भारत बंद के बीच दिल्ली की सीमाओं पर तगड़ा जाम | Kisan Andolan | Farmers Protest

मांग वही जोश वही एमएसपी से कम कुछ
नहीं दिल्ली नहीं जा पाएंगे तो रेल पर
ब्रेक
लगाएंगे चंडीगढ़ में मुलाकात एमएसपी पर
बनेगी

बात हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर किसानों का
संग्राम जारी है ना तस्वीर बदल रही है ना
ही कोई रास्ता निकल रहा
है पथराव झड़प आंसू गैस के गोले और हर तरफ
मची अफरा तफरी एक तरफ पंजाब की सरहद पर
किसान डटे हैं तो दूसरी तरफ हरियाणा की
सरहद पर पुलिस रोकने के लिए मुस्ताद शंभू

बॉर्डर जंग का मैदान बना हुआ
है किसानों की मांग है कि एमएसपी गारंटी
कानून फौरन लागू करने से कम पर वो नहीं
लौटने वाले किसान मजदूर मोर्चा के इस

आंदोलन में आंसू गैस और रबर बुलेट के
विरोध में भारतीय किसान यूनियन के उरा गुट
ने भी आज आधे दिन का रेल लोको आंदोलन करने
का ऐलान कर दिया है साथ ही संयुक्त किसान
मोर्चा ने 12 बजे से 3 बजे तक टोल प्लाजा
फ्रीज करने का ऐलान किया

है किसान दिल्ली आने पर अड़े हैं तो वहीं
सरकार बातचीत के जरिए हल लने की कोशिश में
लगी हुई है रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
किसानों के आंदोलन के सिलसिले में एक्टिव

हो गए हैं राजनाथ सिंह ने कृषि मंत्री
अर्जुन मुंडा से किसान आंदोलन से जुड़ी
जानकारी ली आज चंडीगढ़ में होने वाली
मीटिंग में केंद्र की तरफ से केंद्रीय
कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा के साथ पियूष
गोयल और नित्यानंद राय मौजूद
रहेंगे समस्या का समाधान
के रास्ते मजबूत हो सकता है उसके अनुसार
पहल
करें बातचीत के माध्यम से समाधान

ढूंढे और उसमें सरकार पूरी तरीके से तत्पर
है प्रतिबद्ध है केंद्र के तीन मंत्री जो
पहले भी आ चुके वही मंत्रियों से हमारी
वार्ता शुरू होगी कौन-कौन मंत्री है य

जानना चाहेंगे क्या आपका अगला पियूष गोयल
जी है और हमारे खेतीबाड़ी मंत्री अर्जुन
मुंडा जी है अ नित्यानंद रय जी है एजेंडा
हमारा वही होगा जो द सूत्री हमने मांगपत्र
दिया है हम आशा तो करते हैं कि केंद्र कोई
अच्छा निर्णय करें इस मोर्चे का सुखद हल

निकले अब सवाल यह है कि आखिर कब तक चलेगा
किसान आंदोलन आखिर कैसे निकलेगा रास्ता
क्योंकि ना तो किसान रुकने को तैयार है और
ना ही सरकार अब तक उन्हें समझाने में
कामयाब हो पाई
है किसान वापसी नहीं जाए

सरकार छेड़खानी मत
करें उनके साथ में वह बैठ का या तो आगे
जाएगा दिल्ली की तरफ वह पंजाब नहीं जाएगा
बगैर बातचीत के समाधान के वापसी जाएगा ही
नहीं किसान अपनी कमाई के लिए बेसिक गारंटी

की मांग कर रहे हैं साथ ही इस लड़ाई को
आखिरी अंजाम तक पहुंचाना चाहते हैं किसान
कह रहे हैं वो सरकार से इस बार अपनी मांगे
मनवा के ही दम लेंगे सरकार से बातचीत के
बीच किसानों से शांति की अपील भी की जा
रही है
देखिए आपको जो चाहिए देश के लिए भला के
लिए किसानों के भला के लिए क्या चाहिए इस
विषय पर चर्चा करें इस विषय पर जो तज्ञ
व्यक्ति है उनसे बात करें उनको आगे

