❤️दुर्गामां ❤️खुशियों को वॅप्स लेन का रास्ता 🌸

मेरे बच्चे आज बहुत ही शांत बैठे हो ऐसा
लगता है की आज अपने मां में कुछ पुरानी
यादों पर विचार कर रहे हो तुम पुरानी बटन
को याद करके परेशान ना हो तुम अपने आज में
जिओ क्योंकि जो आज है वही बहुत अच्छा है

यदि तुम पुरानी बटन को याद करके अपने आप
को खराब करोगे तो तुम्हारा जीवन सदा ही
दुख में रहेगा आजकल के कलयुग में लोग एक
दूसरे की राहों में कांटे बचाने पर लगे
हुए हैं लेकिन मेरे बच्चों तुम्हें हिम्मत

से कार्य करना है उन कांटों को अपने जीवन
में ना आने दे ऐसे लोगों से अब दूर रहे अब
दुनिया ऐसी है की अगर आप उनकी कम आते हैं
तो ही वह आपको पूछती है आपको अच्छा बताती
है जी दिन आप उनके कम नहीं आते हैं या
उनके कार्य करने को माना कर देते हैं उसे

दिन आप बहुत बुरे कहलाने हैं मेरे बच्चों
ऐसे लोगों से सटक रहे उन्हें जीवन में ना
आने दे उनसे दूरी बनाकर रखना में ही आपकी
भलाई है इसलिए हमेशा ही आप सोच समझकर ही
कभी किसी व्यक्ति पर भरोसा करें लालच और
झूठ दो ऐसी आदतें हैं जो इंसान को इंसान

नहीं रहने देती इसलिए आप कभी भी जीवन में
लालच ना करें मेरे बच्चों मेरे एक बात याद
रखना आप प्रशंसा चाहे कितनी भी करें कितने
ही लोगों को मधुर बातें बोले लेकिन कभी भी
किसी का अपमान मत करना ना ही अब शब्द

बोलना अगर आप किसी का अपमान करेंगे तो
आपको जीवन में उसे अपमान का फल बास सहित
मिलेगा इसलिए कभी भी जीवन में किसी का
अपमान करने की गलती ना करें मैंने तुम्हें
सिखाया है की कभी जीवन में अपमान ना करें
ना ही अब शब्द बोले सच्चाई के रास्ते पर
चलें झूठ ना बोले इसलिए तुम्हें अपनी माता
की इन बटन को हमेशा अपने मां में याद रखना
है मैंने तुम्हारे भाग्य में जो लिखा है

उसको तुमसे कभी भी कोई नहीं छिड़ सकता
तुम्हारे भाग्य का लिखा हुआ तुम्हें जरूर
मिल कर रहेगा बस थोड़ा इंतजार करो परंतु
हर चीज का समय निश्चित होता है मैंने
तुम्हारे जीवन के समय को निर्धारित कर
दिया है जब तुम्हारे भाग्य में लिखी चीजों
को प्राप्त होना लिखा है वह तुम्हें उसे

समय प्राप्त होगी मेरे बच्चों जिनका करण
से तुम दिन रात रोटी हो वह केवल क्षण
मंत्र के दुख है यह बात तुम भी जानते हो
की समय से पहले और भाग्य से ज्यादा किसी
को कुछ प्राप्त नहीं होता जो इंसान के
भाग्य में लिखा होता है उसे केवल वही
प्राप्त होता है किंतु इसका अर्थ नहीं है

की तुम अपने भाग्य उसे समय को बादल नहीं
सकते यह सच है की मैंने तुम्हारे भाग्य
में जो चीज लिखी हैं तुम्हें वहीं प्राप्त
होगी परंतु जब अपने भाग्य को बदलना चाहते
हो तो मेरी बटन पर ध्यान देना सबसे पहले
तुम्हारा जानना जरूरी है की तुम्हारा

भाग्य किस प्रकार से लिखा जाता है इसके
साथ ही मेरे बच्चे यदि तुम अनजाने में कोई
गलती कर बैठने हो तो शनि देव से माफी मांग
लेना वह बहुत ही उदार हृदय के हैं और उनका
हृदय बहुत ही कोमल है वह तुरंत ही तुम्हें
माफ कर देंगे और तुम्हें अपना लेंगे लेकिन
मेरे बच्चे यदि जीवन में बड़ी-बड़ी

गलतियां कर दी है तो उन गलतियां का कर्म
तो तुम्हें भोगना ही पड़ेगा इस बात को भी
मत भूलना लेकिन आगे तुम कोई ऐसा कम मत
करना जिससे की तुम्हारे जीवन में कोई भी
तूफान लेकर शनि यदि तुम दूसरों के साथ
अच्छा कर रहे हो तो गलत इंसान तुमसे खुद

