Abu Dhabi Hindu Temple को देख Pakistan के मुस्लिमों ने किसकी तारीफ कर दी?

डिफरेंट है काफी इसमें बहुत डिफरेंट है हम
खुद सुबह से एक दूसरे से यही बात कर रहे

हैं कि यार बहुत पैसा लगा हुआ है बहुत
पैसा लगा हुआ है कमाल कर दिया आज मैं इस
भाई को बोल रहा था कि यार ऐसा शायद इंडिया

में भी ना हो इंडिया में भी इंडिया में भी
ना हो जितना पैसा उन्होने इधर लगा दिया है
बहुत पैसा बहुत खूबसूरत है अंदर बहुत
खूबसूरत है आज हम भाई आपका क्या नाम है

मेरा नाम आजाद मिया आजाद मिया आपने यहां
क्या अभी आप इलेक्ट्रिक का काम यहां प आप
कर रहे हैं जी हम इलेक्ट्रिकल का काम भी
कर रहे हैं हम सजनी भी कर रहे हैं अच्छा
यहां पे लोगों को कैसा लग रहा है मंदिर

बना दो माशाल्लाह जबरदस्त लग रहा है
माशाल्लाह जबरदस्त लग
रहा तो ये यह भी कमाल की बात है आप देखिए
मंदिर बन रहा है और मंदिर में जो बहुत
सारे मजदूर काम कर रहे हैं कोई बिजली का
काम कर रहा है कोई नक्काशी का काम कर रहा

है कोई दूसरे काम कर रहा है कोई टाइल्स
लगा रहा है उसमें से ज्यादातर मुसलमान भी
हैं क्योंकि यहां पर तो बहुत सारे लोग
मुसलमान है क्या मैं ये सही कह रहा हूं
हां सर जी यहां पे सभी जैसे संतों ने भी

बताया तो बहुत सारे कारीगर जो आर्टिज भाई
है और यहां की स्थानिक कम्युनिटी भी है वह
बहुत ही उत्साहित है रोमांचित है यह मंदिर
को लेकर और सब उसमें अपना प्रदान कर रहे
हैं तोय यह भी अपने आप में बड़ा मैसेज है
जिसकी हम जी जी टेल यहां पे सर विश्व की

प्राचीन 14 अलग-अलग संस्कृतियों में से
यहां पर वैल्यू टेल्स नकाशी की गई है जैसे
कि भारतीय संस्कृति अरेबियन संस्कृति
यूरोपियन अफ्रीकन म एस्क ऐसी अलग-अलग जो
प्राचीन संस्कृति है उसमें से मूल्य
वार्ता को यहां पे नक्काशी के तौर पर
बताया गया है तो हमारी जो दीवार अभी पीछे
थी उसमें किंग सोलोमन की वार्ता वहां पर

दिखाई गई थी पूरी नक्काशी के तौर प तो ऐसी
सभी अलग-अलग संस्कृतियों में से मूल्य
वार्ताएं जो है वो यहां पर मंदिर में उसकी
नक्काशी की गई है अच्छा कुछ और भाई लोग

हैं जरा इनसे भी बात करते हैं जो लोग यहां
पर काम कर रहे हैं भाई लोग आप लोग क्या
क्या नाम है आपका मोहम्मद इस्माइल मोहम्मद
इस्माइल आपका मोहम्मद जुबैर मोहम्मद जुबैर
आपका इरफान खान इरफान खान आपका
आसिफ अब बताइए क्या कमाल की बात है

इस्लामिक राष्ट्र में हिंदू मंदिर बन रहा
है और उसमें हिंदू भी मिलकर बना रहा है और
मुसलमान भी मिलके बना रहा है इससे कमाल की
बात क्या हो सकती है यहां प अगर ऐसे आप
लोग यहीं पर रह रहे हैं काम कर रहे हैं जी

जी इधर हम काम करने हमारी ड्यूटी है अच्छा
तो जितने भी लोग हैं अबू धाबी के आसपास के
उनमें क्या चर्चा है इस मंदिर को लेके
हमने तो आज देखा हमने आप आज खुद हमने देखा
हम इतना शौक रह गए कि हम सुबह से इसको देख

ही जा रहे हैं बना हु अलग अलग हम डिफरेंट
डिफरेंट है काफी इसमें बहुत डिफरेंट है हम
खुद सुबह से एक दूसरे से यही बात कर रहे
हैं कि यार बहुत पैसा लगा हुआ बहुत पैसा
लगा हुआ है कमाल कर दिया आज मैं इस भाई को
बोल रहा था कि यार ऐसा शायद इंडिया में भी

ना हो इंडिया में भी इंडिया में भी ना हो
जितना पैसा उन्होने इधर लगा दिया है बहुत
पैसा बहुत खूबसूरत है अंदर बहुत खूबसूरत
है आज हमने देखा है आपको कैसा लगा कलाकारी
बहुत अच्छी लगी इसके अंदर जो इसने बारीकी
है बनावट है बहुत प्यारी लगी हमें ये बहुत
अच्छा खूबसूरत है अंदर से भी और बाहर से

