रहस्य से पर्दा हट रहा अब जीत होगी 1111urgent archangel message — भूलकर भी इग्नोर ना करे ✍️

मेरे प्रिय बच्चे आज का यह दिन तुम्हारे

लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है क्योंकि आज

तुम्हें यह संदेश मिल रहा है यह

प्रमाणिकता है कि तुम सत्य के खोज में

निकल पड़े

हो यह आधार मिला है तुम्हें प्रगति की तरफ

आगे जाने का आज कुछ रहस्यों से पर्दा हटने

वाला

है आज तुम्हारे जीवन में एक नई शुरुआत

होने वाली है ऐसी शुरुआत जो तुम्हारे जीवन

की रूपरेखा को बेहतर कर

देगी तुम्हारा जीवन बहुत से दुविधा से

घिरा हुआ है लेकिन अब दुविधा का समय

समाप्त हो रहा

है इसलिए तुम्हें इस संदेश को पूरा अंत तक

सुनना है चाहे परिस्थिति कैसी भी

हो तुम्हें किसी भी हाल में इस संदेश को

बीच में छोड़कर जाने की भूल नहीं करनी

है जो सत्य तुम्हें पता चलने वाला है इस

सत्य को तुम्हें बहुत ही पहले पता हो जाना

चाहिए था लेकिन ऐसा ना होना सका

इसलिए आज नियति ने यह तय किया है कि इस

दूरी को खत्म कर दिया

जाए और तुम ही तुम्हारा सत्य जानने को

जैसे पहले उत्सुक रहे हो उसे समाप्त कर

रहस्य को खोल दिया

जाए इस सत्य की तलाश तुम बहुत पहले से ही

कर रहे थे आज तो तुम्हें पता लग ही जाना

चाहिए तुम एक बहुत ही मूल्यवान अमूल्य

हीरे समान व्यक्ति हो तुम वास्तव में एक

तपस्वी हो एक ऐसे तपस्वी

जो इस भौतिक जगत में रहते हुए भी कहीं ना

कहीं आधारभूत रूप से इससे भिन्न हो तुम

ज्ञान की खोज प्राप्ति करने वाले व्यक्ति

हो तुम एक ऐसे व्यक्ति हो जो इस संसार की

सभी बुराइयों को अपनी चमक और अपनी ज्ञान

से दूर करने की क्षमता रखता

है तुम उन सभी व्यक्तियों के लिए वरदान हो

जो दूसरों के द्वारा शोषित दूसरों के

द्वारा पीड़ित

है तुम उन सभी का उद्धार कर में सक्षम हो

मेरे प्रिय बच्चे दूसरों की सहायता करने

की भावना तुम्हारे मन में कोई आज यूं ही

नहीं जन्मी है बल्कि तुमने यह कार्य पिछले

कई जन्मों से किया हुआ

है चाहे तुम्हारा जन्म मनुष्य का रहा हो

या ना रहा हो हर जन्म में तुम्हारे विवेक

ने तुमसे यह कार्य निश्चित ही करवाया

है और यही तुम्हारे कर्मों को सही करने का

फल रहा है कि अब तुम्हारे जीवन में बहुत

बड़ी प्रगति होने वाली

है इस प्रगति को तुमने बहुत लंबे समय से

अर्जित किया है यह प्रगति तुम धीरे-धीरे

आकर्षित करते आए

हो मेरे प्रिय तुम्हारे पास स्वयं को

प्राकृतिक रूप से उपचार करने की क्षमता है

लेकिन तुम अभी तक इसे समझ नहीं पाए

हो तुम्हारी ताकत ऐसी है जिसका अभी

तुम्हें ज्ञान नहीं हो पाया

है लेकिन जिस दिन तुम अपने समर्थक समझ