ही खुद दूर चला जाएगा और तुम्हारा जीवन
ऊंचाइयों के करीब चला जाएगा अगर शनि देव
बहुत क्रोध ही दिल के हैं तो वह बहुत
दयालु दिल के भी हैं

अगर तुम मेरे बताए गए कार्यों का
मार्गदर्शन करके जीवन में अभी से कार्य
करना शुरू कर डॉग तो मैं तुम्हें वचन देती
हूं की शनि देव का प्रकोप तुम पर कम हो
जाएगा और तुम्हारे जीवन में खुशियां ही
खुशियां होगी और मेरे बच्चों एक बात और
समझना क्या दुनिया मतलब की दुनिया है यह
तुम्हारा कोई भी सहायता नहीं करेगा इस
कलयुग में स्वयं तुम्हें अपने पैरों पर
खड़े होकर अपनी जिम्मेदारी को संभालना है
और खुद ही अपने कार्य को करना होता है तुम
दूसरों पर निर्भर होकर जीवन कभी आगे नहीं
बाढ़ सकते हो आज तुम्हारे जीवन में गम है

तो क्या हुआ एक ना एक दिन तुम्हें जीवन
में खुशियां अवश्य मिलेगी और यदि किसी को
तुम्हारी सहायता की आवश्यकता है ही नहीं
तो तुम सामने वाले की सहायता करते ही
क्यों हो जबरदस्ती किसी की सहायता करने की

सोचना भी मत बस अपने कम से कम रखना जो
तुम्हारा कर्म है उसे करते रहना मेरे
बच्चे ज्यादा चिंता में रहकर अपने समय को
यूं ही बर्बाद मत करो क्योंकि यह समय बहुत
ही कीमती है अपना एक लक्ष्य निर्धारित करो
लक्ष्य को पर करते समय इस बात का विशेष
ध्यान रखो की जी कार्य को करने में

तुम्हें यह पूर्ण सुख समृद्धि की प्रताप
हुई थी वह एक दिन तुम्हें अवश्य वापस मिल
जाएगा आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने का
कार्य प्रारंभ कर दो और उसके साथ थे तुम
एक लक्ष्य को चुना होगा क्योंकि अगर तुम
बड़ा लक्ष्य चुनकर उसे पर धीरे-धीरे कार्य

करोगे तो तुम एक एन एक दिन अवश्य सफलता को
प्राप्त करोगे और जी दिन तुम सफल हो जाओगे
उसे दिन पूरे संसार के सामने तुम्हारी एक
अलग ही इज्जत होगी एक अहमियत होगी लोग
तुम्हारे आगे सर झुका कर आएंगे और
तुम्हारा आधार सम्मान करेंगे तुमने जो भी
खोया है वह तुम्हें प्राप्त होगा सदा खुश
रहो मेरे बच्चे तुम्हारा कल्याण हो मेरे

बच्चे यदि तुम्हें मेरा संदेश प्राप्त हुआ
है तो ठहरो जरा मेरी बटन को सुनो क्योंकि
तुम्हें मेरी यह बात जानना बहुत ही जरूरी
है इसलिए तुम मेरी बताई हुई बटन को
ध्यानपूर्वक सुना क्योंकि ध्यान से सुना
अत्यंत आवश्यक

तभी तुम्हें मेरी बोली हुई बातें समझ में
आएंगे किन बटन को समझना क्यों जरूरी है
इसलिए तुमको यह समझना बहुत जरूरी है पहले
तुम मुझे एक बात का जवाब दो की यदि
तुम्हारे साथ कोई ईमानदारी रखना है
और दूसरा वही तुम्हारे साथ कोई धोखा करता
है तो तुमको यह बात पता होने के बाद तुम
किस इंसान का साथ देना चाहोगे
तुम्हारा हृदय किसकी तरफ खींचेगा जी

प्रकार सही-सही के साथ राहत है और गलत
व्यक्ति गलत व्यक्ति की संगति में राहत है
यदि गलत की संगति में ए जैन तो वह तो या
तो सही व्यक्ति जैसा गलत व्यक्ति बन जाएगा
या गलत जैसा सही व्यक्ति उसकी संगति में
गलत बन जाएगा लेकिन तो अलग प्रवृत्ति के
इंसान एक साथ नहीं र सकते क्योंकि उनको फल
भी अलग-अलग प्राप्त होते हैं

