28.01.2024 को उसके मिलन से तुम्हारी बहुत बड़ी जीत होगी

मेरे बच्चे तुमने इस धरती पर न जाने कितनी बार जन्म लिया है लेकिन हर बार तुम्हारा मेरे प्रिय वही तुम्हारा अंतिम लक्ष्य है संदेश

भेजा गया है इससे पूर्व सुना इससे बीच में छोड़ने की भूल न करना मेरे प्रिय जब भी तुम किसी नहीं जग जाते हो या कुछ पढ़ने का

प्रयोग करते हो तुम कई बार तुम्हें ऐसा लगता है तुम्हारे भीतर दिव्य शक्ति की जिस प्रकार से तुम इस यात्रा में अकेले चले हो उसी प्रकार से तुम्हारी वह शक्ति भी जिस प्रकार तुमने संघर्ष किया वैसे ही तुम्हारे मुझे अकेले ही संघर्ष किया लेकिन अब समय आ गया

कोई खेल नहीं है यह तुम्हारी आत्मा की पुकार है शक्ति की ऊर्जा को फूल के बिना मेरे प्रिय क्या तुम तैयार हो जीवन रूपी उड़ान को बेहतर रूप से कूदने के लिए यदि हां तुम संकल्प करो कि तुम अपनी अर्ध शक्ति के साथ मिलकर सगाई ऊर्जा को ग्रहण करने

को लगे हो और अपने अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने को मेरे प्रिय क्या तुमने कभी विचार किया कि आखिर तुम्हारे जीवन में एक के बाद एक संघर्ष क्यों आते गए संसार में जितने भी बुद्ध जितने भी महान इंसान हुए तुम यदि उनके जीवन को गौर से देखोगे तो यह

जान दे कि उनका जीवन कभी मेरी प्रिया बच्चे यदि तुम संघर्षों के तले दब जाओगे और स्वयं को संघर्षों से छोटा मन लगे तो फिर तुम्हें कोई भी चीज कैसे दिला पाएगा लेकिन जिस क्षेत्र तुमने यार ध्यान दिया कि चाहे कितनी ही संघर्ष क्यों ना आए बहार तुमसे मुझे

नहीं हो सकती छोटे हो जाते हैं

Leave a Comment