करें किसान आंदोलन के दौरान अराजकता की एक
तस्वीर भी सामने आई शंभू बॉर्डर पर एक
न्यूज़ एजेंसी के पत्रकार और कैमरामैन पर
हमला कर दिया गया किसी तरह से मौके पर
मौजूद दूसरे मीडिया कर्मियों और किसान

नेताओं ने दोनों को भीड़ के चंगुल से
निकाला घटना में पत्रकार और कैमरामैन को
गंभीर चोटें आई हैं और दोनों को अस्पताल
में भर्ती कराया गया

है टीम न्यूज
[संगीत]
नेशन और चलिए आगे बढ़ते हुए जो स्थिति है
ग्राउंड जीरो पर उसी को जानने के लिए सीधा
चलते हैं ग्राउंड जीरो से हमारे तीन
सहयोगी हमारे साथ जुड़े सिंघु बॉर्डर से
राहुल डबा सिंघ बॉर्डर से ही सैयद आमिर और
साथ ही साथ टिकरी बॉर्डर से हरीश झा हमारे
साथ जुड़े हैं सबसे पहले राहुल आप ही के
पास आते हुए बेहद महत्त्वपूर्ण ये दिन है
क्योंकि एक तरफ आज वार्ता जरूर होनी है
लेकिन आज किसानों की तरफ से रेल रोकने की
बात कही जा रही है किसानों की तरफ से जो
टोल फ्री करने की बात कही जा रही है उसको

लेकर क्या तस्वीर वहां से सामने आ रही
है देखिए किसान अगर शंभू बॉर्डर क्रॉस
नहीं कर पाते हैं तो उनके पास दूसरी
रणनीति है है कि पंजाब को किस हद तक आप
काट सकते हैं और उसके लिए ही रेल रोको
आंदोलन की बात कही जा रही है यह कहा जा
रहा है कि जितने टोल प्लाजा है उन्हें

मुक्त कर दिया जाएगा नित्यानंद राय इस
बैठक में शामिल होंगे पियूष गोयल शामिल
होंगे यानी वाणिज्य मंत्री भी है जो पहले
रेल मंत्री भी रह चुके हैं नित्यानंद जो
एम ओएस होम है यानी गृह मंत्री और गृह
मंत्रालय की ही जो पैरामिलिट्री फोर्सेस
है वो लगातार काम कर रही है और उसके अलावा

कृषि मंत्री तो है ही अर्जुन मुंडा तो है
ही ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि आज की
बैठक से कोई हल निकल सकता है चाहे वो
संयुक्त कमेटी का गठन हो जिसमें मंत्री भी
हो जिसमें किसानों के प्रतिनिधि भी हो तो
वह नजर आ सकता है इस वक्त में सिंघु
बॉर्डर प मौजूद हूं और आज से ही सीबीएससी
के बोर्ड एग्जाम भी शुरू है तो दिल्ली

एनसीआर वालों को अच्छी खासी जाम की
परेशानी का सामना कर सकता है मैं इस वक्त
एक रोड रोलर के ऊपर ही मौजूद हूं और मैं
चाहूंगा कि मेरे कैमरा सहयोगी दिखाएं कि
किस तरीके से जो फिलहाल हालात हैं वह
हालात आपको बॉर्डर के नजर आ जाते हैं
बॉर्डर में फिलहाल जो चहल कर्मिया है वो
बढ़ती हुई नजर आ रही है लेकिन लेकिन बहुत

तेजी से एक बार तस्वीरें बदलिए और आपको
दिखाएंगे कि इस बार बीते 24 घंटे में क्या
चीजें चेंज की गई है क्योंकि कल हमने
दिखाया था एल रोड और आज क्योंकि जो किसान

