25 तारीख को तुम्हारी अनोखी जीत होगी

मेरे प्रिय बच्चे ब्रह्मांड में हलचल बहुत

तेज हो गई है ग्रहो ने अपनी चाल बदलनी

प्रारंभ कर दी है जो अब तक थमा था रुका था

ठहरा था वो फिर से गतिमान हो चला है

गतिशील हो चला है आने वाली तारीख

तुम्हारे लिए परिवर्तन का सबक लेकर आ रही

है ब्रह्मांड के सभी ग्रह तुम्हारे सहायक

मित्र बन जाएंगे जो मायू शी के बादल

तुम्हारे ऊपर अब तक छाए हुए थे व इस तरह

से विलुप्त हो जाएंगे

जैसे कभी उनका कोई अस्ति हुई ना थी कभी

कोई वजूद ही ना था मेरे प्रिय बच्चे

तुम्हारा यह दिल मयूर की भाती नाच उठेगा

इस प्रकार तुम्हें एक साथ इतनी खुशियां

मिलेंगी कि तुम उन्हें संभाल भी नहीं

पाओगे जो खुशियां तुम्हारे दामन में आ

गिरगी मैं जानता हूं कि बीते दिनों तुम कई

संघर्ष से गुजर रहे थे किस प्रकार सबके

बीच रहते हुए भी तुम खुद को अकेला महसूस

कर रहे थे सबकी उम्मीदों को पूरा करते हुए

तुमने कैसे अपने उम्मीदों को बिखेरा है

कैसे अपने दिल को तोड़ा है मैंने वह सब

देखा है मेरे

प्रिय मेरे बच्चे कठिन समय में जो तुमने

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया वही तुम्हारी

शक्ति बन गई नकारात्मक शक्तियों के अंगन

प्रहार के बावजूद भी तुमने काफी हद तक

अपने खुद पर नियंत्र पाने का प्रयास किया

तुमने स्वयं को संभालने का भरपूर प्रयत्न

किया अपनी ऊर्जा को दूषित होने से बचा या

नकारात्मकता को दूर करने का पूरा प्रयास

किया

तुमने मेरे बच्चे यही तुम्हारी सफलता का

कारक बन गया अब सभी तुम्हारी सहायता के

लिए तत्पर हो चले हैं अब परीक्षा का अंत

हो चुका है जिस प्रकार का जीवन तुमने अपनी

कल्पनाओं में जिया है अब तुम्हें वही

मिलने वाला है अपितु उससे भी अच्छा होगा

मेरे प्रिय बच्चे मैं तुम्हें इतना सफल

बना दूंगा कि लोगों को तुमसे मिलने से

पहले भी सोचना पड़

मेरे बच्चे जीवन में उतार चढ़ाव तो लगा ही

रहता है लेकिन मनुष्य उसी उतार चढ़ाव को

भाग्य का नाम देकर बैठ जाता है व सिक्के

के दोनों पहलू को समझ नहीं पाता वह उसके

कर्मों का ही बोझ होता है जिसे वह जन्मों

से ढो रहा होता है जब तक वह अपने पुण्य

कर्मों से उतार नहीं देता है तब तक जीवन

की पवित्र धारा में वो स्वन मुक्त कैसे बह

पाएगा मेरे प्रिय कई बार पूर्ण आत्माओं को

थोड़ी ज्यादा यातनाएं सहनी पड़ती है लेकिन

यह यातनाएं एक बार ही होती है उसके बाद

संपूर्ण जीवन वो खुशी के साथ बिदा हैं और

यह यातनाएं उन्हें इसलिए मिलती हैं

क्योंकि वह धर्मिक रक्षक है मेरे प्रिय

बहुत से दिव्य पुरुष जिनको समाज की भलाई

के लिए सूली तक पे चढ़ जाना पड़ा है बहुत

से ऐसे दिव्य पुरुष जिन्ने अपना सब कुछ

त्यागना पड़ा है राजपाट तक त्यागना पड़ा

है वनों में घूमना पड़ा है

जीवन भर एक सामान्य मनुष्य की भाती जीवन

जीते रहे जीवन भर संघर्ष लड़ते रहे संघर्ष

करते रहे जीवन भर उनके ऊपर मृत्यु का साया

मंडराता रहा लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी

व धर्म चक्र प्रवर्तन करते गए मेरे प्रिय

तुम आने वाली खुशियों का दिल खोलकर स्वागत

करो चाहे कितनी भी बड़ी विपदा सामने क्यों

ना खड़ी हो जाए एक बात सद्य स्मरण रखना कि

तुम कभी भी अकेले नहीं रहोगे मैं तुम्हारे