जाओगे तब तुम्हें यह आभास होगा कि तुम

कितने ज्यादा मूल्यवान

हो तुम कोयले के बीच छुपे हुए उस हीरे के

समान हो जिसकी चमक से तो हर कोई प्रभावित

होता ही

है साथ ही उसके गुण अन्य कोइलो से बहुत

भिन्न होते हैं किंतु उसका मूल यदि सही

जांचा पर खाना लगाया जाए तो वह कोयले से

ज्यादा मूल ले से बीक नहीं

सकता मेरे प्रिय तुम वही हीरे हो जो इस

समय गलत जांच परख में फंसे हुए हो

तुम्हारा मूल लगा के लिए कोई असली जोहरी

हो तो ही यह कारगर हो सकता

है मेरे प्रिय बच्चे यदि मनुष्य गलत जांच

परख में फंसा हुआ होता है तो वह अपने

सामर्थ को पहचान नहीं

पाता वह अपने साहस को समझ नहीं पाता

है जिस तरह से यदि एक बास के बच्चे को

मुर्गों के झुंड में बचपन से ही छोड़ दिया

जाए और उसे शिक्षा दी जाए जैसा मुर्गे

सीखते हैं तो वह स्वयं को भी मुर्गा ही

समझने

लगेगा लेकिन वास्तविकता में क्या वह उसके

समान ही होता

है वास्तविकता में क्या वह ऊंची उड़ान

उड़ने ही क्षमता रखता है ऐसा नहीं

है बास सदैव उची उड़ान भरने के लिए ही

होता है गरुण का यह नियम है कि वह सदैव

ऊंची ऊंची उड़ाने

भरेगा लेकिन जैसे उसकी परवरिश होता है और

जिस प्रकार से उसका परिवेश होता है वह उसी

प्रकार से स्वयं को मान बैठता

है तुम भी अपने परिवेश और अपने वातावरण की

वजह से स्वयं को कमजोर मान बैठे हो स्वयं

को बहुत हल्के में ले लिए

हो स्वयं के सामर्थ्य को पहचान नहीं पा

रहे हो जिस दिन तुम अपने भीतर उतरा आएंगे

उस दिन अपने साहस को समझ जाओगे तुम सदैव

जो मुझसे मांगा करते

हो वास्त में वह तुम्हारे भीतर है तुम बस

उस रास्ते को तलाश नहीं पा रहे हो वह

तुम्हारे समक्ष ही है मैं तुमसे कहे जा

रहा

हूं कि वह तुम्हारे भीतर है तुम्हें स्वयं

को महसूस करना होगा तुम्हें इस समाज

द्वारा सिखाए

गए इस समाज द्वारा पढ़ाए

गए और बताए गए मूल्यों को त्यागना होगा

तुम्हें स्वयं से फैसले लेने होंगे किसी

विचारधारा से ऊपर उठकर स्वयं को जानना

होगा प्रार्थना की ताकत को तुम्हें महसूस

करना होगा तुम्हें आशीर्वाद प्रदान किया

जा चुका है तुम अब

उस आशीर्वाद को स्वीकार करने की श्रेणी

में आ गए हो तुम्हें अपने भीतर झांकना ही

होगा मेरे प्रिय यही वह राह है जहां से

तुम आगे देख सकते हो और यदि एक बार तुमने

स्वयं को आगे देख लिया तो तुम सत्य के

मार्ग पर निकल

चलोगे होता जाता है उसी तरह से उसे अपनी

बेड़िया तोड़ देनी चाहिए लेकिन अभी भी तुम

विभिन्न प्रकार की बेड़ियों में स्वयं को

जकड़े हुए हो

तुमने किसी भी चीज पर प्रश्न करने के बजाय

सीधा-सीधा उसे अपने जीवन में मान लिया है

