प्रो. ऋतु के मामले में Modi शाह को सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार देखिये क्या हुआ कोर्ट में

और बीजेपी अमित शाह साहब दिल्ली पुलिस के
भ्रष्ट अधिकारियों को और वाइस चांसलर
रजिस्ट्रार प्रॉक्टर और चार दिल्ली
यूनिवर्सिटी के प्रिंसिपल्स को जिसमें
हंसराज रोमल हिंदू और दौलतराम ऑफ कोर्स
मिरांडा ये शामिल है उनको मुह की नी पड़ी
और

को दिल्ली यूनिवर्सिटी में डॉक्ट रतो सिंह
का प्रोटेस्ट चल रहा था उसको रुकवाने के
लिए दिल्ली यूनिवर्सिटी वाले हाई कोर्ट
में आए थे तो आज क्या कोर्ट में सुनवाई
हुई क्या उसके बारे में आप थोड़ा बताए सर
देख दिल्ली यूनिवर्सिटी में जो पिछले अब
करीब 180 दिन से पसु प्रोटेस्ट चल रहा है
संविधानिक रूप से
और पूरी तरीके से शांतिपूर्ण ढंग से जबक
आरएसएस के गुंदे पुलिस के भ्रष्ट

अधिकारियों के साथ मिलके उनके ऊपर हमले कर
रहे थे उनको एसिड फेंक रहे थे एक जो साथी
है के और हमारे आशुतोष उसके ऊपर एसिड अटैक
किया से मारने की कोशिश की और उसके अलावा
भी डेली गुंडे मवाली भेजकर डॉक्ट के पर और
उनके साथियों के बैठते थे व प प्र के लिए

नौकरी नहीं न्याय ने के लिए नय
ड सभी लोगों के लिए न्याय मांगने के लिए
छात्रों के लिए यूनिवर्सिटी के टीचर के
लिए
जिनको जबरदस्ती गैर कानूनी तरीके से
भ्रष्टाचार के निकाला जा रहा तो सभी तरीके
के ह
आरएसएस और बीजेपी ने और सारे के सारे अमित
शाह साहब ने और बड़े बड़े अधिकारियों ने

पुलिस के जो भ्रष्टाचारी जो आदेश उनको ऊपर
से आते थे नागपुर से मोहन भागवत जी की तरफ
से या अमित शाह जी की तरफ से उसके बावजूद
भी इतनी चोटे खाकर भी जब यह आंदोलन नहीं
रुका वो लोग मारते रहते थे और इस

प्रोटेस्ट पिटते रहते थे लेकिन अपनी जगह
से हिल नहीं रते हम संधान बे कि हालत में
संविधान और देश बचाएंगे तो थक हार के

उन्होंने एक साजिश और की ये मेरे ख्याल से
प्लान जो बना होगा नागपुर में बना होगा
क्योंकि एक इतनी बड़ी लॉयर को पेश किया
दिल्ली यूनिवर्सिटी ने जो बहुत ही बड़ी
लॉयर है देश की और पूरी एक टीम ल्ली

यूनिवर्सिटी के जो स्टैंडिंग काउंसिल है
और एक बहुत बड़ी टीम लेके आज उन्होंने इस
मकसद से हाई कोर्ट में केस डाला था के
पुलिस के जो भ्रष्ट अधिकारी हैं वो ऑलरेडी

चाहते थे कोर्ट से के शूटेड साइड का ऑर्डर
कोल कर
देगा और ड्रोन के जरिए आंसू गैस छोड़ने का
जो है आर्डर सुय हाई कोर्ट कर देगा इनको
इस मकसद से उन्होने य केस डाला तो बड़ी

खुशी की बात है कि आज यहां पर ड्रोन से
हमले कराने की साजिश जो दिल्ली
यूनिवर्सिटी की भ्रष्ट डॉक्टर है वाइस
चांसलर है और वा जो तीन चार प्रिंसिपल्स
है दौलतराम कॉलेज की तो है ही वो तो एक

एब्लिश क्रिमिनल है उनके खिलाफ ई है फरी
और फ्रॉड करने की इसके अलावा हिंदू कॉलेज
उसके
अलावा दौलतराम कॉलेज दौलतराम हिंदू
करोड़ीमल और ऑफकोर्स
हंसराज कॉलेज के चार प्रिंसिपल ने साजिश
करके आरएसएस के हाईएस्ट लेवल से यह बात
मैं इसलिए अंदाजे से कह रहा हूं कक इतनी

बड़ी वकील आज पेश
हुई जो सीनियर काउंसिल भी है तो उन्होने
सबने बेसिकली यह कहा था कि इनके ऊपर

