🕉”काली मां” मुझे तुम्हारी आवश्कता है, तुम्हारी मां तुम्हारे लिए रो रही है

मेरे बच्चों यदि आज तुम्हें अपनी काली मैन
के दिव्या दर्शन हुए हैं तो यह तुम्हारा
सौभाग्य है क्योंकि आज मैं संदेश के
द्वारा तुम्हारे जीवन से अंधकार को सदा के
लिए मिटा दूंगी
[संगीत]
यदि तुम मेरा यह संदेश पद रहे हो तो यह
तुम्हारे लिए खुशी की बात है क्योंकि मेरे
संदेश को पढ़ने के बाद ही तुम्हारे जीवन
में वह चमत्कार होने लगेंगे जिनसे
तुम्हारा जीवन सफल होने लगेगा और तुम्हें
परम आनंद की प्राप्ति होगी इसलिए मेरा यह
संदेश अंत तक सुनना
[संगीत]
आज तुम्हें बहुत बड़ी
खुशखबरी मिलने वाली है क्योंकि आज मैं
तुमसे
बेहद प्रसन्न हो पर फिर भी मैं तुम्हें
जीवन की वह सच्चाई बताने जा रही हूं जिसे
तुम्हें सुनना होगा और सुनकर अपने जीवन को
सुधारना होगा इसलिए अपनी माता को ध्यान
पूर्वक सुनना ताकि तुम्हें जीवन में कभी
किसी के आगे झुकना ना पड़े
[संगीत]
मेरे बच्चों तुम जीवन में खुशियां ढूंढना
चाहते हो किंतु यह क्यों भूल जाते हो की
खुशी तो तुम्हारे आसपास ही है और वह
तुम्हें तभी दिख सकती है जब तुम छोटी-छोटी
चीजों में भी खुशियां ढूंढो जैसे एक बच्चा
अपनी मैन में सारी खुशी ढूंढ लेता है ऐसे
ही तुम्हें भी सारी खुशियां हर जगह मिल
सकती हैं बस उन्हें महसूस करने की कोशिश
करो
किंतु मेरे बच्चों तुम अक्सर उन चीजों में
खुशी देखते हो जो चीज काफी बड़ी होती हैं
या फिर जो तुम्हारे मैन की ख्वाहिश हैं
किंतु जब तुम्हारी हर ख्वाइश पुरी नहीं
होती तो तुम उदास हो जाते हो किंतु तुम यह
भूल जाते हो की यदि तुम खुशी को अपने मैन
की इच्छाओं के रूप में देखने की कोशिश
करोगे तो तुम कभी खुश नहीं हो सकते
[संगीत]
आज मैं तुम्हें जो खुशी देने जा रही हूं
उसे खुशी को महसूस करने के लिए तुम्हें
स्वयं के अंदर कुछ बदलाव करनी होंगे और यह
खुशी तुम्हें केवल उन्हें लोगों से
प्राप्त होगी जो तुम्हारे जीवन में है और
जिनसे तुम्हारा जीवन जुड़ा हुआ है
[संगीत]
बच्चों यदि तुम कुछ नियमों को अपने जीवन
में अपना लोग तो तुम्हारा जीवन स्वर्ग से
भी अच्छा हो जाएगा और उसके लिए केवल
तुम्हें कुछ चीजों का त्याग करना होगा जो
मैं तुम्हें बताने जा रही हूं ऐसी चीज
तुम्हारे जीवन को बर्बाद करती हैं यदि तुम
इन चीजों को छोड़ दोगे तो स्वयं ही
तुम्हारा जीवन ठीक होने लगेगा और तुम जिस
खुशी की तलाश कर रहे हो वह तुम्हें
प्राप्त हो जाएगी
अपने अंदर तीन चीजों का निर्माण करो यह
तीन चीज वह चीज है जो तुम्हारे भीतर फैले
पाप का नाश करेंगी और यदि तुमने इन तीन
चीजों को अपने जीवन में अपना लिया तो मेरा
यकीन करो तुम्हारा जीवन पाप से मुक्त हो
जाएगा
[संगीत]
पहली चीज स्वयं के प्रति विश्वास मेरे
बच्चों यदि तुम स्वयं के प्रति विश्वास
जागृत कर लोग तो तुम्हारे मैन में जितनी
भी शंकाएं हैं और जो भी दर है वह स्वयं
समाप्त हो जाएगा विश्वास से कैसी चीज है
जो इंसान को बलवान करती है पर यदि
तुम्हारे अंदर विश्वास है तो तुम किसी भी
चीज को हासिल कर सकते हो फिर वह कितनी ही
कठिन क्यों ना हो
दूसरी चीज यदि तुम अपने अंदर प्रेम का बी
बोग तो मेरा यकीन करो इस संसार में किसी
भी प्रकार का दुख तुम्हारे अंदर नहीं
[संगीत]
समाप्त हो जाती है
और तीसरी और सबसे हम चीज वह है जो हर
मनुष्य में पाई जाती है और उसका नाम क्रोध
है मेरे बच्चों तुम्हें यहां पर क्रोध का
त्याग करना है यदि तुमने क्रोध का त्याग
कर दिया तो तुम बड़ी से बड़ी विपत्ति में
भी आसानी से निकल सकते हो
[संगीत]
इसलिए मेरे बच्चों विश्वास प्रेम और क्रोध
का त्याग यह तीनों चीज थीं तुम्हारे अंदर
ए गई उसे दिन ऐसा कोई नहीं
[संगीत]
सको अब यह तुम्हारे ऊपर है की तुम किस
