मां काली 🕉️आपकी शत्रु महिला मेरे दर पर आ कर घंटा बजा रही है और जोर जोर से छाती पि

मेरे बच्चे आज तुम्हारा शत्रु मेरे दर पर

आया है आज वो मुझसे यह प्रार्थना करने आया

था कि माता इस व्यक्ति ने मेरे साथ बहुत

बुरा किया है कृपा करके उसे सजा दो आप

अपनी शक्तियों का प्रयोग करो उसे बर्बाद

करने के लिए मेरे बच्चे वही व्यक्ति है

जिसे तुम बहुत लंबे अरसे से जानते हो एक

समय पर तुम्हारा बहुत करीबी था हां कुछ

सालों से तुम्हारी उसकी बात नहीं हो रही

है तुम दोनों के रिश्ते खराब हो गए हैं पर

वो तुम्हारे सामने ऐसा दिखावा करता है और

वो इस संसार के सामने इतना दिखावा करता है

जैसे वो कितना सुलझा हुआ व्यक्ति है और वो

कितना शांत स्वभाव का व्यक्ति है वो तो

जैसे कभी किसी के साथ बुरा कर ही नहीं

सकता अगर तुम उसकी सच्चाई किसी को बताने

जाओ तो लोग यही कहेंगे कि तुम झूठ कह रहे

हो और वह मेरे दर पर भी वैसा ही बनके आया

था जैसा वो इस समाज को दिखा रहा है जो

मुखौटा उसने इस समाज के सामने पहन रखा है

वही मुखौटा पहनकर आज वो मेरे दर पर आया था

मेरे ही बच्चे को बर्बाद करने की विनती

मांगने मेरे बच्चे उसे यह नहीं पता है मैं

अपने भक्तों का मन देखती हूं मैं उनके

भीतर बसी हुई हूं वो क्या सोचते हैं कब

क्या चाहते हैं मुझे सब पता होता है कोई

लाख मुखौटा पहन ले व मुझसे अपनी सच्चाई

नहीं जो पा सकता है मेरे बच्चे उसने

तुम्हारे साथ बहुत बुरा किया तुम्हारे

जीवन पर पूरा पूरी तरह से नियंत्रण बना

लिया तुमसे अपने स्वार्थ के हिसाब से काम

करवाए और जब उसका स्वार्थ खत्म हुआ तो

तुम्हें बीच मझधार में छोड़कर चला गया पर

वो जमाने के सामने ऐसा दिखा रहा है जैसे

उस के साथ कितना बुरा हुआ ह वो मेरे सामने

रोकर यह कह रहा था कि माता इस व्यक्ति ने

मेरे साथ बहुत बुरा किया है मैं आपकी पूजा

करूंगा मैं आपके भंडारे लगवा आंगा मैं

आपके लिए सब कुछ करूंगा माता आप बस उस

व्यक्ति को दंड दे दो पर मेरे बच्चे वह यह

भूल गया कि मेरा कोई भी भक्त अगर मुझसे

किसी और की बर्बादी की कामना करता है तो

मैं उसकी वो इच्छा कभी पूरी नहीं करूंगी

मुझे पता है तुम्हारा हृदय बहुत कोमल है

मुझे पता है कि तुमने निस्वार्थ मन से

उसके लिए क्या तुमने समाज के लिए बहुत कुछ

किया है तो मैं ऐसा व्यक्ति हूं कि तुम

सबके लिए सब कुछ करना चाहते हो उसकी

प्रार्थना से और उसके रचे हुए षड्यंत्र

में मैं नहीं फसने वाली हूं वो लाख मेरी

पूजा करले कोई भी व्यक्ति मेरी लाख पूजा

कर ले मेरे बच्चे अगर उसका मन साफ नहीं है

अगर उसकी पूजा में मेरे प्रति भावना सच्ची

नहीं है वह मुझे अपनी माता मान के नहीं

बल्कि मुझे एक दिव्य शक्ति मान के मुझे

जागृत करना चाहता है तो वह मेरे तप को सहन

नहीं कर पाएगा वह मेरे दिव्य शक्ति के

प्रकाश प्रभाव को सहन नहीं कर