इसलिए सबसे पहले कार्य तो तुम यह करो की
यदि तुम्हें समय गलत संगति में हो तो
तुरंत ही वी संगति छोड़ दो और यदि तुम खुद
पर विचार करके देखो तुम कोई गलत कार्य कर
रहे हो तो उसे बैंड कर दो

उसके साथ ही आज से यह कार्य करना प्रारंभ
करो जिसमें पहले सुबह सूर्य निकालने से
पहले उठाना प्रारंभ करो यदि तुम सूर्य को
निकालने के पश्चात उठाते हो तो यह आदत आज
से छोड़ दो और सुबह जल्दी उठकर तुम स्नान
करो और एकाग्र में बैठकर तुम किसी भी अपने

इस्ट देवता का स्मरण करते हुए अपने मां को
शांत वातावरण में एकाग्र करना शुरू करो
क्योंकि यह एकाग्र की शक्ति मेरे बच्चे
तुम्हारे लिए बहुत जरूरी है किसी भी कम को
करने के लिए एकाग्र मां होना जरूरी है
किसी भी मंजिल को प्राप्त करने के लिए
एकाग्र होना जरूरी है एकाग्र मां से शांति
और सुख का अनुभव होगा और अगर तुम्हारे
हृदय में शांति उत्पन्न होगी तो इसके साथ
ही तुम्हारे हृदय में सकारात्मक ऊर्जा भी
विराजमान रहती है

सकारात्मक ऊर्जा ही तुम्हारे जीवन की जो
प्रारंभ से लेकर संध्या कल तक दिनचर्या है
उसमें एक ऐसी शक्ति उत्पन्न है तुम्हारे
हाथों से जब अच्छे कार्य होंगे तुम्हारे
हाथों से सब सही कार्य होंगे तुम्हारा

जीवन भी अच्छे से अघ्र्षित होगा उन्नति की
और इसके साथ ही तुमको यह बात कभी नहीं
भूलनी चाहिए जीवन में जब भी तुम्हारे

समस्याएं उत्पन्न होती है तो तुम किसी ना
किसी गलती के करण ही उन समस्याओं को
उत्पन्न कर लेते हो या तो तुम्हारा कोई
गलत कार्य की वजह

हो सकता है तुम्हारा कोई ऐसा कार्य जो
किसी देवता को रुष्ट कर रहा हो यदि तुम
अनजाने में ही किसी का अपमान कर रहे हो तो
तुम्हें उसका पाप ना तो तुम्हें कभी लगता
है और ना ही उसका दंड तुम्हें कभी भगत ना
पड़ता है क्योंकि उसका पाप होता ही नहीं
लेकिन यदि तुम जान बुझ कर

किसी देवता का अपमान कर रहे हो या
जानबूझकर किसी देवता को वृद्ध कार्य कर
रहे हो तो उसकी गलती की सजा तुम्हें
समस्याओं के रूप में प्राप्त होती है

और यदि तुम्हारे जीवन में ऐसा हो रहा है
तो निश्चित ही तुम उसे पर ध्यान रखो और
ध्यान से अपने गलतियां को सुधारने की
कोशिश करो जैसे ही तुम अपने कार्य में
परिवर्तन लेकर आओगे वैसे ही आने वाले समय
में अपने आप सुधार होता चला जाएगा और
तुम्हें स्वयं दिखाई देगा की तुम्हारा समय
परिवर्तन हो रहा है

जो समस्या है धीरे-धीरे करके समाप्त होने
लगेंगे और तुम्हें अनुभव होगा की हां
तुम्हारे कर्मों में परिवर्तन के करण हुआ
यदि इस बात को विश्वास रखकर करना प्रारंभ
करोगे तो जीत होगी मेरे बच्चे तुम हंसते
तो सबके सामने हो परंतु रोटी केवल मेरे

सामने हो तुम किसी को अपने आंसू दिखा कर
कष्ट नहीं देना चाहते मैं जानती हूं परंतु
मुझे तो कुछ भी छिपा नहीं है मेरे बच्चे
तुम तो यह जानते हो भले ही इंसान को कष्ट
का सामना करना पड़ता है क्योंकि एक अच्छा
इंसान ही अपने साथ साथ दूसरों की तकलीफ को
समझ पता है और उनकी सहायता करता है साथ
देता है

कष्ट वह चीज है जो इंसान को निखार देता है
[संगीत]
मेरे बच्चे जब तक किसी को कष्ट नहीं मिलता
तब तक कोई व्यक्ति सत्य को समझ ही नहीं
पता यह तुम भी भाले भांति जानते हो और इसे
समझते हो इसलिए आज स्वयं आई हूं तुम्हें
यह बताने की अपने आप को इतना

