मां दुर्गा 🕉️तुम्हारे खिलाफ लाख षड्यंत्र रचने के बाद भी वह तड़प रहा है मैं आ रही हूं

मेरे बच्चे मुझे पता है तुम बहुत तनाव में

हो तुम बहुत रो रहे हो और बार-बार चीख चीख

कर मुझसे मदद की गुहार कर रहे हो तुम बहुत

रो रहे हो मेरे बच्चे और तुम्हारा मन बहुत

विचलित है तुम बार-बार मुझसे यही कह रहे

हो कि माता अब मेरी मदद कर दो वरना यह

जीवन खत्म कर दो मुझे अपने पास बुला लो

मुझे संसार में नहीं रहना है मुझे इस

संसार में नहीं रहना माता जहां पर मुझे

कोई नहीं समझता है मैं अपनी मेहनत का खाना

चाहता हूं अपनी मेहनत से सब कुछ पाना

चाहता हूं लोगों को तो उस मेहनत से भी

दिक्कत है मैं उनके हक का नहीं खा रहा

माता मैं किसी से कुछ नहीं छीन रहा हूं

किसी से कुछ नहीं मांग रहा हूं मैं तो कभी

किसी का बुरा नहीं चाहता कभी किसी को बुरा

नहीं बोलता बस अपना कर्म करता हूं और अपने

कर्म की अपने फल अपनी परिश्रम का फल मांग

रहा हूं आपसे पर यह लोग तो मुझे उसमें भी

खुश नहीं रहने देना चाहते हैं यह लोग मुझे

मेरे सपनों को पूरा नहीं करने दे रहे हैं

माता और अब मुझसे यह सब नहीं देखा जा रहा

है आप जगत जननी है आप मेरी मां है मैंने

आपको अपनी मां से ज्यादा प्यार किया पर आप

अपने बच्चे को रोता हुआ देख रही है और वह

सब हंस रहे हैं और आप कुछ नहीं कर रही हैं

आप मेरी परीक्षा लेती जा रही हैं और ना

जाने कितने वर्षों से मैं अपने दिल को यह

दिलासा देकर परीक्षा दे रहा हूं कि मेरी

माता एक दिन मुझे फल देंगी पर अब मैं थक

गया हूं मां अब मैं थक गया हूं यह

परीक्षाएं दे देकर थक गया हूं लोगों के

षड्यंत्र देख देख कर मेरे अपने ही मुझे

आगे बढ़ता नहीं देखना चाहते हैं जिनको

मैंने अपना संसार दे दिया जिनको मैं अपना

संसार मान बैठा वो लोग ही मुझे नीचे खींच

रहे हैं वो लोग ही मुझे प्रतिदिन

प्रताड़ित करते हैं रोते हैं मुझे एक वक्त

का खाना तक सुकून से नहीं खाने देते तब भी

मैं मेहनत करता रहा इतने वर्षों से तब भी

मैं उठकर यह सोचता रहा कि एक दिन मेरी

माता आएंगी एक दिन मेरी माता मुझे मेरे

परिश्रम का फल देंगी मेरे एक छोटे से छोटे

काम के लिए मुझे बाकियों से गुना

ज्यादा परिश्रम करनी पड़ी तो आप मुझे नहीं

समझ में आ रहा है कि आप मुझे किस और लेकर

जा रही हैं मुझे पता है तुम बहुत रो रहे

हो मेरे बच्चे तुम्हारे गुहार सुन रही हूं

मैं मैं सब देख रही हूं बस ऐसे टूटू मत

बहुत जल्द ही मैं तुम्हें तुम्हारे जीवन

का सबसे बधा शुभ समाचार देने वाली हूं

तुम्हारी वह इच्छा तुम्हारे यह कष्ट जो

बहुत लंबे अरसे से चले आ रहे हैं वह सब

खत्म हो जाएंगे तुम्हारे जीवन में एक

संतुलन होगा तुम्हारे साथ ऐसा हुआ है कि

जब तुम मन से ठीक होते थे तब तुम्हारा

शरीर साथ नहीं देता था तुम्हारे दिमाग में

अलग-अलग बातें चलती थी तुम बहुत विचलित

रहते थे पर अब वह सब कुछ खत्म होने वाला