भी मे भी ये जोन सा इसका वाइट मार्बल और
यह ऊपर वाला ना बहुत खूबसूरत लगा है आप
देखिए जो अभी मैं स्वामी जी से भी बात कर
रहा था वह कह रहे थे कि यह मंदिर जो है वह
कितने में बना य यह महत्त्वपूर्ण नहीं है

वह कितना महत्त्वपूर्ण संदेश दे रहा है वह
बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट है और इसलिए आप
देखिए जो मैं आपको बता रहा हूं कि यहां 40
50 डिग्री की गर्मी में मुसलमान हिंदू

मिलकर इस मंदिर को बना रहे हैं और
इस्लामिक राष्ट्र में मंदिर बन रहा है और
यहां आपको य भी समझना होगा कि जो लोग इस
मंदिर की तारीफ कर रहे हैं उनके खुद के

धर्म में बुत परस्ती मना है जी मना है
लेकिन उसके बावजूद आपको लग रहा है कि वाह
यार ये मंदिर कुछ अद्भुत ही बन गया तो
अंदर से आवाज आ रही है कि क्या शानदार बना
है तो ये अपने आप में जिस हारमोनी की हम
बात कर रहे जिस जिस समरूपता की बात कर रहे
हैं कि सब मिलके जो है वो काम करें रहे आज
के दुनिया में उसका एक बड़ा मैसेज आपको
कैसा लगा देख के बहुत अच्छा लगेगा बत पहले

देखा ये पहले देखा बहुत अच्छा लगेगा आपको
कैसा लगा अच्छा लगा पहले दिन हां तो ये
बताइए आप लोग आप लोग हैं कहां से अबू धाबी

से ही है नहीं हम उधर रहते हैं दुबई में
रहते हैं नहीं लेकिन है कहां के ओरिजनली
कहां गु हम पाकिस्तान के हैं आप भी
पाकिस्तान बांग्लादेश बांग्लादेश आप
पाकिस्तान तीन पाकिस्तानी और एक
बांग्लादेशी जो है वो मिलके इस मंदिर के
निर्माण में लगे हुए हैं अब और क्या चाहिए
हिंदू आएगा हिंदू भी यहां पर प्रार्थना
करेगा लेकिन वो सिर्फ हिंदू की प्रार्थना
नहीं है क्योंकि यह जो मेहनत है ना इसमें
सब लगे हुए हैं और इसीलिए जो सनातन

संस्कृति है उसमें वसुदेव कुटुंबकम क्यों
कहते हैं जो एकलौता धर्म जो वसुदेव
कुटुंबकम की बात करता है वह सनातन धर्म
इसीलिए कहता है क्योंकि दुनिया एक है
परिवार है और आप देखिए इससे बड़ी मिसाल

क्या होगी कि पाकिस्तान बांग्लादेश के लोग
जो है वो यहां खड़े होकर वह मंदिर बना रहे
हैं जहां हिंदुस्तान से लेकर और दुनिया भर
से जो है वो लोग आएंगे बहुत-बहुत धन्यवाद
भाई लोग आप लोग ने बात की और बहुत अच्छा
काम किया आप लोगों को भी अ धन्यवाद तो यह
अपने आप में इस मंदिर की खूबसूरती इस

मंदिर की ताकत सनातन धर्म की ताकत जिसकी
हम बात करें कई लोग पूछते हैं ना कि मंदिर
बन गया तो क्या ही हो गया बॉस मंदिर बन
गया तो यह हो गया कि जैसे हिंदुस्तान में
नरेंद्र मोदी ने जो रिलीजियस टूरिज्म को
बढ़ावा दिया लोग अपनी संस्कृति से जुड़ते
हैं सनातन से जुड़ते हैं जब मिलते हैं बात
करते हैं समझते हैं कि कैसे एक साथ भी रहा
जा सकता है हमारे यहां जितना विवाद है
मंदिर बनने और ना बनने को लेकर आप यहां ये

इस्लामिक राष्ट्र में खड़े होकर बात कीजिए
यहां कोई विवाद ही नहीं है यहां सब खड़े
होकर तारीफ कर रहे हैं कि क्या शानदार चीज
बन गई जबकि कोई सोच नहीं सकता था कि किसी
इस्लामिक राष्ट्र में इस तरह का एक मंदिर
भी बनकर तैयार होगा तो ये इसकी खूबसूरती
है आपको इस मंदिर के दर्शन तो कराए ही
अंदर से भी दर्शन कराएंगे जिस दिन प्राण
प्रतिष्ठा हो जाएगी फिलहाल अभी प्राण
प्रतिष्ठा का इंतजार है लेकिन इस मंदिर की
खूबसूरती इस मंदिर का मैसेज उससे भी
खूबसूरत यह आपको हम दिखाना चाहते थे कैमरा

पर्सन गोपाल के साथ सुशांत सिन्हा अबू
धाबी से

Leave a Comment