🌺 वह दुष्ट अपने ही जाल में फंस गया है।

मेरे बच्चे अब तुम्हारे शत्रुओं के के दिन निकट आ गए हैं बहुत परेशान किया है उसने तुम्हें तुम्हारे खिलाफ झूठ बोला है तुम्हें नीचा

दिखाना चाह तुम्हें समाज की नजरों में बदनाम करना चाह अब उसके कर्मों का लेखा जोखा शुरू हो गया है मेरे बच्चे उसने तुम्हारे

खिलाफ अनेकों षड्यंत्र देते हैं लेकिन अब अपने षड्यंत्र में फंस चुका है मेरे बच्चे उसने तुम्हें बर्बाद करने का बहुत प्रयास किया है

वह तुम्हें विनाश के कैसे गड्ढे में धकेलना चाहता था जहां तुम्हारे जीवन में केवल अंधकार हो कई बार वह अपने चाल में कामयाब भी

हुआ तुम्हें दुखी देख कर उसे बहुत खुशी मिलती है लेकिन अब में गिर गया है मेरे बच्चे जहां सिर्फ अंधकार है दुख है पछतावा है मेरे बच्चे तुम मेरे लाडले हो मेरी आंखों का तारा हो तुम्हें यदि कोई सती पहुंच जाएगा तो मैं उसे कभी क्षमा नहीं करूंगी

Leave a Comment