🕉 तुम्हारे दुखो का अंत निश्चित है

मेरे बच्चे तुम्हारी पीड़ा का अंत आज निश्चित है जो कुछ भी तुमने देखा है अभी तुमने सुना है और जो कुछ भी तुमने चाहा है उन सभी

का अंत आज निश्चित है तुम्हारे अंदर के ज्ञान को तुम्हें बाहर लाना होगा इसलिए अपने सुख और आनंद की प्राप्ति के लिए इस संदेश

को अंत तक सुना यदि तुम इसे अंत तक सुनोगे तो तुम्हें आज एक ऐसी चीज़ सीखने को मिलेगी जो आज तक तुम्हें कभी नहीं मिली

आज तुम्हें बहुत बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है मैं तुमसे बेहद प्रसन्न हूं मैं तुम्हें जीवन की वह सच्चाई बताने जा रही हूं तुम्हें सुना होगा अपने जीवन को सुधारना होगा इसलिए अपनी माता को ध्यान पूर्वक सुनना ताकि तुम्हें जीवन में कभी किसी के आगे झुकना ना पड़े

मेरे बच्चे तुम जीवन में खुशियां ढूंढना चाहते हो किंतु यह क्यों भूल जाते हो की खुशी तो तुम्हारे आसपास ही है तुम्हें कभी देख सकती है जब तुम छोटी छोटी चीजों में भी खुशियां ढूंढो जैसे एक बच्चा अपनी मन में सारी खुशी ढूंढ लेता है तुम्हें भी सारी खुशियां हर जगह

मिल सकती हैं बस उन्हें महसूस करने की कोशिश करो तुम्हारे मन किंतु जब तुम्हारी हर ख्वाहिश पूरी नहीं होती तो तुम उदास हो जाते हो क्यों भूल जाते हो कि यदि तुम खुशी को अपने मन की इच्छाओं के रूप में देखने की कोशिश करोगे खुश नहीं हो सकते

आज मैं तुम्हें जो खुशी देने जा रही हूं उसे खुशी को महसूस करने के लिए तुम्हें स्वयं के अंदर कुछ बदलाव करने होंगे

Leave a Comment