और हमारे पीस
प्रोटेस्ट तो आज वो ड्रोन से हमला कराने
की साजिश नाकाम हो गई डॉक्ट त के पीसफुल
प्रोटेस्ट प आज वो डायरेक्ट रबर बुलेट्स
नहीं पैलेट बुलेट्स नहीं डायरेक्ट जो लाइव

बुलेट्स थी वो चलाने की जो साजिश की थी
आरएसएस और अमित शाह साहब ने दिल्ली
यूनिवर्सिटी के भ्रष्ट अधिकारियों के साथ
मिलके वो पूरी तरीके से नाकाम हो गई और
कोर्ट ने बहुत अच्छी टिप्पणियां की असल

में वो कह रहे हैं कि असल में कोर्ट में
ये टिप्पणी की पहले कि ये तो डॉक्टर ऋतु
को हमारे पास आना चाहिए
था ये तुम लोग क्यों आ गए हो इस चीज से तो
डॉक्टर ऋतु एग्री ये टिप्पणी की सबसे पहले
अदालत ने और उसके जवाब में मैंने कहा कि

जना ये माल हम कितने केस करें हमारे
रिसोर्सेस बहुत लिमिटेड है और तो और उसके
बाद पूरी ताकत लगाई ये सीनियर एडवोकेट ने
तरह तरह की बातें की पूरा बताया ये ऐसे
ऐसे बयान देते हैं बाहर से लोग आते हैं

बाहर से लोगों के बारे में बहुत देर तक
इसकी तो जज साहब ने उन्हे संविधान पढ़ के
सुनाया जो हम सब आप सबको पढ़ के सुनाते
हैं कि भारत देश का संविधान जो आर्टिकल 19

है वो यह कहता है कि देश का हर एक कोना
देश का हर एक कोना हर एक नागरिक के लिए
खुला हुआ है और स्टेट जो है यानी कि
गवर्नमेंट जो है जो नौकर है देश की जनता
की वो ये एश्योर करेगी कि किसी को भी कहीं

भी देश के किसी भी हिस्से में जाने में
कोई परेशानी ना हो ऐसी टिप्पणियां जज साहब
ने की और दूसरी बात ये किसान आंदोलन के
लिए बड़ा एक बूस्ट मिलेगा जज साहब ने कहा
कि बाहर से कोई आ रहा है तो उसको आने दो
जज साहब की ओरल ऑब्जर्वेशन थी आज जो बहुत
ही महत्त्वपूर्ण है आज एक बहुत बड़ी

कामयाबी का दिन है तो जितने भी
साथी जो लोग आ रहे हैं तो उनको हम ये
इंफॉर्मेशन देने के लिए लाइव कर रहे हैं
डॉक्टर केई हैंडल से के आज कोर्ट में
आरएसएस और बीजेपी अमित शाह साहब दिल्ली

पुलिस के भ्रष्ट अधिकारियों को और वाइस
चांसलर मस्टर प्रॉक्टर और चार दिल्ली
यूनिवर्सिटी के प्रिंसिपल्स को जिसमें
हंसराज रोमल ू और दौलतराम ऑफकोर्स मिरांडा
ये शामिल है उनको मुह की खानी पड़ी और

कोर्ट ने उन्हे एकदम उनकी कोई भी दलील
मानी नहीं कि पुलिस को सख्त कारवाई करने
के ऑर्डर किए ल आई रिली पे माय हार्टफुल
थैंक आपके सामने जो शख्सियत खड़ी है

एडवोकेट महमूद प्राचार्य ये इनका बड़प्पन
दूसरे को सीनियर और बड़ा वकील कहते हैं और
वाकय में ये खुद जो शख्सियत है इनका जितना
शुक्र अदा करो उतना कम है और मैं ये इसलिए
बताना चाहती हूं कि सच के साथ खड़े होने
वाले की हमेशा जीत होती है और अन्याय के

खिलाफ जो कोर्ट में भी उतनी मजबूती से
लड़ना और जमीन प भी उतनी मजबूती से लड़ना
और कभी भी अंबेडकर साहब का सर नहीं झुकने

देना ये शख्सियत जो है ये इंश्योर करती है
और मैं इसलिए आप सबको ये चीज बताना चाहती
हूं कि आज का जो अंदर का माहौल था लिटरली
वो यही ऑर्डर चाहते थे कि पुलिस को शूट एड
साइड के ऑर्डर दे वो वो बोलती रहेंगी
काउंसिल उनकी कि ऑर्डर दे दे ऑर्डर दे दे
लिख ले वो ये चाह रहे थे इनकी पूरी

स्ट्रैटेजी थी कि हमारे आने वाले अपकमिंग
प्रोटेस्ट में गोली मारने के ऑर्डर अभी
मतलब कम है हमें एक एसेट फेंक के जलाना

