मां काली का संदेश तुम्हारे प्रेमी को कैंसर हो चुका है वह तुमसे यह बात छुपा रहा है

मां काली जी आज आपसे कह रही है मेरे बच्चे अब उसे माफ कर दो क्योंकि जब तक तुम मुझे माफ नहीं करोगे

तुम यूं ही परेशान रहोगे मेरे बच्चे तुम एक शक्तिशाली आत्मा हो और यदि तुम हर एक की बातों को अपने दिल

पर लेते रहोगे तो तुम्हारी शक्तियां शेर होती जाएगी तुम्हें कोई कुछ भी बोले हर बंधन में नहीं बंधन है यह शरीर

नश्वर है इसका किंतु आत्मा सदैव अमर है तुम जो भी कम करते हो इस मेरे बच्चे में कुछ नहीं करती हूं जो होता है तुम्हारे द्वारा किए गए कर्म के अनुसार ही सारे फल प्राप्त होते हैं या तुमने किया है उन सभी को कर्म बंधन से

मुक्त हो जाओ मां काली जी कहती है मेरे बच्चे उन्हें दुआएं दो जो तुम्हारे साथ गलत किए हैं अपने मन में कुछ भी गलत विचार मत लो तो तुम भी तो मेरी संतान हो मैं तुम्हारे विषय में कुछ गलत कैसे लिख सकती हूं मेरे बच्चे

तुम्हें हमेशा यह याद रखना होगा कि तुम एक शक्तिशाली आत्मा हो और तुम शांत हो मेरे बच्चे तुम्हारा जीवन पूरी तरह से बदलने वाला है मेरे बच्चे मैं तुमसे बेहद प्रसन्न हूं मैं तुम्हारे कर्मों से अत्यधिक प्रसन्न हो रही हूं क्योंकि

तुम कभी कुछ ऐसा कर जाते हो अत्यधिक प्रसन्न हो जाती हूं मैं देख रही हूं तुम नए कार्य को करने के लिए प्रयत्न कर रहे हो और तुमने ठान लिया है शुरूआत किया था फिर से वहीं से चलने का प्रयास कर रहे हो मेरे बच्चे

Leave a Comment