यूपी में धरना देने वाले 746 किसानों पर तिरंगें के अपमान पर FIR आंदोलकारियो पर योगी का एक्शन

नमस्कार मैं हूं पवन त्यागी पंजाब से चले
हुए किसान आंदोलनकारी हरियाणा के बॉर्डर
पर जमावड़ा करके बैठे हुए हैं उनकी जिद्द
है कि हम दिल्ली कुछ करेंगे उसको देखते
हुए उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ ने

धारा 144 लगा दी और एस्मा लागू कर दिया था
क्योंकि यह खबर लगी थी उनको कि किसानों के
साथ-साथ कुछ ट्रेड यूनियन भी उत्तर प्रदेश
में हड़ताल धरने प्रदर्श कर सकते हैं तो 6
महीने के लिए एसमा लगा दिया बिना सूचना

दिए पुलिस किसी को भी गिरफ्तार कर देगी
अगर कोई धरना प्रदर्शन करने की कोशिश
करेगा इस एसमा लगा दिया गया पुलिस को
सूचना दे दी गई मीडिया में बता दिया गया
लेकिन इसके बावजूद भी कुछ किसान नेता

ग्रेटर नोएडा जिसको बोलते हैं वहां गौतम
बुद्ध जिले में धरना प्रदर्शन कर रहे थे
और इस धरने प्रदर्शन में हालांकि यह मामला
एसमा लगने के पहले का है वहां पर जो
अथॉरिटी है उस नोएडा प्राधिकरण में
उन्होंने वहां धरना प्रदर्शन किया और उस

धरने प्रदर्शन को लेकर अब नोएडा की पुलिस
ने लगभग 700 किसानों पर एफआईआर दर्ज कर दी
है मामला है तिरंगे के अपमान का अवैध धरने
प्रदर्शन का लोगों को डराने धमकाने का और
व्यवस्था में बाधा पैदा करने का अब

हड़बड़ाहट है अब यह किसान नेता कह रहे हैं
साहब एफआईआर की तो बात ही हुई थी पुलिस ने
तो मना किया था कोई एफआईआर नहीं हुए अब
हमारे नाम एफआईआर हो गई अब नेता घबराए हुए
घूम रहे हैं और अब उनकी हालत यह हो गई है
कि उनको लग रहा है कि अब तो बुलडोजर चलेगा

ही चलेगा और इसलिए एफआईआर वापस ली जाए
उसके लिए फिर धरना दे रहे हैं यानी एक
गलती पहले की दूसरी गलती उस गलती को ठीक
करने के लिए की जा रही है लेकिन इतना तो
तय है कि भले ही पंजाब के किसान चलकर

हरियाणा के बॉर्डर तक आ गए उनके पास पोक
मशीन है उनके पास बुलडोजर है बड़े-बड़े
ट्रैक्टर हैं पानी के टैंकर हैं और पूरा

अमला लेकर के वह चले हैं क्योंकि पंजाब की
पुलिस या सरकार उनको रोकने में कोई रुचि
ही नहीं दिखा रही है लेकिन उत्तर प्रदेश
में किसान नेता तो उत्तर प्रदेश में भी
हैं किसान तो उत्तर प्रदेश में भी हैं

लेकिन मजाल है कि यहां कोई चू बोल जाए मैं
खुद जो है प्रतिदिन दिल्ली यूपी बॉर्डर से
होकर गुजरता हूं सहज रूप से आम दिनों की
तरह ही ट्रैफिक चलता है पुलिस जरूर
एहतियातन बैठी हुई है कि कोई ट्रैक्टर
ट्रोली लेकर के दिल्ली कूछ के नाम पर

उत्तर प्रदेश से होते हुए ना आ जाए लेकिन
योगी जी की पुलिस बेहतरीन पुलिस और मैं तो
कहूंगा भारत में नंबर वन सारे थानों को
अलर्ट मोड पर रखा गया है सभी थानों के
थाना अध्यक्षों को स्पष्ट आदेश हैं उत्तर

प्रदेश के डीजीपी के कि किसी के भी एरिए
में अगर ट्रैक्टर ट्रोली चलती हुई दिल्ली
की तरफ जा रही है तुरंत उसको जप्त किया
जाए और जो भी ऐसा जिद्द करने वाला व्यक्ति

हो कि दिल्ली कुछ कर रहा हूं जेल में डाल
दिया जाए शक्ति से पेश आया जाए और उसका
नतीजा आप देखिए कि भले ही राकेश टिक
हुंकार भरते हुए दिखाई दे रहे हैं लेकिन
मजाल नहीं है मेरठ में तो गए वह लेकिन वह
मेरठ में भी किस लिए गए वह भी मैं खोल

