BJP के हाथ से निकला महाराष्ट्र | Sharad Pawar ने कर दिया खेल..उठ खड़ा हुआ INDIA

नमस्कार दोस्तों 20224 के लोकसभा चुनाव को
लेकर उत्तर से लेकर दक्षिण और पूरब से
लेकर पश्चिम तक हर जगह हर पार्टी अपने
दावेदारी पेश कर रही है खास करके इंडिया
गठबंधन की पार्टियां इस बार के चुनाव में

बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने की पूरी
कोशिश कर रही हैं इन सबके बीच एनसीपी के
शरद पवार ने मोदी को लेकर एक बात कही है
जो कि लोकसभा चुनाव में एक आंधी की तरह

फैल चुकी है ल शरद पवार ने गुरुवार को कहा
कि इंडिया गठबंधन और महाविकास आघाड़ा
भाजपा की टैगलाइन मोदी है तो मुमकिन है को
पलट देंगे शरद पवार ने कोल्हापुर में
पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि आगामी
चुनाव में यह मोदी है तो मुमकिन है नहीं

होगा बल्कि यह मोदी है तो नामुमकिन है
होगा दोस्तों शरद पवार ने कहा है भारतीय
जनता पार्टी असहज है क्योंकि उसे 2024 का
लोकसभा चुनाव जीतने का कोई भरोसा नहीं है
भाजपा में आगामी चुनाव जीतने के प्रति

आत्मविश्वास की कमी इस बात से भी देखी जा
सकती है कि वो पार्टी पार्टियों को तोड़ने
और बड़े नेताओं को अपने खेमे में लाने की
पूरी कोशिश कर रही है कुद सर्वे से पता

चला है कि भाजपा को वह सीटें नहीं मिलेंगी
जिन पर उनकी नजर है दोस्तों शरद पवार ने
यहां तक कह डाला है कि महाराष्ट्र में एक
सर्वे कहता है कि भाजपा को 50 प्र सीटें

भी नहीं मिलेंगी जिसके बाद से ही बीजेपी
के खेमे में बेचैनी बढ़ गई है इतना ही
नहीं शरद पवार ने 1980 के चुनाव को याद
दिलाते हुए कहा है 1980 में उनकी पार्टी
के 69 विधायक जीते थे जब मैं विदेश दौरे
से लौटा तो छह को छोड़कर बाकी सभी
विधायकों ने उनका साथ छोड़ दिया था 5 साल

बाद उन्हें छोड़ने वालों में से 95 फीदी
हार गए आगामी चुनाव में इसे फिर से
दोहराया जाएगा वहीं दोस्तों महाराष्ट्र
में इन सब बातों के बीच शरद पंवार ने मेयर
चुनाव में हुई धांधली का हवाला देते हुए
एनसीपी प्रमुख ने कहा कि आज शासन सत्ता

हासिल करने और विपक्ष को एक कोने में
धकेलने के लिए किसी भी स्तर तक जा सकता है
चंडीगढ़ मेयर चुनाव इसका एक उदाहरण है
वहीं दोस्तों महाराष्ट्र की राजनीति में
एक खबर यह भी है कि शरद पवार को परिवार
में खेमे बंदी के बीच एक नया साथी मिला है

दरअसल अजीत पंवार के भतीजे और उनके पोते
योगेंद्र पवार ने कहा है कि मैं सीनियर
पवार के साथ रहूंगा योगेंद्र पवार की बात
करें तो वह अजीत पंवार के बड़े भाई

श्रीनिवास पवार के बेटे हैं जिसके बारे
में अजीत पवार के भतीजे ने बुधवार को कहा
कि मैं अपने चाचा के दावे का समर्थन नहीं
करता हूं उन्होंने कहा कि मैं बताना चाहता

चाहिए मैं निजी तौर पर यह नहीं मानता कि
अजीत पवार के परिवार को अलग-थलग किया जा
सकता है पवार कुनबे के सदस्य के तौर पर हम

सभी लोग साथ और एकजुट हैं वैसे दोस्तों
शरद पंवार राजनीतिक दुनिया में एक अनुभवी
खिलाड़ी माने जाते हैं जिसको देखते हुए
उनका यह बयान होने वाले लोकसभा चुनाव में
एक खेल के तौर पर साबित हो सकता है
क्योंकि एक तरफ इंडिया गठबंधन यूपी दिल्ली

सहित महाराष्ट्र और बाकी प्रदेशों में
बीजेपी के खिलाफ मजबूत दावा ठोकते हुई नजर
आ रही है और इन सब में अगर सीटों को देखें
तो यह तय माना जा रहा है कि इस बार के
चुनाव में एक बड़ा खेल होने वाला है वैसे
आपको क्या लगता है अपनी राय में कमेंट
सेक्शन में लिखकर जरूर बताइएगा यह खबर आप

उल्टा चश्मा यूसी पर देख रहे हैं मेरा नाम
है फरीद अंसारी आप रहे स्वस्थ मस्थ बस यही
है दुआ हमारी मिलते हैं अगली वीडियो में
तब तक के लिए अलविदा

Leave a Comment