मां काली 🕉अपने जीवन का सबसे बुरा समय देख रहा है वो 🕉

मेरे बच्चे जरा से टूट गए हो और साहस नहीं बची है गए हो तुम मजबूत और खुश होने का दिखावा करते करते अंदर से तुम खुद को बहुत अकेला महसूस करते हो ना चाहते हो किसी के भी सामने अपने दिल में दबी बातें बोलकर मां की शांति चाहते हो

कभी तुमसे तुम्हारे मन का हल नहीं पूछता मेरे बच्चे तुम किसी से महीना तक बात ना करो तो वह व्यक्ति भी कभी सामने से तुमसे बात करने की कोशिश नहीं करता है हमेशा बस तुम ही सब का ख्याल रखते हो बांका भाई बहन का कोई भी रिश्ता हो हमेशा तुमसे

ही उम्मीद रखी गई है कि तुम अपनी इच्छाओं को मार कर उन सब की ख्वाहिशों को समझोगे तुमने हमेशा यही किया भी है लेकिन

सब कुछ करने के बाद भी आज तुम्हारा कोई नहीं है तुम्हें समझे पर सर रखकर तुम एक बार खुल कर रो सको उसे अपने दिल की बात कह सको यह दर्द तुम्हारे वारदात से बाहर होता जा रहा है तुमने जिस प्रेम किया तुमने उम्मीद रखी कि वह तुम्हारी भावनाओं

को समझ का हमेशा तुम्हारा साथ देगा तुम्हारा साथ छोड़ दिया और तुम्हें महसूस होता है माता वह मुझसे बहुत दूर जा चुका है खाने को तो मेरे सामने है मुझसे बात भी कर लेता है वह प्रभु मेरा नहीं रहा माता के दिल में उसकी आंखों में मुझे अपने लिए वह सम्मान

जानता ही नहीं हूं मेरे लिए अजनबी हो गया है वह आज मैं तुम्हें खोने से डरता है मेरे बच्चे और तुम गलत नहीं हो गलतियां ही की है जिसकी वजह से वह तुमसे नजर नहीं मिल पा रहा है वह अपने किए कर्मों के वजह से शर्मिंदा है उसे बहुत अच्छे से पता है कि तुम

इस संसार में कितने अकेले हो मुश्किल से तुमने उसे पर यकीन किया था तुमने उसे अपना हर दुख बताया था तुम्हारा हर दर्द हर दुख को जानने के बाद भी उसने तुम्हें धोखा दिया तुम्हारा यकीन तोड़ा है वह तुम्हारी नजरों में गिर गया है उसमें क्रोध में जो कदम उठाए उसे भी पता है कि उसे उसी की हार हुई है दूसरों से तुम्हारी तुलना करके उसने बहुत गलत किया क्योंकि तुम्हारे जैसा अच्छा इंसान दिल से सोने वाला व्यक्ति इतना स्वाभिमानी इंसान आज तक नहीं देखा तुमने उसे सुधार उसके

Leave a Comment