तुम्हें कोई शक्ति नहीं तोड़ सकती

यदि तुम्हारा कोई साथ नहीं देता तो आज मेरा संदेश सुनने के पश्चात है इन बातों को अपने पर पूरी दुनिया तुम्हारी बात माने लगेगी

अर्थात तुम्हारे सामने झुकना लगेगी मेरे बच्चे यदि तुम्हें सहारा बनकर किसी को पकड़ कर चलने की आदत है तो मैं बता देना चाहती

हूं तुम इस बात को बहुत अच्छे से समझ लो कि संसार में जब तुम बेसहारा हो के शहर मांगने की कोशिश करोगे तो निश्चित ही लोग

अपनी नजरों से तुम्हें देखेंगे क्योंकि जब इंसान यह समझ लेता है कि कोई आगे बढ़ना चाहता है और उसे सहारे की जरूरत है तो

इस संसार में 90% लोग तुम्हें कभी भी सहारा देने की वजह बे तुम्हें दुख देकर बहुत मुस्कुराएंगे बहुत हसेंगे बहुत खुश होंगे यह सोचकर कि तुम दुखी हो क्योंकि संसार का नियम है सामने वाले को दुख देकर संसार का हर व्यक्ति बहुत प्रसन्न होता है और यदि

तुम स्वयं को बलवान बना लोग खुद के अंदर खुद ताकत पैदा कर लोगे हर चीज से लड़ने की आगे बढ़ाने की हिम्मत तुम्हारे अंदर स्वयं होनी चाहिए किसी भी इंसान से सहारा लेने की आवश्यकता ना होकर तुम खुद निश्चय कर लो कि कल सुबह जब उठोगे तो

सबसे पहले जब तुम्हारी आंखें खोल इस समय से तुम्हें एक दृढ़ संकल्प करना है कि जो काम करूंगा वह मैं अपने बल पर करूंगा मैं किसी से शहर नहीं मांगूंगा ना ही मुझे किसी के सहारे की आवश्यकता है जो संसार का हर व्यक्ति कर सकता है

Leave a Comment