माँ काली को बुलाने का मंत्र | माँ काली से बात करने का तरीका | बिना सिद्धि के कैसे माँ काली

जो भी आपका प्रश्न है वह पूछ सकते हैं
महाकाली से साक्षात वार्तालाप कर सकते हैं
बहुत से लोगों की यह रिक्वेस्ट हम तक
पहुंची थी कि वह महाकाली के साक्षात दर्शन
करना चाहते हैं तो ऐसा कौन सा मंत्र का वह

जाप करें जिससे कि कम समय में ही उनको
सफलता हासिल हो पाए मित्रों यह वीडियो
आपकी उसी मनोकामना को पूर्ण करेगी जो
मनोकामना आप चाहते हैं मित्रों शत्रु का
नाश करने वाली काली माता का क्रोध बहुत
भयंकर होता है

काली माता को बुलाना इतना आसान नहीं होता
लेकिन अगर आपके मन में काली माता के प्रति
अटूट विश्वास और भक्ति है तो आप काली माता
के आसानी से दर्शन प्राप्त कर सकते हैं

लेकिन सबसे पहले जो जानकारी आपको होनी
चाहिए उसे प्राप्त करना बहुत ही
महत्त्वपूर्ण है जो आज हम आपको इस वीडियो
के माध्यम से देने जा रहे हैं मित्रों कहा
जाता है कि काली माता अधर्म का नाश करती

है और धर्म को स्थापित करती है अगर आप सही
धर्म के मार्ग पर चल रहे हैं तो हम उम्मीद
करते हैं कि काली माता आपके कठोर तपस्या
और पूजा पाठ से अवश्य प्रसन्न होकर आपको
दर्शन

देंगे मित्रों काली माता एक ऐसी देवी है
कोई व्यक्ति किसी भी प्रकार की गलती करता
है तो उसे तुरंत दंड भी देती है और कोई
अगर भक्त उन्हें मां कहकर पुकारता है तो
वह उसकी भक्ति और श्रद्धा को देखते हुए
कृपा भी बहुत जल्दी करती है काली माता ही

एक ऐसी देवी है जो बहुत जल्द अपने भक्तों
की पुकार सुन लेती है और अपने भक्तों को
कभी भी कष्ट में नहीं देख पाती मित्रों
वैसे तो तांत्रिक लोग काली माता के मंत्र
सिद्ध करके उनसे कुछ ना कुछ कार्य निकलवा
रहते हैं अगर कोई तांत्रिक लोग काली माता

के मंत्र सिद्ध करके किसी भी प्रकार की
कोई गलत जगह पर प्रयोग करता है अधर्म का
कार्य करता है तो काली माता उन्हें बहुत
जल्द दंड भी अवश्य देती है

इसलिए कभी भी काली माता को प्रसन्न करना
है या उनकी कृपा प्राप्त करनी है तो अधर्म
का रास्ता कभी भी मन में लेकर नहीं आना
चाहिए मित्रों धर्म के साथ साथ काली माता
की पूजा और आराधना करते जाना चाहिए
मित्रों काली माता आपके बुलाने से अवश्य

आएंगी तो मित्रों आज हम वही विधि आपको
बताने जा रहे हैं जिससे केवल आप महाकाली
के दर्शनों को प्राप्त कर सकते हैं यह
संपूर्ण विधि मैं आपको एक एक करके बताने
वाला हूं आपने क्या करना है उसके बाद आपने

क्या करना है और उसके बाद आपने किस प्रकार
से महाकाली का आवाहन करना है यह संपूर्ण
विधि ध्यान से सुने ध्यान से समझे और विधि
शुरू करने से पहले एक बार हमारे कहे प
कमेंट में अवश्य लिख दे जय महाकाली जय
महाकाली जय मा

भद्रकाली तो मित्रों आज की इस वीडियो को
प्रारंभ करते हैं सबसे पहले मैं आपको बता
दूं चाहे कोई लेडीस है या कोई जट
कोई भी व्यक्ति है इस विधि को आसानी से
स्वयं अपने घर पर कर सकता है यह विधि जो

आपने शुरू करनी है वह शुरू करनी है शनिवार
से यानी शनिवार के दिन से यह विधि आप
प्रारंभ कर सकते हैं यह विधि आपकी रहने
वाली है 11 दिनों की 11 दिनों की विधि

उनके लिए है जो काली माता की पूजा नहीं
करते इतने उससे जो काली माता को सिद्ध
नहीं करना जानते जिन्होंने काली माता को
सिद्ध नहीं किया हो उस स्थिति में उनके
लिए 11 दिन की यह पूजा है और जिन्होंने

