हार्दिक पांड्या को कैसे मिल गया सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट?

नमस्कार आप देख रहे हैं न्यूज़ नेशन और
मैं हूं आपके साथ चिराग सुखीजा बीसीसीआई
ने जैसे ही 2023 और 24 के लिए सेंट्रल
कांट्रैक्ट्स की लिस्ट जारी की तभी से ही

सोशल मीडिया पर बवाल मचा हुआ है हर कोई यह
जानना चाहता है कि जब ईशान किशन और श्रेयस
अयर को सेंट्रल कांट्रैक्ट से बाहर कर
दिया गया तो फिर हार्दिक पांड्या पर आखिर

इतनी मेहरबानी क्यों दिखाई गई है अब इसको
लेकर कि हार्दिक पांड्या को सेंट्रल
कांट्रैक्ट में क्यों रखा गया है और ए
ग्रेड में क्यों रखा गया है ना बी ना सी

बल्कि ए ग्रेड में हार्दिक पांड्या को
क्यों रखा गया है इसका जवाब भी शायद हमें
मिल गया है दरअसल भारतीय टीम के पूर्व
खिलाड़ी आकाश चोपड़ा ने अपने
youtube1 और श्रेया सैयर को बाहर क्यों

किया गया है सबसे पहले बात करते हैं
श्रेया सैयर की श्रेया सैयर वैसे तो इस
लिस्ट में शायद आ सकते थे लेकिन उन्होंने
बीसीसीआई के खिलाफ जाने की शायद को को

शिश
की जिस वजह से उन्हें सेंट्रल कांट्रैक्ट
से बाहर का रास्ता दिख देखना पड़ा अब
श्रेया सैयर जो कि वर्ल्ड कप में भी 500
से ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे

सेमीफाइनल में उनके नाम एक शतक था और
वर्ल्ड कप में कमाल की फॉर्म में चल रहे
थे श्रेय सैयर इंग्लैंड के खिलाफ भी
उन्होंने टेस्ट मैच भी खेला उसके बावजूद
श्रेय सैयर को सेंट्रल कांट्रैक्ट से
क्यों बाहर किया गया दरअसल श्रेय सैयर के
मामले में जो जानकारी मिल रही है वो यह

जानकारी है और यह मीडिया रिपोर्ट्स के
हवाले से य आई है कि श्रेय सैयर ने बताया
था बीसीसीआई को कि मेरी बैक में पेन है
बैक स्पेसमेजा से मैं आगे इंडिया वर्सेस
इंग्लैंड के टेस्ट मैच नहीं खेल पाऊंगा

उसके बाद उन्हें एनसीए रिपोर्ट करने के
लिए कहा गया था वह एनसीए गए और एनसीए के
डॉक्टर्स ने कहा कि आप प्ले के लिए
बिल्कुल फिट है यानी कि खेलने के लिए आप
बिल्कुल फिट हैं आप खेल सकते हैं अब

इंडिया वर्सेस इंग्लैंड स्क्ड से तो
उन्हें रिलीज कर दिया गया था और एनसीए ने
जैसे ही कहा कि श्रेय सैयर खेल सकते हैं

तभी श्रेयस अयर से यह कहा गया बीसीसीआई
द्वारा कि आप जाइए आप डोमेस्टिक क्रिकेट
खेलिए तब तक श्रे श्रेय सैयर की टीम जो थी
क्वार्टर फाइनल भी नहीं खेली थी तो

क्वार्टर फाइनल भी खेल सकते थे लेकिन
श्रेय सैयर ने डोमेस्टिक क्रिकेट नहीं
खेला और वो ऐसा बताया जा रहा है मीडिया
रिपोर्ट से ऐसा सामने आया है कि व केकेआर
के कैंप में चले गए थे प्रैक्टिस करने के

लिए यानी कि आईपीएल से पहले ही केकेआर के
कैंप में प्रैक्टिस करने के लिए श्रेय
सैयर चले गए थे डोमेस्टिक क्रिकेट खेलने
की बजाय उन्होंने आईपीएल को ज्यादा
प्रेफरेंस दी जिस वजह से बीसीसीआई उनसे

नाराज हो गया अब ये मामला था कि वो टेस्ट
क्रिकेट नहीं खेल रहे हैं और उन्होंने
डोमेस्टिक क्रिकेट नहीं खेला इस वजह से
श्रेय सैयर को बाहर कर दिया गया ईशान किशन
के केस में थोड़ा सा मामला अलग था ईशान
किशन जो कि साउथ अफ्रीका टूर के लिए टीम

इंडिया में सिलेक्ट हुए थे लेकिन उन्होंने
कहा कि थोड़ी सी मेंटल फिटीग है अपने आप
को अनअवेलेबल कर दिया और उसके बाद वोह भी
वो मुंबई इंडियंस के कैंप में जुड़े थे

ऐसी खबरें आ रही थी कि मुंबई के लिए तो
प्रैक्टिस कर रहे थे लेकिन डोमेस्टिक
क्रिकेट में वह प्रैक्टिस नहीं कर रहे थे
या डोमेस्टिक क्रिकेट नहीं खेल रहे थे अब
डोमेस्टिक क्रिकेट की अगर बात करें तो
उनकी टीम तो क्वालीफाई नहीं कर पाई आगे

इसलिए वह अब नहीं खेल सकते हैं रणजी
ट्रॉफी में लेकिन उस टाइम उनकी टीम खेल
रही थी रणजी ट्रॉफी और उन्होंने भी उसको

