15 फरवरी से पहले यह जान को अद्भुत जीत मिलेगी 🕉️ urgent message 💌 भूलकर भी इग्नोर ना करे ✍️

मेरे प्रिय बच्चे क्या तुमने कभी विचार
किया कि आखिर तुमने इस धरती पर जन्म क्यों
लिया है आखिर तुम्हारा आत्म उद्देश्य
तुम्हारे आत्मा का लक्ष्य क्या है जिन्हें
तुम ढूंढ रहे हो वही तुम्हें पुकार रहे
हैं क्या तुम वह समझ पा रहे हो क्या
तुम्हारी दिव्य दृष्टि वह देख पा रही है
जो मैं आज तुम्हें दिखाने वाला हूं मेरे
प्रिय जो मैं तुम्हें बताने वाला हूं वह
जानना तुम्हारे लिए बहुत आवश्यक है
तुम्हारे जीवन के एक रहस्य से पर्दा हटने
वाला है इसलिए तुम हर हाल में इस संदेश को
पूर्ण सुनना इसे बीच में छोड़ने की भूल
कभी भी ना करना यह जानने के लिए कि
तुम्हारी तलाश कहां खत्म होगी यह जानने के
लिए कि तुम आखिर क्या करने वाले हो
तुम्हारे लिए संदेश को सुनना बहुत
महत्त्वपूर्ण मेरे प्रिय यह बात तुम्हारे
संपूर्ण जीवन से संबंधित है इसे ग्रहण
करना तुम्हारे लिए इसलिए बहुत ज्यादा
आवश्यक है यह संदेश तुम्हारे सभी प्रश्नों
का उत्तर है तुम्हारी सभी तपस्या हों का
फल है यदि एक भी महत्त्वपूर्ण तथ्य तुमसे
छूट गया तुम पूरी बात को समझ नहीं पाए तो
इसका लाभ में यथोचित नहीं हो पाएगा जो
मिट्टी पैरों से कुचल दी जाती है जिसका
मनुष्य की नजर में कोई मोल नहीं होता वही
जब एक कुम्हार के हाथों में आती है तो
मूल्यवान पात्र का रूप धारण कर लेती है
एक कुम्हार अपनी कुशलता अनुभव धैर्य से
मिट्टी को नया जीवन नया स्वरूप और नई
ऊर्जा प्रदान करता है ऐसे ही एक गुरु भी
वह कुम्हार होता है जो बेकार से वकार
व्यक्ति को भी मूल्यवान बना देता है मुझे
ज्ञात है कि तुम्हारे हृदय में कई प्रश्न
चल रहे हैं तुम सोचना चाहते हो तुम जानना
चाहते हो तुम समझना चाहते हो कि आखिर
तुम्हारे जीवन में यह सब क्यों घटित हो
रहा है लेकिन मैं तुम्हें बताने वाला हूं
कि तुम्हारे जीवन में अब एक ऐसे गुरु का
प्रवेश होने वाला है जो ना केवल तुम्हारा
मार्गदर्शन करेगा बल्कि तुम्हारी समस्याओं
का हल करके तुम्हारे प्रश्नों का साधारण
सा जवाब भी देगा मेरे प्रिय तुम्हें गुरु
की बहुत आवश्यकता है एक शिक्षक एक अध्यापक
और एक गुरु में बहुत अंतर होता है इसलिए
कहीं तुम इस भेद में ना पड़ जाना कि गुरु
शिक्षक होगा वह गुरु कोई भी हो सकता है वह
किसी भी रूप में आ सकता है वह तुम्हारे
जीवन में आने वाला है समय बहुत करीबा चला
है वह जिसकी तुम कब से प्रतीक्षा कर रहे
थे जिस दिन का इंतजार तुमने सदा से ही
किया है वह दिन तुम्हारे जीवन में घटित
होने वाला है वह अप्रत्यक्ष रूप से
तुम्हारे सामने आने वाला है तुम्हें अपने
स्वप्न याद है ना यह उन्हीं का जवाब है
मेरे प्रिय जैसे सूर्य के प्रकाश के बिना
कोई पौधा अपना भोजन नहीं बना सकता अर्थात
