मां दुर्गा 🕉️ तुम्हारी मां तुम्हारे शत्रु से तुम्हें बचाने आई हैं

मेरे बच्चे व्यर्थ में चिंता मत करना मेरी
एक बात को याद रखना बस जो आज मैं तुम्हें
बताने वाली हूं केवल मुझमें पर भरोसा रखो
अगर तुम भरोसा रखोगे मेरी कुछ बटन पर तो
निश्चित तुम्हें मेरा यह संदेश पढ़ने के

अंत तक यह पूर्ण विश्वास हो जाएगा
की जो मैं बोल रही हूं वह सत्य है और
तुम्हें चिंता मुक्त रहना चाहिए मेरे बताए
हुए यदि कार्य को तुम कर रहे हो तो

तुम्हें चिंता नहीं करना चाहिए और यदि अभी
तक तुम नहीं किया हो तो आज मैं बता रही
हूं उन कार्य को करना प्रारंभ कर लो

और कुछ कार्य ऐसे
बैंड कर दो जैसे की तुम मेरी बोली हुई बात
पर विश्वास रखकर अमल करोगे धीरे-धीरे तुम
देखना तुम्हारे आने वाले भविष्य में
तुम्हें समस्या या चिंता करने की आवश्यकता
ही नहीं पड़ेगी क्योंकि परेशानियां तुमसे
कोसों दूर रहेगी

मेरे बच्चे बहुत लंबे समय से तुम मुझमें
तक अपनी प्रार्थना भेज रहे थे
सकारात्मक बाप के साथ-साथ तुमने बहुत कुछ
किया कई बार तुमने कुछ ऐसे परीक्षाएं भी
जो तुम्हारे लिए थे ही नहीं तुमने किसी और
के जीवन को सुखद बनाने के लिए वह
परीक्षाएं दिए

किंतु फिर भी आज तक तुम्हें उचित फल
प्राप्त नहीं हो का रहा है मेरे बच्चे भले
ही कितनी डर हो जाए किंतु मैं न्याय करती
हूं आज मैं इस संदेश के मध्य से तुम्हें
यह बताना चाहती हूं की आज की प्रार्थना
स्वीकार कर ली गई है

मैं जानती हूं की तुम चोरी छुपी किसी की
सहायता की तुमने किसी का भला किया तुमने
चोरी छुपी किसी की मदद की उसकी सहायता की
इन सबको जोड़कर अब तुम्हें फैन मिलेगा
तुमने किसी की भी नहीं सनी और एक कम आगे
बढ़कर पैसा लिया

अब उसका भरपूर फल प्राप्त करने का उचित
समय ए
गायक्ति हो जो हर समय सकारात्मक रहते हो
दूसरों के बड़े में सोचते हो और हमेशा
अच्छा ही अच्छा होगी ऐसी कल्पना करते हो
मेरे बच्चे मैं तुम्हारे साथ भरपूर न्याय
करूंगी

तुम्हारे सकारात्मक के दिन अच्छे दिन आज
से प्रारंभ होते हैं दिन प्रतिदिन छोटी
बड़ी श्रेष्ठ सफलता तुम्हें प्राप्त होने
लगेगी और सब कुछ अच्छा होता चला जाएगा
संबंधों में मिठास
उल्टे चले जाएंगे

जो भी कार्य करोगे वहां बनते चले जाएंगे
बिगड़ी वाली जगह पर भी यदि तुम पहुंचने हो
तो वह बात बन जाएगी मैं तुमसे कहना चाहती
हूं की सकारात्मक जीवन का तुम्हारा इंतजार
कर रहा है

सकारात्मक रहो और आगे बाढ़ हो
मेरे बच्चे मैं जानती हूं की तुम प्रत्येक
क्षण मेरा स्मरण करते हो इसलिए तो
तुम्हारी पुकार सुनकर ए जाति हूं इसलिए
चाहती हूं की आप तनिक मुस्कुरा भी दो
क्योंकि कल कुछ संभव होने वाला है मेरे
बच्चे तुम्हें एक अच्छी खबर सुनने को
मिलेगी