है तुम्हारे शत्रु बहुत चाल चल रहे हैं पर

हमेशा एक बात याद रखना

जिसके सिर पर मेरा हाथ हो उसका कोई कुछ

नहीं बिगाड़ सकता है वह जो षड्यंत्र

तुम्हारे खिलाफ रच रहे थे तुम मुझसे यही

पूछते हो ना कि अगर आप मेरी माता हो तो आप

यह ऐसा होने ही क्यों दे रहे हो वह मुझे

प्रताड़ित कर रहे हैं वह मुझे मार रहे हैं

वह मुझे गालियां दे रहे हैं वह क्या कुछ

नहीं कर रहे हैं मेरे खिलाफ आप यह सब कुछ

होने ही क्यों दे रहे हो मेरे बच्चे मैं

तो उनके पाप का घड़ा भरने का इंतजार कर

रही थी और अब उनके ऊपर जो लाठी चलेगी उसका

तुम अंदाजा नहीं लगा सकते हो उनको उनके

कर्मों का उनके पापों का जो फल मिलेगा

उसका अंदाजा तुम्हें नहीं है पर उनको क्या

फल मिलेगा यह तुम्हारे विचार करने की बात

ही नहीं है तुम्हारी बहुत परीक्षाएं ले ली

मैंने अब तुम अपनी माता का प्रेम देखोगे

अब मैं तुम्हें वह सब कुछ दूंगी जिसके तुम

हकदार हो तुम्हारे साथ बहुत धोखा धी हुई

पैसे से लेकर तुम्हारा स्वास्थ्य खराब रहा

तुम्हारे पर परिवार में भी कोई है जिसका

स्वास्थ्य बहुत लंबे अरसे से खराब है उसका

स्वास्थ्य भी ठीक करूंगी मैं अब तुम्हारे

सुकून के दिन शुरू होंगे मेरे बच्चे और वह

लोग जो तुम्हारे खिलाफ षड्यंत्र रच रहे

हैं जो तुम्हारे कार्य में बाधाएं डाल रहे

हैं वह सब भी धीरे-धीरे करके खत्म होंगे

तुम्हारे उन शत्रुओं का मनोबल टूटेगा अब

मैं उनको दंड दूंगी और तुम्हें तुम्हारे

कर्मों का फल दूंगी बस थोड़ा समय और है

जैसे तुमने इतने लंबे अरसे इंतजार किया

इतने लंबे अरसे अपनी माता पर यकीन रखा

थोड़ा और कर लो क्योंकि मैंने जो तुम्हारे

लिए सोच रखा है वो तुम्हारी कल्पना से परे

हैं मेरे बच्चे मुझे पता है तुमने बहुत

कष्ट सहा है तुम टूटे नहीं और तुम हार

मानने वालों में से नहीं हो अब अपने आप को

प्रतिफल यह याद दिलाते रहो कि चाहे कुछ भी

हो जाए तुम हार नहीं मान सकते मेरे बच्चे

तुम ऐसे टूट नहीं सकते हो जीवन में सिर्फ

दुख ही तो देखा है तुमने क्या वह सुख

देखने से पहले ही हिम्मत हारना चाहते हो

तुम तो हिम्मत मत हारो अपनी माता पर यकीन

रखो मुझे पता है तुमने कोई बिजनेस शुरू

किया कहीं काम किया किसी चीज की परीक्षा

की तैयारी की हर चीज में बहुत परिश्रम के

बाद भी काम होते होते बिगड़ गया जो

तुम्हारा काम बना भी तो तुम्हें जो श्रेय

मिलना चाहिए था वह लोगों ने तुम्हें नहीं

दिया पर तुम उन लोगों की प्रशंसा के

मोहताज नहीं हो क्योंकि तुम्हारी माता अब

तुम्हारी प्रशंसा करने वा है अब तुम्हें

इन लोगों के आगे मदद के लिए हाथ नहीं

फैलाना पड़ेगा तो ऐसे रो मत अपने लिए खड़े

हो और अपने लिए लड़ो तभी मैं तुम्हारे साथ

लडूंगी अब तुम जंग जीतने वाले हो अब हार

मानकर ऐसे भागना मत मेरे बच्चे अब हिम्मत

मत हारना और अब उन लोगों को मत दिखाना कि