सीधा उनसे वंचित होने को कह रहा हूं मैं

निरंतर तुम्हें उनका त्याग करने को कह रहा

हूं मेरे प्रिय तुम्हें मान्यताओं से ऊपर

उठकर देखना होगा तुम्हें स्वयं को कमजोर

मानने के बजाय अपनी ताकत पर भरोसा करना

होगा अपने आप को दूसरे से यह जो तुम तुलना

निरंतर किया करते हो यह उचित नहीं

तुम जैसे हो तुम्हें वैसा ही गढ़ा गया है

तुम केवल अपनी खुशियों का ध्यान

करो कौन तुम्हारे बारे में क्या सोच रहा

है कौन तुम्हारे बारे में क्या नहीं सोच

रहा है तुम इन सभी बातों को त्यागना

होगा जब तुम दूसरों से अपनी तुलना करते हो

तो अपने भीतर से सूर्य की ऊर्जा को कमजोर

करते हो मेरे प्रिय बच्चे इस ब्रह्मांड

में विभिन्न प्रकार के ग्रह नक्षत्र और

पिंड मौजूद

हैं सभी ग्रह नक्षत्रों पिंडों से विभिन्न

प्रकार की ऊर्जा एं निकलती हैं ऊर्जा एं

विभिन्न रंगों विभिन्न

तरंगों और विभिन्न आवृत्ति हों के माध्यम

से मनुष्य के जीवन को प्रभावित करती है

तुम्हारे भी जीवन में विभिन्न प्रकार के

ग्रहों का एक महत्व

है उन सभी ग्रहों से निकलने वाली ऊर्जा

तुम्हें भीतरी और बाहरी दोनों ही तत्त्वों

से प्रभावित करती है तुम्हारे प्रगति के

लिए सबसे कारगर सबसे सहायक सूर्य की ऊर्जा

है

तुम्हारे प्रेम संबंध को मजबूत बनाने के

लिए तुम्हारे रिश्तों में सामंजस्य बिठाकर

तुम्हें प्रगति की राह पर ले जाने के लिए

जो ग्रह मौजूद है वह ऊर्जा चंद्रमा से आती

है इसी तरह से विभिन्न प्रकार के ग्रहों

की विभिन्न ऊर्जा एं तुम्हारे जीवन को

प्रभावित करती हैं लेकिन जब तुम अपनी

तुलना किसी अन्य मनुष्य किसी प्रसिद्ध

मनुष्य से करते

हो तब फिर तुम अपने भीतर बसे सूर्य की

ऊर्जा को क्षीण कर रहे होते हो यह

तुम्हारे लिए पूरी तरह से हानिकारक है ऐसा

करना तुम्हें भारी पड़ता

है लेकिन तुम इसके रहस्य को समझ नहीं पाते

हो तुम सत्य के मार्ग को खोजना तो चाहते

हो क्योंकि तुम उस दिशा में कदम नहीं बढ़ा

पाते

हो तुम्हें अपनी तुलना दूसरों से करनी

पूरी तरह से बंद करनी होगी मेरे प्रिय जब

तुम यह सोचते हो कि तुम्हें किसी के जैसा

बनना

है तब तुम अपने भीतर के साम को पहचानने

में भूल कर रहे होते हो वास्तव में

तुम्हें ना तो किसी के जैसा बनना है ना ही

कुछ भी बनना

है तुम जो हो वैसा ही होने के लिए तुम्हें

गढ़ा गया है एक बार गौर से विचार करो कि

यह ब्रह्मांड तुमसे क्या कहना चाहता

है मैंने जिस तरह से तुम्हारी रचना की है

तुम्हारे परिवेश की रचना की है वह

तुम्हारे लिए आवश्यक है तुम्हें वैसा ही

होने के लिए निर्मित किया गया

है किंतु इसके साथ ही तुम्हें बुद्धि और

विवेक भी प्रदान किया गया है यह बुद्धि यह

