दुर्गा मां 🕉 अगर आज आपने इस संदेश को तुरंत नहीं खोला

मैं तुम्हारी माता आस तुम्हें एक बहुत
बड़ी खुशखबरी देने वाली हूं तुम्हारे
कर्मों का फल आज तुम्हें मिलेगा जिन चीजों
का तुम्हें बेसब्री से इंतजार था वह सब
चीज भी आज तुम्हें प्राप्त होगी
लेकिन मेरी एक बात याद रखना इन चीजों को
प्राप्त करने के बाद तुम्हारे अंदर अहंकार
ना आए तुम जैसे हो वैसे ही मेरे प्रिया
भक्ति रहो मैं चाहती हूं की तुम वैसे ही
रहो तुम हमेशा सभी का भला करो सभी के लिए
अच्छे कार्य करो जिससे तुम्हारी खुद की भी
उन्नति हो और तुम्हारे आसपास जो लोग हैं
वह भी तुमसे अच्छी शिक्षाएं
[संगीत]
हम हमेशा जीवन में यही सोचते हैं की जिसने
हमारे साथ बड़ा किया इस के साथ हमें भी
वैसा ही करना चाहिए और जब तक हम ऐसा नहीं
करते तब तक हमें अपने मां में शांति नहीं
मिलती है हर समय हमारे दिमाग में यही लगा
राहत है की उसने हमारे साथ ऐसा किया है
उसने हमें बड़ा बोला है तो हमें भी इस के
साथ ऐसा करना चाहिए
[संगीत]
लेकिन ऐसा करना सही नहीं है मेरे बच्चों
क्योंकि मैंने तुम्हें हमेशा अच्छाई के
रास्ते के लिए चुनाव है मैं चाहती हूं की
तुम जीवन में हमेशा सभी के साथ अच्छा
व्यवहार रखो क्योंकि छोटी सी गलती आपके
पूरे जीवन को बर्बाद कर शक्ति है
ईशा याद रखना अच्छे के साथ अच्छा बनी पर
बुरे के साथ बड़ा नहीं क्योंकि हीरे से
हीरे को तराशा जा सकता है लेकिन कीचड़ से
कीचड़ को साफ नहीं किया जा सकता इसलिए अगर
कोई आपके साथ बड़ा करें तो वे उसके कर्म
है लेकिन अगर आप उसके साथ बड़ा करेंगे तो
वह आपके कर्म बन जाएंगे
[प्रशंसा]
यह कलियुग की दुनिया है और इस दुनिया में
हर कोई मतलबी है लेकिन आपको उनके जैसा
नहीं बन्ना है आपको हमेशा जीवन में सबकी
मदद करनी है अपने से बड़ों का आधार सत्कार
करें आपके घर में जो माता पिता हैं उनका
सत्कार करें उनका सम्मान करें कभी भी उनके
लिए गलत शब्दों का प्रयोग ना करें
मैं जानती हूं की जीवन में धन की सबको
आवश्यकता होती है लेकिन नमक की तरह धन
होता है जो जरूरी तो होता है मगर अगर जरूर
से ज्यादा हो जाए तो जिंदगी का साथ बिगड़
जाता है ज्यादा धन आने पर इंसान
अहंकार का शिकार हो जाता है और वह गलत
रास्ते पर चलने लगता है
इसलिए हमेशा याद रखना आप अपनी मेहनत से
कमाई गए धन पर ही अपना हक रखना क्योंकि
बिना मेहनत से कमाई हुए धन पर आपका कोई
अधिकार नहीं होता है
हमें जीवन में ऊंचा उठने के लिए किसी
डिग्री की आवश्यकता नहीं होती है हमारे
विचार और हमारे शब्द ही इंसान को बादशाह
या गरीब बना देते हैं
[संगीत]
अपने जीवन में ताकत अपनी आवाज में नहीं
अपने विचार में रखो क्योंकि फसल बारिश से
होती है बाढ़ से नहीं इसलिए जीवन में
जितनी जरूर है उतने ही शब्दों का इस्तेमाल
करें और वह भी अगर आप सही शब्दों का
इस्तेमाल करेंगे तो ही आप जीवन में एक
अच्छे फूल की तरह खिलकर रहेंगे
जीवन में हमें सब की सहायता करनी चाहिए
किसी की सहायता करते समय यह मत सोचो की वे
भविष्य में आपके कम आएगा या नहीं यह सब
सोच के आप कार्य मत करो
यह आशा का भावी भविष्य में आपके दुख का
करण बंता है आप जो भी कर रही हैं वह
परमात्मा को देखकर कर रहे हैं उनसे सब कुछ
छुपा नहीं है दूसरे जो कर रहे हैं उसे भी
वह देख रहे हैं इसलिए जो भी आप कार्य करती
हैं ना तो किसी को बताइए ना ही किसी को
दिखाइए बस विश्वास रखिए
जब कभी तुम्हें जीवन में कुछ पड़ा हासिल
करना है तो उसे हासिल करने के लिए तुम्हें
बड़े कार्य भी करनी पढ़ेंगे क्योंकि यह
तुम भी जानते हो की किसी भी चीज को अपने
के लिए तुम्हें कार्य करना अति अनिवार्य
होता है यदि तुम कार्य नहीं करते हो तो
तुम किसी भी चीज को नहीं का सकते अगर तुम
एक ही जगह पर बैठे-बैठे यह सोचोगे की
तुम्हें सब कुछ प्राप्त हो जाए तो यह
तुम्हारी सबसे बड़ी भूल है शांति से बैठे
रहने से भी कभी कुछ प्राप्त नहीं हो सकता