साथ रहूंगा तुम एक दिव्य आत्मा हो ऐसी

विपदा आई बहुत से संघर्ष आए ऐसे तुम्हारे

सामने आए हैं जो तुम्हारे सामने होने ही

नहीं चाहिए थे वह दूसरों की चालबाज

षड्यंत्र का परिणाम है मेरे प्रिय कुछ ऐसे

लोग हैं जो तुम्हें आगे बढ़ते नहीं देख

सकते जो सदैव तुम्हें अपने चित्रों के

माध्यम से अपने वाक्यों के माध्यम से यह

दर्शाते रहते हैं कि तुम उनसे छोटे हो तुम

उनके सामने कहीं भी टिक नहीं पाते जो सदैव

तुम्हें अचंभित करने का प्रयत्न करते रहते

हैं लेकिन यह अचंभा तुम्हें उकसाने के लिए

करते हैं ना कि तुम्हें प्रेरित करने के

लिए ताकि तुम्हें जलन उत्पन्न हो तुम्हें

ईर्षा उत्पन्न हो और तुम उनके बताए

रास्तों पर चलो तुम उनकी गुलामी करो लेकिन

मैं जानता हूं चाहे तुम निकृष्ट हो जाओ उन

परिस्थितियों में भी तुम कभी भी गुलामी को

स्वीकार नहीं करोगे मैं तुम्हारे अंतर मन

की आवाज को जानता हूं

मैं तुम्हें सुनता हूं और मैं तुमसे

स्पष्ट तौर पर यह कह सकता हूं मेरे प्रिय

कि तुम किसी भी हाल में गुलामी को स्वीकार

नहीं

करोगे लेकिन तुम्हारा मन विचलित होता है

तुम्हारा यह चंचल मन सदा भटकता रहता है और

इसका कारण यह है कि तुम्हें एक ऐसा साथी

चाहिए तुम्हें एक ऐसा गुरु चाहिए जो

तुम्हें सही मार्ग पर सक्षम रूप से सार्थक

रूप से साकार रूप से ले जा सके जो सदैव

तुम्हारी समस्याओं को सुने जो तुम्हें यह

सहारा प्रदान करें कि वह निरंतर तुम्हारे

साथ है तुम यह सुनना चाहते हो कि कोई ऐसा

हो कोई ऐसा

सक्षम जो तुमसे सदैव यह कहे कि मैं

तुम्हारे साथ हूं मैं तुम्हारे पास हूं

मेरे प्रिय मैं जानता हूं तुम ऐसे साथी की

तलाश में हो तुम ऐसे मनुष्य की तलाश में

हो तुम इस प्रकार के गुरु की तलाश में वो

जो तुम्हें सही मार्ग पर ले जाए जो

तुम्हारा सहारा बन सके तुम उस बैसाखी की

तलाश कर रहे हो जो तुम्हें जीत की तरफ

लेकर

जाए तुम्हें आगे अकेले बढ़ने में डर लग

रहा है तुम भयभीत हो रहे हो तुम घबरा रहे

हो इस बात से कि तुम आगे अकेले कैसे जाओगे

तुम्हें बड़ी-बड़ी चुनौतियों का पहाड़ नजर

आ रहा है तुम उन चुनौतियों को देखकर घबरा

रहे हो तुम विचलित हो रहे हो तुम नहीं जान

पा रहे हो कि तुम आगे कैसे

बढ़ो इसलिए मेरे प्रिय बच्चे मैं तुम्हारे

जीवन में ऐसे सार्थी ऐसे साथी ऐसे सक्षम

मनुष्य को भेजना चाहता हूं जो तुम्हारा

सहारा बने जो तुम्हारे भीतर यह

आत्मविश्वास पैदा करें कि चाहे परिस्थिति

कैसी भी हो वह सदैव तुम्हारे साथ रहेगा जो

तुम्हें ना केवल विश्वास

जगाए बल्कि तुम्हें इतनी हिम्मत दे कि तुम

किसी भी परिस्थिति में किसी भी विपत्ति के

आगे घुटने ना टेको मेरे प्रिय मैं जानता

हूं तुम वैसे भी अपने घुटने किसी के आगे

नहीं देखते तुम हार मानना पसंद नहीं करते

तुम जुझारू प्रवृत्ति के हो तुम लड़ना

जानते हो लेकिन तुम्हारी हिम्मत टूट जाती

है कारण यह है कि तुम्हारा परिवेश सदा से

ही ऐसा रहा है उसमें कोई ऐसा मनुष्य कोई

ऐसा व्यक्ति नहीं रहा जो तुम्हें इतनी

हिम्मत दे सके कि तुम सदैव आगे बढ़ते रहो

इसलिए तुम विचलित होते हो लेकिन मैं

तुम्हारे जीवन में ऐसे दिव्य मनुष्य को

भेज रहा हूं तुम उस दिव्य मनुष्य को अपने