शंभू बॉर्डर पे हैं उनके पास घोड़े भी है
तो अगर घोड़े सिंघु बॉर्डर तक पहुंच जाते
हैं तो उनसे रोकने के लिए क्या तैयारिया
है वो एक्सक्लूसिव तौर पे न्यूज़ नेशन पे
वो कंटेनर्स

दिखाइए और इन कंटेनर्स के अंदर ऐसे केमिकल
मौजूद है जो केमिकल अगर रोड पे गिरा दिए
जाएंगे तो जो घोड़ों के टॉप हैं वो रुक
जाएंगे तो यानी घोड़ों को रोक ने के लिए
भी जो तैयारी है साफ तौर पर वह दिल्ली
पुलिस ने कर ली है पैरामिलिट्री फोर्सेस
ने कर ली है क्योंकि यहां दिखाइए कि जो यह

टॉप है इस पर अगर घोड़ों के पैर आएंगे तो
उनके पंजे यहीं के यहीं रुक जाएंगे और ऐसे
बहुत सारे कंटेनर है जो एक साथ उडेल करके
रोकने की कोशिश की जाएगी तो हर दिन कुछ
नया इनपुट नजर आता है पैरामिलिट्री
फोर्सेस की तरफ से सुरक्षा एजेंसियों की
तरफ से चाहे वो शंभू बॉर्डर हो या फिर
सिंघु बॉर्डर बिल्कुल रहिए राहुल आप हमारे
साथ सैयद आमिर भी लगातार हमारे साथ जुड़े
हुए हैं आमिर जहां से आप मौजूद हैं वहां
से क्या तस्वीर सामने आ रही है और देखिए

राहुल ने बहुत महत्त्वपूर्ण बात यह कही
सीबीएससी के एग्जाम आज से शुरू होने वाले
हैं ऐसे में दिक्कतें किस तरह से आम लोगों

आज देखिए दिक्कतें तो तब से जब से लगातार
यहां पर प्रदर्शन होता रहा है क्योंकि आप
देखिए यहां जहां पर शंभू बॉर्डर है वहां
से लगातार जो है टकराव की तस्वीरें सामने
आ रही है तो वहां पर सख्ती भी तेज की जा

पड़ता हुआ दिखाई दे रहा है सिंगु बॉर्डर
पे आपको दिखाएं कि एक रास्ता है सिर्फ आप
समझिए इस रास्ते से लोग आते जाते हैं
सिर्फ और यह बहुत पतला सा रास्ता है यहां

पर बोर्ड एग्जाम अगर शुरू हुए हैं तो
जाहिर तौर पर लोग बच्चों को स्कूल जाना
होगा और स्कूल जाने के लिए बसेस हैं तमाम
तरह के ट्रांसपोर्ट सिस्टम होते हैं लेकिन
कोई भी रास्ता अब छोड़ा नहीं गया है यहां
पे कि पूरी तरीके से इसको ब्लॉक कर दिया

गया यानी उस पार अगर कोई अस्पताल है या उस
पार कोई अगर स्कूल है तो वहां पर ब बच्चों
को जाने में कितनी बड़ी परेशानी हो सकती
है यह इससे समझा जा सकता है दूसरी तस्वीर
आपको दिखाता हूं दूसरी तस्वीर अगर आप

देखेंगे तो आप चौक जाएंगे खास तौर पे आपको
दिखाएं कि यह पूरा का पूरा ब्लॉक है खास
तौर पे यह जो लाइफ लाइन कही जाती है हाईवे
जो ये लाइफलाइन 44 है ये आप देखिए पूरी
तरीके से सील हो चुका है यहां पर निकलने
की भी जरा सी जगह नहीं है तीसरी तस्वीर
मैं आपको दिखाता हूं तीसरी तस्वीर देखिए

