मां दुर्गा 🕉️ अगर सच में अपनी माता मानते हो तो इसे खोलो आपके घर में मां दुर्गा आने वाली है

मेरे बच्चे मैं आज तुमसे बहुत प्रश्न हूं
और मैं तुम्हें कुछ खास बात बताना चाहती
हूं जिन बटन को आज तक मैं तुमसे चपाती रही
तुम्हें कभी बताया नहीं क्योंकि उन बटन को
जन का समय अब ए चुका है और उसका करण केवल
यह है की तुमने वह एक ऐसा कार्य किया है
जिसको करके तुमने मेरे दिल को बहुत प्रश्न
किया है

इसी करण मैं तुम्हें उसे बात को बताना
चाहती हूं जिसे जन के बाद तो मैं आश्चर्य
होगा लेकिन तुम्हारी आंखें भी खली की खली
र जाएगी किस चिंता में पड़े हुए हो सब
चिटा को छोड़ दो इस बात को ध्यान रखो के
मेरे बच्चे जी प्रकार तुम्हारी चंद देने
वाली मां तुमसे कुछ नहीं चपाती इस प्रकार
मैं भी

है तुम्हारी मां होते हुए तुमसे कुछ नहीं
छुपाना चाहती और आज तो मैं वैसे ही बहुत
ज्यादा प्रश्न हूं तो मैं कुछ तुमसे

छुपाना नहीं बल्कि तुम्हें ऐसा कुछ बताना
चाहती हूं जो आज तक कभी बता नहीं साकी
मेरा बच्चा इतना नादान और भोला है की मेरे
बिना कहे कुछ बटन को समझ नहीं पाएगा इसलिए
आज मुझे कुछ बातें स्पष्ट रूप से बता देने
जरूरी होगी जिनको ध्यानपूर्वक सुना और

समझना मेरे बच्चे क्योंकि यदि तुम ध्यान
से नहीं सनोज तो तुम्हें बातें समझ में
नहीं आएंगे और तुम्हें लगेगा की पता नहीं
मैंने तुम्हें
क्या बताया है उसमें जो बताया है
वह कुछ खास नहीं
ऐसा
आवास होगा इसलिए मैं तुम्हें स्पष्ट रूप
से इस बात को बता देना चाहती हूं की हर
इंसान के अंदर एक अच्छाई होती है और किसी
इंसान के अंदर एक ऐसा गुड होता है इंसान
तो क्या ईश्वर को भी प्रश्न कर देता है और
वही गन तुम्हारे

पास है और वह गुड है तुम्हारा सच बोलना
तुम सदैव तो सच बोलते हो उसे बात से मैं
बहुत ज्यादा प्रश्न हूं और अब समय ए गया
है यह जन का की तुमको

बहुत जल्दी ही तुम्हारी एक ऐसे व्यक्ति से
मुलाकात होने वाली है जो तुम्हें तुम्हारी
आर्थिक मदद करने वाला है तुम्हारी स्थिति
से उभरते के लिए वह तो मैं सहायता करेगा
यह निजी व्यक्ति तो मैं तुम्हारी सहायता
करने से पीछे नहीं हटेगा और तुम्हारी
सहायता करके तुम्हें मदद करेगा क्योंकि

मेरे बच्चे तुम भी तो अपने माता-पिता के
बहुत आजा मानते हो अपने माता-पिता को बहुत
खुश रखते हो तो दुनिया में जो इंसान
दूसरों के साथ खुशियां बताते हैं उन्हें
हर चीज

जल्दी ही प्राप्त होती है जो दूसरों के
दुख में दुखी होना जानता है उसकी परेशानी
ज्यादा पास नहीं आई एक ऐसा बुद्धिमान
व्यक्ति जो यह समझ लेट है की दुख और सुख
का हिसाब क्या

रहना उसका कम होता है और ऐसे कुछ व्यक्ति
है जो अपने सुख से खुश नहीं होते हैं और
दूसरों की खुशियों से दुखी होते हैं इंसान
को हर फल अपने कर्मों के हिसाब से मिलता
है क्योंकि कर्म ठीक इस पेड़ की तरह है जी
पेड़ पर फल इस प्रकार लगता हैं जी तरह का

पेड़ होता है यह देखिए इसी फल का पेड़
होता है तो उसमें मीठे फल लगता हैं और
किसी कड़वी फल के पेड़ में केवल कड़वे ही
लगता हैं जो तुम्हारे लिए हितकारी हैं
तुम्हारे जीवन को ऊंचाइयों के शिखर पर ले
जाऊंगी

