लक्ष्मी मां 🕉 मैं आज खुद तुम्हारे घर पधार रही हूं

मेरे बच्चों मैं तुम्हें सुख समृद्धि
शांति से परिपूर्ण करने आई हूं तुम्हारे
घर में इतना धन देने वाली हूं की तुम्हारा
पूरा जीवन सुख में बीतेगा इसलिए आज मेरे
संदेश को अनदेखा मत करना यह तुम्हारे लिए
अति अनिवार्य है
[संगीत]
अगले कुछ ही घंटा में मैं तुम्हें अपने धन
से मालामाल कर दूंगी तथा तुम्हारी जो भी
इच्छा है उन सभी को पूरा कर दूंगी मैं
जानती हूं की तुमने मुझे अपने के लिए वह
सारे कार्य किया हैं लेकिन फिर भी तुम
मुझे नहीं पापा रहे हो मैं चाहती हूं की
तुम मेरी भक्ति करो ताकि तुम्हें जीवन में
मेरा सुख प्राप्त हो
हर कार्य के लिए धन का होना अत्यंत आवश्यक
है और तुम्हारी मां यह देख रही है की धन
के लिए आज के इस संसार में हर तरफ हाहाकार
मचा हुआ है हर कोई अधिक से अधिक धन कामना
चाहता है
[संगीत]
और यह कुछ हद तक सही भी है क्योंकि धन के
बिना कोई भी कार्य करना संभव नहीं है
परंतु धन किस प्रकार कमाया जा रहा है यह
महत्वपूर्ण बात है क्योंकि मैं भी इस के
घर में वास करती हूं जिसका मां शुद्ध होता
है जो पुरी ईमानदारी सच्चाई के रास्ते पर
चलकर धन कामता है
की तुम मुझे पन चाहते हो तो जो मैं रास्ता
तुम्हें बता रही हूं उसे तुम्हें करना
होगा ऐसा करने से मैं तुम्हें प्राप्त हो
जाऊंगी तब तुम्हारे घर में ही वास करूंगी
जिससे तुम्हारे जीवन में किसी प्रकार की
कोई कमी नहीं रहेगी
[संगीत]
तुम्हें अपने जीवन में बड़ों की सेवा करनी
चाहिए ऐसा करने से मैं खुश होती हूं
क्योंकि जी घर में बड़ों का आधार होता है
वहां मेरा वास अवश्य होता है यदि तुम अपने
जीवन में अपने से बड़ों का आधार करते हो
तो तुम्हारे भाग्य में मेरा होना अवश्य
लिखा होता है
[संगीत]
मैं अपने माता-पिता की आजा का पालनपुर
करना चाहिए यदि तुम अपने माता-पिता की बटन
को मनोज तो तुम ही मेरे दर्शन हर पाल
होंगे मैं कभी भी तुम्हारे जीवन से दूर
नहीं जाऊंगी तथा तुम्हें हर सुख और
समृद्धि प्रधान करूंगी क्योंकि माता पिता
से बढ़कर संसार में कोई भी नहीं होता वही
तुम्हारे भगवान है
[संगीत]
तुम्हें अच्छे कार्य करने चाहिए अच्छे
कार्य करने से तुम्हें जो उसके फल प्राप्त
होंगे वह फल हमेशा तुम्हें जीवन में आगे
लेकर जाएंगे क्योंकि अच्छे कार्य करने से
दूसरों का भला होता है दूसरों का भला करने
से तुम्हें मेरी प्रताप होगी क्योंकि जो
मनुष्य दूसरे इंसानों का भला करती हैं
उन्हें मेरा अभाव कभी नहीं राहत
यदि तुम्हारे सामने भूख इंसान है तो उसे
भजन करना मत भूलना मैं यह नहीं कहती की
तुम्हारे पास अगर खुद धन नहीं तो तुम
दूसरों को भजन करो परंतु यदि तुम इतने
सक्षम हो की तुम दूसरों को भजन कर सकते हो
तो तुम्हें ऐसे लोगों को भजन करना चाहिए
जो गरीब होते हैं
[संगीत]
तुम्हें खुद को स्वच्छ और निर्मल रखना
चाहिए तथा मेरी पूजा अर्चना नहीं चाहिए
मेरी पूजा करते हो तो मैं तुमसे वैसे ही
खुश हो जाति हूं क्योंकि तुम मेरे सच्चे