उसका जीवन संभव ही नहीं हो सकता सार्थक ही
नहीं हो सकता वैसे ही गुरु के बिना
आध्यात्म की अनुभूति किए बिना यह जीवन ना
तो कभी सार्थक हो सकता है ना तो कभी संभव
हो सकता है जीवन काटना और जीवन को जीना दो
विभिन्न प्रकार की बातें हैं यह चुनाव
तुम्हें करना होता है कि तुम जीवन जीना
चाहते हो या जीवन काटना चाहते हो तुम्हारे
कर्मों के आधार पर तुम्हें विभिन्न
प्राणियों का जीवन दे दिया जाता है
तुम्हें मनुष्य का जीवन मिला क्योंकि तुम
इसके योग्य रहे हो तुम जिस परिवार में
जन्म लिए उस परिवार में जन्म लेना
तुम्हारी किस्मत थी लेकिन अब आगे क्या
होगा यह तुम्हारे चुनाव पर निर्भर करता है
तुम्हारे जीवन में एक गुरु का प्रवेश होने
वाला है यह तुम तय करोगे कि तुम उस
व्यक्ति को गुरु का दर्जा देते हो या नहीं
क्योंकि वह तुम्हारी समस्याओं को समाप्त
करने आ रहा है वह किसी भी रूप में हो सकता
है इस बात को मत भूलना फिर चाहे वह रूप
किसी बालक का ही क्यों ना हो फिर चाहे वह
रूप स्त्री हो पुरुष हो या कोई अन्य
प्रकार का जीव हो मेरे प्रिय तुम जो
प्राप्त करने वाले हो वह प्राप्त करने का
लोग सिर्फ स्वप्न देखते हैं पर यह
तुम्हारे साथ यथार्थ होने जा रहा है मैं
फिर से कह रहा हूं तुम्हें अपने स्वप्न
याद है ना क्योंकि यह तुम्हारे स्वप्नों
से जुड़ा हुआ है तुमने जो विचित्र चीज
अपने स्वप्न में देखी थी क्या तुमने कभी
उसका विचार किया कि तुम्हारे साथ ऐसा
क्यों हुआ तुम स्वप्न में भी परेशान थे
क्या तुमने विचार किया कि जब तुम अचानक से
भयभीत होकर स्वप्न से उठ गए थे वास्तव में
वह तुम्हारे साथ क्यों हो रहा था वास्तव
में वह घटना तुम्हारे साथ कहां घटित हो
रही थी कहीं वह पूर्वानुमान तो नहीं
तुम्हारे भविष्य का क्या तुमने कभी इसका
विचार किया मेरे प्रिय थोड़ा ध्यान लगाओ
थोड़ा अपने भीतर झा को तुम्हें जवाब मिलने
वाले हैं तुम्हारा उद्देश्य भी तुम्हें
स्पष्ट होने वाला है तुम्हारा मन बहक रहा
है तुम्हारी बुद्धि स्थिर नहीं हो पा रही
है चंचलता तुम्हें घेर रही है किंतु कुछ
है जो तुम्हें बचाए हुए
हैं कुछ है जो सदैव तुम्हारा रक्षण कर रहा
है जो तुम्हें भक्ष होने से बचा रहा है
मेरे प्रिय तुम्हारी आत्मा उसे पहचानती है
तुम्हारी आत्मा उस दिव्यता को समझ रही है
किंतु तुम्हें विचार करना होगा जो वायु बह
रही है उसमें क्या संदेश तुम्हारे लिए आया
है उसका विचार करो मैं फिर से कह रहा हूं
अपने स्वप्न स्मरण करो तुम्हारे साथ
स्वप्न में जो घटना घटी है डॉट उसके पीछे
एक मूलभूत कारण छुपा हुआ है यह यूं ही
नहीं हो रहा बहुत दिनों से इसकी रचना की
जा रही यह योजना बहुत पहले ही रची जा चुकी
है बस इसके कार्यानंद होने की देरी थी और
अब समय आ गया है अब तुम्हारे मन का पुष्प