पाएगा मेरे बच्चे अगर उसके प्रेम में है

अगर वह मुझसे किसी और का बुरा करने के लिए

प्रेम कर रहा है तो उसे सफलता कभी नहीं

मिलेगी ना ही उसे मैं कभी मिलूंगी यही

फर्क है तुम में और उसमें तुम मुझसे प्रेम

इसलिए नहीं करते हो क्योंकि तुम्हें मुझसे

कुछ चाहिए तुम्हारी तो आंखों में आंसू आ

जाते हैं मेरा नाम सुनकर मुझे देखकर तुम

अपने दिल की हर दुख दर्द को मुझे ऐसे

बताते हो जैसे एक बच्चा अपनी मां को रोके

बताता है इसलिए मैं तुम्हारी भावनाओं को

सुनती हूं इसलिए तुम्हारी हर प्रार्थना को

सुनती हूं और इसलिए मैं तुम्हें समाज की

हर सुख समृद्धि देना चाहती हूं इसलिए मैं

तुम्हारे तुम्हारे परिवार की रक्षा करती

हूं मेरे बच्चे क्योंकि तुम मुझे अपनी

माता मानते हो और व मुझसे मेरे ही बच्चे

को बर्बाद करने की प्रार्थना कर रहा है और

उसे यह लग रहा है कि वह उसमें सफल हो

जाएगा यह उसकी बहुत बी गलत फहमी है व मेरी

क्या किसी भी शक्ति को जागृत कर ले कभी

तुम्हे हानि नहीं पहुंचा पाएगा वह तुम्हें

रुला सकता है पर तुम्हें बर्बाद नहीं कर

सकता है वो तुम्हें नीचे नहीं गिरा सकता

है क्योंकि तुम मेरी को ध में लेटे हुए हो

तुम कभी नीचे गिरोगे ही नहीं उसे यह पता

ही नहीं है कि माता और बालक का रिश्ता

कैसा होता है वो तो हर रिश्ते में छल करता

है हर रिश्ते में सौदा देख रहा है जैसा

उसने तुम्हारे साथ किया यह समाज उसकी

सच्चाई नहीं जानता होगा वो इस दुनिया के

सामने मुखौटा पहन लेगा अच्छा बन जाएगा और

तुम्हें बुरा दिखा देगा पर वो मेरे सामने

वो ऐसा नहीं कर सकता है मेरे बच्चे

तुम्हें डरने की तुम्हें उसके बारे में

सोचने की भी जरूरत नहीं है मैं तो उस

व्यक्ति को यही देखकर सोचती हूं कि क्या

सच में मेरा बच्चा इस व्यक्ति के बारे में

सोचकर इतना रो रहा है इसके दिए कष्ट को

देखकर इतना रो रहा है नहीं मेरे बच्चे व

बहुत तुच्छ इंसान है वो किसी का नहीं उसके

लिए रो मत उसने सिर्फ तुम्हारे साथ चल

नहीं किया है वो तो है ही ऐसा व्यक्ति

उसकी प्रवृत्ति ही ऐसी है वह तो अपने माता

पिता के साथ भी छल करता है तुम तो फिर भी

बहुत दूर के लगते हो उसके ऐसे व्यक्ति के

लिए तुम क्यों रो रहे हो ऐसे व्यक्ति का

किया हुआ छल तुम याद ही क्यों कर रहे हो

अपने ऊपर गर्व करो तुमने उस जैसे व्यक्ति

के लिए भी इतना अच्छा किया इतना अच्छा

सोचा तुम्हें एक बार खुद सोचो क्या उसमें

कुछ भी ऐसा था जो तुम उसके साथ रहो जो तुम

उसके लिए इतना त्याग करो जो तुमने किया

उसको थोड़ा एहसास भी नहीं है कि तुमने

उसके लिए क्या क्या किया और बदले में उसने

तुम्हें क्या दिया वह तो आज भी इसी घमंड

में जी रहा है कि वो बहुत अच्छा इंसान है

ऐसे इंसान को उसके भ्रम में जी

मेरे बच्चे बहुत जल्द उसके भ्रम का

गुब्बारा फूट जाएगा और फिर उसे जो पछतावा

होगा तब तक बहुत देर हो चुकी होगी मुझे तो