जीवन में आकर्षित करो उसे अपने जीवन में

स्वीकार करो उसे स्वीकार करने के लिए

तुम्हें सहमति जतानी होगी तुम्हें

स्वीकार्य रूप में आना होगा तुम्हें इसे

अभी अपनाना होगा और इसकी पुष्टि तत्काल

करनी

होगी यह पुष्टि करने के लिए तुम्हें

संख्या लिखना होगा साथ ही यह भी लिखना

होगा कि मैं अपने जीवन में दिव्य आत्माओं

को स्वीकार करता हूं मैं दिव्य फरिश्तों

को स्वीकार करता हूं

मैं उस साथी उस गुरु को स्वीकार करता हूं

जो मुझे प्रगति की ओर लेकर जाए जो मुझे

तरक्की की ओर लेकर जाए मेरे प्रिय तुम

अपने मन को विचारों से खाली कर दो अपने मन

में किसी भी तरह का भाव उत्पन्न ना होने

दो यदि कोई भाव उत्पन्न हो भी रहा है तो

उस पर बिल्कुल भी ध्यान मत लगाओ स्वछंद

रूप से सभी विचारों को आने दो स्वछंद रूप

केवल और केवल अपने जीवन पर लगाओ ना तो

दूसरों के जीवन से तुम्हारा कोई मतलब सब

होना चाहिए ना ही दूसरों का जीवन तुम्हारे

लिए उपयोगी है इसलिए तुम केवल अपने जीवन

पर ध्यान लगाओ और यह देखो कि तुम्हारे

जीवन में ऐसा क्या है जो तुमने प्रकृति से

ले लिया है लेकिन उसके बदले में तुम

प्रकृति को कुछ लौटा नहीं रहे हो मेरे

प्रिय जब तुम प्रकृति से जरूरत से ज्यादा

हासिल करते हो और उसके बदले में कुछ लौटा

नहीं हो तो यहां संतुलन बिगड़ जाता है और

इस सृष्टि का यहां अचूक नियम है कि में

किसी भी तरह के संतुलन को बिगड़ने नहीं

देना है यदि इस सृष्टि में जल है तो जितना

जल होगा उतनी ही वर्षा होगी जितना जल होगा

उतनी ही गर्मी होगी उतना ही वाष्प बनेगा

मेरे प्रिय जितना जल है उतना ही हिम भी

होगा यह नियम है तुम्हें भी इस नियम को

अपने जीवन में अपनाना है तुम यदि तार्किक

रूप से इसका उत्तर ढूंढने का प्रयास करोगे

तो यह संभव नहीं हो

सकेगा इसलिए अपने जीवन में उन चीजों की एक

सूची बनाओ जो तुम्हारे लिए आवश्यक नहीं है

तुमने केवल उसे अपने पास रख रखा है यह सोच

कर कि किसी दिन यह तुम्हारे उपयोग में

आएगा मेरे प्रिय ऐसे जो भी वस्तुएं हैं

तुम्हें उनका त्याग करना होगा ऐसे जो भी

विचार हैं तुम्हें उनका त्याग करना

होगा मेरे प्रिय तुमने जो लिया है उतना

तुम्हें लौटाना पड़ेगा फिर तुम्हें वो

मिलेगा जो तुम सोच भी नहीं सकते तुम्हें

पहले स्वयं को खाली करना होगा तुम समझ

नहीं पा रहे हो तुम केवल शाब्दिक अर्थों

में ही घूम रहे हो तुम केवल सी बातों में

ही घूम रहे हो तुम इसके भीतर गहराई से उतर

नहीं पा रहे हो मैं तुमसे कह रहा हूं कि

तुम उपयोगी जीवन जियो मैं तुमसे कह रहा

हूं कि वह जो तुम्हारी सहजता है वो जिसे

तुम अभी इस क्षण में संपन्नता समझ रहे हो

जिसे अभी इस क्षण में विकास अर्थात

समृद्धि समझ रहे हो वो वास्तव में तुम्हें

हासिल होने वाला है वो वास्तव में तुमसे

दूर नहीं है लेकिन जब तक तुम उसे अधिकांश

रूप में देखते रहोगे उसका हासिल होना जरा

मुश्किल हो जाएगा इसलिए तुम्हें सर्वप्रथम

उसे अपने अधिकार के रूप में देखना होगा

तुम्हें उसे अपने जरूरत में शामिल करना

होगा अपनी जरूरतों का ख्याल करो अपनी

आवश्यकताओं को समझो एक बार जब तुम न्यूनतम

वादी जीवन को अपना लोगे एक बार जब तुम

अल्प वादी जीवन को समझ जाओगे उस क्षण तुम