प्रकार से कार्य कर सकते हो
[संगीत]
मैं चाहती हूं जो मैं तुम्हें आश बताऊंगी
तो मुझसे सुनकर पूरा करोगे
क्योंकि कुछ करने से ही कुछ प्राप्त होता
है जिस प्रकार
यदि तुम्हें भूख लगती है तो खाना खाने के
लिए तुम्हें अपने हाथों को
उठाकर खाना अपने मुंह में डालना होता है
तब तुम जाकर अपना पेट भर पाते हो
जैसे जीवन में हर एक चीज को प्राप्त करने
के लिए कुछ कार्य बनाए गए हैं
उसी प्रकार जीवन में सभी समस्याओं को
समाप्त करने के लिए कुछ ऐसे कार्य बनाए गए
हैं
जिनको यदि तुम पूर्ण रूप से समझ लेते हो
[संगीत]
तो जीवन में तुम्हें पीछे मुड़कर देखने की
जरूरत नहीं है
तुम्हारा जीवन इतना खुशहाल होगा की
तुम्हारी आंखें
[संगीत]
जो तुमने सोचा भी नहीं होगा
[संगीत]
वह सब तुम्हें प्राप्त होगा केवल तुम इन
पंच कार्यों को करो बाकी सब कुछ मुझमें पर
छोड़ दो
जिसमें से पहला कार्य है की तुम हर
संध्याकाल में गणेश जी के समक्ष दीपक
जलाते हुए तुम उनकी आरती करते हो
उनको याद करो और उन्हें जो बन पड़े वह
प्रसाद चढ़कर उन्हें प्रसन्न करो दूसरा
वहीं विष्णु देव जी
[संगीत]
[संगीत]
जिस दिन उनका और लक्ष्मी जी का दिन होता
है
उसे दिन तुम उन्हें जितना हो सके
उतना प्रसन्न करने के लिए उनका नाम जपो हो
सके तो उनका प्रसाद चढ़ाओ श्रद्धा से
प्रेम से भक्ति से भाव से तुम उन्हें
प्रसन्न करो
जो सूर्य सभी को रोशनी देता है उनकी रोशनी
तुम्हारे जीवन पर भी पड़े और तुम्हारे
जीवन में अंधकार को दूर कर दे इसके लिए
तुम्हें प्रातः कल सुबह सूर्य को जल
अर्पित करना होगा
[संगीत]
क्योंकि मेरे बच्चे जो सबको रोशनी देने
वाला सूर्य
तुम्हारे जीवन में प्रकाश लेकर आएगा तो
तुम्हारे जीवन की
समस्याओं को समाप्त कर देगा क्योंकि जो
होता है वह इस धरती पर ही होता है
[संगीत]
[प्रशंसा]
और सूर्य के प्रकाश की रोशनी में या चंद्र
की चांदनी में ही किया जाता है इसलिए
सूर्य प्रसन्न तो चंद्र भी तुमसे प्रसन्न
है
[संगीत]
चौथा
शनिवार के दिन तुम पीपल के वृक्ष के नीचे
शनि देव के नाम से दीपक जलाओ
ऐसा करने से शनि देव की क्रोध का सामना
तुम्हें नहीं करना पड़ेगा
क्योंकि जीवन में जाने अनजाने में कभी
गलती हो जाए इसके लिए
और पांचवा मेरा स्वयं मैं भी तुमसे
प्रसन्न रहूंगी
[संगीत]
मैं तुम्हारे जीवन में कोई मुसीबत कभी
नहीं आने दूंगी और तुम्हारे जीवन में
स्वयं खुशहाली लेकर आऊंगी
मेरा जो भी वक्त है उनकी रक्षा करने के
लिए मैं हर कार्य करूंगी
आप और नहीं मेरे बच्चे जितना तुम सहन कर
सकते द
उतना तुमने सहन किया
लेकिन अब बहुत हुआ
[प्रशंसा]
jailte हुए तुमने यह जो कर्म किए हैं
तुम्हारे इन कर्मों ने मुझे
प्रसन्न कर दिया है
[संगीत]
तुमने मुझे अपनी और आकर्षित किया है
अपने आप को परिश्रम से और विश्वास से तुम
यहां तक पहुंचे हो तुम सब बच्चों से अलग
हो क्योंकि तुमने औरों की तरह
[संगीत]
[प्रशंसा]
बल्कि तुमने भाग्य को मेरी सहायता से और
स्वयं के कर्मों से बदलने की कोशिश की है
और तुमने शिथि अपने कर्मों के द्वारा अपने
किस्मत को बदल पाए हो
तुमने मुझे विवश कर दिया है की मैं
तुम्हारे भाग्य को
सौभाग्य में परिवर्तित करूं मेरे बच्चे जो
लोग हर मानकर बैठ जाते हैं और अपने जीवन
में निराश होकर गलत रास्ते को चुन लेती
हैं चोरी चकरी करती हैं
और किसी के पराए धन पर गलत निगाह डालते
हैं अपने कर्मों को सही से नहीं करते और
वहीं किसी भी तरीके से धन को अर्जित करने
की कोशिश करने वाले व्यक्ति
ऐसा ही व्यक्तियों को परेशान करते हैं
[संगीत]
अन्य गलत कार्य करते
[संगीत]
कुछ भी नहीं संदेश को जो अपने जीवन में
अपना ले का वह हमेशा
खुशियां पाएगा मेरा आशीर्वाद सदा तुम्हारे
साथ है तुम्हारा दिन मंगलमय हो
[संगीत]

Leave a Comment