तुम पर गर्व हुआ जब वह मेरे द्वार पर आया

तो तुम भी खुद पर गर्व करो कि दुनिया लाख

बुराई है मेरे बच्चे पर तुमने खुद को नहीं

बदला मेरे बच्चे तुम बहुत लंबे अरसे से

मेरी भक्ति कर रहे हो मेरी पूजा पाठ करके

तुमने बहुत शक्तियां हासिल की जिनका

अंदाजा भी नहीं है तुम्हें उनका एहसास

तुम्हें वक्त वक्त पर होता जरूर होगा और

जब तुम्हें वह एहसास हो रहा है तो तुम डर

जा रहे हो जब तुम्हें ऐसे स्वप्न दिख रहे

हैं तो तुम डर जा रहे हो तुम्हें डरने की

जरूरत नहीं है मेरे बच्चे तुम्हारी

अंतरात्मा तुम्हें कुछ बता रही है

तुम्हारी अंतरात्मा आप जागृत हो रही है

वह आने वाली मुश्किलों से पहले ही तुम्हें

चेतावनी दे रही है जिससे तुम्हें घबराना

नहीं जिससे तुम्हें भयभीत नहीं होना है

बल्कि तुम्हें उस आवाज को सुनना है और फिर

तुम्हें उस हिसाब से निर्णय लेना है

तुम्हे सावधान करने के लिए ही व संकेत दिए

जा रहे हैं तुम्हे तुम तो उनसे भयभीत हो

जा रहे हो मेरे बच्चे उनको ध्यान से सुनो

उनको अपनाओ तुमने वो शक्तिया कमाई है

तुमने वो शक्तियां खुद अपने भीतर जागृत की

है उनसे भयभीत मत हो मेरे बच्चे तुम लाख

कोशिश करते हो मेरी पूजा पाठ के बाद भी

तुम्हारे अंदर एक नकारात्मक ऊर्जा रह जाती

है नकारात्मक ऊर्जा इस बात की तुम सोचते

बहुत अधिक हो हर चीज में तुम सोचने लगते

हो हर बात में कोई व्यक्ति तुम्ह कुछ दे

दे कोई व्यक्ति तुमसे अच्छे से बात करे तो

तुम य सोचने लगते हो कि इसमें इसका क्या

स्वार्थ है यह मुझसे ऐसा क्यों कह रहा है

कोई कुछ मुझसे चाहता जरूर होगा तभी तो यह

ऐसा मेरे साथ कर रहा है तुम बहुत सोचते हो

और कहीं ना कहीं अतीत का बीता दुख भी है

तुम्हारे भीतर जो तुम्हारे अंदर एक

नकारात्मकता को फैला रहा मेरे बच्चे धीरे

धीरे तुम्हारा शरीर एक बीमारी को उत्पन्न

कर रहा है तुम्हारे परिवार में भी कोई है

जो बीमार रहता है तुम्हारे परिवार में आए

दिन किसी ना किसी को कोई ना कोई बीमारी

रहती ही है एक ठीक होता है तो दूसरा बीमार

हो जाता है दूसरा ठीक होता है तो तीसरा

बीमार हो जाता है यह तो लगा हुआ है

तुम्हारे परिवार में पता नहीं कब से इसके

लिए जरूरत यह है कि तुम अपने घर की सफाई

करो तुम्हारे घर के किसी कोने में कुछ ऐसी

वस्तुएं रखी गई है जिनका कोई उपयोग नहीं

उनको साफ कर उनको किसी कबाद भी वाले को या

किसी को दे दो या कहीं दान कर दो या अपने

घर से बाहर निकाल दो ऐसी किसी भी चीज को

अपने घर में मत रखो जो तुम्हें लग रहा है

कि यह वर्षों से पडी दी हुई है और इनका

कोई उपयोग नहीं वह चीज पर ऊर्जा प्रकट कर

रहे हैं तुम्हारे परिवार में तुम्हारे घर

के भीतर उन चीजों को अभी साफ करके निकाल

दो या फिर तो कोई ऐसा वस्तु जिसका तुमने

बहुत लंबे समय से प्रयोग नहीं किया है

उसको बाहर निकाल कर उसकी साफ सफाई कर कर