भक्ति हो और तुम मुझे हमेशा याद करते हो
[संगीत]
तुम्हें अपने से छोटे बच्चों का भी आधार
करना चाहिए क्योंकि छोटे बच्चे हमेशा
भगवान की दें होते हैं और जी घर में छोटे
बच्चे खुश रहते हैं वहां तो मैं हर पाल
वैसे ही रहती हूं क्योंकि मुझे छोटे
बच्चों से बहुत प्रेम है क्योंकि वह
निर्मल और साफ दिल के होते हैं
[संगीत]
यदि तुम पशु और पक्षियों की मदद करते हो
उन्हें खाना खिलाने हो उनको जल प्रधान
करते हो तो ऐसा करने से तुम ही मेरी कृपा
प्राप्त होगी क्योंकि जो जीव जंतु बोल
नहीं सकते ऐसे में कोई मनुष्य उन्हें
प्रेम देता है उनकी सहायता करता है तो उन
पर माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा रहती है
[संगीत]
यह सब कार्य करने से तुम्हें वह सब मिलेगा
जो तुम प्राप्त करना चाहते हो
अपनी चिटा को तुम मुझको दे दो उन पर ध्यान
मत दो क्योंकि चिंता तुम्हारी जीवन को
बर्बाद कर देगी यह वह आज है जो इंसान को
अंदर से जलाकर रख कर देती है उसके पूरे
जीवन को बर्बाद कर देती है इसलिए चिंता
करना छोड़ दो
[संगीत]
एक बात का ध्यान रखना की जी समय तुम मेरी
पूजा आराधना करती हो और मेरा मां रखते हो
इस प्रकार तुम्हें सभी देवी देवताओं का
मां रखना होगा क्योंकि यदि तुम किसी एक
देवता का भी निराधार करते हो तो तुम
साक्षात मेरा निराधार करते हो
क्योंकि हम सभी देवी देवता एक ही है हम
में से कोई भी अलग नहीं है एक ही शक्ति है
तुम चाहे किसी भी रूप में पूजा करो यदि
तुम किसी का निराधार नहीं करते हो तो एक
ईश्वर की पूजा करने से ही तुम्हें सब की
पूजा का फल प्राप्त हो जाता है
[संगीत]
जीवन का कड़वा सच जिसने किसी एक मूर्ति की
पूजा की है उसने जीवन में जो चाहा है उसको
प्राप्त हुआ है क्योंकि तुम्हारी इस शक्ति
के प्रति जो भक्ति और विश्वास होता है वह
चर्म सीमा पर होता है उसे शक्ति को तुमसे
कोई नहीं छन सकता
[संगीत]
इसलिए किसी एक ही ईश्वर में तुम अपनी
आस्था बना और जिससे भी मांगना है किसी एक
मूरत से मैंगो मेरे बच्चों मैं तुम्हें
विश्वास दिलाती हूं की तुम्हारी मांगी वह
हर मुराद एक ही ईश्वर से पूर्ण होगी
[संगीत]
इसके साथ उन लोगों के बड़े में सोचो जिनको
दो वक्त का खाना भी नसीब नहीं होता उनके
शरीर के अंग भी पूरे नहीं होते जिनके शरीर
की अंग भी नहीं होते हैं वह अपना कार्य
सही से नहीं कर पाते उनके बड़े में सोचो
अगर तुम्हें सब कुछ सही सलामत मिला है तो
तुम्हें ईश्वर का शुक्रिया अदा करना चाहिए
[संगीत]
तो तुम्हारा जीवन तो वैसे ही खुशहाली का
प्रतीक है
तुम्हारे जीवन में तुम्हारी जरूर के हिसाब
से तुम्हें सब कुछ प्राप्त हो रखा है मेरे
बच्चों तुम ज्यादा की लालसा में अपने मां
को दुखी करना छोड़ दो
क्योंकि जब तुम्हारा मां ज्यादा दुखी हो
जाता है तो जो भी मैंने तुम्हें दे रखा है
उसकी खुशी का आभास भी तुम्हें नहीं होता
और उसके साथ ही आगे के लिए यह सही नहीं है
तो विचारों को रोकने का हर संभव प्रयास