मैंने तुम्हें यह कष्ट तुम्हारी चेतन को
जागृत करने के लिए दिया है मेरे शरण में
आने के लिए दिया है हर व्यक्ति और हर
स्थिति को नजदीक से अनुभव करने के लिए
दिया है जिससे तुम्हें सब स्पष्ट हो जाए
और समझ में
और समझ में ए जाए मेरे बच्चे तुम्हें किसी
के साथ अपनी तुलना करने की कोई आवश्यकता
नहीं है क्योंकि तुम्हारी परिस्थितियों को
तुम्हारी परेशानियां को तुमने एहसास किया
है इसलिए जो भी जानते हो तुमने जो कुछ
पाया है वह भी कितने परिश्रम और धैर्य के
बाद पाया है

मेरे बच्चे हर एक व्यक्ति को मेरी
आवश्यकता है परंतु मुझे पुकारता वही है जो
दुख में होता है और मुझे पता भी वही है जो
भाग्यशाली होता है इसलिए मेरे बच्चे
तुम्हें कष्ट मिलने का करण केवल दुख देना
नहीं है तुम्हें मेरे समीप लाना ही सबसे
बड़ा उद्देश्य है

मेरे बच्चे मेरी बटन को समझो लाखों की
भीड़ में कोई एक होता है जो भीड़ में चल
रहे लोगों के पीछे ना चलते हुए केवल अपने
हृदय की आवाज सुनता है और एक ऐसा मार्ग का
निर्माण करता है जो उसे सफलता के शिखर पर
पहुंच देता है
मैं यही चाहती हूं की तुम उन भीड़ में ना
रहो तुम सबसे अलग हो इसलिए तुम अपनी तुलना
दूसरों से ना करो कभी कभी जीवन में जो
घटित हो रहा होता है जो दिखे रहा है वही
सच हो यह आवश्यक नहीं इसके पीछे कहानी ना
कहानी तुम्हारी भलाई छुपी होती है
मेरी बात हमेशा याद रखना तुम दिव्या हो
भले ही तुम अपने आपके भूल के करण अपने
दिव्यता भूल जाते हो और भीड़ में कहानी को
जाते हो किंतु मेरे बच्चे मैं जानती हूं
तुम स्वयं के मार्ग का निर्माण स्वयं ही
करोगे तुम्हारे साथ जो हुआ है
वह तुम्हारी चेतन को जागृत करने के लिए
हुआ तो मैं इस दुनिया को स्पष्ट रूप से
समझ सको जैसे जैसे समय व्यतीत होगा सब समझ
ए जाएगा तुम्हारे साथ मेरा आशीर्वाद सदा
ही राहत है तुम्हारा कल्याण हो ओम नमः
शिवाय
मेरे बच्चे आज का दिन बहुत ही शुभ है आज
से अन्य की डोर मैं अपने हाथों में लेने
वाली हूं जो हमेशा सत्य के मार्ग पर चलते
हैं वह एक सकारात्मक ऊर्जा को अनुभव कर
रहे होंगे मेरे बच्चे क्या तुम इस
प्राकृतिक में एक शुद्ध हवा
एक शुद्ध अनुभव को महसूस कर का रहे हो आज
यह हवा ईश्वर का गुणगान कर रही है आज से
सब कुछ बदलने वाला है हर एक चीज में बदलाव
आएगा क्योंकि आज का दिन और आने वाला दिन
अत्यंत शुभ है मेरे बच्चे कुछ नया और
अद्भुत प्रारंभ हो रहा है तुम यह सोच लो
की तुम्हारी विजय निश्चित है
[संगीत]
तुम कई मीना से कर रहे हो अब वह समय आरंभ
होने वाला है मेरे बच्चे आपके लिए शुभ योग
शुरू होने जा रहा है क्योंकि यह महीना और
आने वाले महीने तुम्हारे लिए अत्यंत शुभ
रहने वाले हैं मेरे बच्चे अब तुम सभी चिटा
से बाहर निकाल जो अब तुम्हें अपने विचारों
पर ध्यान रखना है मैं जानती हूं की तुम
बहुत दुखी हो इसलिए तुम अपने विचारों पर
काबू नहीं का रहे हो किंतु मेरे बच्चे
तुम्हें अब करना ही होगा तुम्हारे विचार
तुम्हारे भविष्य निर्धारित करने वाले हैं
इसलिए तुम जो सच में पन चाहते हो केवल
तुम्हें सिर्फ वही विचार करना है तुम्हें
अपने विचारों की शक्ति को पहचाना है
क्योंकि तुम अपने जीवन को जैसा भी बनाना