उसका प्रयोग करना शुरू कर दो अपने घर के

कोनों में कोई भी कुर्दा कबा मत रखो मेरे

बच्चे उनको साफ करके वहां पर शुभ चिन्ह

बनाओ जिनको तुम रोज देखो सिर्फ उन चिन्हों

को देखने से ही

तुम्हारे भीतर इतनी

सकारात्मक ऊर्जा आएगी उन सब चिन्हों को

देखने से ही तुम्हें एक अलग प्रकार की

वाइब्रेशन मिलेगी यह करना शुरू कर दो

क्योंकि तुम अपने घर में ही नकारात्मकता

को पालते जा रहे हो वह वस्तुएं तुम्हारे

घर में बीमारियों को खींच रही है तुम्हारे

घर में क्लेश को खींच रही है आए दिन लए जग

हो रहा है तुम्हारे घर में व बेकार पडी की

वस्तुओं में तुम्हारे घर में एक नकारात्मक

एनर्जी को प्रकट कर रही है जो तुम लोगों

को सुकून से जीने नहीं दे रही है ना सुकून

से खाने पीने दे रही है अपने घर की सफाई

करो और जो चीजें बेकार है जो चीजें

तुम्हें लगती है तुमने कभी ली ही नहीं है

उन चीजों को बाहर निकाल कर फेंक दो और जो

तुम्हें लगता है कि तुम्हारे काम की है

उनको प्रयोग में लाओ देखना उस साफ सफाई के

बाद उन चीजों को बाहर निकालने के बाद कुछ

दिनों के भीतर ही तुम्हारे घर में सुख

शांति जरूर आएगी और लक्ष्मी तुम्हारे घर

में जरूर आएंगी मेरे बच्चे ओम नमः शिवाय

मेरे प्यारे बच्चे इसमें कोई संदेह नहीं

है कि तुम अत्यंत बुद्धिमान और चतुर हो पर

अपनी चतुराई अपनी बुद्धिमत्ता तुम्हें

कहां प्रकट करना है इसका तुम्हें तनिक भी

ज्ञान नहीं है मेरे बच्चे तुमसे बहुत बदती

भूल हो रही है बाहरी लोग जो तुम्हें

बर्बाद करने पर तुले हैं तुम उनसे बहुत ही

विनम्र भाव से मिल रहे हो और अपने परिवार

पर अनावश्यक क्रोध कर रहे हो विशेषकर अपने

माता-पिता से मेरे बच्चे तुम्हारे

माता-पिता

रे लिए ईश्वर तुल्य है वह तुम्हारे लिए जो

भी करते हैं उसमें तुम्हारा ही हिट छुपा

होता है हो सकता है जो चीज तुम्हें प्रिय

हो वह उन्हें अप्रिय लगे ऐसा भी हो सकता

है कि जो तुम सोचते हो जो तुम पाना चाहते

हो वही सही हो परंतु इसके लिए अपने

माता-पिता या अन्य परिवार पर क्रोध करना

मर्यादा का उल्लंघन है मेरे बच्चे इस पर

विश्वास है तो हां लिखकर इस संदेश को अब

भी लाइक कर दीजिए मेरे बच्चे ना जानती ह

कभी-कभी तुम्हारे माता-पिता तुम्हारे

प्रति अत्यंत कठोर व्यवहार करते हैं

तुम्हारे हर कार्य का परीक्षण करते हैं और

उसमें कोई ना कोई त्रुटि अवश्य निकालते

हैं परंतु वह अपने अनुभव के आधार पर

तुम्हें गलती करने से रोकते हैं मेरे

बच्चे माता-पिता की कठोरता भी सम्माननीय

क्योंकि माता-पिता गुरु की भांति तुम्हारे

जीवन को सार्थक बनाने के लिए तुम्हें धर्म

कर्म ज्ञान और ध्यान का पाठ पढ़ाते हैं

तुम सौभाग्यशाली हो कि तुम्हारे पास

माता-पिता है मेरे बच्चे तुम्हारे लिए यह

स्वीकार करना मुश्किल है कि तुम में अपने

ज्ञान का अहंकार पनप रहा है किंतु यदि

