वह मूर्ख तुमसे जलता है।।👣 Maa Durga ka Sandesh

मेरे बच्चे अचानक से जो मेरा संदेश

तुम्हें प्राप्त हुआ है इसका सीधा अर्थ है

की मैं तुम्हारे कासन को और बर्दाश्त नहीं

कर का रही हूं जो कष्ट तुम्हारे जीवन में

है मैं उसे दूर करना चाहती हूं इसलिए आज

मैं तुम्हें संदेश के तुम्हें यह ज्ञात

करना चाहती हूं की अगले आने वाले घंटे

में तुम्हारी समस्या को समाप्त कर दूंगी

और यह मैं तुमसे आज वादा करती हूं एक वादा

तुम्हें भी करना होगा मेरे बच्चे मुझे की

जो मैं आज बताऊंगी उसे तुम पूर्ण रूप से

सुनकर करोगे क्योंकि कुछ करने से ही कुछ

प्राप्त होता है मेरे बच्चे तुम्हें मेरा

संदेश प्राप्त होना कोई इत्तेफाक नहीं

बल्कि तुम्हारे साथ है अद्भुत घटना होने

वाली है वह समय ए गया है जब इसको थोड़ा

सावधान रहने की आवश्यकता है इसलिए तुम जी

प्रकार पेड़ में लगे हुए पुराने पेट

जैसे-जैसे झड़ते हैं और नए पेट पुराने

पत्तों के पश्चात ही निकलते हैं और सुंदर

लगता

कुछ नया या अद्भुत नहीं होगा तो तुम नए

कार्यों को कैसे प्रारंभ कर पाओगे आने

वाले समय में नए दिशा प्रारंभ नहीं कर

पाओगे कब तक तुम्हारे जीवन का नया अध्याय

प्रारंभ नहीं होगा

जब पुराना अध्याय चल रहा है जिंदगी में

तुम्हें कुछ नया नहीं मिलेगा इसलिए कुछ

नया अध्याय शुरू करना तुम्हारे लिए अत्यंत

आवश्यक है और यही नया अध्याय तुम्हें कुछ

सिखाएगा और तुम्हें किसी मुकाम पर भी

पहुंच सकता है ऐसे ही एक अद्भुत घटना

तुम्हारे जीवन में भी होने वाली है इससे

पहले की तुम्हारे जीवन में कुछ घटना हो तो

वह तीन कार्य करके अपने लिए एक मजबूती का

डेरा ते करो सबसे पहले कार्य तुम अपने

हृदय के अंदर सहनशीलता को बड़ा हो बात-बात

पर किसी भी व्यक्ति पर क्रोध करना

तुम्हारी सहनशीलता क्रोधित करता है बल्कि

तुम्हें बेहतर बने क्षमता हनी चाहिए यह एक

ऐसा गन है जो तुम्हें आगे आने वाले भविष्य

में तुम्हें आगे के मार्ग के लिए अत्यंत

आवश्यक

ही बहुत ज्यादा आगे जा पाते हैं और दूसरा

तुम्हें अपने पास एक ऐसी शक्ति विराजमान

करो जिससे की तुम्हारी हर बड़ी से बड़ी

परेशानी आने से पहले तुम्हारा सुरक्षा कवच

बनकर तुम्हारी रक्षा करें और उसके लिए

तुम्हें अपने इस्ट देव की आराधना नियमित

रूप से करनी है उनके मेट्रो का उच्चारण

करते हुए तुम्हें उनका ध्यान करना होगा और

तीसरा इससे पहले की तुम्हारे जान अनजाने

में की गई गलतियां की सजा शनिदेव दें

तुम्हें सोमवार के दिन एक पेट पर भोलेनाथ

का नाम लिखकर भोलेनाथ के चरणों में चड्ढा

देना है भोलेनाथ की कृपा साक्षात तुम्हारे

ऊपर हो जाएगी और शनि देव से स्वयं तुम्हें

बच्चा लेंगे मेरे बच्चे स्मरण रखना की मैं

भी तुम्हें बच्चा लूंगी और तुम्हारी की गई

गलतियां की माफी तुम्हें बनाऊंगी इसके साथ

ही तुम्हारे जीवन में जो घटना होने वाली

है वह सारे घटनाक्रम को मैं रॉक दूंगी

मेरे बच्चे तुम्हारे जीवन में शीघ्र ही

तुम्हारा मां सम्मान ऐसे समय पर तुम्हें

वापस लोट आएगा जी समय की तुमने काफी समय

से उम्मीद लगा राखी है और वह सम्मान

तुम्हें तुम्हारे अपनों से ही प्राप्त

होगा इस बात का ध्यान रखना की वह सम्मान

कोई आम सम्मान नहीं है वह तुम्हारे परिवार

के सदस्यों द्वारा सभी दुनिया वालों के

