देवता का आगमन तुम्हारे घर होगा तुम्हारी जीत के लिए

मेरे प्रिय बच्चे ईश्वर के घर में देर हो
सकती है किंतु अंधेर नहीं अर्थात ईश्वर के
निर्णय में समय लग सकता है लेकिन उनके
द्वारा अन्याय नहीं हो सकता है तुम्हारा
हृदय में उठ रही व्याकुल तरंगे हर समय
परमात्मा को ही स्पर्श करती हैं जब तुम
इसे सुन रहे हो तो तुम्हें देखा जा रहा है

क्योंकि तुम तक यह संदेश पहुंचाना ही मेरा
उद्देश्य है मेरे प्रिय मैं चाहता हूं कि
तुम्हारे जीवन की समस्याएं खत्म हो जाए
जिस प्रकार तुम दुख के साथी बने हो इस
प्रकार से अब तुम सुख के साथी बनो तुम

अपने जीवन में एक के बाद एक चमत्कारों और
आशीर्वाद से भरे अद्भुत समय में कदम रखने
वाले हो इसलिए संदेश को पूरा सुनना इस बीच
में छोड़ने की भूल ना करना और इसे यह
साबित होगा कि तुम्हारा ईश्वर में पूर्ण

विश्वास है मेरे प्रिय आने वाला अगला दो
से तीन दिन तुम्हारे लिए बहुत सारे
खूबसूरत पल और ऐसी खुशियां लेकर आएगा जैसा
तुमने पहले कभी अनुभव ही नहीं किया होगा
तुम ऊर्जा से भरे हुए लोगों से मिलने की

खुशी को प्राप्त करने वाले हो इन दिनों
तुम्हारा मन थोड़ा सा चिंतित हो सकता है
या व्याकुल होगा या फिर तुम आसपास लोगों
को विभक्ति में फंसा हुआ देख सकते हो

लेकिन मैं तुम्हें यह बता देना चाहता हूं
कि इससे तुम्हें भयभीत होने की आवश्यकता
नहीं है ब्रह्मांड में ग्रहों की स्थिति
और आने वाले ग्रहण के कारण ऐसा होना
स्वाभाविक है क्योंकि यह तुम्हारे जीवन
में ऊर्जा को परिवर्तित करने के लिए हो
रहा है डॉट यह समय तुम्हारे लिए बहुत
महत्त्वपूर्ण सिद्ध होने वाला है क्योंकि

अब जो होगा उसे तुम जीवन भर स्मरण रखोगे
तुम्हारी समस्याएं सफल ता में कैसे
परिवर्तित हो जाएगी इसकी तुम कल्पना भी
नहीं कर सकते बस इस समय अवधि में तुम्हें
दूसरों का हित ज्यादा से ज्यादा सोचना
होगा जो तुम वैसे भी सोचते हो तुम्हारे
जीवन में प्रसन्नता एक नया रूप धारण करके
प्रवेश करने वाली जगह से प्राप्त होंगे

जहां से तुम्हें कोई उम्मीद नहीं होगी जब
तुम्हें लगेगा कि तुम पूरी तरह से हार
चुके हो इस वक्त तुम्हारी जीत हो जाएगी
यह तुम्हारी धैर्य की की परीक्षा थी
जिसमें तुम उत्तीर्ण हो चुके हो कुछ
घटनाओं के घटित होने में देर लगती है
जिसके कारण मनुष्य समझ लेता है कि

परमात्मा से अनदेखा कर रहे हैं वह जिस
ईश्वर पर विश्वास करता है सर ऊपर करते हुए
एस्ट्रो धारा बहने लगता है वह अपने आप को
जन्म देने वाले जन्मदाता से भी कहता है वह
कहता है कि क्या आप जन्म देकर मुझे दुख
में ही धकेलना चाहते हैं मेरे प्रिय स्मरण
रखो जो मैंने निर्मित किया है मैं उसे
टूटे हुए नहीं देख सकता क्या कोई पिता

अपनी संतान को दुख में देखकर प्रसन्न हो
सकता है तो सोचो कि तुम्हारा मुझ पर
दोषारोपण करना की कितनी पीड़ा देता होगा
मेरे प्रिय बच्चे तुम अमूल्य हो मनमो
इसीलिए मैंने तुम्हारा चयन किया है एक
बड़े उद्देश्य के लिए मैं मैंने तुम्हारा
चयन किया है विजेता बनने के लिए विपत्ति
तो सभी के जीवन का एक मूल अंग है लेकिन जो

विपत्ति में आकर भटक जाता है बिखर जाता है
उसका कोई साथ नहीं दे सकता और जो संकट
पड़ने पर भी ईश्वर से प्रेम करना नहीं
छोड़ना वही तो परमात्मा को प्रिय होता है
मेरे प्रिय तुम हारते क्यों हो तुम थक
क्यों रहे हो मैं तुम्हारे लिए इतना
सुनहरा भविष्य तय किया है कि यदि आज