खिलेगा अब तुम्हारी शंकाओं के बादल छट अब
प्रगति का समय है यही वह समय है जब
तुम्हारे भीतर का पुष्प खिल कर के एक फल
बन जाएगा अब कुछ निरर्थक नहीं रहेगा अब
कुछ व्यर्थ नहीं जाएगा चाहे संसार में
कितना ही विनाश क्यों ना हो रहा हो चाहे
संसार में कितना ही अहंकार क्यों ना बन पा
हो चाहे संसार के वासी एक दूसरे को मार
डालने की इच्छा लिए हुए हो फिर भी तुम इन
सबसे बचे हुए हो तुम इन सबसे बचे रहोगे ना
केवल तुम बल्कि तुम्हारे आसपास के तुमसे
जुड़े हुए तुमसे प्रेम करने वाले वह सभी
लोग बचे रहेंगे जो तुम्हारी ऊर्जा क्षेत्र
में है मेरे प्रिय तुम्हारे आभामंडल में
इसका विस्तार हो रहा है दिव्यता के बहुत
करीब आ चुके हो तुम्हारी अब जीत दूर नहीं
जीत का छड़ स्मरण करो कल्पना करो जैसे तुम
जीत चुके हो कल्पना करो जैसे तुम जो हासिल
करना चाहते थे वह सब तुम्हें प्राप्त हो
चुका है तुम्हारे स्वपनों में बहुत सी
नकारात्मक घटनाएं तुम्हारे साथ घटती
है किंतु तुम्हारी कल्पनाओं में जब तुम
उसी नकारात्मकता को सोचते हो उसी प्रकार
की नकारात्मकता का स्मरण करते हो तो वह बन
जाता है इसलिए चाहे तुम्हारे स्वप्न में
कितनी ही बुरी घटनाएं क्यों ना हो रही हो
तुम्हें अपने स्वप्न से सकारात्मकता से
युक्त जीवन की कल्पना करना है कल्पना करो
जैसे तुम विजय अभियान पर निकल पड़े हो
कल्पना करो जैसे सब कुछ तुम्हें प्राप्त
हो चुका है मैं फिर से कह रहा हूं अपने
स्वप्न स्मरण करो किंतु कल्पना
सकारात्मकता की करनी है तुम्हें तुम्हारे
स्वप्नों से जुड़ा यह संदेश तुम्हारे लिए
एक नए जीवन को रचित करने वाला है तुम्हारी
कल्पनाओं से परे तुम्हारे स्वप्नों से परे
कुछ नया रचित होने वाला है उस नए का विचार
करो कुछ ऐसा जो तुम्हारी आकांक्षाओं से
दूर हो कुछ ऐसा जो तुम्हारी अपेक्षाओं से
दूर हो कल्पना करो एक ऐसे जीवन की जहां ना
दुख हो ना दरिद्रता हो ना अभाव हो ना किसी
का प्रभाव हो ना पीड़ा हो ना कष्ट हो
कल्पना करो एक ऐसे जीवन की जहां तुम्हारे
लिए खुशियां चारों ओर से बह रही हो जहां
खुशियों का सागर तूफान उठा रहा हो तुम
नकारात्मकता में भी सकारात्मकता के बीज हो
मेरे प्रिय तुम जीतने वाले हो इस बात को
मत भूलना और एक बात याद रखो कि तुम्हारे
स्वप्न तुम्हें स्मरण करने हैं तुम्हें एक
बहुत बड़ा संकेत मिलने वाला है अपने गुरु
को पहचानो अपनी आंखें खोलो अपने का आकलन
करो मूल्यांकन करते ही सा चीजें स्पष्ट हो
जाएंगी और फिर भी यदि तुम्हें समझ ना आए
तो घबराना मत क्योंकि मैं हर परिस्थिति
में तुम्हारे साथ हूं मैं चीजों को और
आसान और प्रत्यक्ष बना दूंगा इसलिए किसी
भी परिस्थिति में चिंतित नहीं होना मेरा
आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है सदा सुखी
रहो तुम्हारा कल्याण होगा

Leave a Comment