सामने आएगा लेकिन इसके साथ ही तुम्हें

काफी बड़े-बड़े कार्य को करना पड़ेगा

इसलिए तुम अपने अंदर इन मेरी बताए हुए

कार्यों को करके स्वयं भी देख सकते हो

तुम्हारे जीवन में तुम्हें इस बात को कभी

मत भूलना की कोई भी बड़ा वक्त जब तुम्हारे

सामने आता है वह भी तुम्हें आगे चलने के

लिए बहुत कुछ शिखा कर जाता है इसलिए किसी

भी अच्छे बुरे समय से कुछ ना कुछ सिख लो

जरूर आगे के रास्ते चलने के लिए तुम जहां

तक चले जाते हो आगे का रास्ता तुम्हें तुम

जब दिखाई नहीं देता लेकिन जब जी स्थान पर

तुम पहुंचने हो उससे कुछ दूरी का रास्ता

साफ हो जाता है मेरे बच्चे आज तुम्हें इस

बात को जानना आवश्यक है की इंसान अपना

चेहरा तो साफ रखना है जी पर लोगों की नजर

होती है परंतु दिल को साफ नहीं रख पता था

वह सोचता है आज कौन से अच्छे कपड़े पहने

हैं जिससे मैं आज अच्छा देखूं यह मनुष्य

हर रोज सोचता है पर आज कौन सा अच्छा कर्म

करूं जिससे मैं भगवान को अच्छा लगा यह कोई

नहीं सोचता मेरे बच्चे एक बार व्यक्ति

बहुत सुंदर उत्तर दिया हमारी साड़ी

चिंताएं हमारे मस्तिष्क में निवास करती है

और जब हम ईश्वर के आगे सर झुका कर प्रणाम

करते हैं

[संगीत]

और हम चिटा के बोझ से मुक्त हो जाते हैं

आज मैं तुमसे केवल यही खाने आई हूं मेरे

बच्चे अपने अंतरात्मा को कभी करने मत देना

और अपने अहंकार को कभी साथ चलने मत देना

क्योंकि जब भी तुम कुछ गलत करने की सोचते

हो तुम्हारी अंतर आत्मा तुम्हें जरूर चिता

बनी देती है परंतु तुम्हारा अहंकार सुनने

नहीं देता इसलिए हमेशा अहंकार का त्याग

करो सुख और दुख दोनों ही जीवन का हिस्सा

है सुख इम्तिहान है तुम्हारे अहंकार का और

दुख इम्तिहान है तुम्हारे सबरकर हर स्थिति

में खुश रहो

हमेशा उन्हें धन्यवाद

कुछ आपने नहीं दिया और जो कुछ आपने देखकर

ले लिया उसे हर बात के लिए आपका धन्यवाद

जो कुछ आपने दिया है वह आपकी कृपा है जो

कुछ आपने नहीं दिया उसमें हमारी भलाई है

और जो कुछ आपने देख कर लिया वे हमारा

इम्तिहान है जीवन में सब अच्छा ही हो ऐसा

कभी नहीं होता अच्छा बड़ा दोनों को मिलकर

जीवन बंता है अच्छे बुरे दोनों तरह के लोग

जीवन में आते हैं तुम्हें सब का धन्यवाद

करते चलना है धन्यवाद उन लोगों के लिए जो

तुमसे नफरत करते हैं क्योंकि उन्होंने ही

तुम्हें मजबूत बनाया है धन्यवाद उल्लू को

कहो जो तुम्हें प्यार करते हैं क्योंकि

उन्हें लोगों ने तुम्हारा दिल बड़ा किया

है धन्यवाद उन लोगों को कहो जो तुम्हारे

लिए परेशान होते हैं क्योंकि उन्होंने ही

तुम्हें बताया की वह कितना ख्याल रखते हैं

धन्यवाद उन लोगों को कहो जिन्होंने

तुम्हें अपना बनाकर छोड़ दिया क्योंकि

उन्होंने तुम्हें यह एहसास दिलाया की

दुनिया में हर चीज आखिरी नहीं होती

धन्यवाद उन लोगों को कहो जो तुम्हारी

जिंदगी में शामिल हुए और तुम्हें ऐसा बना

दिया जैसा तुमने कभी सोचा भी नहीं था और

सबसे ज्यादा धन्यवाद अपने भगवान का

जिन्होंने हालात का सामना करने की हिम्मत

दी है मेरे ईश्वर अगर आपका कुछ तोड़ने का

मां करें तो मेरा गुरुर तोड़ देना अगर

आपका कुछ जलन का मां करें तो मेरा क्रोध

जल देना मेरे अगले संदेश की प्रतीक्षा

करना मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है

सदा खुश रहो

Leave a Comment