करो
[संगीत]
जब तुम मेरे बताए गए मार्ग पर चलते हो तो
निश्चित ही तुम्हारे अंदर एक ऊर्जा वार
शक्ति विराजमान हो जाति है जो तुम्हारे
उसे समझना की शक्ति को इस प्रकार कर देती
है की तुम्हारे द्वारा बनाए गए योजना सफल
होना निश्चित हो जाति है
इसके साथ ही तुम पूर्णिमा को थोड़ी सी खीर
बना कर मेरे नाम से चांदनी रात में रख
देना सुबह थोड़ी खीर को तुम किसी गरीब को
दान कर ना और थोड़ी सी खुद भी प्रसाद के
रूप में ग्रहण कर लेना किसी भी कार्य को
छोटा समझना की भूल मत करना
[संगीत]
हमेशा से दूसरों के लिए कार्य किया है
अपनों की खुशी के लिए अपनी ही खुशी का
बलिदान किया है सभी के समक्ष मुस्कुराते
हुए भी अंदर ही अंदर आंसुओं के घट पिए हैं
मेरे बच्चों मुझे कुछ भी नहीं छुपा है मैं
तुमसे जानना चाहती हूं की तुम इतना साहस
कहां से ले क्योंकि इसके बाद भी तुम्हारे
अपनों ने भी कभी तुम्हारी अहमियत को नहीं
समझा जब जब तुमने सच और धर्म को चुनाव है
तब तक तुम्हारे अपने दूर होने लगे हैं
[संगीत]
और निकॉन अनेक चुनौतियां का सामना तुम
करते चले गए कभी गियर तो कभी सम ले अभी
बहुत मुस्कुराया तो कभी मुस्कुराने के
पीछे आंसुओं को छुपा लिया तुम मुझे कभी
अपने आंसू नहीं छुपा सकते हो मुझे
तुम्हारा दर्द महसूस होता है
[संगीत]
मेरे बच्चों तुम्हारे साइन में जो दर्द
छुपा है और जो प्रेम है वह दोनों ही मैं
महसूस करती हूं इसलिए आज मैं तुम्हें
आशीर्वाद देती हूं की तुम सफल होंगे
तुम्हारी जीत निश्चित है लाख चुनौतियां
तुम्हारे समक्ष क्यों एन खड़ी
[संगीत]
परंतु तुम सबको गिरते हुए सफल होंगे मेरे
बच्चों तुम्हें शीघ्री सुख समाचार मिलेगा
परम सौभाग्य प्रारंभ हो जाएगा केवल एक बात
याद रखना तुम्हारे साथ जो कुछ भी हुआ है
वह आपको यहां तक लाने के लिए
बेहद आवश्यक
[संगीत]
मत करना तुम्हें जिन लोगों ने पीड़ा दिया
है उन लोगों को धन्यवाद कहो और उन्हें दिल
से क्षमा कर दो तुम्हें तकलीफ देने वाले
को सजा अवश्य मिलेगी किंतु यदि वह तुम्हें
गिरते नहीं
तो आज तुम आकाश में विचारण करने के काबिल
कैसे होते कई बार चुनौतियां पुण्य आत्माओं
के लिए वरदान सिद्ध हो जाति हैं
मुस्कुराओ मेरे बच्चों क्योंकि तुम भी
पूर्ण आत्मा में से एक हो मेरे बच्चे
तुम्हारे जीवन में सब कुछ अचानक से बदलने
वाला है
[संगीत]
और अंतिम पड़ाव तक दूसरों को भी ले जाना
है आज मैं तुम्हें आशीर्वाद रूपी एक ऊर्जा
भेज रही हूं जो तुम्हारे आंतरिक शक्तियों
से जोड़ने में तुम्हारी सहायता करेगी मेरे
बच्चों क्या तुम मुझे एक वचन डॉग तो मिस
यात्रा में कभी नहीं रुकोगे
और दूसरों को भी प्रेरित कर उसे परम
प्रकाश की और ले जाओगे यदि तुम्हें मुझमें
पर विश्वास है तो अपने उपहार को स्वीकार
करो साथ ही संकल्प से अपनी भक्ति में
वृद्धि करो मैंने तुम्हारा विजय तिलक
तैयार कर लिया है हमेशा खुश रहो मेरे
बच्चों तुम्हारा कल्याण हो तुम्हारा दिन
मंगलमय हो
[संगीत]

Leave a Comment