मैं तो तुम्हारी माता हूं इसलिए किसी भी
चीज को पन पाल भर का कम है लेकिन उसके बाद
भी मैं सृष्टि को सदा से चलती ए रही हूं
यदि मैं भी सृष्टि को चलाना छोड़ डन तो इस
पूरे ब्रह्मांड में जीवन ठहर जाएगा
क्योंकि मैं ही एक ऐसी शक्ति हूं जो
तुम्हारे जीवन को चला रही हूं
[संगीत]
[प्रशंसा]
मैं भी अपना कम करना छोड़ डन तो तुम्हारे
जीवन से सदा के लिए सब कुछ है जाएगा चाहे
भगवान हो या फिर इंसान जो कार्य करता है
उसे सब कुछ मिलता है और जो बिना कार्य के
राहत है उसे कभी खुश नहीं मिलता यह सत्य
अटल है और यही सत्य है इस संसार के अंत तक
हमेशा हमें बनाकर रखिएगा
[संगीत]
यदि तुम मेरे मंदिर में नहीं ए सकते तो
अपने सभी कार्यों को समय पर समाप्त करते
हो तब भी तुम पर मेरी कृपा बनी रहेगी
क्योंकि तुम अपने कर्तव्य निभा रहे हो और
तुम्हारा कर्तव्य तुम्हें फल प्रधान कर
रहा है जो तुम्हें मिलने चाहिए और यदि तुम
मेरे मंदिर में आकर मेरी पूजा करते हो पर
अपने कार्य नहीं करते तो तुम्हें किसी भी
प्रकार का कोई भी फल नहीं मिल सकता
मैं उसके लिए कार्य भी करनी होंगे अपने
मां को शीतल रखना होगा और जीवन में सारे
करने होंगे मेरे बच्चों तुम्हारे जीवन के
लिए यह कल्याणकारी है
[संगीत]
इस संसार में कभी कोई किसी का नहीं होता
यदि तुम दूसरों के भरोसे अपने जीवन को
छोड़ डॉग तो एक दिन वही दूसरे तुम्हारा
साथ छोड़ देंगे जब तुम्हें उनकी सबसे अधिक
आवश्यकता होगी इसलिए कभी भी किसी पर इतना
निर्भर मत रहो की तुम्हारा जीवन उसके बिना
कार्य ना कर सके तुम्हें अपने पैरों पर
खुद खड़े होना है इस संसार को दिखाना है
की तुम सारे कार्य कर सकते हो
यह संसार बहुत मतलबी है यदि तुम केवल यह
सोचते हो की यह संसार तुम्हारे लिए भला
सोचता है तो यह तुम्हारी सबसे बड़ी भूल है
क्योंकि संसार केवल अपने लिए सोचता है कोई
भी किसी के लिए नहीं सोचता आज की इस कलयुग
में कोई किसी का नहीं है बहुत कम लोग ऐसे
हैं जो दूसरों के बड़े में सोचते हैं
इसलिए संसार की मो माया से ऊपर उठकर
तुम्हें अपने कार्यों को केवल देखना चाहिए
तुम्हारे कार्य ही केवल ऐसी हैं जो
तुम्हें सब कुछ प्रधान करेंगे अन्यथा यदि
तुम दूसरों के भरोसे बैठे रहोगे तो कभी
जीवन में कुछ हासिल नहीं कर सकते और यह
हमेशा ही मनुष्य के जीवन के पाटन का करण
बंता है
हम अपने से बड़ों का आधार सम्मान हमेशा
करना वह तुम्हारे अपने होते हैं जो
तुम्हें अच्छी रहा दिखाई हैं तुम्हारे
परिवार से बढ़कर संसार में और कोई भी ताकत
नहीं है क्योंकि परिवार ही एक ऐसी शक्ति
है जब इस संसार में कोई कम नहीं आता है तो
परिवार ही तुम्हारे कम आता है
[संगीत]
और इस संसार का सबसे निस्वार्थ प्रेम केवल
मां-बाप करते हैं
मां-बाप इस कलयुग में वह भगवान है जो
तुम्हारे जीवन में सदा उजाला भारते हैं
तुम्हें अच्छी रहा दिखाई हैं और तुमसे
बिना किसी स्वार्थ के प्रेम करते हैं उनसे
ज्यादा प्रेम तुम्हें संसार में कोई नहीं
कर सकता
मेरे बच्चों तुम्हें अपने दिल को हमेशा
साफ रखना चाहिए दूसरों को हमेशा उचित
मार्ग दिखाना चाहिए
तुम्हारे यह अच्छे कर्म में खुद देखते हूं
और इन्हें तुम्हें अपने आने वाले जीवन के
लिए संभल के रखती चाहिए ताकि यह कर्म
तुम्हारे जीवन में तुम्हें खुशियां प्रधान
करें तुम आज जीवन में जो भी कार्य कर रहे
हो जो भी कर्म करते हो वह तुम्हारा आने
वाला भविष्य और समय निर्धारित करता है
चाहे कितने ही सुंदर क्यों ना हो परंतु
यदि तुम्हारे कर्म अच्छे नहीं हैं तो
तुम्हारी सुंदरता किसी कम की नहीं र जाति
और यदि तुम कितने ही कुरूप क्यों ना हो
परंतु अगर तुम्हारे कर्म अच्छी हैं तो
तुम्हारी साड़ी अच्छाइयां तुम्हें हमेशा
मिलती हैं
[संगीत]
मेरा आशीर्वाद सदा अपने बच्चों के साथ है
तुम जीवन में खुश रहो स्वस्थ रहो तुम्हारा
दिन मंगलमय हो
[संगीत]

Leave a Comment