तुम्हें उसका आभास हो जाए तो तुम जीवन भर
मेरा ही गुणगान करते
फिरो वास्तव में तुम विजय के हकदार हो और
यह विजय तुम्हें मिलकर रहेगी कोई तुम पर
ऐसा दोष नहीं मार सकता जो तुम सोचते हो
जैसा तुम विचार करते हो मेरे प्रिय तुम अब
उसका कार्य की नीव रखने वाले हो जो

तुम्हारे जन्म के उद्देश्य को पूरा करेगा
तुम्हारी सफलता बहुत बड़ी होने वाली है
लेकिन तुम्हें भी ध्यान रखना है कि उस
सफलता को तुम्हें अपने मन मस्तिष्क पर
हावी नहीं होने देना है यह परीक्षाएं
तुम्हारे जीवन में इसीलिए ली जा रही हैं

क्योंकि अभी तुम्हारे मन से मैं की भावना
पूर्ण रूप से निकल नहीं पाई है जिस दिन
तुम्हारे मन से मैं की भावना उतर जाएगी उस
पल ही सफलता तुम्हारे कदमों में आ गिरेगी
तुम सफलता की सहायक श्रृंखला का एक बहुत
ही महत्त्वपूर्ण हिस्सा हो मेरे प्रिय तुम
जीतने वाले हो और तुम जीतने के लिए ही बने
हो इसलिए तुम्हें जरा भी डरना नहीं चाहिए
बल्कि अपने आप को बेहतर करने पर अपना पूरा

जोर लगाओ मेरे प्रिय स्मरण रखो जब तुम
अपने मित्रों पर परिवार पर साथी पर क्रोध
करते हो वह तुम्हारे अहम को प्रबल बनता है
मैं की भावना को प्रबल बनता है तुम्हारा
दिल साफ है तुम्हारी भावना निर्मल है
बावजूद उसके तुम्हारा एक दोस्त तुम्हें

सफल होने से रोक रहा है मैं चाहता हूं कि
जल्द से जल्द सफलता तुम्हारे कदमों में आ
जाए लेकिन तुम्हें जल्द से जल्द अपने अहम
को त्यागना होगा तुम्हें अपने भीतर से मैं
की भावना को जल्द से जल्द छोड़ना होगा
मेरे प्रिय बच्चे तुम अपने भीतर बहुत
कमियां ढूंढते हो तुम्हें यह भावना त्याग

होगी संसार में हर कोई अपने मन के आधार पर
सर्वश्रेष्ठ बनना चाहता है जबकि वास्तव
में सर्वश्रेष्ठ की कोई परिभाषा ही नहीं
होती जो निर्मित है वही सर्वश्रेष्ठ है और
बेहतर करने की लालसा बेहतर है किंतु जब यह
तुलनात्मक रूप ले लेती है तो यह घातक हो
जाती है तुम्हें इसे समझना होगा दूसरों से
अपनी तुलना को त्यागना होगा

तुम जिसकी तुलना करना चाहते हो वह भी
बेहतर नहीं है बस तुम्हें वह बेहतर प्रतीत
होता है मनुष्य को सदैव दूसरे हिस्से की
घास ज्यादा हरी मालूम पड़ती है वह जहां
खड़ा है वह उतनी हरी मालूम नहीं पड़ती दूर
के ढोल सदैव सुनहरे लगते हैं मेरे प्रिय
दूसरों से अपनी तुलना को त्याग दो तुम

सर्वश्रेष्ठ हो तुम सर्व शक्तिमान बनने के
योग्य हो तुम्हारी जीत सुनिश्चित है तुम
अपने मन से भय काम और क्रोध को निकलना
होगा कभी-कभी लाभ के वशीभूत होकर तुम जो
गलतियां कर बैठते हो तुम उसे त्यागना और
समझना रहता है तुम्हें बस इस जीवन को
सुचारू रूप से जीना होगा बिना डरे बिना
घबराए और जब तुम ऐसा जीवन जियो तो

तुम्हारी सफलता कोई रोक नहीं सकता और मैं
तुम्हारे जीवन में इतनी सफलता भर दू कि वह
सभी लोग जिन्हें लगता था कि तुम कभी कुछ
हासिल नहीं कर पाओगे तुम्हारे कदमों में
आगे करेंगे और तुम्हारी प्रशंसा करते नहीं
थक मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है
याद रखो तुम्हारी सफलता इतनी बड़ी होगी कि
लोग उसके सामने छोटे हो

जाएंगे मैं फिर आऊंगा तुम्हारा मार्गदर्शन
करने तुम्हें आशीर्वाद देने सदा सुखी रहो
तुम्हारा कल्याण होगा तुम्हारी प्रगति
होगी

Leave a Comment