Delhi में गिराया गया Rat Miner का घर, Silkyara Tunnel में फंसे 41 मजदूरों को बचाने में की थी मदद

उत्तराखंड टनल में जब 41 मजदूर फस गए तो
फिर उनके परिवार भी परेशान हो रहे थे
लेकिन आज एक परिवार और परेशान हो रहा है
जिसने कि उन 41 जिंदगियों को बचाने में

अहम भूमिका निभाई थी वकील हसन और उनकी टीम
जो उस वक्त जब हम पिछली बार मिले थे तो
तस्वीर चेहरे पर मुस्कुराती हुई थी और

हंसते हुए वकील हसन हमें मिले थे आज आंखों
में आंसू लिए हुए वकील हसन हमारे साथ हैं
वकील वक्त बदल गया है घर टूट गया का क्या
हुआ है कैसे टूटा और क्या कहा गया आपको
तोड़ते सर मुझसे तो ना तो कहा गया हम

तोड़ने आ रहे हैं ना मुझे कोई नोटिस दिया
गया अब जब तोड़ दिया गया तो लोगों को
दिखाई दे रहा कि रेड माइनर्स का घर था
इन्होंने देश के लिए बहुत बड़ा

कंट्रीब्यूशन किया था यह गलत टूट गया अब
अगर गलत टूट गया तो गलत इसे बना तो दीजिए
जितनी फूर्ति आपने इसे तोड़ने में दिखाई

इसे बना के भी तो दिखाई है अब तो आपको पता
लग गया रेड माइनर्स का घर है ये कहा गया
कि वकील यह कहा गया कि इलीगल है है इसलिए
तोड़ दिया गया आपके और घर सिर्फ यही तोड़ा
गया है इसकी क्या वजह आपको नजर आती है और
क्या क्योंकि वो डीडीए तो कह रहा है कि

इल्लीगल था इसलिए हमने तोड़ा सर मैं इसका
है ना मैं इसका सबूत भी दूंगा आपको मेरे
पास रिकॉर्डिंग है जिसने सा लाख रुपए हम
तीन लोगों से मेरे से गोयल से और इससे अगर
मुझे वो मिल गई मेरे लैपटॉप से कवर हो गई
तो मैं वो जरूर दूंगा अब जरूर दूंगा अब तक
तो मैं उन लोगों को बचाता आ रहा था कि

किसी का घर ना उजड़े मैं अपनी तरह से तरफ
से किसी को यह नहीं चाहता कि मेरी वजह से
किसी पर वो आए लेकिन अब मुझे जरूर देना
पड़ेगा यह सिर्फ जो सिर्फ टूटा है अनइज की
वजह से नहीं टूटा य पैसे ना देने की वजह
से टूटा है अगर मैं डीडी वालो को पैसे दे

देता तो मेरा मकान यह टूटता नहीं है बना
रहता इन्होने स्पेशल टारगेट किया सिर्फ
पैसे ना देने की वजह से जैसे ये खबर आई
तुरंत यह कहा गया कि आपको एक नया घर दे
दिया जाएगा उस घर को लेकर कोई बात हो पाई
है कुछ घर मिल पाया है क्योंकि तीन दिन से

आज तीसरी रात हो जाएगी जब आप सड़क पर है
जी बिल्कुल हो जाएगी और तीन होगी 30 होगी
40 होगी जो भी होगी मैं यहीं र हगा और जब
तक मेरा समाधान मुझे मेरा मकान नहीं

मिलेगा मैं यहां से नहीं हटूंगा पीएम आवास
के लिए फ्लैट कहा था वो उसका क्या हुआ सर
पीएम आवाज के लिए जहां वो मुझे कह रहे थे
जाने के लिए वहां पर कोई कुत्ता भी नहीं
जाता होगा वहां मेरे बच्चे कल मर गए उनके

साथ कोई हादसा हो गया सरकार फिर हाथ खड़े
कर देगी हमने तो पीएम आवास के तहत आपको
फ्लैट आवंटित कर दिया था अब यहां जो हो
रहा है अब हम इसके जिम्मेदार थोड़ी है ये
तो क्या मैं बोल रहा हूं ना सर जितनी

फूर्ति उन्होंने इसे करने में देखी उससे
है ना 10 पर सिर्फ इस बनाने में लगा दे
मैं मान जाऊंगा उनको वे सिर्फ तोड़ तोड़ने
की राजनीति हो रही है सिर्फ जोड़ने की तो

राजनीति हो ही नहीं रही है हर जगह तोड़
तोड़ तोड़ तोड़ कुछ नहीं हो रहा है मतलब
आप यह चाह रहे हैं कि आपका यह जो घर मेरे
पीछे अगर तस्वीरों में देखें तो यह वकील

हसन जो इस वक्त फिर भावुक हो रहे हैं उनका
घर पूरा का पूरा 80 गज का घर था जिसे
तोड़कर जमींदोज कर दिया गया है और खुद
वकील हसन जब पूरी टीम के साथ मुन्ना