तुम टूट रहे हो तुम्हारी माता का आशीर्वाद

हमेशा तुम्हारे साथ है और वह सब कुछ अब

तुम्हें मिलेगा जिसकी तुमने कभी कामना की

थी मेरे बच्चे मुझे पता है तुम जितना

प्रेम मुझसे करते हो शायद ही किसी से कर

पाओ जितना यकीन तुम्हें मुझ पर है शायद ही

किसी पर हो तो तुम्हें यह भी पता है मेरे

बच्चे की मेरे अलावा इस पूरे संसार में

कोई तुम्हारा अपना नहीं है कोई ऐसा नहीं

है जो तुम्हारे दुख दर्द को दिल से सुने

लोग सुनने का दिखावा तो करते हैं पर कोई

तुम्हारा दर्द समझ नहीं सकता जैसे

तुम्हारी माता समझती है कोई तुम्हारे आंसू

पर वैसे रो नहीं सकता

मेरे बच्चे जैसे मैं रोती हूं मुझे पता है

तुम अकेले में आज भी बहुत रोते हो बहुत

सारी चिंताएं ऐसी है जो तुम्हारे मन को

भारी कर देती है बहुत सारी बातें ऐसी हैं

जो तुम किसी को बता ही नहीं सकते हो तुम

अपने अंदर ही उन बातों को रखकर घुटने चले

जा रहे हो मेरे बच्चे जब तुम अकेले बैठते

हो तो उन बातों के अंधेरे पन में खो जाते

हो फिर तुम्हें संसार में कुछ भी सही नहीं

दिखता है लोगों ने तुम्हारे साथ वक्त वक्त

प छल किया वो पराए होते तो शायद तुम एक

बार भूल भी जाते पर हो तुम्हारे अपने थे

जिन्होंने तुम्हारे पीठ पीछे वार किया और

आज भी ऐसे लोग हैं मेरे बच्चे और तुम्हें

बहुत अच्छे से पता है वो लोग कौन है जो

तुम्हारे अपने नहीं है पर अपने होने का

दिखावा कर रहे हैं और तुम आज भी उन लोगों

की बातों पर रोते हो तुम्हें पता है कि वो

लोग तुम्हारे पीठ पीछे वार कर रहे हैं फिर

भी तुम उनकी सेवा करते चले जा रहे हो फिर

तो फिर भी तुम उनकी सारी बातें मानते चले

जा रहे हो फिर भी तुम उनकी सारी बातें

सुनते चले जा रहे हो फिर अकेले बैठ के तुम

रोते हो कि माता मैं तो उनके लिए इतना कुछ

कर रहा हूं क्या मैं इतना बुरा हूं कि कोई

मुझसे झूठा प्रेम भी नहीं कर पा रहा है

क्या मैं इतना बुरा हूं जो बुरा जगह पूरा

संसार मिलकर मुझे नीचे खींचने की कोशिश कर

रहा है पर मुझे यह नहीं समझ आता जो

तुम्हारा दिल जानता है जब तुम्हारी

अंतरात्मा जानती है कि मेरे अलावा

तुम्हारा कोई अपना नहीं है तो तुम उन

लोगों से इतनी उम्मीदें ही क्यों लगा बैठे

हो अगर वह तुम्हारे साथ इतना बुरा बर्ताव

करते हैं जब तुम्हें यह पता चल रहा है कि

वह पीछे-पीछे तुम्हारे लिए क्या-क्या बोल

रहे हैं तो तुम उनके साथ अपने संबंधों को

खत्म क्यों नहीं कर देते हो तुम खुद को उन

लोगों के लिए इतना नीचे क्यों दिखा रहे हो

इतना नीचे क्यों गिर जा रहे हो मेरे बच्चे

कि उनकी हर कहीं बात सुन रहे हो व किसी से

कुछ कह देते हैं किसी से कुछ बोल देते हैं

तुम्हारा बना बनाया काम बिगाड़ दे रहे हैं

वो लोग फिर भी तुम्हारे अंदर इतनी हिम्मत

नहीं हो रही कि तुम उनसे जाकर उनके मुंह

पर बोल सको कि आपने ऐसा किया है मेरे साथ

फिर भी तुम उनकी सारी बातें हंस कर सुन