मैं फिर आऊंगी तुमसे मिलने सदा खुश रहो
मेरे बच्चे

मेरे अगले संदेश की प्रतीक्षा करना
महाकाली कहते हैं मेरे बच्चे आज मैं तुमसे
एक अत्यंत महत्वपूर्ण बात करने आई हूं जो
तुम नहीं जानते मेरे बच्चे बुरे कर्मों का
फल हमेशा बड़ा ही होता है तो मैं इस बात
पर विश्वास नहीं है तुम सोचते हो की बुरे

लोग हमेशा खुश रहते हैं उनके साथ हमेशा
अच्छा होता है और अच्छे लोगों के साथ
हमेशा बड़ा होता है किंतु तुम्हारी सोच
अनुचित है मेरे बच्चे प्रकृति किसी को
नहीं छोड़ती बुरे लोगों का पाटन निश्चित
होता है बस तुम उसे देख नहीं पाते किसी के
धन का पाटन होता है तो किसी की मां का

पाटन होता है किसी के संबंधों का पाटन
होता है तो किसी के तन का पाटन होता है
मेरे बच्चे इसी भांति का उसका
मेरे बच्चे इसी भांति उसका भी पाटन शुरू
हो गया है जिसने तुम्हारे साथ चल किया है
तुम्हारा अपमान किया है मेरे बच्चे तुम

सोचते हो उसे तो कुछ भी नहीं हुआ वह तो
अच्छा भला है खुश है धन धनी से संपन्न है
और मेरे पास कुछ भी नहीं है शिवाय दुख
दर्द के मेरे बच्चे खुश दिखने और खुश होने
में बहुत अंतर होता है उसने तुम्हारे साथ

ही बड़ा नहीं किया बल्कि अन्य लोगों को भी
दुख पहुंचा है जिसका बड़ा परिणाम वह भुगत
रहा है उसके पास धन तो है किंतु मानसिक
शांति नहीं है वह हर समय बेचैन राहत है
उसके सारे संबंध जूते हैं कोई भी उसे

प्रेम नहीं करता हर कोई उससे अपना स्वार्थ
चाहता है इसलिए वह मां से अत्यंत दुखी है
और तुम सीधे हो सरल हो इसलिए तुम्हारे पास
भले ही धन ना हो किंतु मानसिक शांति है
तुम्हारे संबंध अच्छे हैं सब तुमसे प्रेम
करते हैं और मैं भी तुमसे अत्यंत प्रेम
करते हैं मेरे बच्चे तुम्हारे मां की
शांति

मैं काली मां तुम्हारे जीवन को बदलने आई
हूं कैसे हो मेरे प्रिया बच्चों तुम्हें
घबराने की आवश्यकता नहीं
अंधकार मैं दूर कर दूंगी तुम्हारा जीवन
बहुत सुनहरा किंतु तुम स्वयं को नहीं
पहचान का रहे हो तुम जो कर सकते हो वह कोई
और नहीं कर सकता है मैं तुम्हें रास्ता
दिखाने आई हूं ताकि तुम उसे रास्ते पर

चलकर अपने आप को कामयाब बना सको समय बड़ा
बलवान होता है कब किसके जीवन में कैसे समय
आता खुद भी नहीं जानता है इसलिए कभी भी
तुम अपने आप पर घमंड नहीं करना तुम्हारे
मुख्य जीव बहुत ही चंचल होती है इसलिए सोच
समझकर प्रयोग में लाना चाहिए क्योंकि
तुम्हारे मुंह से निकालने वाला एक-एक शब्द

कभी भी वापस नहीं ए सकता है
इसलिए बोलने से पहले हमेशा सोचो की तुम
कैसे शब्दों का प्रयोग कर रहे हो क्योंकि
शब्दों का मनुष्य के जीवन पर बहुत ज्यादा
प्रभाव पड़ता है बुरे शब्द का प्रभाव इतना
ज्यादा होता है की व्यक्ति को अंदर तक
तोड़ देता है और अच्छे शब्द का प्रभाव

इतना ज्यादा होता है की व्यक्ति अपने जीवन
के सभी कार्य ऊर्जावान तरीके से करता है
मेरे बच्चों जिन शब्दों से किसी की जिंदगी
में बदलाव आए ऐसे शब्दों का प्रयोग करो
तुम अपने जीवन में हर इंसान की सेवा करना
और किसी से उम्मीद मत रखना क्योंकि सेवा
की सही कीमत ईश्वर देते हैं इंसान नहीं
अगर तुम अच्छे कर्म करते जो तुम्हारे जीवन
में कभी बड़ा नहीं आएगी और कभी भी