विवेक तुम्हें क्यों प्राप्त हुआ है यह

तुम्हें क्यों हासिल हुआ है तुम्हें इसका

विचार करना

होगा तुम अपने आसपास के परिवेश ऊंची

बुद्धि रखने वालों में से हो तुम अपने

पूरे वंशावली में सबसे ज्यादा आध्यात्मिक

और सबसे ज्यादा प्रगतिशील

हो मेरे प्रिय यदि तुम केवल अपने आप को और

भौतिक वस्तुओं से ऊपर उठकर सोचना होगा जो

तुम्हें दिया गया है तुम्हें उस ताकत को

समझना

होगा और उस ताकत के दम पर ही तुम उन भौतिक

वस्तुओं को भी हासिल कर लोगे लेकिन

तुम्हें अपनी ताकत को समझना

है तुम्हें समझना है कि वह क्या है जो

तुम्हें सिद्धि और प्रसिद्धि दिला सकती है

मेरे प्रिय इस कार्य में तुम्हारा बिल्कुल

मन नहीं लगता तुम उसमें बेवजह फंसे हुए

हो तुम सही मार्ग की तलाश नहीं कर पा रहे

हो कारण यह है कि तुम अपने आप को विभिन्न

मान्यताओं से बांध रखे हो चाहे वह धन को

लेकर हो चाहे वह तुम्हारे कार्यक्षेत्र को

लेकर

हो तुम उन सभी से स्वयं को बांध चुके हो

तुम्हें अपने आप को उनसे मुक्त करना होगा

जब तक तुम स्वयं को मुक्त नहीं कर लेते

तुम प्रगतिशील ना हो

सकोगे और तुम्हें प्रगति को अपने जीवन में

उतारना है तुम्हें नियति के रहस्य को

समझना है मेरे प्रिय आज यह संदेश तुम्हें

उस उद्देश्य की पूर्ति के लिए भेजा गया

है जिस उद्देश्य को पूर्ण करना तुम्हारा

वास्तविक उद्देश्य से तुम्हारा असली मकसद

है मेरे प्रिय तुम विभिन्न प्रकार के कौशल

को अपनाना चाहते

हो लेकिन उस दिशा में कार्य नहीं कर पाते

हो तुम्हारा आलस्य तुम्हें रोक देता है और

ऐसा नहीं है कि तुम जन्मजात इस आलस्य को

अपने भीतर घेरे हुए

हो मेरे प्रिय तुम्हारे भीतर दुनिया को

देखने का जो नजरिया है व सामान्य नहीं है

तुम इसे आजमा सकते हो तुम इसे पूरी तरह से

अपने जीवन में जाच सकते हो तुम दूसरों से

बात करके उनके नजरिए को जानकर यह भली भाति

ही जान जाओगे कि तुम्हारा इस संसार को

देखने का नजरिया बिल्कुल अलग

है और ऐसा जानबूझकर तुम्हारे साथ किया गया

है यह तुम्हारे जीवन में जानबूझकर भेजा

गया है तुम स्वयं ही अपने काबिलियत से

परिचित हो

सकोगे जब तक तुम स्वयं ही अप काबिलियत से

परिचित नहीं होते तुम दूसरों का भला करने

में सक्षम नहीं हो

सकते इसलिए तुम्हें इस संसार में फैली

नकारात्मकता का त्याग कर अपने सामर्थ्य को

देखना है तुम्हें साहस करना है मेरे प्रिय

तुम्हारी समृद्धि टल नहीं सकती

है तुम्हें आगे बढ़ने से तो कोई रोक नहीं

सकता है लेकिन मैं निरंतर तुमसे कह रहा

हूं तुम्हें अपने जरूरतों को समझना होगा

चाहत और जरूरत में बहुत मूलभूत अंतर है

[संगीत]

