भी आवश्यक है
क्योंकि ऐसा होने से ही तुम दोनों का
भाग्य एक साथ उदय होगा तुम्हारे मन में
बहुत सी यादें पनप रही

है तुम्हें कई बार बहुत हिचकियां भी आती
हैं इसका कारण यह है कि वह निरंतर तुम्हें
याद कर रहा है कुछ समय से उसके मन में कुछ
बातों को लेकर गहरी सोच बनी हुई है इस
इसलिए वह तुमको बहुत ज्यादा याद कर रहा है
वह निरंतर तुम्हारे बारे में विभिन्न

प्रकार की कल्पनाएं कर रहा है और इसलिए
तुम दोनों का मिलन करा देना बहुत आवश्यक
हो गया है क्योंकि कुछ ऐसी नकारात्मक
ऊर्जा हैं जो तुम्हारे जीवन पर हावी होती
जा रही

है जो तुम दोनों को एक दूसरे से अलग करने
का अथक प्रयत्न कर रही है और यह नकारात्मक
ऊर्जा कुछ तुम्हारे विर से और कुछ उन
लोगों से उत्पन्न हो रहे हैं जो तुम्हें
आगे बढ़ते हुए नहीं देखना चाहते

हैं जो नहीं चाहते हैं कि तुम्हारा जीवन
कभी बेहतर हो जो नहीं चाहते हैं कि
तुम्हारा प्रेम कभी सफल हो लेकिन मेरे
बच्चे मैं चाहता हूं कि तुम अपने जीवन में
आगे बढ़ो तुम उस ऊर्जा को ग्रहण करो जो

ऊर्जा तुम्हें आगे बढ़ने में मदद करें यदि
तुम इस ऊर्जा को ग्रहण करना चाहते हो तो
अब भी एक एक इस अं को अवश्य लिखो और इस
बात की पुष्टि करो इस बात की पुष्टि करने
के लिए तुम्हें अपने मन में कुछ वाक्यों
को दोहराना होगा जो इस प्रकार है मेरे

प्रिय तुम्हें कहना होगा कि हे ईश्वर मैं
सक ऊर्जा को ग्रहण करने के बहुत करीब हूं
मैं सकारात्मक प्रेम की सकारात्मक धन की
सकारात्मक जीवन की ऊर्जा को आकर्षित करने
का इच्छुक हूं इसलिए मेरे मूलाधार से लेके
आज्ञा चक्र तक को खोल दिया जाए ताकि मैं

सभी प्रकार की सकारात्मक ऊर्जा को ग्रहण
करने में सक्षम हो पाऊं इसके अलावा हे
प्रभु जो भी लोग धन की ऊर्जा को आकर्षित
नहीं करना चाह रहे किंतु उनके जीवन में धन
भेजा जा रहा तथा जो भी लोग प्रेम और

सकारात्मक जीवन की ऊर्जा को अपने कर्मों
से आकर्षित नहीं करना चाह रहे किंतु फिर
भी उनके जीवन में यह भेजा जा रहा उन्हें
मेरी तरफ भेज दीजिए क्योंकि मैं इस ऊर्जा
को ग्रहण करने में पूरी तरह से सक्षम हूं
और मैं इस ऊर्जा को ग्रहण करने के लिए

पूरी तरह से तैयार हूं हे प्रभु मेरे जीवन
में सभी प्रकार की सकत त्मक धन प्रेम और
जीवन की ऊर्जा को भर दिया जाए मैं निरंतर
सदैव आपका आभारी रहूंगा ऐसा बोलने से ऐसा
विचार करने से और इन वाक्यों को निरंतर
दोहराते रहने से मेरे प्रिय तुम्हारे जीवन

में अगले कुछ ही घंटों में बदलाव दिखने
प्रारंभ हो जाएंगे ऐसा कहते ही तुम्हारे
भीतर का आज्ञा चक्र जागृत हो उठेगा आज्ञा
चक्र तुम्हारे मूलाधार चक्र को आदेश देगा
और तुम्हारा मूलाधार चक्र सभी प्रकार के
भौतिक सुख संसाधन को तुम्हारे जीवन में
प्रस्तुत कर देगा मेरे प्रिय मैं जानता

हूं तुम्हारे जीवन में जो भी घटनाएं घटी
हैं जिस भी प्रकार से तुमने दुखों का
सामना किया मुझे विश्वास है
कि तुम आगे बढ़ने में पूरी तरह से सक्षम
हो और तुम टूटकर बिखरने के बजाय आगे बढ़ते
रहने में ही यकीन रखते हो मैं जानता हूं