जहां पर आप ये गलियां देख रहे हैं इन
गलियों के अंदर नीव खोद दी गई है बड़े
बड़े गड्ढे खोद दिए गए हैं ताकि इन गलियों
से भी किसान जो है अगर आते हैं यहां पे तो
ना निकल सके लेकिन इससे लोगों को परेशानी
का सामना करना पड़ रहा है जो लोग स्थानीय
लोग हैं यहां पे जो काम करते हैं जो यहां
पर पढ़ाई करते हैं बच्चे स्कूल जाते हैं
या एग्जाम देने जाते हैं उनको परेशानियों

का सामना करना पड़ रहा है लोग सुबह-सुबह
यहां से फांद करके निकलते हैं और दूर करीब
दोती किलोमीटर तक जाते हैं सुरक्षा बल
यहां पे तैनात किए गए आप वहां पर तस्वीरें
देखिए कुछ लोग लोकल लोग हैं जो यहां पर
पार करके आ रहे हैं मजबूरी है उनकी
क्योंकि पूरे रास्ते पर बंद है कोई साइकिल
नहीं ले जा सकता कोई मोटरसाइकिल नहीं ले
जा सकता कोई कार नहीं ले जा सकता इस तरह
के हालात जो हैं वो सिंघु बॉर्डर पर हो

चुके हैं फिलहाल किसान मोर्चा की बैठक आज
जरूर है बैठक जरूर और उम्मीद यही की जा
रही है कि कहीं ना कहीं शायद कुछ रास्ता
निकले रही हमारे साथ हरीश जा भी टिकरी
बॉर्डर से हमारे साथ जुड़ गए हैं हरीश
क्या तस्वीरें टिकरी बॉर्डर से सामने आ
रही है क्योंकि जिस तरह की तस्वीर बाकी
बॉर्डर एरिया से आ रही है वह डराने वाली

है हालांकि तैयारी पूरी मुकम्मल कर ली गई
है टिकरी बॉर्डर पर क्या स्थिति
देखिए टिकरी बॉर्डर की भी अगर हम बात करें
तो कमोवेश वही हालात हैं जो हम पिछले कई
दिनों से हालात बाकी बॉर्डर्स पर देख रहे
हैं कि पूरी तरीके से बॉर्डर जो है वो सील

है और रास्ता जो है पूरी तरीके से बंद कर
दिया गया इसके अलावा अगर हम बात करें केवल
पैदल यात्रियों के लिए ये रास्ता जो है
खोला गया क्योंकि आसपास दिल्ली से ये
हरियाणा का जो ये पूरा रास्ता लगता है

यानी कि झज्जर जो ये पूरा जिला है इसमें
लोग बहुत काम करते हैं और बहादुरगढ़ जो है
वो पूरी एक इंडस्ट्रियल एरिया है और इसलिए
दिल्ली से बहादुर का ट्रेवल करना बहुत
लोगों का होता है ऐसे में लोगों को खासा
दिक्कत होती है कि लोग कैसे ट्रैवल करें
क्योंकि रास्ता पूरी तरीके से ब्लॉक है और
ऐसे में आज सबसे बड़ी बात यह है कि आज
बोर्ड एग्जाम भी होना है और बोर्ड एग्जाम

के लिए 10 बजे तक सेंटर्स प पहुंचना है
स्टूडेंट्स को तो ऐसे में स्टूडेंट्स के
लिए बहुत बड़ी दिक्कत होने वाली है तमाम
है हरीश और देखिए तमाम तस्वीरें जो आप लोग

दिखा रहे हैं वो इस बात की तस्दीक कर रही
है वहीं सिंघु बॉर्डर पर उपद्रव से निपटने
की स्थिति में दिल्ली पुलिस ने विशेष
तैयारी की दिल्ली पुलिस ने एक खास तरीके
से केमिकल मंगवाया है क्या है यह खास
केमिकल कैसे प्रदर्शन कार्यों के लिए बन
जाएगा नकेल देखिए यह
रिपोर्ट आंदोलन का हल निकालने के लिए
मंत्री समूह चंडीगढ़ में किसान
प्रतिनिधियों से बैठक करेगा जिसमें कृषि
मंत्री के साथ वाणिज्य मंत्री और गृह