चीजों को इकट्ठा करने की भावना को तुम्हें

त्यागना होगा और जितना हो सके उतने कम

वस्तुओं से स्वयं को घेरना होगा ऐसा करना

तुम्हारे लिए लाभकारी

है ऐसा करना तुम्हारे लिए आवश्यक है और

ऐसा करते ही तुम अपने नजरिए को समझ जाओगे

और जब तुम अपने नजरिए को समझ

जाओगे तब तुम अपने आप इतना सशक्त इतना

मजबूत मानने लगोगे जितना तुमने पहले कभी

महसूस ना किया हो यह समाज विभिन्न

बुराइयों से घिरा हुआ

है लेकिन तुम्हें बुराइयों का त्याग करना

है तुम्हें उन बुराइयों पर ध्यान नहीं

देना है तुम्हारा पूरा का पूरा ध्यान केवल

अपनी खुशियों और अपनी प्रगति पर ही होना

चाहिए मैं तुम्हारे लिए विभिन्न मार्ग बना

रहा हूं वास्तव में यह मार्ग केवल प्रगति

पर ले जाने के लिए नहीं है यह मार्ग उस

तथता से परिचित कराने का

है जिसे जानने के बाद मनुष्य के जीवन से

सभी सोप मिट जाते हैं जिसे जानने के बाद

दुख मनुष्य को छू भी नहीं सकती यहां से

मनुष्य उस आनंद को प्राप्त करता है जो परम

होता

है जो सर्वोच्च होता है जो कृष्ट होता है

वास्तव में यहीं से परम आनंद का जन्म होता

है वह आनंद जिसे कोई छिन नहीं

सकता वह आनंद जो ना अग्नि से मिटती ती है

ना वायु से ना शस्त्रों से और ना ईर्ष्या

से ना द्वेष से ना ही समाज में फैले भिन्न

जंजाल

से मेरे प्रिय तुम उस परमानंद को पाने के

करीब हो लेकिन तुम्हें अपने आप को जानना

ही होगा तुम्हें स्वयं की ताकत को समझना

ही होगा तुम्हें अपने भीतर उतरना ही

होगा तुम्हारे भीतर जो चल रहा है उसे

महसूस करो तुम घबराहट में हो तुम्हें उस

घबराहट का त्याग करना है बेवजह तुम दुविधा

से फंसे हुए

हो तुम जितनी बार दुविधा में जाते हो उतनी

बार मेरे अस्तित्व पर संदेह उठता है उतनी

बार तुम संदेह के घेरे में फंस जाते हो

इसलिए तुम्हें संदेह को त्यागना

होगा तुम्हें वास्तविकता में जीना होगा यह

जीवन साधारणतया सबको नहीं मिलती जो जीवन

तुम्हें मिला है वह आशीर्वाद दो वादों से

भरा हुआ

है वह अच्छाइयों से भरा हुआ है वह प्रेम

से भरा हुआ है किंतु तुम्हें इन सभी चीजों

को अपने जीवन में सक्रिय करने की आवश्यकता

है तुम्हें इन सभी का रस अपने जीवन में

उतारने की आवश्यकता है फिर तुम्हारा जीवन

उस पुष्प की भाति महक उठेगा जो पुष्प

ईश्वर के चरणों में समर्पित होता

है फिर तुम में कांटे नहीं रह जाएंगे फिर

तुम्हारा दामन लोगों के वास्ते भरा होगा

फिर तुम्हारे शरण में तुम्हारी छाया में

आया हुआ प्रत्येक मनुष्य स्वयं को

भाग्यवान

समझेगा तुम सौभाग्य से भर उठोगे तुम्हारी

आवाज ही काफी होगी लोगों का उद्धार करने

की के लिए तुम्हारे आवाज में वह रहस्य

होगा जो तुम सोच भी ना

सकोगे तुम अभी जिस आवाज के दीवाने हो जिस

आवाज को सुनकर मंत्र मुग्ध हो जाते हो

वास्तव में वैसा ही तेज तुम्हारे जीवन में

भर

उठेगा वैसा ही आश्चर्य लोगों को पूरी तरह

से चकित करेगा वही वैभव वही तेज तुम में

भी छलकने लगेगा मेरे प्रिय तुम इस जीत के

योग्य हो तुम इस विजय के हकदार

हो मेरे यह तुम्हारे जीवन में ही घटित हो

रहा है इस पर विश्वास करो पूरी श्रद्धा

पूरी आत्मा से इस पर विश्वास करो अपना

समर्पण मेरे प्रति

दर्शा आओ तुम छोटी-छोटी चीजों के पीछे

भागना बंद कर दो यह हो जाएगा तो वैसा होगा

वह हो जाएगा तो वैसा होगा इस तरह की भावना

त्याग

दो और जो हो रहा है उसे दृष्टा की भाति

देखते जाओ तुम्हारा जीवन मूल्यों से भरा

हुआ है तुम समृद्धि को अपने जीवन में उतर

जाने

दो मेरे प्रिय इस जीवन को सौभाग्यशाली हो

जाने दो मेरे आने वाले संदेशों की

प्रतीक्षा अवश्य करना मैं तुम्हारा मार्ग

दर्शन करने अवश्य

आऊंगा संख्या

लिखकर अपने जीत की तत्काल पुष्टि

करना आवश्यक है मेरे प्रिय मेरा आशीर्वाद

सदैव तुम पर बना रहेगा चाहे परिस्थिति

कैसी भी हो कोई तुम्हारे साथ हो या ना

हो मैं निश्चित तौर पर सदैव तुम्हारे साथ

हूं सदा सुखी रहो तुम्हारा कल्याण होगा

Leave a Comment