कुरेशी और बाकी लोगों के साथ बहुत ज्यादा
हीरो की उपाधि दी गई और आज इस तरीके से कि
लोग बात करें किसी किसी नेता ने जिन
क्योंकि उस वक्त आपको बुलाया गया था
सम्मानित किया गया था टॉफियां आपके मेरे
पीछे नजर आ रही है अब कोई बात कर रहा है
क्या सर ट्रॉफी और भी आधी रखी हुई है मेरे

अंदर और भी रखी हुई है आधी से ज्यादा
ट्रॉफी रखी हुई है उन्होने रुला दिया मैं
कभी नहीं रोया मेरा मदर की डेथ हो गई मैं
तब नहीं रोया मेरे फादर की डेथ होई लेकिन
इन्होंने इतना करने के बाद भी इतना मेरे

ने लास्ट टाइम लास्ट टाइम जब मैं मिला था
आपसे तो आपने बड़े गर्व से कहा था कि
पैसा नहीं चाहिए देश के लिए किया है आज आज
आज जो हुआ है उसके बाद किस किस से बात हो
पाई है आप बहुत दुख है मैंने पैसे नहीं लि
वहां से मैंने बहुत बड़ी गलत बात की मैंने
वहां से पैसे मुझे पैसे लेना चाहिए

था यह सरकार पता नहीं क्या है मैं सरकार
कम से कम पैसे लेकर मकान तो बना लेता
दूसरा आज मैं इंसानियत में मारा गया इंसान
मैंने वहा पैसे के लिए नेगोशिएट नहीं किया
सरकार से कुछ नहीं बोला 00 वहां हजार

करोड़ लोग खर्च कर चुके थे ऑलरेडी उसके
बाद हजार करोड़ से मैं कह रहा हूं 2000
करोड़ और खर्च होते 25 दिसंबर तक उन लोगों
के और वह हमें मु जूता मार गया 00 का

हमारे मुंह
पर अंदर जो थे उन्हें ₹ लाख रप दि गया जो
मतलब अपनी जान की परवाह वगर जब सब मशीने
खत्म हो गई सब मशीने खराब हो गई इनकी हमें
भेजा गया उसके अंदर और उसके बाद हमें 000

0
का प्रोत्साहन राशि हमें दी गई बड़े गर्व
के साथ और यह भी तो दे बड़े गर्व के साथ
दी गई है जैसे अगर 500 देंगे तो हमारा
जीवन नहीं चलेगा बकी अब तीन दिन से कैसे
घर चल रहा है यह सबसे बड़ा सवाल है

क्योंकि मुन्ना कुरेशी भी यहां आपकी टीम
के यहां लोग तो दिखे हमें लेकिन आपका
क्योंकि आप ही टीम को लीड कर रहे थे सबको

लेकर गए थे अब आपके घर कैसे चल सरकार दे
रही है ना हमको सरकार रोज सुबह सवेरे शाम
तक हमको खाना पहुंचा के जाती है हमारे
यहां लेट में बैठने की व्यवस्था अच्छी कर
रखी है सरकार ही कर रही है हमारा या अभी
तक किसी से कोई बात नहीं हुई किसी ने कुछ
नहीं कुछ नहीं कि सब बकवास बातें हैं कुछ

भी कोई है ना सब मस्त है सभी कोई कहीं
इवेंट में है कोई कहीं उद्घाटन कर रहा है

आपस में आरोप प्रत्यारोप हो रहे हैं इनमें
इनका टाइम ही नहीं बचता हम लोगों के लिए
करते क्या है जो आपने बताया था कि एलजी
हाउस से फोन आया उसके बाद कोई बात हो पाई
नहीं सर कोई बात नहीं उनसे हमारी वो एक
बार बात करके रह गए वो बोल रहे थे मैं बात
करूंगा उसके बाद उन्होंने कोई बात नहीं की

है परिवार को एक बार तस्वीर देख लीजिए
परिवार में छोटी बेटी है बहन है इनकी इनके

इनकी धर्मपत्नी है इनका छोटा बच्चा है एक
बड़ा बेटा है इस तमाम लोग अब देखिए सर पे
अगर आशियाने के लिहाज से अगर आप देखें तो
यह त्रिपाल है त्रिपाल के अलावा इनके पास
रहने के लिए कुछ नहीं है और पूरे घर को
जमींदोज कर दिया गया है
और ये एक बार मैं फिर याद दिला दूं कि यह

वही हीरो वकील हसन है वो रेट माइनर है जो
अपनी टीम को लेकर वहां उत्तराखंड में
पहुंचे थे और जब हम भी इनके पास पहुंचे थे
तो उन्होंने एक ही बात कही थी कि मुझे
पैसा नहीं चाहिए सिर्फ देश के लिए खड़ा

हूं मैं और देश के लिए काम कर रहा हूं
लेकिन आज उनको अफसोस है कि अगर शायद पैसा
ले लिया होता तो सर पर कम से कम छत तो
होती यहां नहीं कहीं और होती लेकिन बच्चे
यूं बेघर ना होते और आंख में यूं आंसू ना
होते वीडियो जर्नलिस्ट अतुल राज के साथ
मोहित बक्शी न्यूज़ नेशन दिल्ली

Leave a Comment