काली माता को सिद्ध किया हुआ है जो रोजाना
काली माता की पूजा करते हैं वह केवल मेन
पॉइंट पर आ सकते हैं जो मैं आपको आगे
बताऊंगा वह 11 दिनों की साधना ना करके
केवल जो आखिर में मैं आपको बताने जा रहा
हूं उस तरीके को आजमा सकते हैं तो मित्रों

नॉर्मल इंसान के लिए 11 दिन की यह साधना
रहने वाली है इसके लिए आपको आवश्यकता
पड़ने वाली हैा प्रति महाकाली की मूर्ति
की या फिर यंत्र की या तो आपके पास प्राण
प्रति महाकाली की मूर्ति होनी चाहिए या
फिर प्राण
प्रतिष्टना चाहिए ताकि आप महाकाली की

साधना आसानी से बिना किसी विघ्न बाधा के
पूर्ण कर सके साथ ही साथ जो इसमें माला का
उपयोग होने वाला है वह है संस्कारित
रुद्राक्ष की माला संस्कारित रुद्राक्ष की
माला का इसमें प्रयोग होने वाला है अगर
आपको नहीं पता कि माला का संस्कार किस

प्रकार से किया जाता है तो आप हमारी एक
वीडियो देख सकते हैं कि माला का संस्कार
कैसे करते हैं ताकि आसानी से आपको समझ आ
जाए और आप स्वयं भी अपनी माला को
संस्कारित कर सके अगर आप हमारे द्वारा कोई
भी इसमें सामग्री जो बताई हुई है अगर आप
हमारे द्वारा इसको प्राप्त करना चाहते हैं
तो हमारे ट नंबर दिया हुआ है आप हमारे

द्वारा भी सभी सामग्री भी प्राप्त कर सकते
हैं अब उसके बाद जैसा कि मैंने आपको बताया
11 दिनों की साधना है शनिवार से आपको शुरू
करना है प्राण प्रति मूर्तिय यंत्र भी
आपके पास माला भी आपके पास आ अब आपने क्या
करना है रात्रि 8 बजे के बाद इस कार्य को
प्रारंभ करना है रात्रि 8 बजे के बाद

दक्षिण दिशा में ही आपने माहाकाली की
मूर्ति को स्थापित करना है और एक तेल का
दीपक जगाना है तेल का दीपक आपका एक मुखा
ही चलेगा इसमें सरसों का तेल ले सकते हैं
और तिल का तेल ले सकते हैं इन दोनों तेलों
का आप इस्तेमाल कर सकते हैं और एक मुखी