नहीं रहा हूं कुछ चीजें अंदर ही रहने
दीजिए अगले आने वाले दिनों में आपको पता
चलेगा कि योगी जी का जो भय है वह किस कदर
है और क्या काम करने वाला है व एक बड़ा
काम राकेश टत के माध्यम से ही होने वाला
है यह राकेश टकेट यह दिखाने की कोशिश पूरी

करेंगे कि भैया बाबा जी मैं तो आपकी शरण
मेंही हूं और यहां चलेगा भी नहीं लेकिन आप
देखिए कि यह आंदोलनकारी किस तरह की बातें
करते हैं पहले मुआवजे को लेकर बात करेंगे
जमीन का मुआवजा हमें पूरा नहीं मिला जबकि
यहां नोएडा ग्रेटर नोएडा में कुछ चीजें
हुई हैं जरूर अधिकारियों के गड़बड़ी से
पहली सरकारों में यह हुआ है कि उनको

मुआवजे ठीक नहीं दिए गए जितना देना था
उतना नहीं दिया किसी को जमीन दूसरी जगह
देनी थी व नहीं दी गई यानी किसानों से जो
जमीन गांव की ली गई नोएडा प्राधिकरण ने ली
उसके बदले यह तय हुआ था कि आपको मुआवजा

प्लस आपको प्लॉट भी सेक्टर में दिए जाएंगे
अब कई
अनिमिनेशन के जो अधिकारी हैं उनके खिलाफ
भी मुकदमे भी दर्ज हुए हैं उन परे
कार्रवाई भी हुई है ट्रांसफर तो हुए ही

हुए हैं यानी पिछली सरकारों का जो गड़बड़ी
है अ निमिता है उस पर भी योगी जी उसको ठीक
कर रहे हैं प्राधिकरण में बैठे हुए लोगों
ने जिस तरह से भ्रष्टाचार किया वह किसी से

छुपा नहीं है लेकिन योगी जी का कहना यह है
प्रशासन पुलिस का कहना यह है कि आपको अपनी
कोई बात रखनी है आप अपनी बात पत्र लिखकर
कर सकते हैं 1020 लोग आइए अधिकारी से
मिलिए मुख्यमंत्री जी का पोर्टल है उस पर
डाल दीजिए शांति पूर्वक ढंग से अगर आप बात

करेंगे तो बात आपकी सुनी जाएगी समस्या का
समाधान भी किया जाएगा लेकिन आप तिरंगे का
अपमान करेंगे यह कोई कैसे सह सकता है असल
में जैसा मैंने बताया कि नोएडा प्राधिकरण
के कार्यालय में कुछ गौतम बुद्ध जिले के
किसान यह जो है भारतीय किसान परिषद के

राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं वो उनके सुखबीर
खलीफा और इनके जो है तत्वाधान में 18
जनवरी को इन्होने क्या किया कि वहां घेराव
कर दिया प्राधिकरण कार्यालय पर ताला लज
जड़ने की कोशिश की फिर बैरियर पर चढ़ गए
और बैरियर पर चढ़ गए तो उस बैरियर पर

तिरंगा लगा हुआ था और वह तिरंगा नीचे गिर
गया क्योंकि बैरियर टूट गया अब यह तिरंगे
का अपमान है इसी के कारण से आपको बताऊं
सुखबीर खलीफा राजेंद्र यादव जयप्रकाश आर्य
प्रेमपाल चौहान सोनू बदोली सत्यवीर चौहान
चेतराम यादव समेत 700 46 ऐसे लोगों पर
एफआईआर दर्ज हुई है और गंभीर धारा में हुई
है समझ रहे हैं तिरंगे का अपमान कोई आसान
काम नहीं है तो योगी जी का जो एक्शन है वो

साफ और बिल्कुल स्पष्ट है और इसके चलते
उत्तर प्रदेश में आप देख रहे हैं पिछली
बार क्या हुआ था गाजीपुर बॉर्डर को घेर कर
लोग बैठ गए थे चिल्ला बॉर्डर पर इस बार
बार-बार यह प्रयास किया जा रहा है कि हम

जो है आंदोलनकारी हैं जी मुआवजा ठीक नहीं
मिला वह एमएसपी वाला मुद्दा और जो पंजाब
के किसानों वाला मुद्दा है वह इसमें शामिल
नहीं है लेकिन कुछ लोगों की कोशिश है अब
भानु प्रताप जो भारतीय किसान यूनियन भानु

