देश में CAA- नागरिकता संशोधन कानून लागू हुआ, जानिए आप पर क्या पड़ेगा असर?

सीएए यानी सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट यह

इसका फुल फॉर्म है हिंदी में इसे कहते हैं

नागरिकता संशोधन कानून आखिरकार दोस्तों

काफी विरोध के बीच देश में सीएए कानून

लागू हो चुका है सरकार ने इसका नोटिफिकेशन

भी जारी कर दिया है और इस कानून के लागू

होने के बाद गैर मुस्लिम पाकिस्तानी

बांगला और अफगान शरणार्थियों को नागरिकता

मिलेगी भले ही दिखने में आपको ऐसा लग रहा

होगा कि सरकार द्वारा लागू किया गया यह

कानून तो लोगों के लिए फायदेमंद है लोगों

की भलाई के लिए लागू किया है राइट लेकिन

लेकिन लेकिन आखिरकार फिर इस कानून का

विरोध क्यों हो रहा है के मुस्लिम भाई लोग

सरकार के द्वारा लागू किए जा रहे इस सीएए

कानून को लेकर विरोध क्यों जता रहे हैं

आपको बताऊंगा गृहमंत्री अमित शाह ने भी

हाल ही में कई बार यह कहा था कि यह कानून

तो लोकसभा चुनाव से पहले लागू होकर रहेगा

चाहे कोई कुछ भी कर ले तो आखिरकार आज

केंद्र सरकार ने सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट

यानी सीएए का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है

और इस नोटिफिकेशन के साथ ही यह कानून देश

भर में लागू भी हो गया है जैसा कि मैंने

आपको बताया सीएए को हिंदी में नागरिकता

संशोधन कानून कहा जाता है अब यह क्या है

सीएए नागरिकता संशोधन कानून जो सरकार ने

में तैयार तैयार किया यह प्रस्ताव

लेकिन लागू अब हो पाया साल में

आखिरकार इतने सालों बाद सबसे पहले समझिए

दोस्तों यह नागरिकता संशोधन कानून क्या है

और यह कानून लागू होने के बाद क्या-क्या

प्रस्ताव बदल जाएंगे तो भारतीय नागरिकता

कानून में बदलाव के लिए सर्वप्रथम

साल में नागरिकता संशोधन विधेयक

सीएबी संसद में पेश किया गया था उसके बाद

यह लोकसभा में दिसंबर को और अगले

दिन फिर राज्यसभा में पास हुआ फिर

दिसंबर को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के

बाद सीएए कानून बन पाया भारतीय नागरिकता

कानून में अब तक छह बार संशोधन हो

चुके हैं कब-कब जिनके ईयर भी आप देख सकते

हैं पहले भारतीय नागरिकता लेने के लिए

भारत में साल रहना जरूरी होता था लेकिन

ये नए संशोधन कानून में इस अवधि को घटाकर

साल कर दिया गया है यानी आप समझ गए

होंगे अब कोई व्यक्ति साल से अगर भारत

में रह रहा तो उसे भारत की नागरिकता

इंडियन सिटीजनशिप मिल पाएगी यह नागरिकता

संशोधन विधेयक का पूर्वोत्तर राज्यों में

खास करके बांग्लादेशी सीमा से सटे असम

पश्चिम बंगाल में काफी विरोध हुआ था असम

के लोगों का तो तर्क था कि बांग्लादेश से

बड़ी तादाद में आए हिंदुओं को नागरिकता

देने से यहां के मूल निवासियों के अधिकार

खत्म हो जाए जाएंगे और यही मुख्य वजह है

कि इस कानून का विरोध किया जा रहा है

केंद्र सरकार असम में नेशनल सिटीजन

रजिस्टर एनआरसी भी लाई थी जिसका मकसद था

यहां रह रे घुसपैठियों की पहचान करना अब

सरकार ने सीएए को लेकर कई तैयारियां भी

शुरू कर दी हैं जैसे सीएए के ऑनलाइन

पोर्टल को रजिस्ट्रेशन के लिए भी तैयार कर

लिया गया है केंद्रीय गृह मंत्रालय ने

इसका ड्राई रन भी किया सूत्रों के मुताबिक

सीएए इन पड़ोसी देशों के उन शरणार्थियों

की मदद करेगा जिनके पास दस्तावेज नहीं है

मंत्रालय को लंबी अवधि के वीजा के लिए

सबसे ज्यादा आवेदन पाकिस्तान से ही मिले

हैं गृहमंत्री अमित शाह महीने में दो