दीपक ही आपका इसम चलेगा कक हम क में मुख
दीपक बताते हैं वह चार मुखी दीपक भगवान
भैरव के लिए होता है माहाकाली के लिए आप
एक मुखी दीपक ले सकते हैं ध्यान रखें दीपक
आपने मिट्टी का लेना है साथ ही साथ
महाकाली को पुष्प अर्पित करके धूप दीप
दिखाकर गुड़ या अनार के रस का भोग लगाना
है ध्यान रखें या तो गुड़ का भोग लगाए या
अनार के रस का भोग लगवाए या दोनों चीजों
का भी भोग आप लगा सकते हैं वह आपकी
श्रद्धा के ऊपर है उसके बाद आपने सर ढके
रहना है क्योंकि इस पूरी प्रक्रिया में
आपका सर नंगा नहीं रहना चाहिए सर आपने ढक
कर रखना है अब दक्षिण दिशा में मुख करके
आपने भी विराजमान हो जाना है और मित्रों
यह जो मैं आपको प्रक्रिया बता रहा हूं अगर
रात्रि 8 बजे के बाद करेंगे तो अति उत्तम
है अगर रात्रि में आप यह नहीं कर सकते तो
सुबह सुबह ब्रह्म मुहूर्त में इस
प्रक्रिया को कर सकते हैं परंतु जो भी समय
आप चुनेंगे चाहे ब्रम महूरत का समय चुने
या रात्रि का समय चुने इस बात का ध्यान रख
कि अगले दिन भी उसी समय ही आपने मंत्र जाप
करना है ऐसा नहीं है कि आज ब्रह्म मूरत
में किया और कल रात्रि में कर लिया ऐसा
बिल्कुल नहीं करना अपने नियम की अपनी
श्रद्धा के आपको पक्का रहना है तभी यह
आपका जो काम आप कर रहे हैं सफल हो पाएगा
अब आप दक्षिण में मुख करके बैठ चुके हैं
और उसके बाद सबसे पहले प्रथम माला भगवान
गणपति की आपने जपनी है ओम गम गणपते नमः ओम
गम गणपते नमः ओम गम गणपते नमः इस मंत्र की
आपने एक माला का जाप करना है एक माला का
जाप करने के बाद अगर आपके पास आपके गुरु
का कोई मंत्र है कोई गुरु मंत्र आपने लिया
हुआ है तो वह गुरु का ध्यान करके गुरु
मंत्र का आप जप कर सकते हैं अगर आपने कोई
गुरु नहीं बनाया हुआ कोई गुरु मंत्र आपके
पास नहीं है तो गुरुर ब्रह्मा गुरुर
विष्णु गुरुर देवो महेश्वर गुरुर साक्षात
परम ब्रह्मा तस्म श्री गुरुवे नमः गुरुर
ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरु देवो महेश्वर
गुरु साक्षात परम ब्रह्मा तम श्री नम इस
श्लोक को आपने सात बार बोलना है सात बार
बोलने के बाद 11 माला का जाप करना है जो
मंत्र में आपको बताने जा रहा हूं 11 दिनों
तक आपने इस मंत्र का जाप सर्वप्रथम करना
है मंत्र इस प्रकार से है मित्रों ओम
क्लीम कालिका नमः ओम क्लीम कालिका नमः ॐ
क्रीम कालिका
नमः आपने 11 माला का जाप करना है मित्रों
अगर मंत्र के अर्थ के बारे में बात करें
क्योंकि एक वीडियो में हमने पहले भी इस
मंत्र को बताया था उसमें बहुत से लोगों ने
कमेंट करके यह पूछा था कि इस मंत्र का
अर्थ क्या होता है वह अर्थ हमें अवश्य
बताए तो मैं अर्थ की अगर बात करूं तो
मित्रों इस मंत्र का उपयोग काली माता के
प्रतिनिधित्व के लिए किया जाता है और अगर
इस मंत्र से होने वाले लाभ के बारे में
बात करूं तो काली माता का यह मंत्र बेहद
सरल है और भक्त की तना
शुद्ध कर देता
है तो इस मंत्र का जाप आपने 11 माला का
रोजाना करना है चाहे ब्रह्म मुहूर्त में
चाहे रात्रि के दौरान में इस दौरान ध्यान
रखें कि आपका दीपक जो है वह जलते रहना
चाहिए इतना तेल आपने उसमें अवश्य डालना है
इतना बड़ा दीपक आपने अवश्य लेना है और 11
माला की जो मैं स्वयं के बारे में अनुभव
के बारे में बात करूं मित्रों अगर इसके 11
माला का आप जाप करेंगे और जो मंत्र मैंने
इससे पहले बताया आपको भगवान गणपति के एक
माला का जाप करेंगे और आप गुरु के श्लोक
का या गुरु के मंत्र का आप जाप करेंगे
इसमें पूर्ण विधि में आपको सिर्फ और सिर्फ
एक घंटा लगने वाला है एक घंटे से ऊपर
इसमें आपको समय नहीं लगेगा एक घंटे में ही
आपका यह कार्य हो जाएगा अब उसके बाद 11
दिन तक जब आप यह जप कर लेंगे 11 दिन पूरे
होते ही आपके समक्ष मंगलवार होगा उस दिन
और उस मंगलवार के दिन चाहे रात्रि में
आपने किया है तो रात्रि में सुबह में आपने
किया है ब्रह्मवर्त में तो सुबह में एक
हवन का आपने प्रबंध कर लेना है एक छोटा सा
हवन करना है उस छोटे से हवन में आपने क्या
करना है वह जान लेते हैं जो व्यक्ति जैसा
कि मैंने आपको बताया जिन्होंने काली माता
को सिद्ध किया हुआ है जो काली माता की
पूजा रोजाना करते हैं वह केवल हवन कर सकते
