दुर्गा मां 🕉 तुम्हारे साथ जिसने गलत किया है..

आज तुम्हारी मां तुम्हारे लिए एक संदेश
लेकर आई हैं मेरा यह संदेश मेरे बच्चों के
लिए है जो मुझे प्यार करते हैं तुम कैसे
हो मेरे बच्चों तुम्हारी मां तुमसे मिलने

आई है आज जो बातें मैं तुम्हें बताने जा
रही हूं वह तुम्हारे जीवन शैली को बदलने
वाले हैं इसलिए मेरे बच्चे मेरी इस बात को
स्वीकार कर अपने जीवन में आगे बढ़ो

तुम्हारी मां की शक्तियां तुम्हारे साथ
हैं मेरे बच्चे कठिन से कठिन परिस्थितियों
में भी तुम्हारा शांत रहना यह दर्शाता है
की तुम्हारा मुझमें पर अटूट विश्वास है
तुम्हारी इसी विश्वास को बनाए रखना मेरा
भी आशीर्वाद है तुम्हारे लिए मैं कभी कुछ
गलत नहीं करूंगी

तो अकेले महसूस करोगे तो मुझे अपने पास
पाओगे यह मेरा वचन है परंतु कभी भी संसार
समक्ष के निर्बल मत दिखाई देना जैसे ही
तुम संसार को निर्बल प्रतीत होने लगे तो
समझो तुम्हारी हर तरह

अपनी निर्बलता को दूर करो अपनी निर्बलता
को दूर करने के लिए प्रयास करने पढ़ते हैं
अपनी सीमाओं को पर करना पड़ता है मेरे
प्यार बच्चे नहीं और कठिन चुनौतियां का
सामना करना पड़ता है तो मैं स्वयं पर

विश्वास करना होगा इस संसार में मैंने
प्रत्येक मनुष्य को किसी ना किसी कार्य को
पुनः करके ही भेजो है जिससे की वह इस
संसार में अपना सहयोग दे सके इस संसार में
अपने हिस का

कार्य कर सके इसलिए मेरे बच्चे जब कोई कुछ
कहे तो से मां से मत लगाया करो ना ही किसी
के व्यक्ति में इतनी ताकत हनी चाहिए की वह
तुम्हारी मां को दुखी कर सके अपने सुख और
दुख की डोर यदि दूसरों

सहमत ना होते हुए भी सामने वाले की बात को
समझना का प्रयास करना पड़ता है सामने वाले
से कोई भूल हो जाए तो उसे क्षमा करना
पड़ता है किसी को क्षमा करना हमें बड़ा ही
बनाता है इससे हमारे और सामने वाले के मां
को शांति भी मिलती है

ऐसी परिस्थितियों को समझना होता है मेरे
प्यार बच्चे मुझे आशा है की अब तुम अपने
आप को थोड़ा सा समय डॉग मुझे थोड़ा सा समय
निकालकर बातें करोगे मुझे तुमसे बातें
करके बहुत अच्छा लगता है जब तुम मुझे बात
करते हो तो मैं तुम्हें दिखाई नहीं देता

परंतु मैं तुम्हारे समीप ही बैठा राहत हूं
मैं तुम्हारी हर बात को सुनता हूं तथा
तुम्हारी बटन को सुनकर मुस्कुराता हूं तुम
मुझे महसूस नहीं कर सकते

परंतु यदि तुम्हारी भक्ति सच्ची है तो तुम
मेरे होने का एहसास अवश्य कर सकते हो अब
तुम्हारे मां का संदेश समाप्त हुआ मेरा आज
का यह संदेश केवल तुम्हारी आंखें खुलना के
लिए था ताकि तुम अपने मां से दूर ना रहो

मुझे बातें करो मेरे बच्चे अब मैं चलती
हूं मैं अगले संदेश में तुम्हें दोबारा
मिलेगी तुम अपना ध्यान रखना तुम्हारा
कल्याण हो मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद सदैव
तुम्हारे साथ है

Leave a Comment