जो तुम्हें हृदय से प्रसन्नता देगी मेरे
बच्चे कल पवित्र भाव से अपने भगवान को याद
करके उन्हें अपनी हर एक आशीर्वाद के लिए
धन्यवाद कहना मेरे बच्चे जब व्यक्ति के
ग्रह नक्षत्र बदलते हैं तब जीवन में छोटी
भी खुशियों का आगमन होने ग जाता है
तुम्हें जो भी छोटी बड़ी खुशियां प्राप्त

होगी उन्हें पुरी उत्साह के साथ स्वीकार
करना चाहिए जो व्यक्ति हर दिन छोटी सी
छोटी कामयाबी को अपनी प्रसन्नता बना लेट
है तो प्राकृतिक उन्हें और भी बड़े बड़े
अवसर देती है प्रश्न होने के लिए

मैंने कुछ ऐसे बच्चे को देखा है जो निरसा
होने का कोई ना कोई करण ढूंढ

इसलिए कभी भी छोटी कामयाबी को नजर अंदाज
नहीं करना चाहिए क्योंकि एक-एक सीधी चढ़कर
ही शिखर पर पहुंच जाता है
मेरे बच्चे तुम इतने कामयाब हो जाओगे
तुम्हारी समय की रफ्तार कई गुना बाढ़
जाएगी छोटे-छोटे पाल का आनंद लेना सरल हो
जाएगा इसलिए मेरे बच्चे जीवन के हर एक पाल
में वास्तविक जीवन जीना चाहिए वही तो
अद्भुत जीवन है

अन्यथा बिना किसी उत्साह के कार्य करते
चले जाना यह एक मशीन के समाज है तुम्हें
मैंने सबसे सुंदर रचना बनाया है मेरे
बच्चे जब तुम जीवन को उत्साह से जीते हो
तब मुझे यह देखकर अति प्रश्न होता है

मैंने देखा तुम स्वयं से पहले दूसरों के
बड़े में सोचते हो मेरे बच्चे यहां देख कर
मुझे तुम पर गर्व होता है तुम जी कामयाबी
की अभिलाषा कर रहे हो वह तुम्हें अवश्य ही
मिलेगा मेरे बच्चे तुम्हें इतना मिलेगा जो
तुम्हारे लिए एकत्र करना भी कठिन हो जाएगा

किंतु एक बात का स्मरण रखना मेरे बच्चे
तुम्हारा विचार इसी प्रकार निर्मल रहना
चाहिए मैं देख रही हूं की तुम दो दोनों से
परेशान हो तुम्हें अपनों की बातें और जो
तुम सपना में देख रहे हो उसको लेकर चिंतित
में हो

आध्यात्मिक विकास के साथ में जो संकेत
प्राप्त होते हैं वह तुम्हें प्रसन्नता के
साथ-साथ कई प्रश्न भी देते हैं मेरे बच्चे
तुम्हें घबराना नहीं है तुम स्वप्न में एक
साथ भूत और भविष्य देख रहे हो वह तुम्हारे
पूर्व जन्म के कुछ चलचित्र रहे जो अचानक
तुम्हारे स्वप्न में ए जाते हैं

और कभी कभी तुम भविष्य की कुछ घटनाएं भी
देख लेते हो जब ध्यान करते हो तो प्रकाश
की कुंज दिखता है कभी कभी मां और सर दोनों
ही भारी राहत है इन सबसे भयभीत होने की
आवश्यकता नहीं है
तुम धीरे-धीरे अपने सूक्ष्म शरीर के प्रति
सचेत और जागृत हो रहे हो मैंने तुम्हें

अपना सुरक्षा कवच प्रधान किया है जो हर एक
स्थिति में तुम्हें मेरे साथ होने का
एहसास करता रहेगा जब तुम मेरी तरफ एक कम
बढ़ते हो तब मैं प्रेम से सैकड़ो कम भागते
हुए तुम्हारी और आई हूं

Leave a Comment