राज्य मंत्री भी शामिल होंगे लेकिन फिलहाल
शंभू बॉर्डर पर जहां टकराव है तो सिंघु
बॉर्डर पर तैयारियां नजर आ रही है इस
बॉर्डर को पूरी तरीके से सील कर दिया गया
है आगे एल रोड से लेकर की जो तमाम चीजें
हैं वह भी नजर आती है और पूरी तरीके से

मैं चाहूंगा कि मेरे कैमरा सहयोगी दिखाएं
कि बैरिकेडिंग कर रखी है और आगे किसी को
भी जाने की इजाजत नहीं है तो यह स्थिति है
जो फिलहाल
हमें सिंघु बॉर्डर पर लगातार नजर आ रही है
कल हमने आपको एरोड दिखाई थी और अब हम आपको
दिखाएंगे वापस की तरफ आइए कि कहा आज हम
आपको दिखाएंगे कि 24 घंटे में क्या कुछ और

परिवर्तन किया गया है क्योंकि सिंघु
बॉर्डर पर कई बार ऐसा हुआ कि टकराव के
दौरान किसानों के पास घोड़े थे और घोड़ों

के जरिए वह आगे आने की कोशिश कर रहे थे तो
उससे सबक लेते हुए क्या कुछ है जो दिल्ली
सोनीपथ बॉर्डर पर एन 44 पर नजर आता है तो
वो है एक विशेष किस्म का केमिकल जो पहले
मौजूद नहीं था अब यहां पर लेकर आया गया है
न्यूज़ नेशन आपको हर वो चीज दिखाता है जो
इस तैयारी को लेकर के यूनिक है जो पहले
नजर नहीं आती तो मैं चाहूंगा कि सीधा
तस्वीरों की तरफ चलिए और यह वो आपको
कंटेनर्स नजर आएंगे यह वो ड्रम नजर आएंगे

जिसमें इस तरह का केमिकल भरा हुआ है जो
केमिकल अगर घोड़ों की टॉप पे लग जाएगा
घोड़ों के पैरों पे लग जाएगा तो वो आगे
नहीं बढ़ पाएंगे जो थोड़ा बहुत रिसाव हुआ
है उसके जरिए आप समझने की कोशिश कीजिए कि
यह ऐसा है कि अगर मैं यहां पर पैर रखूंगा

तो मेरा पैर काफी हद तक जम जाएगा वह सूखने
के बाद निकल नहीं पाएगा और यही स्थिति
घोड़ों की टॉप को लेकर भी है तो यह है वह
केमिकल जिस केमिकल के जरिए दिल्ली पुलिस
की कोशिश है कि अगर घोड़ों के जरिए भी
किसान आने की कोशिश करें तो उन्हें भी
दिल्ली की सरहद में नहीं घुसने दिया जाए
क्याम सहयोगी सुमेंद्र के साथ राहुल डबास
न्यूज़ नेशन सिंघु
बॉर्डर चलिए आगे बढ़ते हैं और शंभू बॉर्डर
से हमारे संवाददाता विशाल ठाकुर हमारे साथ
सीधे जुड़े ग्राउंड जीरो से विशाल शंभू
बॉर्डर पर क्या स्थिति देखने को मिल रही
है क्योंकि कि पिछले दिनों जो है वो
केंद्र शंभू बॉर्डर ही रहा यहीं पर स्थिति
सबसे ज्यादा खराब थी क्या सबक लिया गया

किस तरह की स्थिति फिलहाल वहां
पर देखिए बिल्कुल आज जो किसान आंदोलन है
शंभू बॉर्डर पर तीसरे दिन पहुंच गया है और
लगातार किसान जो हैं वो पहुंच रहे हैं अगर