तुम्हारे भीतर किस प्रकार का भय पैदा होता
है फिर भी कुछ ऐसी बातें हैं जिनसे तुम
अनजान हो जिन्हें तुम अपने बारे में नहीं
जानते हो क्या तुम्हें ज्ञात है कि तुम
किसी भी प्रकार की परिस्थिति से लड़ने में
पूरी तरह से सक्षम हो शुरुआत में भले ही
तुम्हें विभिन्न प्रकार के भय नजर आते हो

असुरक्षा की भावना तुम्हें घेर लेती हो
लेकिन जैसे जैसे तुम उस मार्ग पर आगे
बढ़ते रहते हो तुम्हारे अंदर का
आत्मविश्वास जागृत होने लगता है बहुत सी
ऐसी परिस्थितियां आई जब तुम टूटकर बिखरने
ही वाले थे लेकिन तुमने अंत हार नहीं मानी
भले ही तुम्हारे भीतर भय का पूरा

ज्वालामुखी उमड़ पड़ा हो फिर भी तुमने हार
नहीं मानी थी और यही का है कि तुम इस
मायावी छली मिथ्या जगत में भी आगे बढ़ते
रहे बहुत से ऐसे अवसर आए जहां पर तुम्हारे
अलावा यदि कोई और व्यक्ति होता तो वह पूरी
तरह से निराश होकर थक कर बैठ जाता कई बार
तुम्हें उम्मीद की कोई कड़ी दिखाई भी नहीं

दी लेकिन उसके बावजूद तुम लड़ते रहे भले
ही तुम डर में रहे भय में जिए लेकिन तुम
लड़ते रहे तुम आगे बढ़ते रहे तुमने पीछे
देखने के बजाय आगे पढ़ना उचित समझा और
तुम्हारा यह गुण मुझे अति प्रिय है

क्योंकि यह वीरवाल की निशानी है यह बलवान
की निशानी है तुमने अपनी शौर्य का परिचय
अवश्य दिया है अब समय आ गया है कि तुम
अपनी मानवता का भी परिचय बेहतर तरीके से
दो क्योंकि तुम्हारे भीतर प्रेम और करुणा
भरी पड़ी है लेकिन करने की क्षमता में यह

कई बार बाधक भी साबित होती है तुम्हें यह
साबित करना है कि तुम करुणा और दया का भाव
रखकर भी नेतृत्व करने की पूरी क्षमता रखते
हो मेरे प्रिय तुम्हारे जीवन में जीत पहले
ही तय कर दी गई है इसलिए तुम्हें जीतने से
तो कोई रोक नहीं पाएगा लेकिन यह जीत
तुम्हारे कर्म का निर्धारण अवश्य करेंगे
कई बार मनुष्य जीत कर भी हार जाता है

क्योंकि वह अपने कर्मों को बलिदान कर देता
है वह अपने कर्मों की बलि चढ़ा देता है
तुम्हें चुनाव करना होगा विभिन्न
परिस्थितियों में यह चुनना होगा कि तुम
करुणा और दया का भाव रखते हुए भी नेतृत्व

कर सकते हो तुम्हें यह दर्शा होगा कि तुम
में विभिन्न प्रकार की प्रतिभाएं मौजूद है
जिनका आभास मुझे पहले से ही है लेकिन
प्रकृति के साथ एक सामंजस्य में तुम्हें
अपनी योग्यता दर्शा होगी मेरे प्रिय तुम

किसी भी परिस्थिति में कभी भी अकेले नहीं
रहोगे क्योंकि मैं विभिन्न रूपों में
तुम्हारी सहायता के लिए आता रह
मैं तुम्हें कभी भी अकेला होने नहीं दूंगा
चाहे किसी ने तुम्हारा साथ दिया हो या ना
दिया हो तुम कभी भी

हारोगेट ग नहीं हर परिस्थिति से तुम बड़े
ही आसानी से पार पा लोगे क्योंकि मैं कभी
तुम्हारा सारथी बनकर तो कभी तुम्हारा
संरक्षक बनकर विभिन्न रूपों में तुम्हारे
पास

रहूंगा मेरा यह संदेश तुम्हें यह बताने के
लिए है कि तुम इस संसार में विशेष हो तुम
री जगह अलग है तुम जीतने के लिए बने हुए
हो तुम्हारे माध्यम से ब्रह्मांड अपने
विस्तार को संभव करने में सक्षम है मेरे
प्रिय मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है

सदा सुखी रहो तुम्हारा कल्याण हो कभी भी
किसी के भी समक्ष हार नहीं मानना चाहे
परिस्थिति कुछ भी हो जाए जीतने की उम्मीद
सदैव लगाए रहना क्योंकि तुम्हारी जीत तय
है सदा सुखी रहो तुम्हारी प्रगति अवश्य
होगी

Leave a Comment