प्रेफरेंस नहीं दी और आईपीएल कैंप में चले
गए तो यह केस था ईशान किशन के साथ इस वजह
से इन दोनों खिलाड़ियों को सेंट्रल
कांट्रैक्ट से बाहर बिठाया गया अब हार्दिक
पांड्या को क्यों ऐसा कहा गया इसके पीछे

अलग वजह है कि हार्दिक पांड्या क्यों
सेंट्रल कांट्रैक्ट के अंदर बने हुए हैं
उन्हें क्यों बाहर का रास्ता नहीं दिखाया
गया है हार्दिक पांड्या ने अपना आखिरी
टेस्ट मैच भारत के लिए 2018 में खेला था

उसके बाद से हार्दिक पांड्या ने अपने आप
को कभी भी अवेलेबल नहीं बताया टेस्ट
क्रिकेट के लिए उन्होंने कई इंटरव्यूज में
और कई जगह पे यह बयान भी दिया है कि मैं
रेड बॉल क्रिकेट में शायद उतना ज्यादा

कंफर्टेबल नहीं हूं और मैं रेड बॉल
क्रिकेट नहीं खेलूंगा तो यह मामला अभी का
नहीं है कि हार्दिक पांड्या टेस्ट क्रिकेट
नहीं खेलना चाहते हैं या नहीं खेलते हैं
यह उन्होंने काफी पहले ही क्लियर कर दिया
है लेकिन फिर भी डोमेस्टिक क्रिकेट में

सिर्फ रेड बॉल क्रिकेट तो नहीं होता है
फिर हार्दिक पांड्या को क्यों सेंट्रल
कांट्रैक्ट में रखा गया है इसके लिए आपको
जाना पड़ेगा वर्ल्ड कप में वर्ल्ड कप में
19 अक्टूबर का दिन था जब इंडिया और
बांग्लादेश के बीच वर्ल्ड कप 2023 का मैच

खेला जा रहा था तब हार्दिक पांड्या इंजर्ड
हो गए थे हार्दिक पांड्या इंजर्ड हुए उसके
बाद उन्हें एनसीए भेजा गया कि आप एनसीए
में रिपोर्ट कीजिए और एनसीए में उनका इलाज
चला अब एनसीए में डॉक्टर्स की देखरेख में

वह थोड़ी बहुत रिकवर कर रहे थे रिकवरी कर
रहे थे प्रैक्टिस भी कर रहे थे और तब चल
रही थी सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी अब सैयद
मुश्ताक अली ट्रॉफी जब चल रही थी तब तक
हार्दिक पांड्या पूरी तरीके से फिट नहीं
हुए थे इसलिए वह नहीं खेलने की कैटेगरी

में नहीं आए बल्कि इंजर्ड की कैटेगरी में
आए उसके बाद विजय हजारे ट्रॉफी भी आई और
विजय हजारे ट्रॉफी जब दिसंबर के अंत में
खत्म हुई तब तक भी हार्दिक पांड्या फिट
नहीं हुए थे और एनसीए के डॉक्टर्स ने
उन्हें यह नहीं कहा था कि आप फिट हैं आप
जाकर खेल सकते हैं इसीलिए ना तो सैयद

मुश्ताक अली ट्रॉफी और ना विजय हजारे
ट्रॉफी में हार्दिक पांड्या को खेलने के
लिए कहा गया था रणजी ट्रॉफी में हार्दिक
पांड्या वैसे ही नहीं खेलते क्योंकि वो
रेड बॉल क्रिकेट खेलना नहीं चाहते
उन्होंने पहले से ही क्लियर कर रखा है तो
ये जो पूरा सिनेरियो है ये निकल कर सामने
आया है कि जब डोमेस्टिक क्रिकेट वाइट बॉल
का चल रहा था तब तक हार्दिक पांड्या एनसीए

के डॉक्टर्स की निगरानी में थे एनसीए
द्वारा पूरी तरीके से फिट नहीं बताए गए थे
जिस वजह से बीसीसीआई इन्होंने डोमेस्टिक
क्रिकेट खेलने के लिए नहीं कहा था और रणजी
शुरू हुई तो रणजी में हार्दिक पांड्या

वैसे ही नहीं खेलते हैं और अपने आप को
अवेलेबल भी नहीं बताते हैं तो ये पूरा
मामला है जो आकाश चोपड़ा ने अपने
हार्दिक पांड्या को ए ग्रेड की कैटेगरी
में ही रखा गया है फिलहाल इस वीडियो में

इतना ही हार्दिक पांड्या को लेकर आपका
क्या मानना है क्या यह जो लॉजिक है यह सही
है क्या हार्दिक पांड्या को सेंट्रल
कांट्रैक्ट में होना चाहिए था या आपको
लगता है कि उन्हें बाहर का रास्ता दिखा
देना चाहिए था कमेंट बॉक्स में जरूर बताइए
अगर आपने अभी तक न्यूज़ नेशन और न्यूज़

नेशन स्पोर्ट्स को सब्सक्राइब नहीं किया
है तो जल्द से जल्द सब्सक्राइब भी कर
दीजिए साथ ही बेल आइकन जरूर प्रेस कर
दीजिए ताकि देश और दुनिया से जुड़ी हर खबर
सबसे पहले आप तक पहुंचे देखते रहिए न्यूज़
नेशन

Leave a Comment