मां काली आपको धन देने आए हैं🚩 ||इसको अनदेखा मत करो ||🙏जिंदगी बर्बाद हो जाएगी

इस दुनिया में सबसे अमीर इंसान वही है
जिसके पास सुकून है पैसा हो तो आपके अवगुण
में नजर नहीं आएंगे और पैसा ना हो तो आपके
गुण भी नजर नहीं आएंगे कच्चे कान संदेह
भरी नजर और कमजोर मन इंसान को स्वर्ग के
बीच भी नर्क का एहसास दिलाते हैं जो बीत

गया है उसे बहर हो और जो बहता हुआ आपकी
तरफ आ रहा है उसका स्वागत कर कई बार शून्य
से शुरू करना बहुत जरूरी हो जाता है जीने
उपाय खुलकर जिन चार लोगों की वजह से उन
चार लोगों को कभी देखा भी है कि कैसे
दिखते हैं लोगों की बातों पर ध्यान देना

छोड़ दो क्योंकि लोगों को खुश करने के लिए
अगर आप उन्हें उड़कर भी दिखाओगे तो भी वह
कहेंगे कि बेचारे को चलना नहीं आता जो
गुजर गया उसे मुड़कर मत देखो वरना जो
मिलने वाला है वो भी खो दोगे बीतता तो

वक्त है लेकिन खर्च हम हो जाते हैं कैसे
नादान है हम दुख आता है तो अटक जाते हैं
और सुख आता है तो भटक जाते हैं और यह भूल
जाते हैं कि जब सही समय आता है तो सारे
जवाब अपने आप मिलने लगते हैं इच्छाओं के

रहते यदि प्लांट चले जाए तो वह हुई मृत्यु
और प्राण के रहते यदि इच्छाएं चली जाए तो
वो हुआ मोक्ष कभी-कभी गुस्सा मुस्कुराहट
से भी ज्यादा खास होता है क्योंकि मुस्कान
तो सभी के लिए होती है पर गुस्सा सिर्फ उ

लिए होता जिन्ह हम खोना नहीं चाहते जिस
दिन इंसान को मा नहीं जिम्मेदारियां जगाने
लग उस दिन समझ लेना कि इंसान परिवार
संभालने के काबिल हो गया है जिंदगी की
कमाई दौलत से नहीं नापी जाती अंतिम यात्रा
की भीड़ बताती है कि कमाई कैसी थी जब बिना

किसी वजह से खुशी महसूस करने लगे तो समझ
लेना कि कोई ना कोई कहीं ना कहीं तुम्हारे
लिए प्रार्थना कर रहा है जीवन में किसी का
भला करोगे तो लाभ होगा क्योंकि भला का
उल्टा लाभ होता है और जीवन में दया करोगे
तो याद जाओगे क्योंकि दया का उल्टा याद

होता है नियत साफ हो तो एक लौट जल भी कबूल
है वरना दिखावे के तो 56 भोग भी फिजूल है
संबध हो तो श्री कृष्ण और सुदामा की तरह
होना चाहिए एक जो कुछ मांगता नहीं और
देखकर जताता नहीं दूसरा जो किसी ने सच ही

कहा है कि वाणी में बहुत ताकत होती है
मीठा बोलने वालों की मिर्ची भी जाती है और
कड़वा बोलने वालों का शहद भी नहीं बिकता
सब्र का दामन ना छोड़ा कर हर काम आसान
होने से पहले मुश्किल होता है वक्त का
समझाने का तरीका बहुत सखत होता है मगर यह

बात भी सच है कि वक्त की समझाई हुई बात
सारी उम्र याद रहती है बहुत कुछ बदल जाता
है बढ़ती उम्र के साथ पहले हम जिद किया
करते अब हम समझौते किया करते किसी के सुख
का कारण बनो भागीदार नहीं और किसी के

भागीदार बनो कारण नहीं दुख के कोई हमा
बुरा करना चाहता है तो उसके कर्म में लिखा
जाएगा हम क्यों किसी का बुरा सोचकर अपना
कर्म और वक्त दोनों खराब करें फिर मिलेंगे
दोस्तों अगली वीडियो के साथ तब तक के लिए
अपना ख्याल रखना और हमेशा मुस्कुराते
[संगीत]
रहना

Leave a Comment