मैं आपको तस्वीरें अपने पीछे दिखाऊं देखिए
कल की तस्वीर थी जो ट्रैक्टर यहां पर थे
वो सिर्फ दो लेयर में थे और आज चार लेयर्स
में जो है वो ट्रैक्टर है और ये जो शंभू
बॉर्डर है उससे 5 से 6 किलोमीटर तक जो है
वह लंबी लाइनें यहां पर लगी हुई है यानी
कि जो आंदोलनकारी हैं वह लगातार यहां पर
इकट्ठे हो रहे हैं और जो किसान है व
लगातार जो है अपने ट्रैक्टर्स और टोलियां
जो लेकर जो है वो शंभू बॉर्डर पहुंच रहे
हैं और दूसरी बात यह है कि आज चंडीगढ़ में
अ मीटिंग होने जा रही है केंद्रीय मंत्री

होंगे किसान वहां पर बैठेंगे तीसरे दौर की
ये बातचीत है और किसानों का साफतौर पर
कहना है कि हम देखेंगे कि किस तरह का
प्रस्ताव जो है वो सेंट्रल गवर्नमेंट देती
है अगर ठीक है बिलकुल प्रस्ताव देखना होगा

किस तरह से आता है और क्या बातचीत जो है
वह कुछ निष्कर्ष में तब्दील होगी बहुत
शुक्रिया आपका इन तमाम जानकारियों के लिए
देखिए किसानों ने दिल्ली बॉर्डर पर डेरा
डाल रखा है दो दिन शंभू बॉर्डर पर भयंकर
झड़प हुई लेकिन इससे सबक लेते हुए
रातों-रात सुरक्षा इंतजाम चाक चौबंद कर
दिए गए दिल्ली के हर बॉर्डर पर कई लेयर की
सुरक्षा व्यवस्था कर दी गई देखिए एक
रिपोर्ट यह किसान आंदोलन 2.0 है ऐसी
तैयारी ऐसी किलेबंदी इससे पहले के आंदोलन
में नहीं देखी

गई श्रृंखला बद तरीके से जो जंजीर है उससे
तालों को लगाया गया
है तो यहां पर वेल्डिंग का काम किया जा
रहा है जो बैरिकेड है उनको आपस में वेल्ड
किया जा रहा

