मां दुर्गा 🕉️ मैं तुमसे बात करना चाहती हूं, तुम इस बात को समझ लो

मेरे बच्चे तुम यदि आशा वादी हो प्रत्येक

वास्तु को आशावादी दृष्टिकोण से देखते हो

उसका उज्जवल पक्ष देखते हो और यह मानते हो

की जहां सत्य है वहीं विजय है तब तुम अपनी

ही नहीं बल्कि विश्व भर का उधर कर सकते हो

मेरे बच्चे यह आशावाद एक अमृत है इस अमृत

से जीवन मिलता है जी प्रकार जी प्रकार

सूरज सृष्टि को वनस्पति को पशु पक्षियों

को जीवन दान देता है इस प्रकार आशावाद भी

है मां रूपी सूर्य के विकास से तुम्हारा

जीवन भी विकसित होता है तुम्हारी मानसिक

शक्तियां फलती फुलते हैं मेरे बच्चे

है जो लोग हर चीज को निराशावादी दृष्टिकोण

से देखते हैं

अंधकारमय पहलू पर दृष्टि रखते हैं असफलता

और बुराई के विचार उनके मां में जेड जमाई

रखते हैं वे सदा अंधकार दुख और दरिद्रता

में फैंस रहते हैं अपने समाज गुड धर्म

वाली वास्तु या पदार्थ की और ही कोई

पदार्थ खींचना है तुम किसी वास्तु की आशा

करते हो और उसे अपने की कोशिश करते हो तो

वह आपकी और खींचना है क्योंकि तुम उसका

विचार करते हो और इसके गन धर्म वाले

व्यक्ति को कोई वास्तु कभी नहीं खींचना है

विचारों का भी यही सिद्धांत

उन सब विचारों को दूर कर दो जो समृद्धि के

विरुद्ध है दरिद्रता के विचारों को मां के

निकट भी ना आने दो बस समृद्धि की बातें

करो अपने को समृद्ध शैली समझो और रहो मां

वचन और कर्म से कार्य करते रहो मां में

केवल उन्हें विचारों को जग दो जींस तुम

आनंदित होते हो उन्हें वास्तु का विचार

करो जिन्हें प्रकार तुम्हें सुख और आनंद

की अनुभूति होती है मेरे बच्चे ऐसा करने

से तुम पदार्थ को अपनी और खींच सकते हो

मनुष्य के कार्य और इसके उद्देश्य में

बड़ा गहरा संबंध है किसी प्रकार के दुखद

और संदेह प्रधान विचार कभी भी तुम्हें

उन्नति की और नहीं ले जा सकते तुम परेशान

ही रहोगे यदि इन परेशानियां से छुटकारा

चाहते हो तो जो कार्य तुम करते हो

है उसे अपने कोई मजबूरी मत मानो पुरी

शक्ति और मान्या से उसे कार्य को करो जो

व्यक्ति सोचता राहत है की वह तो सदा इस

छोटे कम को करने को मजबूर है और इसी

स्थिति में रहेगा कभी प्रगति नहीं करेगा

तो यह निश्चित है की वह व्यक्ति सदा बड़ा

स्थिति में रहेगा कभी उसकी स्थिति नहीं

सुधार शक्ति क्योंकि विचारों का

दुष्प्रभाव व्यक्ति के समस्त व्यक्तित्व

पर पड़ता है इसके विपरीत जो व्यक्ति जीवन

को प्रकाशन और सौंदर्य देखा है उसके दुख

में जीवन का शीघ्र अंत हो जाता है सभी दुख

दर्द दूर हो जाते हैं दुखों से भारी

रात्रि दूर से जाएगी और सुखों का प्रभात ए

जाएगा

मेरे बच्चे

और आनंद है निर्विकार और निर्दोष भाव से

अपने लक्ष्य की और बढ़ो विश्वास में

दृढ़ता और संकल्प के साथ-साथ तुम्हारी

योग्यताएं भी हनी चाहिए दृढ़ विश्वास में

असीम शक्ति है उत्पादन शक्ति का यह स्रोत

है किसी भी व्यक्ति के मां की इच्छाओं की

पूर्ति यही दृढ़ विश्वास और सफलताओं की

आशा करती है

क्योंकि उत्पादन शक्ति का विश्वास ही

प्रमुख आधार है मेरे बच्चे अब तुम दृढ़

विश्वास के साथ अपने कार्य में ग जो इन सब

बटन को अपने हृदय से निकाल दो की यह कार्य

कर रहे हो उसमें दृढ़ विश्वास रखो मेरे

बच्चे तुम्हें संसार के सबसे अनमोल बच्चे

हो इसलिए संसार में तुम्हें किसी भी चीज

से घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है

तुम्हें सिर्फ अपने जीवन को बेहतर बनाने

और इस संसार को बेहतर बनाने में मदद करनी

चाहिए

Leave a Comment