❤अगर तुमने इनको नहीं छोड़ा, तो जीवन बर्बाद होकर ही रहेगा एक अटूट सत्य है

मेरे बच्चे अचानक से जो मेरा संदेश

तुम्हें प्राप्त हुआ है इसका सीधा अर्थ है

की मैं तुम्हारे कासन को और बर्दाश्त नहीं

कर का रही हूं जो कष्ट तुम्हारे जीवन में

है मैं उसे दूर करना चाहती हूं इसलिए आज

मैं तुम्हें संदेश के तुम्हें यह ज्ञात

करना चाहती हूं की अगले आने वाले घंटे

में तुम्हारी समस्या को समाप्त कर दूंगी

और यह मैं तुमसे आज वादा करती हूं एक वादा

तुम्हें भी करना होगा मेरे बच्चे मुझे की

जो मैं आज बताऊंगी उसे तुम पूर्ण रूप से

सुनकर करोगे क्योंकि कुछ करने से ही कुछ

प्राप्त होता है मेरे बच्चे तुम्हें मेरा

संदेश प्राप्त होना कोई इत्तेफाक नहीं

बल्कि तुम्हारे साथ है अद्भुत घटना होने

वाली है वह समय ए गया है जब इसको थोड़ा

सावधान रहने की आवश्यकता है इसलिए तुम जी

प्रकार पेड़ में लगे हुए पुराने पेट

जैसे-जैसे झड़ते हैं और नए पेट पुराने

पत्तों के पश्चात ही निकलते हैं और सुंदर

लगता हैं इसी प्रकार जीवन में कुछ नया या

अद्भुत नहीं होगा तो तुम नए कार्यों को

कैसे प्रारंभ कर पाओगे आने वाले समय में

नए दिशा प्रारंभ नहीं कर पाओगे तब तक

तुम्हारे जीवन का नया अध्याय प्रारंभ नहीं

होगा क्योंकि जब पुराना अध्याय चल रहा है

जिंदगी में तुम्हें कुछ नया नहीं मिलेगा

इसलिए कुछ नया अध्याय शुरू करना तुम्हारे

लिए अत्यंत आवश्यक है और यही नया अध्याय

तुम्हें कुछ सिखाएगा और तुम्हें किसी

मुकाम पर भी पहुंच सकता है ऐसी एक अद्भुत

घटना तुम्हारे जीवन में भी होने वाली है

पहले की तुम्हारे जीवन में कुछ घटना हो तो

वह तीन कार्य करके अपने लिए एक मजबूती का

डेरा ते करो सबसे पहले कार्य तुम अपने

हृदय के अंदर सहनशीलता को बढ़ाओ बात-बात

पर किसी भी व्यक्ति पर क्रोध करना

तुम्हारी सहनशीलता क्रोधित करता है बल्कि

तुम्हें बेहतर बने क्षमता हनी चाहिए यह एक

ऐसा गन है जो तुम्हें आगे आने वाले भविष्य

में तुम्हें आगे के मार्ग के लिए अत्यंत

आवश्यक है क्योंकि सहनशील व्यक्ति ही बहुत

ज्यादा आगे जा पाते हैं और दूसरा तुम्हें

अपने पास एक ऐसी शक्ति विराजमान करो जिससे

की तुम्हारी हर बड़ी से बड़ी परेशानी आने

से पहले तुम्हारा सुरक्षा कवच बनकर

तुम्हारी रक्षा करें और उसके लिए तुम्हें

अपने इस्ट देव की आराधना नियमित रूप से

करनी है उनके मेट्रो का उ करते हुए तो मैं

उनका ध्यान करना होगा और तीसरा इससे पहले

की तुम्हारे

जाने-अनजाने में की गई गलतियां की सजा

शनिदेव दें तुम्हें सोमवार के दिन एक पेट

पर भोलेनाथ का नाम लिखकर भोलेनाथ के चरणों

में चड्ढा देना है भोलेनाथ की कृपा

साक्षात तुम्हारे ऊपर हो जाएगी और शनि देव

से स्वयं तुम्हें बच्चा लेंगे मेरे बच्चे

स्मरण रखना की मैं भी तुम्हें बच्चा लूंगी

और तुम्हारी की गई गलतियां की माफी

तुम्हें दिलाऊंगी इसके साथ ही तुम्हारे

जीवन में जो घटना होने वाली है वह सारे

घटनाक्रम को मैं रॉक दूंगी मेरे बच्चे

तुम्हारे जीवन में शीघ्र ही तुम्हारा मां

सम्मान ऐसे समय पर तुम्हें वापस लोट आएगा

जी समय की तुमने काफी समय से उम्मीद लगा

राखी है और वह सम्मान तुम्हें तुम्हारे

अपनों से ही प्राप्त होगा इस बात का ध्यान

रखना की वह सम्मान कोई आम सम्मान नहीं है

वह तुम्हारे परिवार के सदस्यों द्वारा सभी

दुनिया वालों के सामने आएगा लेकिन इसके

साथ ही तुम्हें काफी बड़े-बड़े कार्य को