चाहते हो वह सिर्फ तुम्हारे अपने विचार से
ही कर सकते हो मेरे बच्चे मेरी शक्तियों
को जानो और पहचानो और सकारात्मक ऊर्जा की
शक्ति को पहचानो इन शक्तियों से तुम अपने
जीवन में कुछ भी हासिल कर सकते हो जो तुम
पन चाहते हो वह तुम का सकते हो तुम कुछ भी
कर सकते केवल अपने आप को नकारात्मक ऊर्जा
से दूर रखो मेरे बच्चे तुम बहुत ही
भाग्यशाली हो और मैं तुम्हारे साथ हूं अब
जो मैं तुम्हें बताने जा रही हूं उसे
ध्यानपूर्वक समझो कभी भी किसी भी अभिमानी
व्यक्ति को समझने का प्रयास भूल से भी मत
करना क्योंकि ज्ञानी व्यक्ति को समझना आसन
होता है और यदि कोई अज्ञानी है तो उसे भी
समझाया जा सकता है किंतु यदि कोई व्यक्ति
अभिमान से भारत हुआ है तो उसे समझना बहुत
मुश्किल होता है मेरे बच्चे ऐसे
व्यक्तियों का इलाज केवल वक्त कर सकता है
इसलिए मेरे बच्चे ना तो कभी भी अभिमानी
बानो और ना ही कभी किसी अभिमानी
व्यक्तियों का साथ दो जो इंसान सरल होता
है
केवल वही व्यक्ति अपने जीवन में आगे बढ़ता
है और तरक्की भी बढ़ता है
और सफलता को भी प्राप्त करता है तुम्हारा
जीवन तुम्हारे ही सोच और व्यवहार का
परिणाम है इसलिए अभिमान से दूर रहो और
स्वाभिमानी व्यक्ति हमेशा सहज होते हैं
क्योंकि उनका दृष्टिकोण हमेशा सरल एवं
आशावादी होता है उन्हें अपनी कमियां एवं
खूबियां मालूम रहते हैं जबकि अभिमानी
हमेशा अपनी कैमियो को ढकने की कोशिश करता
है और अपनी गलतियां कभी स्वीकार नहीं करते
हैं अभिमानी लोगों के रिश्ते दर्द भरे
होते हैं उनके रिश्ते उनकी महत्वता एवं
घमंड पर टीके होते हैं अभिमानी सफलता
प्राप्त करने के लिए रिश्ते तोड़ सकते हैं
जबकि स्वाभिमानी व्यक्ति हमेशा दूसरों की
भावनाओं का ख्याल रखते हैं इनके रिश्ते
मजबूत एवं सुखमय होते हैं इसलिए बच्चे कभी
भी अभिमानी व्यक्ति मत बन्ना मेरे बच्चे
अभिमानी व्यक्ति चाहता है की सिर्फ उसकी
सनी और मनी जाए यह दूसरों की बटन या
विचारों को महत्व नहीं देते जबकि
स्वाभिमानी अपने विचारों को दूसरों पर
नहीं ठोकते हैं वह अपनी गलती अपने पर लेते
हैं अभिमानी व्यक्ति हमेशा आंखें बच्चा कर
बात करते हैं एवं उनकी आंखों में दूसरों
को हमेशा नीचे दिखाने का भाव होता है जबकि
स्वाभिमानी व्यक्ति की आंखें सरल होते हैं
एवं उन आंखों में दूसरों के लिए सम्मान का
भाव होता है मेरे बच्चे अभिमानी के रास्ते
में बड़े सूक्ष्म होते हैं कभी यह त्याग
के रास्ते आता है कभी भी नम्रता के कभी
भक्ति के तो कभी स्वाभिमान के इसकी पहचान
करने का एक ही तरीका है जहां भी मैं का
भाव उठे तो समझ जाना की अभिमान उत्पन्न हो
रहा है मेरे बच्चे स्वाभिमान तुम्हारे
लड़खड़ाते कदमों को ऊर्जावानकर उनमें
दृढ़ता प्रधान करता है कठिन परिस्थितियों
और
विपन्नावस्था में भी स्वाभिमान तुम्हें
डूबने नहीं देता अभिमान आज्ञा के अंधेरे
में धकेलता है अभिमान ज्ञान घमंड और अपनों
को बड़ा ताकतवर समझकर झूठ बनाता है
व्यक्ति को अपने ज्ञान का अभिमान तो होता
है लेकिन अपने अभिमान का ज्ञान नहीं होता
है मेरे बच्चे अपने स्वाभिमान को जांचते
रहो कहानी ये अभिमान में तो नहीं बादल रहा
है
[संगीत]

Leave a Comment