यह जान जाओगे कि तुम्हारे लिए क्या आवश्यक

है और जब तुम अपनी आवश्यकता को जान जाओगे

तब तुम यह समझ जाओगे कि तुम्हारे जीवन में

तुम्हें क्या क्या चाहिए और उसी क्षण

तुम्हें वह सब भी मिल जाएगा जिसे अभी तुम

अपने लिए समृद्धि समझ रहे हो वह सब तुमसे

दूर नहीं है वह सब तुम्हें जल्द ही हासिल

होने को है जब तुम किसी चीज के पीछे जरूरत

से ज्यादा भागते हो जरूरत से ज्यादा उसे

कसक बांधना चाहते हो अपनाना चाहते हो तब

वह तुम्हें हासिल नहीं हो सकता केवल ऐसा

प्रतीत होता है कि वह तुम्हें हासिल हो

रहा है रह रह कर तुम्हारे मन में विचलन

होता है तुम्हारा मन भाव विभोर हो उठता है

और तुम्हारे मन चंचल रूप से व्यवहार करने

लगता है लेकिन अंतः वह हासिल नहीं होता

मेरे प्रिय और जिस क्षण तुम उसे छोड़ देते

हो मुक्त कर देते हो जिस क्षण तुम उसे

स्वतंत्र कर देते हो वह तुम्हें हासिल

होने लगता है और यह केवल वस्तु की बात

नहीं

यह मनुष्यों के ऊपर भी लागू होता है तुम

यदि किसी प्रेम की तलाश में हो किसी साथी

की तलाश में हो और निरंतर उसके पीछे भागते

रहते हो तो वह तुम्हें हासिल हो ही नहीं

सकता केवल ऐसा प्रतीत होगा कि वह तुम्हें

हासिल हो रहा है केवल इस तरह का दिखावा

स्पष्ट होगा लेकिन वास्तव में वह तुम्हें

हासिल नहीं हो रहा होता है इसलिए तुम्हें

ऐसी चीजों के पीछे कभी भागना नहीं चाहिए

जो तुम्हें प्रा करनी हो बल्कि केवल यह

देखना चाहिए कि तुम्हारी आवश्यकता क्या है

और यह देखना चाहिए कि तुम्हें आनंद किससे

प्राप्त होगा जो कुछ तुम्हें वास्तविक

आनंद दे सकता है तुम केवल उसका विचार करो

और जब तुम अपने वास्तविक आनंद का विचार

करोगे तो तुम्हें वह सब कुछ मिल जाएगा वह

सब कुछ जिसकी तुम कल्पना करते हो जिसकी

तुम चाहत रखते हो फिर चाहे वह कोई वस्तु

हो फिर चाहे वह धन हो पद हो सम्मान

प्रतिष्ठा हो या फिर कोई मनुष्य क्यों ना

हो चाहे तुम उसे साथी के रूप में अपनाना

चाहते हो उसे मुक्त करो स्वच्छंद करो

स्वतंत्र रूप से उसे जाने दो फिर तुम उसे

प्राप्त कर लोगे मेरे प्रिय तुम प्रगति के

मार्ग पर आ चुके हो उन्नति के शिखर पर

पहुंचने वाले हो इसलिए सभी तरह का भय तुम

अपने मन से जो भी विचलन है उसका विचार ही

त्याग दो तुम कुछ भी ना सोचो अब स्वतंत्र

रूप से जीवन जीते रहो और किसी की भी

गुलामी को बर्दाश्त मत करो तुम बस यह सोचो

कि ईश्वर का हाथ तुम्हारे सर पर है तुम

कभी भी ना तो परेशान हो सकते हो ना विचलित

हो सकते हो अपनी आवश्यकताओं को समझो

न्यूनतम वादी जीवन को अपनाओ फिर तुम्हारे

साथ कोई बुरा नहीं कर सकता क्योंकि एक बात

सदैव याद

रखना परिस्थिति चाहे कैसी भी हो कोई

तुम्हारा साथ दे या ना दे मैं निश्चित ही

तुम्हें सही मार्ग पर ले जाने की योजनाएं

बना रहा तुम्ह उन्नति के शिखर पर ले जाने

की योजनाएं बना रहा

है मेरा आशीर्वाद हमेशा तुम्हारे साथ है

मेरे आने वाले संदेशों की प्रतीक्षा करना

मैं निश्चित तौर पर आऊंगा तुम्हें

तुम्हारा साथी अवश्य मिलेगा यह तय है

क्योंकि ईश्वर सदैव मेरे साथ है मैं

भाग्यशाली हूं मेरा भाग्य बेहतरीन है मेरा

साथ ही बेहतरीन है मुझे अनंत प्रेम मिल

रहा है मेरे

प्रिय सदा सुखी रहो तुम

h

Leave a Comment