करना पड़ेगा इसलिए तुम अपने अंदर इन तीन

मेरी बताए हुए कार्यों को करके स्वयं भी

देख सकते हो तुम्हारे जीवन में तुम्हें इस

बात को कभी मत भूलना की कोई भी बड़ा वक्त

जब तुम्हारे सामने आता है वह भी तुम्हें

आगे चलने के लिए बहुत कुछ शिखा कर जाता है

इसलिए किसी भी अच्छे बुरे समय से कुछ ना

कुछ सिख लो जरूर आगे के रास्ते चलने के

लिए तुम जहां तक चले जाते हो आगे का

रास्ता तुम्हें जब दिखाई नहीं देता लेकिन

जब जी स्थान पर तुम पहुंचने हो उससे कुछ

दूरी का रास्ता साफ हो जाता है मेरे बच्चे

आज तुम्हें इस बात को जानना आवश्यक है की

इंसान अपना चेहरा तो साफ रखना है जी पर

लोगों की नजर होती है पांटू दिल को साफ

नहीं रख पता वह सोचता है आज कौन से अच्छे

कपड़े पहने हैं जिससे मैं आज अच्छा दिखा

यह मनुष्य हर रोज सोचता है पर आज कौन सा

अच्छा कर्म करूं जिससे मैं भगवान को अच्छा

लगून यह कोई नहीं सोचता मेरे बच्चे एक बार

एक व्यक्ति ने एक संत से पूछा हम किसी के

आगे सर क्यों चुटकी हैं तो संत ने बहुत

सुंदर उत्तर दिया हमारी साड़ी चिंताएं

हमारे मस्तिष्क में निवास करती हैं और जब

हम ईश्वर के आगे सर झुका कर प्रणाम करते

हैं तो वह चिंता हमारे मस्तिष्क से

निकालकर ईश्वर के चरणों में बहुत चाहती

हैं और हम चिटा के बोझ से मुक्त हो जाते

हैं आज मैं तुमसे केवल यही खाने आई हूं

मेरे बच्चे अपने अंतरात्मा को करने मत

देना और अपने अहंकार को कभी साथ चलने मत

देना क्योंकि जब भी तुम कुछ गलत करने की

सोचते हो तुम्हारी अंतर आत्मा तुम्हें

जरूर चिता बनी देती है परंतु तुम्हारा

अहंकार सुनने नहीं देता इसलिए हमेशा

अहंकार का त्याग करो सुख और दुख दोनों ही

जीवन का हिस्सा है सुख इम्तिहान है

तुम्हारे अहंकार का और दुख इम्तिहान है

तुम्हारे सब्र का हर स्थिति में खुश रहो

ईश्वर के शुक्र गुर्जर रहो हमेशा उन्हें

धन्यवाद दो है ईश्वर जो कुछ आपने दिया जो

कुछ आपने नहीं दिया और जो कुछ आपने देखकर

ले लिया उसे हर बात के लिए आपका धन्यवाद

जो कुछ आपने दिया है वह आपकी कृपा है जो

कुछ आपने नहीं दिया उसमें हमारी भलाई है

और जो कुछ मैंने देख कर लिया वह हमारा

इम्तिहान है जीवन में सब अच्छा ही हो ऐसा

कभी नहीं होता अच्छा बड़ा दोनों को मिलकर

जीवन बंता है अच्छे बुरे दोनों तरह के लोग

जीवन में आते हैं तुम्हें सब का धन्यवाद

करते चलना है धन्यवाद उन लोगों के लिए जो

तुमसे नफरत करते हैं क्योंकि उन्होंने ही

तुम्हें मजबूत बनाया है धन्यवाद और लोगों

को कहो जो तुम्हें प्यार करते हैं क्योंकि

उन्हें लोगों ने तुम्हारा दिल बड़ा किया

है धन्यवाद उन लोगों को कहो जो तुम्हारे

लिए परेशान होते हैं क्योंकि उन्होंने ही

तुम्हें बताया की वह तुम्हारा कितना ख्याल

रखते हैं धन्यवाद उन लोगों को कहो

जिन्होंने तुम्हें अपना बनाकर छोड़ दिया

क्योंकि उन्होंने तुम्हें यह एहसास दिलाया

की दुनिया में हर चीज आखरी नहीं होती

धन्यवाद और लोगों को कहो जो जिंदगी में

शामिल हुए और तुम्हें ऐसा बना दिया जैसा

तुमने कभी सोचा भी नहीं था और सबसे ज्यादा

धन्यवाद अपने भगवान का जिन्होंने हालात का

सामना करने की हिम्मत दी है मेरे ईश्वर

अगर आपका कुछ तोड़ने का मां करें तो मेरा

गुरुर तोड़ देना अगर आपका कुछ जलन का मां

करें तो मेरा क्रोध जल देना मेरे अगले

संदेश की प्रतीक्षा करना मेरा आशीर्वाद

सदैव तुम्हारे साथ है सदा खुश रहो

Leave a Comment