हैं इस प्रकार से और माहाकाली का आवान कर
सकते हैं वैसे तो उन व्यक्तियों को हमारे
द्वारा बताना जरूरी नहीं है क्योंकि वो
व्यक्ति भी इस प्रकार की प्रक्रिया जानते
हैं और जो व्यक्ति नहीं जानते उनके लिए
मैं बता दूं कि इस प्रकार से हवन करना है
वह हवन नहीं है मित्रों जो आपके घरों में
होता है जिसम पूर्ण आहुति दी जाती है
पूर्ण रूप से पूरे विधि विधान से हवन किया
जाता है संकल्प लिया जाता है यह वो हवन
नहीं है यह एक छोटा सा आवाहन हवन है जो कि
स्वयं कई बार हमारे द्वारा भी किया जाता
है कभी हम भी किसी असमंजस में होते हैं तो
अवश्य माहाकाली की कृपा प्राप्त करने के
लिए यह हवन हमारे द्वारा भी किया जाता है
तो उस हवन का मंत्र जान लेते हैं बेहद सरल
है मित्रों आपकी श्रधा सची चाहिए विधि
मायने नहीं रखती ध्यान रखिएगा इस बात का
सबसे पहले हवन का आपने प्रबंध करके मा
काली से अपने परमेश्वर से अपने गुरु से
प्रार्थना करनी है कि आपके इस कार्य को
सफल करे ध्यान रखें इस कार्य में पुन बता
रहा हूं अपने सर को ढक कर रख अब इस हमन को
इस प्रकार से करिए अग्नि आपने प्रज्वलित
करके सबसे पहली जो आहुति डालनी है वह इस
प्रकार डालनी है ओम अंगाराय नमः
स्वाहा उसके बाद दूसरी आहुति आपकी लेगी ओम
गणेशाय नमः
स्वाहा उसके बाद तीसरी आहुति आपकी डालेगी
ओम गोरया नमः
स्वाहा इसी प्रकार चौथी अति ओम नवग्रह नमः
स्वाहा पांचवी अति ओ दुर्गाय नम
स्वाहा होती ॐ महाकालिका नम
स्वा सातवी अती ओ हनुमते नमः स्वाहा आठवी
अती ओम भैरवाय नमः स्वाहा नवी अती ओ कुल
देवता नमः
स्वाहा दवी ओ स्थान देवता नम
स्वाहा ओ ब्रह्मा नम
स्वा वि नम
स्वा अ ओम शिवाय नमः
स्वाहा चवी अती ओ जयंति मंगला काली
भद्रकाली कपालनी दुर्गा समावा स्वादा
नमोस्तुते
स्वाहा इस प्रकार से आपने यह आहुति देने
के बाद सात माला की आहुति देनी है उस
मंत्र की जिस मंत्र के लिए हमने यह सारी
प्रक्रिया की अब बात आती है उस विष मंत्र
की जिस मंत्र के द्वारा मा काली आपके
समक्ष खींची चले आएगी अगर आपकी श्रद्धा
सच्ची है आपकी भक्ति सच्ची है आपने पूर्ण
विधि विधान से यह कार्य किया है जिस
प्रकार से मैंने आपको बताया है तो आप
स्वयं देखेंगे कि महाकाली के दर्शन आपको
अवश्य होंगे और जो भी प्रश्न आप पूछना
चाहते हैं वह उनसे अवश्य पूछ सकते हैं
परंतु ध्यान रखें जरूरी नहीं कि जैसे हम
आपस में बात करते हैं हर एक सवाल का जवाब
हमें इस प्रकार मिलता है इसी प्रकार से
आपको जवाब मिले परंतु आपको जवाब अवश्य मिल
जाएगा वह किसी ना किसी कारणवश आपको अवश्य
जवाब मिल जाएगा चाहे उसका माध्यम कुछ भी
रहे अब जिस सात माला की आहुति आपने देनी
है वह मंत्र जान लेते हैं वह कौन सा अहम
मंत्र है वह मंत्र इस प्रकार है मित्र नमः
म क्लीम क्लीम कालिका स्वाहा नमः म क्लीम
क्लीम कालिका स्वाहा नमः क्लीम क्म
इस प्रकार से आपने सात माला की आति देनी
है सात माला की आति देने के बाद आपने अपनी
आंखें बंद करके मां का ध्यान करना है मां
को आवाहन करना है मां को पुकारना है आप
स्वयं देखेंगे जो आहुति आपने लास्ट दी है
उसके बाद आंखें बंद करके मां का ध्यान
किया है मां का आवान किया है मां को
बुलाया है आप किस प्रकार से अपने शरीर में
ऐसा अनुभव करेंगे कुछ बदलाव का अनुभव
आप जो रा है वह रा किस प्रकार से बढ़ता
चला जा रहा है हो सकता है मित्रों इसमें
थोड़ा बहुत आपका सर भारी हो उस समय हो
सकता है इसमें थोड़ी बहुत आपको जो शरीर
में है वह दर्द महसूस हो वह भारीपन महसूस
हो परंतु अगर आप उसकी तरफ ध्यान ना देकर
केवल अपना ध्यान माता काली की ओ केंद्रित
रखेंगे तो आप स्वयं एक ऐसा अनुभव कर
पाएंगे जो हम शायद यहां पर आपको बोलकर
नहीं बता सकते
और इस दौरान अगर कुछ भी आपको समझ नहीं आता
इस विधि में या कुछ भी हमसे सलाम मशवरा
करना चाहते हैं तो हमें कमेंट करके अवश्य
पूछ सकते हैं और मां काली की प्राण
प्रतिष्ठा मूर्ति यंत्र माला या अन्य कोई
भी सामग्री जो इसमें बताई गई है वह अगर आप
हमारे द्वारा लेना चाहते हैं तो हमारे ट
नंबर पर संपर्क करके हमसे प्राप्त कर सकते
हैं ताकि इसमें कोई भी दिक्कत आपको ना आए
और यह पूर्ण विधि हम आपको अवश्य एक बार
दोबारा

Leave a Comment