स्वीकार कर लो तो जीवन सरल हो जाएगा

क्योंकि मेरे बच्चे अहंकार का आवरण

व्यक्ति में सत्य को समझने बूझने की

क्षमता को क्षीण कर देता है और विनाश की

ओर धकेल देता है मेरे बच्चे भविष्य में

तुम्हें किसी बद्धि विपत्ति का सामना ना

करना

पड इसलिए मैं तुम्हें सचेत कर रही हूं

मेरे बच्चे अपनी माता रानी को मानते हो तो

आई लव यू माता रानी लिखकर इस चैनल को

सब्सक्राइब कर दीजिए मेरे बच्चे कहां सहना

है कहां कहना है इस बात का विशेष ध्यान दो

मेरे बच्चे तुम्हारे जीवन में कई लोग ऐसे

हैं जो तुम्हें आगे बढ़ने से रोक रहे हैं

जब भी तुम कुछ नया करने की सोच रहे हो तो

वह तुम्हारे मार्ग में अवरोध उत्पन्न कर

रहे हैं तुम उनसे भली भांति परिचित हो

परंतु फिर भी तुम अनदेखा कर रहे हो जबकि

उनकी हर क्रिया का उत्तर देने में तुम

समर्थ हो मेरे बच्चे बाहरी लोगों से

तुम्हारा यह व्यवहार सर्वथा उचित किसी से

शत्रुता पालना कहीं से भी तुम्हारे लिए

हितकारी नहीं है परंतु यही व्यवहार

तुम्हें अपने माता-पिता या परिवार के

सदस्यों के साथ भी करना है मेरे बच्चे जब

तुम्हारे किसी कार्य में तुम्हें असफलता

मिलती है तो तुम मानसिक तनाव लेते हो तनाव

से क्रोध उन्न होता है और क्रोध से बुद्धि

का विनाश होता है तुम अपनी असफलता का दोषी

अपनों को ही समझते हो परंतु दोष तुम्हारे

भीतर है तुम्हारे मन में स्थिरता नहीं है

तुम्हारे कार्यों में निरंतरता नहीं है

तुम अपने कार्य को समय पर नहीं करते बस

योजनाएं बनाते हो तुम्हारा मन अनेक चीजों

पर भागता है मेरे बच्चे मन को एकाग्र कर

दृढ़ निश्चय के साथ जब कोई अपने कार्य में

संलग्न हो जाता है तो सफलता अवश्य प्राप्त

होती है मेरे बच्चे अपने संदेश के माध्यम

से मैं तुम्हें यह कहना चाहती हूं कि

मर्यादा का पालन करना अनिवार्य है दूसरों

के अलावा अपने दुर्गुणों को देखो और उसम

सुधार करो माता-पिता का स्थान सबसे ऊंचा

है उनका सम्मान करो सब मंगलमय होगा मेरे

बच्चे आठ आठ आठ लिखकर इस संदेश को शेयर कर

दीजिए मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि

तुम्हारे जीवन में किस चीज की कमी है तुम

किस चीज के लिए मेहनत कर रहे हो और किस

चीज पर ध्यान नहीं दे रहे हो मेरे बच्चे

तुम अपनी जरूरतों के लिए कार्य कर रहे हो

अपनी इच्छाओं को पूर्ण करने का प्रयास कर

रहे हो किंतु तुम कुछ कार्य ऐसे भी कर रहे

हो जिस पर तुम्हें ध्यान देने की आवश्यकता

नहीं मेरे बच्चे मुझे झा तुम्हारा भरोसा

संसार से उठ गया क्योंकि तुम्हें अपनों से

परायो से और हर उस इंसान से दुख मिला है

जिसे तुमने बहुत प्यार दिया है किंतु मेरे

बच्चे इसमें किसी का कोई दोष नहीं हर कोई

मेरे आदेश का पालन कर रहा है मेरे बच्चे

कोई भी मेरी दृष्टि से छुपा नहीं है मैं

सबकी प्रतिक्रियाओं को देख रही हूं मेरे

बच्चे तुम्हें

Leave a Comment