गाड़ियों से हमारा पीछा करवाना फिर हमें
बाथरूम तक जाने के लिए रोकना और गंदी गंदी
जाते चे गालियां देनी हमें और ये कहना कि
एफआईआर तो तुम लोगों ने क्या हम पे एफआईआर
नहीं करी है कि हम लोग अपने हक की आवाज भी
ना उठाए और मैं जितने भी लोग इस मीडियम के
माध्यम से देख रहे हैं ऑलवेज रिमेंबर कि
हां ठीक है अगर वो कर रहे हैं वो उनका
तरीका क्या लड़ने का लड़ाई लड़ने का ये
हमारा तरीका है संविधान तरी संविधानिक
तरीके से लड़ाई लड़ने का वो एंटी

कॉन्स्टिट्यूशन लड़ाई लड़ते हैं और
संविधान को आगे रख के लड़ाई लड़ते हैं और

ये जो आज हुआ है इसमें पुलिस पूरी पूरी
शामिल थी ये पुलिस की सर तूज भूज से और
यूनिवर्सिटी की आपसे मिली साजि स्ता कि
आपको पार्टी बनाते हैं और आपको कोर्ट से
ऑर्डर लवाते हैं ये सोचते हैं कि हम
बेवकूफ है हमें इनकी चाल समझ नहीं आईगी और
सर जो आपने कहा कि पांच कॉलेज के
सिगनेचर्स कैन यू बिलीव कि यूनिवर्सिटी
दिल्ली यूनिवर्सिटी कितना बड़ा क्रिमिनल

रोल प्ले कर रही है कि एक क्रिमिनल जो कि
खुद एक्यूज्ड है इसके पे वो भी साइन कर
रही है उसपे कि हमें डिस्टरबेंस हो रही है

मतलब उसकी खुद की हैसियत जेल के अंदर
बैठने की है वो इस लायक भी नहीं है कि वो
प्रिंसिपल की कुर्सी प बैठ सके जस्ट दैट
की तुम उस अपॉर्चुनिटी इस समय सरकार
तुम्हारी है उन लोगों की तुम हो दलाल तो
इसलिए तुम उस कुर्सी पे बैठे हो और मैं
अंत में यही कहूंगी ये जो इन्होने पिटीशन

दी थी बिल्कुल बिल्कुल भारी संख्या में आओ
और जितने लोगों को मैं ये कहूंगी कि तमाम
दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स हमारे
साथ है मौखिक सपोर्ट तो है ही है रिटन
सपोर्ट भी है हम भी अपनी तैयारी करके चलते

हैं और तमाम टीचर्स हमारे साथ है और भारी
से भारी संख्या में मेरे साथी जो बाबा
साहेब को प्यार करते हैं जो न्याय के
खिलाफ लड़ते हैं इनके पर्चे डंडे आंसू गैस
से बिल्कुल नहीं हमें डरना और आज कोर्ट
में ऑर्डर हमारे सपोर्ट में आ चुके है
लेकिन हमें शांति पूर्वक तरीके से बारबार

पाल साहब जैसे कहते हैं कि पीसफुल पटेस्ट
कि अगर पीस करना होता तो बाबा साहेब
कर लेते तो बाबा साहेब से ऊपर तो हम है
नहीं पीसफुल तरीके से हमें आना है और 26

तारीख को मैं आपका इंतजार करूंगी हर कोई
कोने हर हर जगह दुखी अपनी लड़ाई लड़ र है
फार्मर्स अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं वो भी
हमारी लड़ाई है के खिलाफ और ये दो मुहिम

जो हम लेके चल रहे हैं इसमें आपको सपोर्ट
करना 26 तारीख को 11 बजे बढ़ चढ़कर दिल्ली
विश्वविद्यालय पहुंचे और हम इस लड़ाई को
जीतेंगे अन्याय के खिलाफ और इह बताएंगे
आउटसाइडर आप है क्या ये 25 तारीख केएम के

प्रोटेस्ट के लिए दिल्ली पुलिस को एक
तरीके से कोर्ट की वार्निंग है कि कानून
ना तोड़े पुलिस भी कानून ना तोड़े किसी भी
प्रोटेस्ट में पीसफुल प्रोटेस्ट करना जस
साथ में आजय ल टपया की है संविधानिक हक है
ना न के बारे में ना किसानों के बारे में

ना डॉक्टर ऋतु के प्रोटेस्ट में कुछ भी
कानून अपने हाथ में ना ले ऐसी बहुत सारी
ओरल टिप्पणियां आज ज साब ने हाई कोर्ट में
की

 

Leave a Comment