है तमाम जो नुकीली कील है उनकी एक प्लेट
तैयार की गई
[संगीत]
है एक दो तीन चार पा यहां पर यह ब्रेकर है
जिनको पूरी सड़क पर बिछा दिया
जाएगा तो यह नुकीले ब्रेकर उनके टायरों को
भट कर
[संगीत]
देंगे बकेटिंग है सीमेंटेड ब्लॉक्स की
उसमें कंक्रीट बिछा दी गई है ताकि वो इतने
मजबूत हो जाए कि यहां से निकलना ट्रैक्टर
ट्रलियो के लिए संभव नहीं हो
पाए किसानों का आंदोलन उग्र ना इसके लिए
कुछ ऐसी है सुरक्षा एजेंसियों की तैयारी
जवानों की अनगिनत कंपनी खास बैरिकेड
सीमेंट के ब्लॉक्स कील वाले ब्रेकर
किसानों को रोकने के लिए यह तैनाती
बड़ी मंगलवार को शंभू बॉर्डर पर किसानों
ने जो बवाल की उससे सबक लेते हुए अब ऐसे
पुख्ता इंतजाम कर दिए गए
कोई परिंदा भी पर ना मार
[प्रशंसा]
सके दिल्ली के हर एक बॉर्डर पर न्यूज नेशन
की टीम ने सुरक्षा इंतजामों का जायजा
लिया सबसे पहले आपको लेकर चलते हैं सिंघो
बॉर्डर देखिए यहां कितने लेयर की
सिक्योरिटी बनाई गई
है एक तो जितने भी कंटेनर है उन कंटेनर
में अब मिट्टी भर दी गई है बालू भर दिया
गया है ताकि वह इतने भारी हो जाए कि
उन्हें हिलाना उन्हें एक जगह से डगमगाना
मुश्किल हो सके क्योंकि कल शंभू बॉर्डर पर
इनके ऊपर चोट मारते हुए नजर आए थे किसानों
के ट्रक्टर
टोलियां दिल्ली के हर एक बॉर्डर पर
व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है मल्टीपल
लेयर सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं लेकिन
शंभू बॉर्डर पर हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद
रातों रात इस सुरक्षा को कई गुना बढ़ा
दिया
गया जो कंटेनर्स की कतार है वह एक नहीं है
बल्कि बहुत सार सार कंटेनर्स की कतार है
और इस कंटेनर्स की कता कतार के बाद जो है
वह है पैरामिलिट्री फोर्सेस यहां आरएफ के
जवानों को आप देख सकते हैं और आरएफ के
जवान इस लिहाज से मुस्तैद है कि अगर
आवश्यकता हो तो एक सा 14 जो स्मोक ग्रेनेट
है वह इस्तेमाल की जा सके तो यहां पर
देखिए कि पूरी की पूरी कंपनी और उनके पास
इस तरह के मास्क है जो मास्क लगभग 40 मिनट
तक आंसू गैस के बीच में भी सांस लेने में
कोई समस्या नहीं होगी मल्टी बैरल जो लचर
है टियर गैस लंचर है उससे से साथ-साथ
सिंगल बैरल लंचर तक हम यहां पे देख सकते
हैं गलो
द्वारा किसानों ने शंपू बॉर्डर पर
ट्रैक्टर्स के जरिए लोहे की बैरी गडिंग को
तोड़ दिया लिहाजा अब दिल्ली के हर एक
बॉर्डर पर बैरी गड्स को एक दूसरे से जोड़ा
जा रहा है ताकि उन्हें हटाया ना जा
सके उसके अलावा जो बैरिकेडिंग थी कल यह
सामान्य बैरिकेडिंग थी आरन बैरिकेडिंग
लेकिन अब इसमें ताला जड़ दिया गया है यह
ताला इस लिहाज से लगाया गया है कि अगर इसे
हिलाने की कोशिश की जाए तो वह आसानी से ना
हिल पाए क्योंकि एक-एक अगर होगा तो आसानी
से हिल जाएगा तो देखिए जितनी भी
बैरिकेडिंग है उन पर इस तरीके का मोटा
ताला लगा दिया गया है और यह जो परिवर्तन
है यह रात रात के अंदर आया है यानी कुछ ही
घंटों के अंदर यह परिवर्तन हम देख पा रहे
हैं श्रृंखलाबद्ध तरीके से जो जंजीर है
उससे तालों को लगाया गया है वो स्थिति
यहां पे नजर आ रही है और जिसे हम बाड केबल
कहते हैं वह जो कटीले तार है वह लगातार