के अध्यक्ष हैं वह भी यह कह रहे हैं कि
भाई एमएसपी पर सरकार ने हमें कहा था तीन
कृषि बिल वापस हुए थे तब कहा था एमएसपी पर
कमेटी बनाएंगे भाई कहा था लेकिन उस कमेटी
में आपने क्या किया क्या कोई किसान नेताओं

की तरफ से वहां अपने प्रतिनिधि भेजा नहीं
भेजा फिर केंद्र को आप कैसे आरोप लगा सकते
हो साहब केंद्र ने काम नहीं करा इसका मतलब
तो आप ही की मंशा नहीं है तो कुल मिलाकर
यह केंद्र के जो पंजाब से चले हुए किसान
नेता केंद्र के विरुद्ध में धरना प्रदर्शन
कर रहे हैं और दिल्ली कूछ के नाम पर जो

अराजकता फैला रहे हैं उनके खिलाफ भी आप
देखें कि हरियाणा की खट्टर सरकार ने जिस
तरह की शक्ति की है वो अपने आप में ये

पहली बार है ये तो तब है जब सरकार ने यह
कहा है कि देखिए चाहे इसके अंदर
आंदोलनकारी के भेष में कोई खालिस्तानी भी
क्यों ना बैठा हो लेकिन इनके खिलाफ शक्ति
प्रयोग नहीं करनी इनको प्यार से ही टैकल
करना है इनके खिलाफ कोई भी बल प्रयोग नहीं
करना आंसू गैस का गोला जो छोड़ना वो तो
भीड़ को तितर वितर करने के लिए हमेशा कई
बार होता है और जो रबर की गोलियां चलाई गई
वह भी तब चलाई गई जब लोग बैरिकेड तोड़ने
की कोशिश कर रहे थे पुलिस को चुनौती दे
रहे थे पुलिस पर पथराव कर रहे थे तो पुलिस

का कहना है कि कुछ लोग उसाव पूर्ण कारवाही
करने के लिए हमें मजबूर कर रहे हैं वरना
हमारी मंशा नहीं थी तो हरियाणा में भी
इनको कड़ी टक्कर दी गई है और यहां उत्तर
प्रदेश में भी योगी जी का स्पष्ट आदेश है

और इसके कारण यह आंदोलन इस बार गाजीपुर
बॉर्डर तक नहीं पहुंच पाया यह बात जरूर है
कि जिला मुख्यालय पर सांकेतिक रूप से
राकेश टिकैत पहुंचे लेकिन ये गौतम बुद्ध
जिला है इसमें जो किसान अपने मुआवजे को
लेकर समय-समय पर धरना प्रदर्शन करते रहते
हैं उनके खिलाफ यह जो एफआईआर की कारवाई

हुई है यह योगी जी ने बता दिया है कि आप
किसी भी प्रकार की अराजकता फैलाए गे
पब्लिक को परेशान करेंगे सड़कों पर जाम
लगाएंगे यह कतई बर्दाश्त नहीं होगा अब जब
एफआईआर हो गई और उसमें नाम खुल गए इनके

खिलाफ कोर्ट से संबंध पहुंच गए अब हड़बड़ी
मची हुई है और अब ये किसान नेता इस स्थिति
में आ गए कि योगी जी माफ कर दो गलती हो गई
और आगे से नहीं करेंगे लेकिन अभी फिलहाल
जो एफआईआर हुई है उहे वापस ले लिया जाए अब
जो मेरे सूत्र हैं वो यह बता रहे हैं कि
इन किसान नेताओं को यह कह दिया गया है के

अभी पहले आप ये जो गलती हुई है इसके लिए
लिखित में माफी मांगेंगे वो जो पंजाब के
फर्जी किसान नेताओं का आंदोलन जो खड़ा हुआ
है दिल्ली कूछ का नारा देकर के उससे दूरी

बनाकर रखेंगे आप में से कोई भी व्यक्ति
उसमें शामिल नहीं होगा उसी कंडीशन में
देखते हुए बाद में निर्णय लिया जाएगा कि
आपका करना क्या है और इसीलिए योगी जी की
तारीफ करनी होगी कि जहां एक तरफ उत्तर
प्रदेश न ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी बनने की
तरफ चल रहा है बड़े-बड़े उद्योग लग रहे

हैं विकास की बयार बहरी है वहीं दूसरी तरफ
लॉ एंड ऑर्डर के मामले में योगी जी कड़े
निर्णय लेने के मामले में उ भारत के नंबर
वन मुख्यमंत्री बने हुए हैं आपकी क्या राय
कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं वंदे मातरम

Leave a Comment