जल्दबाजी में कार्य मत करना हमेशा तैयारी
और संयम बना कर कार्य करना सोच समझकर शांत
मां से किया गए निर्णय हमेशा तुम्हारे
जीवन में खुशियां प्रधान करते हैं इसलिए
मेरे बच्चों सच्चाई की र पर चलो सफलता खुद
ही तुम्हारे कदमों में होगी जो मनुष्य

अपने मां को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए
उनका मां ही एक दिन शत्रु के समाज कार्य
करता है इसलिए कभी भी अपने जीवन में किसी
के लिए बड़ा मत सोचो बड़ा मत बोलो जो इस
धरती पर आया है उसे एक ना एक दिन अवश्य
जाना होता है लेकिन जान से पहले तुम कैसे
कर्म करते हो यह तुम पर निर्भर करता है
इसलिए तुम अच्छे कर्म करो क्योंकि अगर तुम
अच्छे कर्म करोगे तो तुम्हारे जान के बाद
भी तुम्हें अच्छी बटन के लिए याद किया

जाएगा मैंने हर इंसान को उसके तरीके से
जीने की छठ दी है जैसे वह जीना चाहे वैसे
ही और अंत में सबका हिसाब उसे देना होता
है इसलिए मेरे बच्चों किसी को दुख देकर
तुम सुखी नहीं र सकते जीवन में आज नहीं तो
कल तुम्हें उसका हिसाब देना ही होता है

इसलिए अपने आप को गलत कार्य करने से बचाव
आजकल की दुनिया में लोग बस केवल स्वार्थ
के लिए जीते हैं और स्वार्थ के लिए ही
दूसरों को हनी पहुंचने हैं ऐसे कलयुग में
तुम केवल स्वयं पर विश्वास रखो यदि
तुम्हारी हिम्मत टूटने लगे तो तुम अपनी

आंखों को बैंड करके अपने उसे लक्ष्य को
याद करो जो तुमने देखा है और जहां से
तुमने शुरुआत की थी उसे दिन को याद करके
तुम स्वयं ही आगे बढ़ाने लगोगे जी प्रकार
संसार में लगातार भारी परिवर्तन हो रहा है
और गलत दिशा में कोशिश करने से मार्ग
प्राप्त नहीं होता मेरे बच्चों सही मार्ग

तब प्राप्त होगा जब तुम्हारे ऊपर मेरी
कृपा दृष्टि बनी रहेगी जब तुम उन कार्यों
को करते हो जिन कार्यों से तुम्हारे भाग्य
में ऊंचाइयां प्राप्त करना लिखा जाता है
नियम के अनुसार ही तुम्हें जो भी पूजा
करनी है वह करो और मेरी बटन पर पूर्ण
विश्वास रखो तुम्हारा विश्वास ही तुम्हें

जिताएगा जो मांगना है मुझे और मेरे सामने
तुम जो चाहे बोल सकते हो तुम्हारी माता
कभी भी अपने सच्चे भक्तों की मुराद को आज
स्वीकार नहीं करते वह हमेशा सच्चे भक्तों
की पुकार सुनती है और समय रहते ही
तुम्हारी साड़ी इच्छा को पूर्ण भी करती
हैं परंतु हर चीज का एक निश्चित समय होता
है तुम थोड़ा सब्र करो मेरे बच्चों मैं

समय रहते ही तुम्हारी उसे मुराद को पूरा
कर दूंगी बस तुम अपना विश्वास बनाए रखना
जो लोग आपकी तारीफ करके आपकी बहुत बधाई
करते हैं वही लोग आपको जीवन में सबसे
ज्यादा धोखा देते हैं मेरे बच्चे ऐसे

लोगों से दूर रहो आजकल के लोग सच को सुना
पसंद नहीं करते उन्हें झूठ ही सच लगता है
इसलिए मेरे बच्चों मैं आपको समझना चाहती
हूं की झूठ कभी फलता नहीं है आपको चाहे
कितनी मुश्किलें आएं लेकिन सच्चाई के

रास्ते पर ही आपको चलना है अब मेरी जान का
समय ए गया है मैं अपने धाम वापस जा रही
हूं मुझे तुम पर पूर्ण विश्वास है की तुम

मेरे इन बटन को अपने जीवन में अपना कर
सत्य के मार्ग पर चलोगे तथा जरूरतमंद
लोगों की सहायता करोगे सदा खुश रहो
तुम्हारा कल्याण हो

Leave a Comment