लगाए जा रहे हैं और इसका काम भी चल रहा
है किसानों को रोकने के लिए लोहे के
साथ-साथ कंक्रीट के ब्लॉक्स भी रखे गए हैं
लेकिन इन ब्लॉक्स में भी सीमेंट भर दी गई
है ताकि इन्हें हिलाया तक ना जा
सके बैरिकेडिंग है सीमेंटेड ब्लॉक्स की
उसमें कंक्रीट बिछा दी गई है ताकि वह इतने
मजबूत हो जाए कि यहां से निकलना ट्रैक्टर
टॉलि हों के लिए संभव नहीं हो पाए और
कंक्रीट लगभग 2 फुट की ऊंचाई पर यहां से
देखिए कि ऐसा लग रहा है कि कंक्रीट को
आपने इस लिहाज से ढाला है कि आप किसी किले
की दीवार बंदी कर रहे
हैं सिंघो बॉर्डर के अलावा बाकी बॉर्डर्स
पर भी तैनाती भारी है देखिए दिल्ली से
मेरठ को जोड़ने वाले एनए 24 पर सुरक्षा
एजेंसियों ने क्या खास तैयारी की
है यहां तस्वीर आप देखेंगे तो यहां पर
वेल्डिंग का काम किया जा रहा है जो
बैरिकेड है उनको आपस में वेल्ड किया जा
रहा है ताकि अगर जरूरत पड़े तो इनको एक
साथ खिसका कर सड़क के बीचोबीच लाया जा सके
और किसान अगर आगे जाने की कोशिश करें तो
उनको रोका जा सके इसके अलावा कटीले और
नुकीले जो तार हैं वह भी इसके ऊपर वेल्ड
किए जाने हैं उनको भी मैं आपको दिखा दूं
यहां पर लाकर रखे गए हैं यह देखिए जो
सुरक्षा के इंतजाम है वह कितने ज्यादा
पुख्ता यहां पर कर लिए गए
हैं बैरी गड्स को जोड़ने के साथ-साथ इसके
पीछे एक और लेयर रहेगी अगर कोई किसान बैरी
गड्स को तोड़ भी देता है तो उनका सामना
होगा इन कटीले ब्रेकर से जो बड़े से बड़े
ट्रैक्टर के टायर को चीर सकते
हैं तस्वीरें आप देखेंगे ये आप देख सकते
हैं दिल्ली पुलिस की गाड़ी के अंदर जो
ब्रेकर हैं ये नॉर्मल या साधारण ब्रेकर
नहीं है ये किलो के बनाए हुए ब्रेकर हैं
यानी कि अगर इनको सड़क पर बिछा दिया जाए
और कोई भी ट्रैक्टर ट्रॉली आगे जाएगी तो
ये उनके टायरों को भट कर देंगे ये आप
देखिए किस तरह से यहां पर नुकीली किलो के
जो ब्रेकर हैं वो यहां पर रखे हुए हैं अगर
देखें तो 1 2 3 4 पा यहां पर यह ब्रेकर
हैं जिनको पूरी सड़क पर बिछा दिया जाएगा
जिसके बाद ट्रैक्टर ट्रॉली अगर आगे जाने
की कोशिश करती है और इनको तोड़ भी देती है
तो यह नुकीले ब्रेकर उनके टायरों को
भ्रष्ट कर
देंगे एनए 24 के साथ-साथ चला बॉर्डर पर भी
तैयारी कुछ इसी तरह की बैरी गट्स के साथ
साथ सुरक्षा के इंतजाम चाक चौबंद है यहां
भी किसानों की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के
लिए नकील किलो का ब्रेकर बनाया
[संगीत]
बॉर्डर्स की सुरक्षा बढ़ा दी गई है पूरी
तरीके से बॉर्डर छावनी में तब्दील हैं नों
का जत्था अगर पहुंचता तो उनको रोकने के
लिए बैरिकेडिंग के साथ-साथ तमाम जो नुकीली
कील है उनकी एक प्लेट तैयार की गई है इस
प्लेट को सड़कों पर बिछाया जाएगा अगर
किसान यहां ट्रैक्टर लेकर या अन्य अपनी
गाड़ियों से पहुंचते हैं तो उनको रोकने का
प्रयास इन नुकीली कील और जो तार हैं उनसे
किया
जाएगा किसान आंदोलन 2.0 में पिछले आंदोलन
से सबक लेते हुए सुरक्षा के इंतजाम पूरे
कर लिए गए हैं इससे यह तो तय है कि किसान
आगे नहीं बढ़ पाएंगे लेकिन यह नहीं कहा जा
सकता कि किसान अपने कदम कब तक पीछे
खींचे टीम न्यूज़ नेशन

Leave a Comment