रहे हो और तुम आज भी उनका भला चाह रहे हो

यही कोमलता है तुम्हारे हृदय में जो लोग

नहीं समझ पा रहे हैं मेरे बच्चे और वह कभी

नहीं समझेंगे तुम उनके लिए मर भी जाओ तब

भी वह यह नहीं समझेंगे कि तुमने उन लोगों

से कितना प्रेम किया तुम मुझसे आज भी

मांगते हो कि माता मुझ मुझे किसी का प्रेम

दे दो माता मुझे यह दे दो माता मेरा विवाह

करा दो माता क्या तुम्हें ऐसे लोगों के

साथ अपना भविष्य देखना है इस जगत में और

भी बहुत सारी चीजें हैं मेरे बच्चे

तुम्हें करनी है उन बातों पर ध्यान दो

उसमें भी खुशियां हैं जिन झूठी खुशियों प

तुम आज हंस रहे हो जिन झूठी खुशियों प तुम

आज खुश हो रहे हो तुम अपने दिल से पूछो

क्या तुम सच में खुश हो इन जिम्मेदारियों

के बोझ तले क्या तुम सच में खुश हो मेरे

बच्चे कई रिश्ते जो तुमने बना रखे हैं जो

तुम्हारे धन दौलत पे है जो तुम्हारे पैसों

पे है जो सिर्फ तुम्हारे अच्छे दिनों में

क्या यह रिश्ते तुम्हारे सच्चे हैं अगर यह

रिश्ते सच्चे होते तो तुम कभी अकेले बैठ

के ना रोते मेरे बच्चे तो ऐसे रिश्तों को

अपने जीवन में रखो ही मत जो तुम्हारे मन

को भारी कर रहे हैं ऐसे रिश्तों को अपने

जीवन में रखो ही मत जो उस भीड डा में भी

तुम्हारे अकेलापन महसूस करवा रहे हैं उन

रास्तों से दूर हो जाओ और बस एक रिश्ता

रखो मुझसे अपनी माता से अपने पिता से तुम

कभी अकेले नहीं होंगे तुम अकेले बैठे भी

होंगे तब भी तुम्हें वहां मेरा एहसास जरूर

होगा इस दुनिया से उम्मीद छोड़ दो अपने

सपनों के पीछे भागो उनके लिए रो अपने

सपनों को पूरा करने के लिए रो मेरे बच्चे

फिर देखना कोई व्यक्ति तुम्हारा इस्तेमाल

नहीं कर पाएगा जब तुम इतना व्यस्त रहोगे

अपने सपनों को पाने में तो तुम्हें इस

दुनिया की शोर सुनाई नहीं देगी मेरे बच्चे

लोग क्या कह रहे हैं तुम्हें सुनाई नहीं

देगा ऐसे लोगों के पीछे ऐसे लोगों से

रिश्ता कब तक निभा लोगे तुम और क्यों

निभाना है तुम्हें ऐसे लोगों से रिश्ता जब

मैं स्वयं तुम्हारे साथ खड्डी हूं जो

तुम्हारा रिश्ता मुझसे जो तुम्हारा हृदय

तुम्हारा दिमाग तुम्हारा शरीर तुम्हारे

अतरा आत्मा जानती है कि मैं तुम्हारी माता

हूं तो तुम्हें इस दुनिया के झूठे रिश्तों

में फंसकर क्यों रो रहे हैं और अपनी माता

को क्यों रुला रहे हो मेरे बच्चे तुम्हारे

लिए मैंने ब्रह्मांड की सारी खुशियां लेकर

रखी है पर तुम्हें तो सिर्फ इस दुनिया की

खुशियां चाहिए वो झूठी खुशियां चाहिए उन

खुशियों के लिए तुम बार-बार मेरे दर पर

आकर रो रहे हो एक बार जरूर सोचो कि क्या

तुम यह सही कर रहे हो आज निर्णय ले ही लो

मेरे बच्चे कि तुम्हें इन दुनिया के झूठे

रिश्ते चाहिए या तुम्हें तुम्हारी माता के

साथ अपना रिश्ता चाहिए क्योंकि मैं

तुम्हें कभी नहीं रुला उंगीयर्ड

करर चलने लगोगे मैं तो तुम्हे कभी गिरने