बार कह चुके थे कि सीएए लोकसभा चुनाव से

पहले लागू किया जाएगा तो आखिरकार उनके कहे

अनुसार लागू हो ही गया यह लागू होने के

बाद देख सकते हैं आप योगी आदित्यनाथ ने भी

ट्वीट करके बताया कि यह ऐतिहासिक निर्णय

है सरकार का हालांकि विपक्ष ने सरकार के

विरोध में भी ट्वीट किए प्रधानमंत्री ने

ट्वीट करके लिखा कि जो कहा सो किया देश भर

में सीएए लागू हुआ तो वहीं विपक्ष का कहना

है कि आखिरी खेल चल रहा है चलने दो अर्जुन

मुंडा बोले कि जो भी देश हित में है वो

किया जाना चाहिए पश्चिम बंगाल की

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बोली कि रूल्स

देख लेने दीजिए गलत हुए तो हम इसका विरोध

भी करेंगे तो दोस्तों जैसे जम्मूकश्मीर से

धारा हटाई गई तीन तलाक को खत्म किया

ठीक ऐसे ही बड़े ऐतिहासिक फैसलों में

शामिल हो चुका है यह मोदी सरकार का नया

फैसला देश भर में सीएए नोटिफिकेशन लागू

हुआ और इससे खास करके तीन देशों के गैर

मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता मिल

पाएगी यह सीएए लागू होने के बाद क्या बड़े

बदलाव लागू होंगे आम आदमी पर इसका क्या

असर पड़ेगा इसकी कुछ बारीकियां मैं आपको

बताता हूं लेकिन इससे पहले देखिए आप सीएए

लागू होने के बाद दिल्ली में सुरक्षा

व्यवस्थाएं भी बढ़ाएगी क्योंकि साल

में भी इस कानून के लागू करने के विरोध

में दंगे हुए थे इस दौरान लोगों की जां

चली गई थी तो आइए दोस्तों आसान भाषा में

समझने की कोशिश करते हैं कि यह सीएए कानून

क्या है और इससे किन लोगों को फायदा होगा

जैसा कि मैंने आपको बताया इस कानून के तहत

पड़ोसी मुस्लिम मुल्क जैसे पाकिस्तान

अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक

उत्पीड़न के शिकार रह रहे छह अल्पसंख्यक

लोगों को नागरिकता मिल पाएगी भारत में

जिसमें हिंदू सिख बौद्ध जैन पारसी और ईसाई

लोग शामिल हैं इस कानून के तहत दिसंबर

को या उससे पहले इन पड़ोसी देशों से

भारत में प्रवेश करने वाले अल्पसंख्यक

लोगों को नागरिकता मिलेगी बाहर से आने

वाले प्रवासियों को साल सालों में फास्ट

ट्रैक भारतीय नागरिकता प्रदान की जाएगी

पहले यह समय साल का था लेकिन इसे साल

घटाकर साल ही कर दिया गया मैंने आपको

बताया अच्छा अब समझिए किन लोगों पर इसका

असर पड़ेगा तो इस कानून की अच्छी बात यह

है दोस्तों कि सीएए लागू होने के बाद भारत

में रह रहे नागरिकों पर कोई असर नहीं

पड़ेगा जो पहले ही भारतीय हैं भारत में ही

रह रहे हैं तो वो नागरिक रह रहे हैं रह

रहे हैं वैसे ही रहेंगे उन पर कोई असर

नहीं पड़ने वाला सिर्फ इन पड़ोसी देशों के

रहने वाले छह अल्पसंख्यक धर्मों के लोगों

को भारत में नागरिकता मिल पाएगी ये सीएए

की टाइमलाइन भी आप देख सकते हैं संसद से

पास होने के बाद महीने बाद यह कानून

लागू हो पाया मैंने आपको तारीखें भी बताई

थी अलग-अलग कि कब-कब यह कानून में

क्या-क्या बदलाव देखने को मिले और वैसे

दोस्तों आपका क्या कहना सरकार के द्वारा

लागू किए गए इस सीएए कानून पर आपकी राय और

विचार मुझे नीचे कमेंट करके जरूर बताइएगा

उम्मीद है सीएए कानून के बारे में यह छोटा

सा न्यूज़ अपडेट महत्त्वपूर्ण जानकारी

आपको जरूर जानने मिली होगी वीडियो को लाइक

और शेयर करना ऐसे इंफॉर्मेशन काम की खबरें

देखते रहने के लिए डीएलएस न्यूज़ चैनल को

सब्सक्राइब करके बेल आइकॉन जरूर दबा

दीजिएगा जय हिंद जय भारत वंदे

मातरम

Leave a Comment