दुर्गा 🕉️ मेरा ये पैगाम स्वीकार करो जल्दी करो

मेरे बच्चे आज मैं तुमसे कुछ जरूरी बातें
करने आई हूं इसलिए भूल कर भी मुझे अनदेखा
मत करना जरूरी केवल मेरे संदेश को पढ़ना

ही नहीं बल्कि पढ़कर समझना भी है और मेरी
बटन को मानना भी है मेरी कुछ ऐसी बातें जो
मुझे तुमसे कहना उतना ही जरूरी है और
तुम्हारे पूछे गए कुछ प्रश्न मुझे सदैव

उत्तर देना भी जरूरी है दोनों बातें जरूर
मेरे बच्चे यह बात सच है की तुम जो मां
में सोचते हो वही बात बोलते हो उन्हें बटन

का जवाब आज मैं तुम्हें दूंगी मैं जानती
हूं की तुम क्या चाहते हो तुम्हारे कुछ
गुना के करण
करती हूं तुम्हारा स्वभाव हर व्यक्ति से

अलग
लगभग स्वभाव तुम्हें सबसे भिन्न बनाता है
और यही करण है की तुम सबसे अलग दिखाई देते
हो तुम्हारे अंदर आध्यात्मिक ज्ञान कू कू
कर भारत हुआ है जो की तुम्हें सबको इज्जत
करने की और सबको माफ कर दे यही गन आपके

जीवन में बदलाव लेकर आएंगे क्योंकि
तुम्हारे ऊपर मेरी विशेष कृपा बरसाने लगता
हैं तुम ध्यान रखना आदतों के पीछे ही तो
मैं तुम्हें सब कुछ दूंगी और ना ही
तुम्हें कुछ मांगने की जरूर है और ना ही
तुम्हें कुछ खाने की आवश्यकता है लेकिन जब

तुम कोई भी प्रश्न मुझे पूछते हो और मुझे
प्रार्थना करते हो उसे समय तुम्हें ऐसा
आभास होता है की तुम्हारे पूछे गए प्रश्न
का उत्तर क्या तुम्हें मिल रहा है छोटे

बच्चे उसे प्रश्न का उत्तर मैं तुम्हें इस
समय देती हूं प्रकृति में विद्यमान एक
एनर्जी अर्थात एक ऐसी ऊर्जा जो तुम्हारे
निकट है जो तुम्हारे हर प्रश्न का उत्तर

देती और वह ऊर्जा तुम्हारे हृदय के अंदर
विद्यमान रहती है जो तुम्हें हर बात का
इशारा देती है लेकिन तुम सच अपने कानों से
उसे ना तो सुनने की कोशिश करते हो और ना

ही तुम समझना की बस तुम मेरे मुंह से
सुनने के लिए रता लगाते रहते हो हृदय की
आवाज को सुनने की कोशिश ही नहीं करते जो
तुम्हारे हृदय के अंदर से तुम्हें हर बात
का उत्तर देती है तुम्हारी मनोकामना को
पूर्ण कर दूंगी

Leave a Comment