नहीं दूंगी मेरे बच्चे मैं कभी तुम्हें

अकेला नहीं छोडूंगी जैसे यह सब छोड़कर चले

जाते हैं अपनी माता पर यकीन रखो और जहां

तुम्हारे साथ गलत बर्ताव हो रहा है वहां

से उठकर चले जाओ वैसे लोगों को पीछे छोड़

ठ दो ओम नमः शिवाय मेरी परीक्षा लेती जा

रही है और ना जाने कितने वर्षों से मैं

अपने दिल को यह दिलासा देकर परीक्षा दे

रहा हूं कि मेरी माता एक दिन मुझे फल

देंगी पर अब मैं थक गया हूं मां अब मैं थक

गया हूं ये परीक्षाएं दे देकर थक गया हूं

लोगों के षड्यंत्र देख देखकर मेरे अपने ही

मुझे आगे बढ़ता नहीं देखना चाहते हैं

जिनको मैंने अपना संसार दे दिया जिनको मैं

अपना संसार मान बैठा वो लोग ही मुझे नीचे

खींच रहे हैं वो लोग ही मुझे प्रतिदिन

प्रताड़ित करते हैं रोते हैं मुझे एक वक्त

का खाना तक सुकून से नहीं खाने देते तब भी

मैं मेहनत करता रहा इतने वर्षों से तब भी

मैं उठकर यह सोचता रहा कि एक दिन मेरी

माता आएंगी एक दिन मेरी माता मुझे मेरे

परिश्रम का फल देंगी मेरे एक छोटे से छोटे

काम के लिए मुझे बाकियों से गुना

ज्यादा परिश्रम करनी पड़ी तो आप मुझे नहीं

समझ में आ रहा है कि आप मुझे किस और लेकर

जा रहे हैं मुझे पता है तुम बहुत रो रहे

हो मेरे बच्चे तुम्हारे गुहार सुन रही हूं

मैं मैं सब देख रही हूं बस ऐसे टूटू मत

बहुत जल्द ही मैं तुम्हें तुम्हारे जीवन

का सबसे बधा शुभ समाचार देने वाली हूं तुम

री वह इच्छा तुम्हारे यह कष्ट जो बहुत

लंबे अरसे से चले आ रहे हैं वह सब खत्म हो

जाएंगे तुम्हारे जीवन में एक संतुलन होगा

तुम्हारे साथ ऐसा हुआ है कि जब तुम मन से

ठीक होते थे तब तुम्हारा शरीर साथ नहीं

देता था तुम्हारे दिमाग में अलग-अलग बातें

चलती थी तुम बहुत विचलित रहते थे पर अब वह

सब कुछ खत्म होने वाला है तुम्हारे शत्रु

बहुत चाल चल रहे हैं पर हमेशा एक बात याद

रखना जिसके सिर पर मेरा हाथ हो उसका कोई

कुछ नहीं बिगाड़ सकता है वो जो षड्यंत्र

तुम्हारे खिलाफ रच रहे थे तुम मुझसे यही

पूछते हो ना कि अगर आप मेरी माता हो तो आप

यह ऐसा होने ही क्यों दे रहे हो वो मुझे

प्रताड़ित कर रहे हैं व मुझे मार रहे हैं

वो मुझे गालियां दे रहे हैं वो क्या कुछ

नहीं कर रहे हैं मेरे खिलाफ आप यह सब कुछ

होने ही क्यों दे रहे हो मेरे बच्चे मैं

तो उनके पाप का घड़ा भरने का इंतजार कर

रही थी और अब उनके ऊपर जो लाठी चलेगी उसका

तुम अंदाजा नहीं लगा सकते हो उनको उनके

कर्मों का उनके पापों का जो फल मिलेगा

उसका अंदाजा तुम्हें नहीं है पर उनको क्या

फल मिलेगा यह तुम्हारे विचार करने की बात

ही नहीं है तुम्हारी बहुत परीक्षाएं ले ली

मैंने अब तुम अपनी माता का प्रेम देखोगे

अब मैं तुम्हें वह सब कुछ दूंगी जिसके तुम

हकदार हो तुम्हारे साथ बहुत धोखा धड ही

हुई पैसे से लेकर तुम्हारा स्वास्थ्य खराब

रहा तुम्हारे परिवार में को जि स्वा बहुत

Leave a Comment